Tuesday, April 12, 2011

तुम पथ भटक यहाँ क्यों आयीं ? -सतीश सक्सेना

अक्षत पुष्प, दीप, फल लेकर
तुम पथ भटक, यहाँ क्यों आयीं ?
लगता है , मंदिर के भ्रम में , 
रास्ता भूल, चली आई हो,
दिखने में तो ताजमहल से 
कितने  ही, मंदिर शरमायें  !
लेकिन बरसों से उजड़े, इस परिसर में वरदान नहीं है !

खड़ी , भव्य दीवारें मेरी 
कलश कंगूरे ध्वज और तोरण
घंट ध्वनि, मंत्रोच्चारण से 
लगता घर, मेरा मंदिर सा 
यह सब सच है मगर कामिनी,
पूजा यहाँ न अर्पण करना !
तुमको दुःख होगा कि यहाँ पर, मंदिर है पर मूर्ति नहीं है  !

बाहर से देवता सरीखा 
सौम्य लगूं आराध्य सरीखा 
तुम मुझसे वर लेने आयीं 
मैंने मांग लिया तुमको ही
अब भी जागो स्वप्न सुंदरी,
गीत यहाँ न समर्पित करना
इस सूने मंदिर में देवी  ! कविता है ,सौंदर्य   नहीं   है   !

मीरा जैसा प्यार लुटाती ,
घर बाहर की लाज छोड़कर
मधुर गीत आँचल में भरकर  
किस मोहन ,को ढूंढ रही हो 
पूजन लगन देखि मनमोहनि, 
मैं भी हूँ नत मस्तक तेरा , 
तेरी पूजा ग्रहण योग्य मंदिर तो है  ! आराध्य नहीं है  ! 

97 comments:

  1. अहा, आनन्दपूर्ण। घर में यह सब होना, मंदिर होने जैसा ही है।

    ReplyDelete

  2. उस इबादत का क्या भरोसा है
    जो इबादत में तिश्नगी दे दे

    उन आँखों में थोड़ी नमी दे दे
    जो मुझे थोड़ी जिन्दगी दे दे

    उस इबादत का क्या भरोसा है
    जो इबादत में तिश्नगी दे दे,?

    ReplyDelete
  3. मंगल और पवित्र से भाव की ध्‍वनि.

    ReplyDelete
  4. निरलिप्त चाह या अलिप्त अर्चना आदेश!!

    अच्छे भाव सजाए है। मंगल मनीषा!!

    ReplyDelete
  5. वाह ... बेहद उम्दा भाव ...

    ReplyDelete
  6. यह स्वकीया है न ? मतलब निखालिश आपका ही न ? नहीं नहीं इनकी उत्कृष्टता kabhee kabhee भ्रम में डाल देती है क्या अभिव्यक्ति है और अगर सतीश भाई यह सचमुच आपकी है तो मैं आपको अपना काव्य गुरु मानता हूँ ,इस नीरस मन में भी कुछ ऐसे अंकुर उपजा न दीजिये ..

    कविवर हरिवंश राय बच्चन का वह गीत याद आ गया -

    देवता तुमने कहा था ..

    गोद मंदिर बन गयी थी दे नए सपने गयी थी .

    किन्तु जब आँखे खुली तो कुछ न था मंदिर जहाँ था ...

    देवता .......................................................................

    ReplyDelete
  7. @ डॉ अरविन्द मिश्र ,
    आपका आशीर्वाद अच्छा और मधुर लगा ..यकीन मानिये इससे आपके इस मित्र की हिम्मत अफजाई हुई है ! मैं गीत शिल्प का जानकार नहीं हूँ मगर जो कुछ लिखा दिल से लिखा ! जब भी आप जैसे विद्वान् तारीफ़ करते हैं तो लगता है कि मैं सही लिख पा रहा हूँ !
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर भावों से सजी कविता ....!!
    बधाई एवं शुभकामनाएं ...!!

    ReplyDelete
  9. मुझे तो कोई संदेह नहीं कि यह रचना आपकी है गुरुदेव!! वो भी निखालिस हॉलमार्क वाली...जिसने आपकी नंदिनी और साईं प्रार्थना वाली रचनाएँ पढ़ीं हैं उनको आपकी काव्यात्मकता,भावाभिव्यक्ति और संवेदनाओं पर रंच मात्र भी संदेह नहीं हो सकता.. आपका यह गीत भी दिल में बैठ जाता है.

    ReplyDelete
  10. ..आज जाना कि ब्लॉग का नाम गीत क्यों है! ..वाह! बहुत खूब।

    ReplyDelete
  11. @ चला बिहारी ...!
    आभार सलिल भैया, डॉ अरविन्द मिश्र को भी संदेह नहीं है ऐसा मेरा विश्वास है मगर यह उनका अंदाज़ है और मेरा आभार आप दोनों के स्नेह के लिए ! अगर दो चार भी अच्छी प्रतिक्रियाएं मिल जाएँ तो लेखन सफल लगने लगता है ! :-))

    ReplyDelete
  12. पूजन लगन देखि मनमोहनि, मैं भी हूँ नतमस्तक तेरा
    तेरी पूजा ग्रहण योग्य मंदिर तो है ! आराध्य नहीं है !

    बहुत सुन्दर शब्द संयोजन ..और मन की बात ...भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  13. वाह ! हमारी जितनी समझ है उस हिसाब से तो अति उत्तम है. बाकी विद्वान् लोग जानें :)

    ReplyDelete
  14. पूजन लगन देखि मनमोहनि, मैं भी हूँ नतमस्तक तेरा
    तेरी पूजा ग्रहण योग्य मंदिर तो है ! आराध्य नहीं है !
    सुंदर सच्चे पावन भाव......आपकी बेमिसाल सोच को अभिव्यक्त करती है यह रचना

    ReplyDelete
  15. मेरी "लिस्ट" का एक और गीत...शुक्रिया....

    ReplyDelete
  16. बहुत खूबसूरत गीत!

    ReplyDelete
  17. अपने आप से सवाल करता अद्भुत गीत है।

    ReplyDelete
  18. वाह अद्भुत....सुन्दर भावपूर्ण गीत...आनन्द आ गया भाई..

    ReplyDelete
  19. priy saxena ji

    prabhavmayi kavita ki manmohak
    panktiyon ne mamugdh kar diya .sunser bhav liye sunder shilp. bahut-bahut
    dhanyvad .

    ReplyDelete
  20. फूलों भरी अंजली लेकर तुम पथ भटक, यहाँ क्यों आयीं ?लगता है , मंदिर के भ्रम में , रास्ता भूल , चली आई हो !

    बहुत सही बात कही है आपने ... सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  21. सचमुच बहुत सुन्दर कालजयी गीत है वारि वारि जाऊं मैं ..हम जब दिल्ली में मिलेगें या आप वाराणसी आयेगें तो इसको राग संगीत में निबद्ध किया जाएगा !
    यह श्रृंगारिकता और सच्ची मानवीय अनुभूति की एक उदात्त प्रस्तुति है
    हरिवंश राय बच्चन की इस कविता को पढ़ें -भावों की संयुति का कैसा मनोरम संयोग है ! -

    देवता उसने कहा था!

    रख दिए थे पुष्प लाकर
    नत नयन मेरे चरण पर!
    देर तक अचरज भरा मैं देखता खुद को रहा था!
    देवता उसने कहा था!

    गोद मंदिर बन गई थी,
    दे नए सपने गई थी,
    किंतु जब आँखें खुलीं तब कुछ न था, मंदिर जहाँ था!
    देवता उसने कहा था!

    प्यार पूजा थी उसीकी,
    है उपेक्षा भी उसी की,
    क्या कठिन सहना घृणा का भार पूजा का सहा था!
    देवता उसने कहा था!

    ReplyDelete
  22. @ डॉ अरविन्द मिश्र
    आभारी हूँ कि आपने बच्चन जी की इस कविता को पढवाया , मैंने यह पहले कभी नहीं पढ़ी ! जहाँ मैं हरिवंश राय जी के पैर की धूल मात्र भी नहीं हूँ वहां रचनाओं में कुछ साम्यता देख आज अच्छा लगा ! आपकी टिप्पणियों से, साहस के साथ साथ ज्ञानवर्धन भी हुआ !आपकी टिप्पणी से, इस रचना का मान बढ़ा है !
    आभार !

    ReplyDelete
  23. पूरा गीत बहुत सुन्दर है

    पूजन लगन देखि मनमोहनि,मैं भी हूँ नतमस्तक तेरा
    तेरी पूजा ग्रहण योग्य मंदिर तो है ! आराध्य नहीं है !

    लेकिन इन पंक्तियों ने गीत को पूर्णता और सौन्दर्य प्रदान किया है
    बहुत बढ़िया !

    ReplyDelete
  24. जो गीत मीरा की परिधि को छू भर ले पवित्र हो जाता है ,कालजयी भी .

    ReplyDelete
  25. अरे वाह सतीश भाई... कमाल का लिखते है!!! आनंद आया पढ़कर... बहुत खूब!

    ReplyDelete
  26. ghar ek pavitr mandir hee hai Satishjee ........

    astha aur bhavo se ot prot geet bahut pasand aaya....

    ReplyDelete
  27. झिलमिल सितारों का आंगन होगा,
    रिमझिम बरसता सावन होगा,
    ऐसा सुंदर सपना अपना जीवन होगा,
    प्रेम की गली में इक छोटा सा घर बसाएंगे,
    कलियां न मिली तो कांटों से सजाएंगे,
    बगिया से सुंदर वो वन होगा,
    झिलमिल सितारों का आंगन होगा...

    सतीश भाई, आपको सिर्फ विद्वान ही नहीं हम जैसे मक्खन भी पढ़ा करा करते हैं, हमारी बुद्धि की ग्राह्यता का भी ध्यान रखा करिए...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  28. खड़ी , भव्य दीवारें मेरी
    कलश कंगूरे ध्वज और तोरण
    घंट ध्वनि, मंत्रोच्चारण से
    लगता घर, मेरा मंदिर सा
    यह सब सच है मगर कामिनी, पूजा यहाँ न अर्पण करना
    तुमको दुःख होगा कि यहाँ पर, मंदिर है पर मूर्ति नहीं है !

    अदभुत शब्द संयोजन और गहन भाव से सँजोया एक उत्कृष्ट गीत !
    बहुत दिनों बाद एक अच्छा गीत पढ़ कर आत्म-संतोष का अनुभव हो रहा है ! आभार !

    ReplyDelete
  29. अभिभूत हूँ आपकी इस रचना में छिपे भावों के आगे और नतमस्तक हूँ उस महाभागवता मीरा के आगे जिनके निश्चल प्रेम ने आपको यह भाव दिए. उन्हें मेरा चरणस्पर्श कहियेगा ........................ लेकिन हतप्रभ हूँ की काव्य के भावों पर चर्चा ना होकर इसकी हालमार्किंग पर हो रही है ................ अपनी प्रियतमा के प्रेम की ताप से तो कठोर से कठोर पाषाण से भी शिलाजीत के समान दिव्य प्रेम-औषधि प्रवाहित होने लगती है, तो आप जैसे संवेदनशील की ह्रत्तंत्री पर भाव अपना स्वर क्यों ना छेड़ेंगे :)

    ReplyDelete
  30. सतीश जी,इस गीत के लिए पहले तो बहुत -बहुत बधाई आपको !
    बहुत सुंदर गीत है ! इसमें सूफियाना अंदाज है चूँकि मीरा का भी जिक्र हुआ है
    इसलिए मीरा के जरिये ही इस गीत पर टिप्पणी करना चाहूंगी !
    साधारणता हम लोग प्रेम में उथले-उथले ही जीते है ! हमें तो सिर्फ प्रेम
    को रेस्पोंड़ करने के लिए एक साथी की जरुरत होती है अगर हमारे प्रेम को
    रेस्पोंड़ नहीं मिलता है तो प्रेम को घृणा में परिवर्तित होने में देर नहीं लगती !
    क्योंकि प्रेम समर्पण मांगता है आज हर कोई इगो से इतना भर गया है कौन किसके
    आगे समर्पण करे?इसी लिए हमें प्रेम की गहराई का अंदाजा नहीं होता !
    किन्तु मीरा का प्रेम साधारण नहीं डिवाईन है ! अपने प्रियतम का विरह ही काफी है उसके
    जीने के लिए उसके गीतोंमे पाने की भाषा नहीं, केवल समर्पण ! प्रेम अगर मिल भी जाता है तो
    दो कौड़ी का हो जाता है ! शायद इसीलिए आजकल के प्रेमी भी शादी के एक साल के भीतर-भीतर
    तलाक ले रहे है !
    मीरा जैसा प्यार लुटाती,
    घर बाहर की लाज छोड़कर
    मधुर गीत आँचल में भरकर
    किस मोहन को ढूंड रही हो !
    बहुत सुंदर पंक्तियाँ सुंदर सूफियाना गीत !
    बहुत बधाई !

    ,

    ReplyDelete
  31. शब्द-शब्द राग और समर्पण के भावों से भरे इस सुन्दर गीत के लिए हार्दिक शुभकामनायें... साधुवाद !

    ReplyDelete
  32. अतिसुन्दर प्रेम व भावों से सजे गीत के लिये बधाई स्वीकारें !

    ReplyDelete
  33. nirmal hasya sajate jab-tab
    geet prem ke gate hain.....
    rachnayen ye bhaw-prvan hai
    sab ki ankhen nam kar jate hain....

    balak is kavita ke liye apko naman
    kiarta hai......

    pranam.

    ReplyDelete
  34. ramnawmin ki hardik shubhkamnayen!!

    ReplyDelete
  35. समर्पण भावनाओं की बेहतरीन अभिव्यक्ति ....
    सादर !

    ReplyDelete
  36. तुमको दुःख होगा कि यहाँ पर, मंदिर है पर मूर्ति नहीं है !
    ..
    ..
    इस सूने मंदिर में देवी ! कविता है ,सौंदर्य नहीं है !

    अहा मन खुश हो गया भाई जी...उम्मीद भी ऐसे सरस गीत की थी आपसे
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  37. पूजन लगन देखि मनमोहनि, मैं भी हूँ नतमस्तक तेरा
    तेरी पूजा ग्रहण योग्य मंदिर तो है ! आराध्य नहीं है !
    बहुत सुंदर पवित्र पावन भाव......आपकी स्वच्छ और निर्मल भावना को अभिव्यक्त करती है रचना...

    ReplyDelete
  38. अब भी जागो स्वप्न सुंदरी,गीत यहाँ न समर्पित करना
    इस सूने मंदिर में देवी ! कविता है ,सौंदर्य नहीं है !
    मन आनंदित हो गया ..बेहद सरल सुन्दर गीत.

    ReplyDelete
  39. मेरे गीत में इस उत्कृष्ट आनंदमयी गीत की प्रस्तुति... वाह !

    ReplyDelete
  40. मीरा जैसा प्यार लुटाती ,
    घर बाहर की लाज छोड़कर
    मधुर गीत आँचल में भरकर
    किस मोहन ,को ढूंढ रही हो


    सतीश भाई, आप है ना :)

    ReplyDelete
  41. atyant sundar. :)

    ReplyDelete
  42. क्या बात है!! मुझे लगता है कि आपको गीत-लेखन के प्रति नियमितता दिखानी चाहिये.

    ReplyDelete
  43. बहुत सुन्दर रचना प्रस्तुति....शुभकामनाएं...आभार

    ReplyDelete
  44. रास्ता भूला गया है ऐसा क्यूँ लगता है
    शायद यह पथिक इसी रास्ते का राही हो
    बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  45. मीरा जैसा प्यार लुटाती ,घर बाहर की लाज छोड़ कर मधुर गीत आँचल में भरकर किस मोहन ,को ढूंढ रही हो पूजन लगन देखि मनमोहनि, मैं भी हूँ नतमस्तक तेरा तेरी पूजा ग्रहण योग्य मंदिर तो है ! आराध्य नहीं है !

    सतीश जी मीरा को तो कृष्ण भी नहीं रोक पाए भक्ति करने से.आपकी प्यार भरी अभिव्यक्ति के अहसास क्या सच हैं या केवल कल्पना ?
    आत्मिक प्यार के लिए तो मंदिर मूर्ति की आवश्यकता ही नहीं.इसीलये shaयद कहा गया
    'बेशक मंदिर मस्जिद तोडो,पर प्यार भर दिल कभी न तोडो '
    एक बार फिर मेरे ब्लॉग पर पधारें,मेरी नई पोस्ट पर .

    ReplyDelete
  46. क्या कविता की मजबूरी है कि सही राह पर आई हुई मोहतरमा को भटका हुआ कहा जाये ?

    प्रेम और भक्ति के सन्यस्त जीवन संकेत वाले मंदिर और गार्हस्थ्य जीवन संकेत वाले मंदिर का अंतर उन्हें भली भांति पता है पर आप हैं कि ...

    बहरहाल मेरी आपत्ति दर्ज की जाये !

    ReplyDelete
  47. @अली भाई अब आपके इस उलाहने पर मेरी आपत्ति है! यहाँ कवि अपने बारे में कैसा सहज सच्चा उदगार कर रहा है -कोई काईयाँ होता तो क्यों मन करता एक आशक्त मना को ?
    कवि की सच्चरित्रता और सच्चाई देखो न मित्र!
    और यहाँ हंसी मजाक की भी कोई गुंजाईश नहीं है कि सीधे कवि से उसे जायज ही प्रेरणा स्रोत मानने वाली का पता ठिकाना पहचान पूछ लिया जाय !
    कोई बताता भी है ?

    ReplyDelete
  48. सुधार :कोई काईयाँ होता तो क्यों मना करता एक आशक्त मना को

    ReplyDelete
  49. @ खुशदीप सहगल ,
    मक्खन अभी बरसों हम जैसों को पढ़ायेगा खुशदीप भाई ! शुक्रिया आपका !

    @ज्ञानचंद मर्मज्ञ ,
    कवित्त शिल्प के बारे में जानकार नहीं हूँ मर्मज्ञ जी , मगर आप जैसों की टिप्पणी से महसूस होता है की मैं कुछ ठीक लिख पा रहा हूँ !
    आदर सहित !

    @ अमित शर्मा ,
    मुझे लगता है कुछ लोग बेहद स्नेही हैं और अमित शर्मा जैसे लोग, मानवता के लिए एक सम्मान हैं ! पता नहीं क्यों कई बार तुम्हे आभार कहने का दिल करता है ! आशा है नाराज नहीं होगे !

    @ सुमन ,
    @साधारणता हम लोग प्रेम में उथले-उथले ही जीते है...
    आपका कमेन्ट मर्मस्पर्शी है कभी लिखूंगा इसके लिए पूरी पोस्ट चाहिए ....सादर

    @ डॉ शरद सिंह ,
    अहसास करने के लिए शुक्रिया !

    ReplyDelete
  50. .
    .
    .
    अली सैयद साहब की आपत्ति जायज लग रही है...

    गीत बहुत ही सुन्दर व गेय है... आप जब भी गीत लिखते हैं तो बहुत ही अच्छा लगता है...


    ...

    ReplyDelete
  51. सुंदर गीत भाई सतीश जी बधाई आपको |शब्द और भाव संयोजन दोनों ही उत्कृष्ट हैं |

    ReplyDelete
  52. सुंदर गीत भाई सतीश जी बधाई आपको |शब्द और भाव संयोजन दोनों ही उत्कृष्ट हैं |

    ReplyDelete
  53. @ इस्मत जैदी ,
    आप जैसे कद्रदान के आने से महफ़िल में रौनक आना स्वाभाविक है ! आभार !

    @अभिषेक ओझा ,
    धन्यवाद अभिषेक , आ जाया करो यार कभी कभी ...और विद्वता की बात नहीं करो ...मैं तुम्हारा प्रसंशक हूँ महाराज !

    @ शहरोज़,
    मन से शुभकामनाएं शहरोज़ !

    @ उदयवीर सिंह,
    आपका आभार भाई जी !

    @ वंदना अवस्थी दुबे,
    शुक्रिया वंदना जी , मगर गीत सोंच कर कभी नहीं लिख पाया , :-(
    पिछला गीत शायद ४ साल पहले लिखा था ! इसके लिए जो मूड चाहिए वह जब भी बना, कुछ भी लिख देता हूँ !

    ReplyDelete
  54. ,@ अली सा ,
    आप जैसे स्नेही की तीक्ष्ण निगाह का कायल हूँ भाई जी ! आभार आपका ! मगर अरविन्द मिश्र जी खुद मेरे बचाव पर उपस्थित हैं तो मैं क्या कहूं .... :-)

    @ अरविन्द मिश्र ,
    आभार आप दोनों का एक साथ आने का ! जीवंत हो गया यह गीत ! गुरु जनों से क्या कहूं ...
    :-)
    अब इतने बरसों बाद मैं तो कुछ बताने से रहा !

    @ प्रवीण शाह ,
    आप तीनों विद्वानों को एक साथ इस मुद्दे पर एक देख दंडवत प्रणाम करता हूँ !
    :-)
    ,

    ReplyDelete
  55. जिस घर में हो आप सरीखा
    वह तो मंदिर ही होगा ,
    मेरे आने की शर्त न कोई
    मुझको तो आना ही होगा !

    ReplyDelete
  56. सुंदर और कोमल अहसासों को सजाकर काव्य रूप आकर्शित कर गया।

    ReplyDelete
  57. बहुत सुन्दर रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  58. बहुत खूब
    बहुत खूब
    बहुत ही खूब.

    ReplyDelete
  59. खड़ी , भव्य दीवारें मेरी
    कलश कंगूरे ध्वज और तोरण
    घंट ध्वनि, मंत्रोच्चारण से
    लगता घर, मेरा मंदिर सा
    यह सब सच है मगर कामिनी, पूजा यहाँ न अर्पण करना
    तुमको दुःख होगा कि यहाँ पर, मंदिर है पर मूर्ति नहीं है !
    बहुत सुन्दर!!
    भावपूर्ण अभिव्यक्ति!!!

    ReplyDelete
  60. खड़ी , भव्य दीवारें मेरी
    कलश कंगूरे ध्वज और तोरण
    घंट ध्वनि, मंत्रोच्चारण से
    लगता घर, मेरा मंदिर सा
    यह सब सच है मगर कामिनी, पूजा यहाँ न अर्पण करना
    तुमको दुःख होगा कि यहाँ पर, मंदिर है पर मूर्ति नहीं है !
    बहुत सुन्दर!!
    भावपूर्ण अभिव्यक्ति!!!

    ReplyDelete
  61. आनंद-विभोर करने वाली कविता....इतना सब है तो फिर मंदिर कैसे नहीं है.....
    रामनवमी की शुभकामना....
    प्रणाम

    ReplyDelete
  62. @खुशदीप भाई से एक अपील:
    ये बार बार झीकने से अच्छा है कि थोडा सा तो ऊपर खुद उठिए महाराज
    ब्लॉग जगत केवल विविध भारती सुनने वालों के लिए मत बना रहने दीजिये !

    ReplyDelete
  63. भाव , स्वभाव व अनुभाव की दृष्टि से लाज़वाब रचना ।
    बाकि तो मिश्रा जी ने मोर्चा संभाल ही रखा है । :)

    बढ़िया है मित्र , लगे रहो ।

    ReplyDelete
  64. Hi Satishji,

    Ek sandharbh ke anusar aapne jo vicharo ka mala buna hai, wo behad hi bhaavuk aur dil se nikli aawaz lagi mujhe ! Mere mann me mujhe laga ki ghar aur mandir mein sach me koi antar nahi hai, parantu ye keval ek kalpanik upanyaas/kavita thi..main to mugdh ho gaya tha aapki lekh padhte padhte...keep posting i like ur writings ! :)

    ReplyDelete
  65. बहुत खूबसूरत गीत!

    ReplyDelete
  66. @अरविंद जी को खास तौर पर झीकाने के लिए...

    बस यही अपराध मैं हर बार करता हूं,
    आदमी हूं, आदमी से प्यार करता हूं...

    यहां मैं अपने शब्द-कोष की सीमितता को स्वीकार करते हुए बता दूं कि झीकने का मुझे सही अर्थ नहीं पता...

    दूसरा इस गाने की पंक्तियों से कोई दोस्ताना (अभिषेक बच्चन-जॉन अब्राहम फेम) के घिसे-पिटे संदर्भ जैसा निहितार्थ निकालने की कोशिश न करे...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  67. @डॉ अरविन्द मिश्र
    @ खुशदीप सहगल

    अक्सर ब्लॉग जगत में गलत फहमियों के कारण समस्या अधिक पैदा होती हैं ! मुझे यहाँ यही लग रहा है .....

    आप दोनों गुरु चीज हैं मुझ नाचीज़ पर दया करें :-)

    ReplyDelete
  68. क्या बात है बन्धु । मंदिर है पर मूर्ति नहीं है। आराध्य नहीं है, कविता है पर सौन्दर्य नहीं है,। अति सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  69. bahut sundar kavita ... paak shivalay kee tarh .. aapki yah sundar rachnaa kal charcha manch par hogi ...aap vaha aa kar apne vichaaron se anugrahit karen ..saadar

    ReplyDelete
  70. man nirmal kar gai ye panktiyaan...

    ReplyDelete
  71. @मीरा जैसा प्यार लुटाती ,
    घर बाहर की लाज छोड़कर
    मधुर गीत आँचल में भरकर
    किस मोहन ,को ढूंढ रही हो
    पूजन लगन देखि मनमोहनि, मैं भी हूँ नतमस्तक तेरा
    तेरी पूजा ग्रहण योग्य मंदिर तो है ! आराध्य नहीं है !

    -- सक्सेना जी, पता नहीं क्यों मैं ये महसूस कर रहा हूँ कि आपने आलौकिक प्यार की गहराई महसूस की है जो इस कविता में झलक रही है..... बढ़िया लगा..

    ReplyDelete
  72. गीत की शब्द-शैली और भाव दोनों ही मन मोह गए..

    ReplyDelete
  73. @ सुभाष जी ,
    आभार ध्यान देने के लिए !
    @ दीपक बाबा,
    आप अंतर्यामी हैं बाबा , स्नेह के लिए आभार !

    ReplyDelete
  74. कमाल की रचना है सतीश जी,
    बधाई

    ReplyDelete
  75. काफी सुरीला गीत है, आरम्भ में जो सुर लगता है अंत तक बंधे रखता है.

    ReplyDelete
  76. प्यारा गीत....देर तक गुनगुनाते रहे.....
    फूलों भरी अंजली लेकर तुम पथ भटक, यहाँ क्यों आयीं ?
    लगता है , मंदिर के भ्रम में , रास्ता भूल , चली आई हो !


    वाह वाह क्या बात है.....!! हिंदी गीतों में ही ऐसा सौंदर्य मिल सकता है.

    ReplyDelete
  77. आदरणीय सतीश सक्सेना जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    आप कहते हैं कि - आपगीत शिल्प के जानकार नहीं हैं … :)
    … … … और तब यह हाल है !!!
    वाह वाह भाईसाहब ! आपकी तारीफ़ के लिए शब्द बने ही नहीं सचमुच । झूठमूठ उपक्रम क्या करूं अब ??

    मौन विमुग्ध हूं पढ़-पढ़ कर …

    कुछ विलंब से …
    * श्रीरामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं ! *

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  78. वाह... समर्पण, प्रेम, आभार, सम्मान... सब-कुछ...

    ReplyDelete
  79. फूलों भरी अंजली लेकर तुम पथ भटक, यहाँ क्यों आयीं ?
    लगता है , मंदिर के भ्रम में , रास्ता भूल , चली आई हो !


    सुन्दर शब्द संयोजन !
    मर्मस्पर्शी एवं भावपूर्ण काव्यपंक्तियों के लिए कोटिश: बधाई !

    ReplyDelete
  80. वाह, आपकी कविता के उद्गार भी बहत सुन्दर-सुकुमार हैं !

    ReplyDelete
  81. बाहर से देवता सरीखा
    सौम्य लगूं आराध्य सरीखा
    तुम मुझसे वर लेने आयीं
    मैंने मांग लिया तुमको ही

    अब भी जागो स्वप्न सुंदरी,गीत यहाँ न समर्पित करना
    इस सूने मंदिर में देवी ! कविता है ,सौंदर्य नहीं है !

    लेकिन इस गीत में समग्र सौंदर्य है।
    बधाई, इस सुंदर गीत के लिए।

    ReplyDelete
  82. बाहर से देवता सरीखा
    सौम्य लगूं आराध्य सरीखा
    तुम मुझसे वर लेने आयीं
    मैंने मांग लिया तुमको ही
    bahut umda likha hai ...prasad deree se mila ....

    jai baba banaras...

    ReplyDelete
  83. पावन पवित्र प्रेम की सुन्दर अभिव्यक्ति। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  84. बहुत बढ़िया रचना ...आभार

    ReplyDelete
  85. बहुत ही अच्छी प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  86. बहुत सुन्दर गीत है, बहुत पसंद आया।
    आभार ।

    ReplyDelete
  87. दिव्य भाव, आलौकिक भाव।

    वाह सतीश भाईजी, वाह।

    ReplyDelete
  88. Shukriya Satishji, ek behtareen post ke liye...

    ReplyDelete
  89. सतीश जी..
    ईमानदारी से कहूँगा अब तक आपकी धारदार रचनाओं की तारिफ ही सुनी थी..पर अब ईन्हें पढ़ कर आपके ब्लॉग में देर से आने के लिये अफसोस हो रहा है..सिर्फ एक वाक्य है आपके लिये..बेहतरीन्

    ReplyDelete
  90. bahut bahut pasand aai ye rachna.atiuttam.

    ReplyDelete
  91. कमाल की रचना है सतीश जी

    ReplyDelete
  92. mann ko choo gayee aapki KAVITA.....THNX!!FOR YUR APPRECIATION...

    ReplyDelete
  93. टिप्पणियाँ अभी पढीं। हा, हा!
    अमित की निर्मल बात बहुत अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  94. धन्यभाग .....
    अनुराग शर्मा की निगाह पड़ी ! आभार

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,