Wednesday, February 27, 2013

एक चिड़िया ही तो थी,घायल हुई -सतीश सक्सेना

कभी कभी हम अपने ही जोश में चहचहाती एक मासूम सी चिड़िया, की गुस्ताखी पर गोली चला देते हैं ...उसका दिल हम छलनी कर देते हैं , बिना यह जाने हुए कि बिना भूल, उसका क्या हाल कर दिया  !

एक चिड़िया चहकती,घायल  हुई !
एक निश्छल सी हँसी, आहत हुई ! 

जीभ से निकलीं  हुईं , वे गोलियां ,

किस कदर पेवस्त वे,दिल में हुईं !

खेल में,  भेजी गयीं, वे  चिट्ठियाँ, 

क्या तुम्हें मालूम है ,घातक  हुईं !

घर के दरवाजे पर, गुमसुम भीड़ है , 
आज घर पर,बिन मेरे महफ़िल हुई ! 

तुम तो कहतीं थीं,  कि मैं ना रोउंगी !
आखिरी दिन तुम भी तो शामिल हुईं !

तुम तो घर को छोड़कर ही, चल दिए,
ऎसी हमसे क्या सनम , रंजिश हुई !

54 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति ...

    आप भी पधारें
    ये रिश्ते ...

    ReplyDelete
  2. बहतरीन प्रस्तुति बहुत उम्दा।।।।।।।। और ..भाव पूर्ण रचना .. बहुत खूब

    आज की मेरी नई रचना जो आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार कर रही है

    ये कैसी मोहब्बत है

    खुशबू

    ReplyDelete
  3. शब्‍दों को तारतम्‍य कुछ बिगडा सा लग रहा है, यदि थोडी और मेहनत करें तो बेहद सशक्‍त रचना बन जाएगा।

    ReplyDelete
  4. भाई
    यह तो --आखिरी दिन तू भी शामिल हुई-
    गजब --
    शुभकामनायें-

    ReplyDelete
  5. चिड़ीमार करता रहा, चौचक चुटुक शिकार |
    दर्शक ताली पीटते, है सटीक हर वार |
    है सटीक हर वार, आज क्यूँ पीटे माथा |
    चिड़ीमार लिख रहे, यहाँ अब दानव गाथा |
    अब मारे इंसान, भूलिए बातें पिछड़ी |
    अब आगे की सोच, पकाते अपनी खिचड़ी ||

    ReplyDelete
  6. सुंदर और बढिया कविता

    ReplyDelete
  7. कोमल भावो की और मर्मस्पर्शी.. अभिवयक्ति .......

    ReplyDelete
  8. तुम तो कहतीं थीं, कि मैं ना रोउंगी !
    आखिरी दिन तुम भी तो शामिल हुईं !
    .बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति आभार .अरे भई मेरा पीछा छोडो आप भी जानें हमारे संविधान के अनुसार कैग [विनोद राय] मुख्य निर्वाचन आयुक्त [टी.एन.शेषन] नहीं हो सकते

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्दर गीत.बहुत बधाई आपको .

    ReplyDelete
  10. BlogVarta.com पहला हिंदी ब्लोग्गेर्स का मंच है जो ब्लॉग एग्रेगेटर के साथ साथ हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट भी है! आज ही सदस्य बनें और अपना ब्लॉग जोड़ें!

    धन्यवाद
    www.blogvarta.com

    ReplyDelete
  11. ...गीत से ग़ज़ल की ओर !
    .
    .शुभकामनाएं हमारी ।

    ReplyDelete
  12. आपकी रचना पढ़कर ...यूँ ही ये ख़याल आया है ...सांझा कर रही हूँ ...
    जाने क्यूँ खुद से यकीन उठ गया
    बहारों में फिर एक ज़िन्दगी हैरां हुई

    अपने ब्लॉग का पता भी छोड़ रही हूँ .......यदि पसंद आये तो join करियेगा ....मुझे आपको अपने ब्लॉग पर पा कर बहुत ख़ुशी होगी .
    http://shikhagupta83.blogspot.in/

    ReplyDelete
  13. जीभ से निकलीं हुईं , वे गोलियां ,
    किस कदर पेवस्त वे,दिल में हुईं !

    सही कहा है, आवेश में कहे गए कटु शब्द किसी के जीवन के लिए घातक भी हो सकते हैं..अक्सर हम इसकी चिंता नहीं करते, प्रभावशाली रचना, आभार!

    ReplyDelete
  14. आखिरी दिन तुम भी शामिल हुईं.........बहुत खूब।

    ReplyDelete
  15. आज घर को छोड़कर ही, चल दिए,
    ऎसी हमसे क्या सनम, रंजिश हुई !...खुबसूरत भावात्मक प्रस्तुति
    new postक्षणिकाएँ

    ReplyDelete
  16. इस रचना में तो दुख ही दुख भरा हुआ है...~ आशा करते हैं, ये सिर्फ़ मन की बाहरी उड़ान हो... अंदरूनी नहीं...
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  17. दिल छलनी करने वाले क्या जाने इसका दर्द..

    ReplyDelete
  18. शानदार प्रस्तुती
    Gyan Darpan

    ReplyDelete
  19. कोमल भावों की अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  20. खेल में, भेजी गयीं, वे चिट्ठियाँ,
    क्या तुम्हें मालूम, वे घातक हुईं !------marmik baut gehri anubhuti

    ReplyDelete
  21. घर के दरवाजे पर, गुमसुम भीड़ है ,
    आज घर पर,बिन मेरे महफ़िल हुई !

    दर्दीली पंक्तियाँ खामोश गई।
    बढ़िया प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  22. छू गयी यह कविता !

    ReplyDelete
  23. बहुत मार्मिक...अंतस को छू गयी...

    ReplyDelete
  24. बहुत खूब सतीशजी, बधाई।

    ReplyDelete
  25. सुंदर ...मर्म को छूते भाव

    ReplyDelete
  26. गहन भाव से परिपूर्ण रचना!

    ReplyDelete
  27. घर के दरवाजे पर, गुमसुम भीड़ है ,
    आज घर पर,बिन मेरे महफ़िल हुई !
    निशब्द कर गई यह पंक्तियाँ ....

    ReplyDelete
  28. घर के दरवाजे पर, गुमसुम भीड़ है ,
    आज घर पर,बिन मेरे महफ़िल हुई !

    तुम तो कहतीं थीं, कि मैं ना रोउंगी !
    आखिरी दिन तुम भी तो शामिल हुईं

    मन को झिंझोड़ती गीत कहूँ या ग़ज़ल लेकिन दिल के करीब लाजवाब

    ReplyDelete
  29. आज घर को छोड़कर ही, चल दिए,
    ऎसी हमसे क्या सनम, रंजिश हुई !
    सुंदर भावात्मक प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  30. बहुत सुन्दर रचना अभिव्यक्ति ... आभार

    ReplyDelete
  31. मासूमियत का जो हश्र देखा
    मासूम होने से मना करने लगे ...

    ReplyDelete
  32. तुम तो कहतीं थीं, कि मैं ना रोउंगी !
    आखिरी दिन तुम भी तो शामिल हुईं !..

    दिल को बहुत करीब से छू के गुज़र जाती है ये गज़ल ... बहुत ही भावपूर्ण ... हर शेर कमाल का ... जय हो सतीश जी ...

    ReplyDelete
  33. तुम तो कहतीं थीं, कि मैं ना रोउंगी !
    आखिरी दिन तुम भी तो शामिल हुईं !

    अहा, छू गयी अन्दर तक।

    ReplyDelete
  34. गहन सवेदना से उपजी गहरी मर्मस्पर्शी रचना ...

    ReplyDelete
  35. बहुत सुंदर सक्सेना साहब!

    ReplyDelete
  36. सामान्य शब्दों के उपयोग से सजी मर्मस्पर्शी और भाव प्रवण रचना,
    तुम तो कहतीं थीं, कि मैं ना रोउंगी !
    आखिरी दिन तुम भी तो शामिल हुईं !
    ये पंक्तियाँ मुझे विशेष अच्छी लगी.
    सादर
    नीरज'नीर'
    www.kavineeraj.blogspot.com

    ReplyDelete
  37. सामान्य शब्दों से सजी मर्मस्पर्शी और भाव प्रवण रचना
    तुम तो कहतीं थीं, कि मैं ना रोउंगी !
    आखिरी दिन तुम भी तो शामिल हुईं !
    मुझे ये पंक्तियाँ विशेष रूप से अच्छी लगी
    सादर
    नीरज'नीर'
    www.kavineeraj.blogspot.com

    ReplyDelete
  38. आपकी तो हर कविता लाजवाब होती है !

    ReplyDelete
  39. सतीश जी आपका लेखन सीधा दिलको छोटा है यह गीत भी यही सच्चाई उजागर करता है.

    ReplyDelete
  40. घर के दरवाजे पर, गुमसुम भीड़ है ,
    आज घर पर,बिन मेरे महफ़िल हुई....
    कितना मार्मिक चित्र है!! ये जिन्दगी के मेले दुनिया में कम न होंगे..अफ़सोस हम न होंगे....
    आपकी कविताएँ सचमुच बेहतरीन होती हैं...हार्दिक शुभकामनाएँ!!

    ReplyDelete
  41. अत्यंत प्रभावशाली रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  42. उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  43. बहुत उम्दा... शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  44. shabd chhote par gahre bhaw...satish jee....

    ReplyDelete
  45. बहुत ही भावपूर्ण मार्मिक रचना ... आभार

    ReplyDelete
  46. भावपूर्ण रचना
    सादर !

    ReplyDelete
  47. आपकी नयी कविता दिख रही है पर खुल नहीं रही है पिछले पांच-सात दिनों से .

    ReplyDelete
  48. dil ko chhoo lene vali rachna..

    ReplyDelete
  49. khub! bahut khub! umda likhte ho aap

    ReplyDelete
  50. तुम भी जो इबादत में शामिल क्या थी,
    लो मन्नत, रकीबों की कबूल हुई.

    ReplyDelete
  51. तुम भी इबादत में शामिल क्या थी,
    लो, मन्नत रकीबों की कबूल हुई.

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,