Monday, June 11, 2012

स्वागत गीत - सतीश सक्सेना

चाहें दिन हों या युग बीतें , 
मैं आशा के गीत लिखूंगा !
जिसे गुनगुनाते,चेहरे पर 
आभा छाये,गीत लिखूंगा ! 
बरसों से , जो लिखा ह्रदय पर ,कैसे  भुला  सकेंगे  गीत ?  
क्या जाने किस घडी तुम्हारी,झलक  दिखाएँ  मेरे  गीत !

पूजा करते , जीवन  बीता  !
अब मुझको आराम चाहिए !
कौन यहाँ आकर के,समझे
मुझको भी, अर्चना  चाहिए ! 
काश कहीं से हवा का झोंका,मेरे बालों को सहला दे !
क्षमा करें,मालिक बनने की, इच्छा करते मेरे गीत !

रात स्वप्न में एक जादुई
छड़ी ,मुझे क्यों छूने आई !
आज बादलों के संग आके 
मेरी लट, किसने सहलाई
लगता दिल  के दरवाजे पर, दस्तक देते मेरे  मीत !
प्रियतम के आने की आहट,खूब समझते मेरे गीत !

जाने कब से राह देखते
अन्धकार में किरणों की 
सुना सूर्यपुत्री को शायद
आज जरूरत सारथि की
काश रुके रथ,पास में आकर,खुशी मनाएं मेरे गीत
जल कन्या की स्मृति से ही, शीतल होते मेरे गीत !

ऊबड़ खाबड़ , इन राहों में ,
कष्टों में , साझीदार मिले 
कुछ बिन मांगे , देने वाले ,
घर बार लुटाते, यार मिले  !
आज दोपहर घर पर मेरे,जो पग आये ,वे मृदुगीत !
नेह के आगे, शीतल जल से,चरण पखारें मेरे गीत !

कुछ झंकारों का रस लेने
आते है, सुनने  गीतों को  !
कुछ तो इनमें मस्ती ढूँढें,
कुछ यहाँ खोजते मीतों को
बिना तुम्हारे,ये इच्छाएं, कैसे  पार लगाएं  गीत  !
कष्टों के घर, बड़े हुए हैं,प्यार ना जाने मेरे गीत  !

अपने  श्रोताओं  में , सहसा, 
तुम्हे देखकर मन सकुचाया !
कैसे आये, राह भूलकर, मैं
लोभी, कुछ समझ न पाया !
साधक जैसी श्रद्धा लेकर, तुम भी सुनने आये गीत !
कहाँ से, वह आकर्षण  लाऊँ ,तुम्हें लुभाएं मेरे गीत  !

कौन यहाँ पर तेरे जैसा
हंस, नज़र में  आता है !
कौन यहाँ गैरों की खातिर
तीर ह्रदय पर , खाता है !
राजहंस को घर में पाकर, दीपावली मनाएं गीत  !
मुट्ठी भर भर मोती लाएं , करें निछावर मेरे गीत !

बिल्व पत्र और फूल धतूरा
पंचामृत, अर्पित शिव पर !
मीनाक्षी सम्मान हेतु, खुद
गज आनन्, दरवाजे  पर  !
पार्वती सम्मानित पाकर, शंख   बजाएं मेरे गीत !
मीनाक्षी तिरुकल्याणम पर,खूब नाचते मेरे गीत !

59 comments:

  1. आप और आपके ये गीत हमेशा हमारे साथ बने रहे यही तमन्ना है.... करीब दो सालों से आपके इस ब्लॉग से जुड़ा हूँ... कभी कमेन्ट किया कभी नहीं... लेकिन आपके गीत और पोस्ट सभी को पढता आया, जीता आया.... यूँ ही लिखते रहे... :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अच्छा लगा शेखर ...
      आभार आपका !

      Delete
  2. :}:}:}

    aapka e-mail id chahiye address send karne ke liye


    pranam.
    jha.shailendra73@gmail.com

    ReplyDelete
  3. आज हँसेंगे मेरे गीत
    आज सजेंगे मेरे गीत,
    इस वन के प्रत्येक पुहुप पर
    आज खिलेंगे मेरे गीत !!


    ज़ोरदार बधाई !

    ReplyDelete
  4. काश कहीं से हवा का झोंका,मेरे बालों को सहला दे !
    क्षमा करें मालिक बनने की, इच्छा करते मेरे गीत !
    बहुत खूब, बहुत बढ़िया सतीश जी. और शुभकाअनाएँ....

    ReplyDelete
  5. वाह...............
    बहुत सुन्दर ..
    बिना तुम्हारे,ये इच्छाएं, कैसे पार लगाएं गीत !
    कष्टों के घर, बड़े हुए हैं ,प्यार ना जाने मेरे गीत !

    प्यारा गीत...
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. कौन यहाँ गैरों की खातिर
    तीर ह्रदय पर , खाता है !
    these lines dedicated to you
    कौन जीता है यहाँ ,किसके जीने के लिए .?
    और कौन मरता है ,किसके मरने के लिए ..?

    ReplyDelete
    Replies
    1. वा वाह ..वा वाह ...

      रमाकांत भाई ! आभार

      Delete
  7. कुछ खुरचन है मनोभावों की, कुछ है उत्तम जीवन रीत।
    कभी इठलाए, कभी शर्माए,कभी प्रीत सिखाए तेरे गीत॥

    ReplyDelete
    Replies
    1. बड़ा प्यारा लिखते हैं आप सुज्ञ भाई !
      गीत लिखा करें, अच्छा लगेगा !

      Delete
    2. आप की प्रविष्टि के लिए सुज्ञ जी के योगदान से सहमत !

      Delete
    3. सतीश जी………

      रोटी खोजी दौड रहे है,
      पल भर का विश्राम कहाँ।
      फुर्सत मिले क्षण भर भी तो
      उग आता अभिमान यहाँ
      तनाव भरी बजती है वीणा, ईर्ष्या द्वेष सजे संगीत।
      क्रोधरत इस विषमकाल में, कौन सुनेगा मेरे गीत?॥

      Delete
  8. राजहंस को घर में पाकर, दीपावली मनाएं गीत !
    मुट्ठी भरभर मोती लाएं करें निछावर मेरे गीत !

    वाह , मानो
    जिंदगी के गीत

    ReplyDelete
  9. रात स्वप्न में एक जादुई
    छड़ी ,मुझे क्यों छूने आई !
    आज बादलों के संग आके
    मेरी लट, किसने सहलाई

    वाह सतीश जी ... लय ताल से भरपूर ... जीवन की ठसक लिए प्रेम की बयार लिए ... खूबसूरत गीत ... बधाई हो ...

    ReplyDelete
  10. बहुत प्यारे गीत...
    जीवन के हर पहलू को छूते हुए...

    ReplyDelete
  11. वाह ||
    बहुत -बहुत सुन्दर गीत है...
    बेहतरीन....
    :-)

    ReplyDelete
  12. बिना तुम्हारे,ये इच्छाएं, कैसे पार लगाएं गीत !
    कष्टों के घर, बड़े हुए हैं ,प्यार ना जाने मेरे गीत !

    बहुत सुंदर गीत ,,,, ,

    MY RECENT POST,,,,काव्यान्जलि ...: ब्याह रचाने के लिये,,,,,

    ReplyDelete
  13. ...सुन्दरतम रचना!

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब, बहुत बढ़िया सतीश जी. और शुभकाअनाएँ....

    ReplyDelete
  15. वाह ......बड़ा सुन्दर गीत है

    ReplyDelete
  16. सम्मानों की बेला में यह रहा एव्क अनुपम सम्मान गीत ..गीतों के चतुर चितेरे की कलम से

    ReplyDelete
  17. आपके गीत, हमारे मन मीत

    ReplyDelete
  18. गीत चाह की राह बनेंगे,
    शब्दों में हर रंग सजेंगे।

    ReplyDelete
  19. कौन यहाँ गैरों की खातिर
    तीर ह्रदय पर , खाता है !

    मानवीय संवेदनाओं से युक्त गीत

    ReplyDelete
  20. मन मोहक सुंदर प्रस्तुति सतीश जी .. खूबसूरत गीत

    ReplyDelete
  21. आपको गीत लिखने में महारत हासिल हैं ...लिखते वक्त शब्द खुदबखुद गीत बन जाते हैं

    ReplyDelete
  22. पार्वती सम्मानित पाकर, शंख बजाएं मेरे गीत !
    मीनाक्षी तिरुकल्याणम पर,खूब नाचते मेरे गीत !

    दिल खुश कर दिया. बहुत सुंदर गीत.

    ReplyDelete
  23. निकल हृदय से शब्दों में ढल,
    नित पृष्ठों पर आयें गीत

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका ...
      इसका उपयोग करूँगा ! :)

      Delete
  24. मन के तारो को वीणामयी झंकार से झंझोडती सुंदर रचना

    ReplyDelete
  25. सतीश भाई ,
    'स्वागत गीत' और उसे 'लिखने वाले' की छवि को समानांतर देखता हूं तो पशोपेश में पड़ जाता हूं ,किस एक के हुस्न की तारीफ पहले शुरू करूं जो दूसरे की शान में गुस्ताखी ना कहलाये !

    ReplyDelete
  26. हर रंग समेटे हैं आपके मेरे गीत.

    ReplyDelete
  27. अपने श्रोताओं में , सहसा,
    तुम्हे देखकर मन सकुचाया !
    कैसे आये, राह भूलकर, मैं
    लोभी, कुछ समझ ना पाया !
    साधक जैसी श्रद्धा लेकर, तुम भी सुनने आये गीत !
    कहाँ से वह आकर्षण लाऊँ ,तुम्हें लुभाएं मेरे गीत !


    हर एक मन को लुभाने जैसा सहज सरल आकषर्ण है आपके इन
    गीतों में सतीश जी, हमेशा की तरह एक सुंदर गीत के लिये
    बधाई .......

    ReplyDelete
  28. काश कहीं से हवा का झोंका,मेरे बालों को सहला दे !
    क्षमा करें मालिक बनने की, इच्छा करते मेरे गीत !
    .... गीतों को भी चाहिए जीवनदायिनी स्पर्श

    ReplyDelete
  29. sateesh bhai ji
    aapki kavita ke baare me kya tippni dun samajh nahi pa rahi hun.har rang ko samet liya hai aapne apni is rachna ke dvaraa
    sabhi paragraf man ko bahut bahut hi bhaye.
    bahut hi behtreen prastuti
    hardik badhai
    poonam

    ReplyDelete
  30. क्या जाने किस घडी तुम्हारी, झलक दिखाएँ मेरे गीत !

    बहुत सुंदर रचना....बहुत ही कोमल...

    ReplyDelete
  31. कलुष मिटे,तम घटे हृदय का
    आनंदित तन-मन-जीवन
    सत्य,मनुज कर पाता तब ही
    गीतों से जन-मन-रंजन
    जीवन-सरिता की कलकल में,मुक्त पवन-से होते गीत
    कालचक्र को भेद पहुंचते,प्रीत-रीत के पावन गीत !!

    ReplyDelete
  32. अपने श्रोताओं में , सहसा,
    तुम्हे देखकर मन सकुचाया !
    कैसे आये, राह भूलकर, मैं
    लोभी, कुछ समझ ना पाया !
    साधक जैसी श्रद्धा लेकर, तुम भी सुनने आये गीत !
    कहाँ से वह आकर्षण लाऊँ ,तुम्हें लुभाएं मेरे गीत !

    ....कोमल अहसास संजोये बहुत भावमयी रचना....

    ReplyDelete
  33. kaun yaha bina swarth ke, apna humdum kahta hai?

    or kaun yaha bina baat ke, dusre ke dukh dekhta hai?

    ReplyDelete
  34. सकारात्मक सोच लिए , एक आशावादी गीत .
    बेहतरीन .

    ReplyDelete
  35. उम्दा रचना !!

    ReplyDelete
  36. haह्र दिन हर कोई ऐसे ही सुन्दर गीत गाये तो ज़िन्दगी की राहें आसान हो जायें। बधाई इस सुन्दर रचना के लिये।

    ReplyDelete
  37. बहुत सुन्दर गीत। मेरा पहला कमेन्ट कहाँ गया?

    ReplyDelete
  38. अपने श्रोताओं में , सहसा,
    तुम्हे देखकर मन सकुचाया !
    कैसे आये, राह भूलकर, मैं
    लोभी, कुछ समझ ना पाया !
    साधक जैसी श्रद्धा लेकर, तुम भी सुनने आये गीत !
    कहाँ से वह आकर्षण लाऊँ ,तुम्हें लुभाएं मेरे गीत !

    बहुत सुंदर भाव ....

    ReplyDelete
  39. बहुत सुंदर दिल से निकली रचना ।

    ReplyDelete
  40. सतीश जी, आज अचानक कुछ खोजते खोजते आपका ब्लॉग हाथ लगा.!!! बहुत आनंद आया आपकी रचनाओं को पढ़कर...!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!! अभी मुझे ज्यादा कुछ नहीं लिखना , सिर्फ आनंद के सागर में गोते लगाना है.....!!!!!! तो मैं फिर कभी आपके मुखातिब होऊंगा, ....फिलहाल मुझे आपके ब्लॉग के दर्शन करने हैं......
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  41. सतीश जी...अचानक कुछ खोजते खोजते आपका ब्लॉग हाथ लगा...!!! सच कहूँ...अननद आ गया.. आपकी रचनाओं को पढ़कर....!!! फिलहाल मुझे इस आनंद के सागर में कुछ देर और डूबने दें......धन्यवाद

    ReplyDelete
  42. bahut sundar lekhan hai aapka laybaddh aur madhur panktiyon se rachit, aapka ye swagat geet gungunaane layak lagta hai. behad khoobsurat rachna ke liye badhai.

    ReplyDelete
  43. जिंदगी के हर सुन्दर भाव को संजोये कोमल गीत।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,