Monday, May 6, 2013

काश ! काम आ जाएँ किसी के, इच्छा है दीवानों की .. -सतीश सक्सेना

ख़ामोशी का दर्द न जानों, हम फक्कड़ मस्तानों की 
कहाँ से लाओगे उजला मन आदत पड़ी बहानों की !
गंगटोक 30 मार्च 13 

हँसते हँसते सब दे डाला,अब इक जान ही बाकी है !
काश काम आ जाएँ किसी के,इच्छा है,दीवानों की !

प्यार बाँटते, दगा न करते , भीख न मांगे दुनिया से !
ज्वालामुखी मुहाने  जन्में , क्या  चिंता  अंगारों की  !

अभिशापित जीवन पाया है, क्या हमको दे पाओगे !
जाओ, जाकर, बाहर घूमो ,रौनक लगी बाजारों की  !

बंजारे  को  ख्वाब दिखाते , महलों और मेहराबों के !
बरगद तले, बसेरा काफी, मदद न लें इन प्यारों की !

57 comments:

  1. खूबसूरत कविता.

    हँसते हँसते सब दे डाला , अब इक जान ही बाकी है !
    काश काम आ जाएँ किसी के, इच्छा है ,दीवानों की !

    बहुत बढ़िया लिखा है.

    ReplyDelete
  2. कहाँ से लायेंगे, उजला मन, आदत पड़ी छिपाने की !
    ... वाह अनुपम भाव लिए उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति

    सादर

    ReplyDelete
  3. सूफी संतों ने सिखलाया , मदद न मांगे, दुनिया से !
    कंगूरों को, सर न झुकाया, क्या परवा सुल्तानों की !

    सतीश जी, एक से बढकर एक, तेवर, मासूमियत, अल्हड मस्ती फ़टकार सहित सब कुछ समेट लिया है आपने इस रचना में. बहुत ही लाजवाब.

    रामराम

    ReplyDelete
  4. ईमानदारी से दिल को छू लेने वाली लेखनी

    बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  5. Dil se nikla phir ek geet ...pasand aaya bahut...

    ReplyDelete
  6. प्यार बाँटते, दगा न करते , भीख न मांगे दुनिया से !
    ज्वालामुखी मुहाने जन्में , क्या चिंता अंगारों की !

    बहुत खुबसूरत अभिव्यक्ति !
    latest post'वनफूल'

    ReplyDelete
  7. प्यार बाँटते, दगा न करते , भीख न मांगे दुनिया से !
    ज्वालामुखी मुहाने जन्में , क्या चिंता अंगारों की ...

    खूबसूरत, लाजवाब रचना ... उमंग और उलास हिलोरें ले रहा है इस मस्ती में ...
    बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  8. सुन्दर भाव चित्र परोपकार और बलिदान की आतुरता से प्रेरित .

    ReplyDelete
  9. वाह...समाज के लिए कुछ करने की इच्छा साफ जाहिर हो रही है...
    प्रेरणादायक कविता...ग़ज़ल !!

    ReplyDelete
  10. लाजवाब प्रस्तुति ....!!

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर रचना हर पंक्ति में सार्थक सन्देश दिया है
    हर वक्त हंसी हर वक्त ख़ुशी,क्या बात करे हम दिलगीरी की :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. हर वक्त हंसी हर वक्त ख़ुशी
      क्या बात करें, दिलगीरी का !
      हम जिए हमेशा, ऐसे ही
      यदि साथ रहे खुशगीरी का !

      Delete
  12. मन संकुचित कहाँ पहचाने, परमपिता को आँखों से !
    नज़र नहीं उठ पायें वहां तक,आदत पड़ी गुलामों की !




    बहुत सुंदर रचना, अच्छा और सकारात्मक संदेश भी

    ReplyDelete
  13. हँसते हँसते सब दे डाला , अब इक जान ही बाकी है !
    काश काम आ जाएँ किसी के, इच्छा है ,दीवानों की !

    बहुत खूब...सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  14. उल्लास से भरपूर एक बहुत खूबसूरत गीत

    ReplyDelete
  15. बहुत दिन बाद रंग में आये हो।
    .
    .बधाई।

    ReplyDelete
  16. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार ७/५ १३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहां स्वागत है ।

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर मस्त गीत वाह बधाई आपको |

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सुन्दर और रचनात्मक प्रस्तुति,आपका सादर आभार.

    ReplyDelete
  19. bahoot hi sundar rachna

    ReplyDelete
  20. सुन्दर , भावपूर्ण , अर्थपूर्ण ग़ज़ल / गीत।

    ReplyDelete
  21. गंगटोक की यात्रा शुभ हो।

    ReplyDelete
  22. सूफी संतों ने सिखलाया , मदद न मांगे, दुनिया से !
    कंगूरों को, सर न झुकाया, क्या परवा सुल्तानों की !
    ..कमाल का सूफियाना अंदाज से भरी रचना ..... बहुत सुन्दर सन्देश ...

    ReplyDelete
  23. गंगटोक वाली फ़ोटो तो बड्डी सोणी और किसी जवान मुंडे की लगदी है बादशाओ?

    रामराम

    ReplyDelete
    Replies
    1. राम राम ताऊ !!
      और क्या अपने जैसा बुड्ढा समझ रखा है मुझे ......
      :)

      Delete
    2. आपकी जवानी खुदा बनाये रखे पर हम पर यह बुढ्ढे का कहर क्यॊं? हम तो May-2008 में ही पैदा हुये हैं और आपके सामने तो बच्चे ही हैं.:)

      रामराम.

      Delete
    3. आपकी जवानी खुदा बनाये रखे पर हम पर यह बुढ्ढे का कहर क्यॊं? हम तो May-2008 में ही पैदा हुये हैं और आपके सामने तो बच्चे ही हैं.:)

      रामराम.

      Delete
  24. दुनिया वाले क्या पहचाने,फितरत हम मस्तानों की !
    कहाँ से लायेंगे, उजला मन,आदत पड़ी बहानों की !

    आप यूँ ही मस्ताने बने रहिये. बधाई इस सुंदर गीत के लिये.

    ReplyDelete
  25. संत स्वभाव पाने वालों का स्वभाव ही ऐसा होता है -और इसी में उनका मन सुख पाता है!

    ReplyDelete
  26. बहुत सुंदर!
    दुनिया वाले क्या पहचाने,फितरत हम मस्तानों की !
    कहाँ से लायेंगे, उजला मन, आदत पड़ी बहानों की



    ReplyDelete
  27. कविता के विचार सर्वत्र प्रसारित हों ...
    सुन्दर विचार !

    ReplyDelete
  28. एक सच्चे व्यक्ति के अंतःकरण से निकली आवाज जो कविता बन गई है............

    ReplyDelete
  29. मस्तानों की बातें मस्ताने जानते हैं..दिल की बातें समझें ऐसे लोग कहाँ मिलते हैं..

    ReplyDelete
  30. सूफी संतों ने सिखलाया , मदद न मांगे, दुनिया से !
    कंगूरों को, सर न झुकाया, क्या परवा सुल्तानों की !

    सक्सेना जी बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति दी है आपने,बधाई

    ReplyDelete
  31. ज्वालामुखी मुहाने जन्में , क्या चिंता अंगारों की !
    वाह बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  32. बंजारे को ख्वाब दिखाते , महलों और मेहराबों के !
    बरगद तले, बसेरा काफी, मदद न लें उन प्यारों की !

    hamesha ki tarah sundar rachana ...

    ReplyDelete
  33. ला-जवाब!!

    प्यार बाँटते, दगा न करते , भीख न मांगे दुनिया से !
    ज्वालामुखी मुहाने जन्में , क्या चिंता अंगारों की !

    ReplyDelete
  34. बहुत बढ़िया ... बधाई

    ReplyDelete
  35. अद्भुत रच गये महाराज...

    ReplyDelete
  36. बंजारे को ख्वाब दिखाते , महलों और मेहराबों के !
    बरगद तले, बसेरा काफी, मदद न लें उन प्यारों की !

    आपकी लाइन को समर्पित क्योकि जिस सूफियाना अंदाज़ में आपने बात कही अदभु और निराली है

    कुम्हार गीली मिट्टी से
    अनगढ़ गढ़ गया
    वेदों की बातें
    लकडहारा कह गया

    ReplyDelete
  37. निश्छल अन्तःकरण से निकली सच्ची और अच्छी रचना ।

    ReplyDelete
  38. आपकी रचना को पढ़कर खुद ब खुद मिसरे जहां मे आए...
    बादल कर फकीरों का हम भेस गालिब
    तमाशा ए अहले करम देखते हैं....
    बहुत खूबसूरत गजल बन पड़ी है... वाह!

    ReplyDelete
  39. ज्वालामुखी मुहाने जन्में , क्या चिंता अंगारों की ...

    खूबसूरत, लाजवाब रचना ...

    ReplyDelete
  40. मुक्त हो चले हम अपने में, क्यों किसकी परवाह करें,
    वर्तमान में रहने वाले क्यों भविष्य की आह भरें।

    ReplyDelete
  41. बहुत उम्दा खयालात .... बधाई

    ReplyDelete
  42. चलो इसी बहाने पुराने सदा बहार गीतों का आनंद फी लिया गया बधाई ...
    शुभ दिन

    ReplyDelete
  43. इस भांति निष्काम कर्म एक नेक ख्याल है. कुछ सुंदर करें कुछ सुंदर रचे. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  44. बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति ..मन को छू गयी .आभार . कायरता की ओर बढ़ रहा आदमी ..

    ReplyDelete
  45. बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति ..मन को छू गयी .आभार . कायरता की ओर बढ़ रहा आदमी ..

    ReplyDelete
  46. तुसी ग्रेट हो. घर की बेटी अभी अन्धेरे में हैं. शायद प्रकाशित नहीं हो पाया.

    ReplyDelete
  47. तुसी ग्रेट हो. घर की बेटी अभी अन्धेरे में हैं. शायद प्रकाशित नहीं हो पाया.

    ReplyDelete
  48. सुन्दर और सकारात्मक सोच है आपकी---खूबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,