Sunday, September 13, 2020

कवितायें बिकाऊ हैं , बग़ावत नहीं रही -सतीश सक्सेना

लोगों में इन कविताओं की, आदत नहीं रही
सुन भी लें तो भी ,मन में , इबादत नहीं रही !

इक वक्त था जब कवि थे देश में गिने चुने
 
अब  भांड चारणों से , मुहब्बत नहीं रही !

जब से बना है काव्य चाटुकार , राज्य का 
जनता को भी सत्कार की आदत नहीं रही 

माँ से मिली जुबान ,कब के भूल चुके हैं !
गीतों से कोई ख़त ओ क़िताबत नहीं रही !

संस्कार माँ बहिन की गालियों में ,खो गए
कवितायें बिकाऊ हैं , बग़ावत नहीं  रही  !

5 comments:

  1. बहुत खूब सतीश जी 👌👌👌जब कवि कवि ना रह कर सत्ताधारी पार्टियों के चारण बन जाते है तो कविता का रीतिकाल आ जाता है। तब कविताएँ sirf सुनी जाती हैं गुनी नहीं। बिकता कवि कविता के पतन का द्योतक है। चाटुकार कवियों को आईना दिखाती रचना। हिंदी दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं 🙏🙏💐💐

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. खरी खरी बात !

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,