Friday, May 3, 2013

कुछ लिखने का मन नहीं करता -सतीश सक्सेना

मेरा लिखने को मन नहीं करता जब ...

  • कोई अपना,अपने मन की बात चाहते हुए भी न कह पाए.. 
  • किसी विधवा माँ का खाली बटुआ,बच्चों को नज़र नहीं आये ...
  • विवाह के बाद विदा होने के बाद, भाई को बरसों, अपनी बहन की याद नहीं  आये .....
  • जब बेटे बहू को, बाहर डिनर पर जाते समय ,दरवाजा बंद करने आती, माँ के आंसू नज़र नहीं आयें  .. 
  • बेहद नजदीकी रिश्तों में भी धन को महत्व दिया जाए.. 
  • दूसरों का नुकसान करके भी,अपना फायदा देखा जाये .....
  • धनवान,अपने बच्चों से भी धन पाने की आशा करे...
  • सम्मान लालचियों का भी सम्मान किया जाए ..
  • साधुओं को भुला दिया जाये... 

55 comments:

  1. सच.....
    मरती संवेदनाएं देख कुछ लिखने को जी नहीं करता...
    :-(

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  2. भाई सतीश जी यह समय ही बेसुरा है ,लेकिन हमे तो अपने दायित्व का निर्वहन करना ही होगा |

    ReplyDelete
  3. आपके द्वारा उल्लेखित बिंदु ही आज समाज, देश और व्यक्ति की पीडा का कारण है. ये जीवन के नकारात्मक पहलू हैं पर हम इस नकारात्मकता को ही अपना ध्येय बनाये हुये हैं और यही हमारे जीवन की पीडा है. इससे उबरना ही होगा, बहुत सुंदर चिंतन.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. लेकिन लिखने के तो यही मुद्दे हैं .... आदर्श समाज में साहित्य का इतना औचित्य नहीं जितना विषम समाज में है.

    ReplyDelete
  5. तब समझना चाहिए ,सारी कायनात ,पाँचों तत्व अपनी तात्विकता (गुण ,धर्म )खो चुके हैं ,न जल निर्मल है न वायु ,अग्नि अब विकारों को नहीं अग्नि मिसायल बन आदमी को नष्ट करती है .धरती भूखी नंगी ,जलवायु परिवरतन का दंश झेल रही है ,आकाश अपनी कार्य शील जीवन अवधि भुगता चुके उपग्रहों का उल्काओं के टुकड़ों का

    का खेल देख रहा है .ऐसे में कौन देखे माँ की आँखों के आंसू ,..........बढ़िया विचार मंथन करती पोस्ट

    ReplyDelete
  6. तब समझना चाहिए ,सारी कायनात ,पाँचों तत्व अपनी तात्विकता (गुण ,धर्म )खो चुके हैं ,न जल निर्मल है न वायु ,अग्नि अब विकारों को नहीं अग्नि मिसायल बन आदमी को नष्ट करती है .धरती भूखी नंगी ,जलवायु परिवरतन का दंश झेल रही है ,आकाश अपनी कार्य शील जीवन अवधि भुगता चुके उपग्रहों का उल्काओं के टुकड़ों का

    का खेल देख रहा है .ऐसे में कौन देखे माँ की आँखों के आंसू ,..........बढ़िया विचार मंथन करती पोस्ट

    ReplyDelete
  7. सच कहा आपने, मन सोचने लगता है, व्यग्र हो।

    ReplyDelete
  8. तभी तो लिखा जाता है -देखिये आपने भी तो लिखा है !

    ReplyDelete
  9. जहाँ संवेदनहीनता है ,भ्रष्टाचार है , बेईमानी है ,स्वार्थ है ,वहां कुछ अच्छा नहीं लगता -बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति
    lateast post मैं कौन हूँ ?
    latest post परम्परा

    ReplyDelete
  10. बहुत सच कहा है...फिर भी यह दर्द कब तक अन्दर दबाया जा सकता है, किसी तरह तो अभिव्यक्त करना ही होता है...

    ReplyDelete
  11. न लिखकर भी तो आपने बहुत कुछ लिख दिया है...समझदार को इशारा काफी है

    ReplyDelete
  12. सार्थक कथन है सतीश जी, सम्वेदनाएं भी हार थक जाय,हालात ऐसे है.

    ReplyDelete
  13. जब मन करे तब ही लिखें फिर चाहे इन विसंगतियों पर ही सबसे पहले कलम व चिंतन बारी-बारी क्यों न चलें.

    ReplyDelete
  14. ये सब तो साहित्यकारों के प्रिय विषय है , इनसे परहेज़ करना तो वाकई सिद्ध पुरुषों के लच्चन है :)

    ReplyDelete
  15. बिल्‍कुल सही कहा आपने ... कभी-कभी कलम भी इन बिन्‍दुओं पर आकर ठहर जाती है ...
    सादर

    ReplyDelete
  16. ऐसी विषम परिस्थिति में तो एक संवेदनशील लेखक,कवी की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है
    सतीश जी, फिर भी आपने कुछ लिखने का मन नहीं करता कहते हुए इतने सारे मुद्दे सुझाये है
    जिसपर लेखनी चलाई जा सकती है अपने लेखक होने का धर्म निभाया जा सकता है !

    ReplyDelete
  17. कलम भी कुछ अच्छा ही लिखना चाहती है...पर कैसे...जब आसपास यह सब हो रहा हो|

    ReplyDelete
  18. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(4-5-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  19. "...जब बेटे को, बाहर डिनर पर जाते समय ,दरवाजा बंद करने आती, माँ के आंसू नज़र नहीं आयें ... एकदम मौलिक विचार!

    ReplyDelete
  20. संवेदनहीन और लालची होती इंसानी प्रवृति को देख कलम चले तो कैसे चले .... .. व्यथित मन से उपजी सार्थक प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  21. मनुष्य के ह्रदय से संवेदनाएं और रिश्तों की अहमियत ख़त्म होती जा रही है यह सब उसी का परिणाम है .

    ReplyDelete
  22. बिना मन किये ही सब कुछ लिख डाला :)

    ReplyDelete
  23. लिखने का जी न करते हुए भी तो कितना कुछ लिख गये आप....

    ReplyDelete
  24. मैं गुम ही हो गई हूँ
    पर होना नहीं चाहती .... तो यूँ ही घुमड़ते भावों के संग शब्द बन बरस जाती हूँ

    ReplyDelete
  25. सब कह दिया भाई साहब!! बचा क्या!!

    ReplyDelete
  26. दुनिया रंग रंगीली ...

    ReplyDelete
  27. आज की ब्लॉग बुलेटिन तुम मानो न मानो ... सरबजीत शहीद हुआ है - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  28. सतीश भाई साहब आपने अपनी झोली में दुनिया के दर्द को समेट लिया अब यहाँ कुछ भी लिखने की गुंजाईश कहाँ बचती है
    भाई साहब दर्द समेटना बुरी बात है दर्द बाटने से हलका होता है .... आपने दुनिया को हथेली पर रख दिया .********

    ReplyDelete
  29. बिन कहे सब कुछ क दिया....

    ReplyDelete
  30. ये सब बातें मन को व्यथित ज्यादा करती हैं.....

    ReplyDelete
  31. फिर भी लिखना तो होगा ताकि जो ये सब करते हैं उन्हें पता चले कि वो क्या कर रहे हैं... गहन चिंतन

    ReplyDelete
  32. होता है ऐसा कई बार जब इन कारणों में से किसी को भी अपने आस-पास अनुभव करते हैं तो मन व्यथित हो जाता है.

    ReplyDelete
  33. सतीश भाई,

    निराशा वही होती है जहां उम्मीद होती है...उम्मीदों पर काबू पा लेना ही मोक्ष है...

    जय हिंद..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत ही उम्दा बात कही खुशदीप भाई.

      रामराम.

      Delete
  34. संवेदित आक्रोशित मन कई बार चुप सा हो जाता है .कितने व्यथित ह्रदय की पीड़ा लिख दी आपने !

    ReplyDelete
  35. सर ,इतना दिल को झकझोर दिया और कह रहे हो लिखा नहीं जाता ..............जो भावुक होते हैं उनके साथ ऐसा ही होता है ..............

    ReplyDelete
  36. मन स्तब्ध रह जाता है शब्द मौन, पर लेखनी को अपना धर्म निभाने दीजिये सतीश जी !

    ReplyDelete
  37. ये सारी संवेदनाए हम और हमारे समाज की पीड़ा है,जब यही पीड़ा असहनीय हो जाती है
    तभी हम लिख पाते है ,,,


    RECENT POST: दीदार होता है,

    ReplyDelete
  38. सचमुच ऐसा ही हो रहा है आज ..
    पर इसे ही दूर करने के लिए लिखना तो जरूरी है !!

    ReplyDelete
  39. namaskaar
    sabhi kathan hai aap ke satish jee . maine to yaha tak dekha hai ki ghar m maa ki arthi padi hai aur ghar ki bahue lad rahi hai ki pehle us kamre kholaa jaaye jise saas me barso se badh kar rakh tha , pehle us dhan ka niptraa hogaa phir , arthi uthegi , khirkaar polish kaa saharaa le kar padosiyon se antim uaatraa us maa ki ravaana ki . saarthk hai aap ke vichaar
    saadar

    ReplyDelete
  40. सहमत हूँ आपकी बातों से

    ReplyDelete
  41. वर्तमान का सच तो यही है
    आपने सटीक और तीखा लिखा है
    सहजता से गहरे अर्थों के साथ
    बहुत सुंदर
    बधाई



    ReplyDelete
  42. सौ फीसदी सच है यह...इन्हीं बातों के कारण यकीनन शब्द उदास हो कर एक कोने में दुबक जाते हैं... 

    ReplyDelete
  43. बि‍ल्‍कुल सही कहा आपने....ऐसी स्‍थि‍ति से दो-चार होना कचोटता है मन और शब्‍द भी रूठ जाते हैं।

    ReplyDelete
  44. इस बात को गीत में कहिये! मन करेगा लिखने का!

    ReplyDelete
  45. यही सब बिंदु जीवन की कडवी सच्चाई हैं। इसी वातावरण में रहकर स्वयं को सही रखना होगा।

    ReplyDelete
  46. आप सच में बहुत भावुक मानव हैं।
    वैसे कहते हैं कि पहली छंदबद्ध रचना आदिकवि बाल्मीकि के मुखारविंद से दुख की स्थिति में ही प्रकट हुई थी।

    ReplyDelete
  47. इसको ऐसा कहा जा सकता है कि शब्दों में अन्य के लिए लिखने का मन नहीं करता पर मन पर यह इतना गहरा लिखा जाता है कि दिख जाता है ...

    ReplyDelete
  48. सच्चाई जीवन की यही है परन्तु रहना भी ऐसे ही माहौल में है चाहें इसे स्वीकार करें या ना करें.

    ReplyDelete
  49. ऐसे में कोई कैसे लिखे. Wordsworth said "poem is the spontaneous flow of powerful feelings" जब ह्रदय में शक्तिशाली विचारों का प्रस्फुटन नहीं हो तो कविता का नहीं होना स्वाभाविक ही है. :)

    ReplyDelete
  50. सच है कि ऐसी परिस्थिति में कुछ लिखने का मन नहीं करता ..... गर लिखा भी जाये तो बस लगता है मन की भड़ास ही निकाली है । बहुत संवेदनशील पोस्ट ।

    ReplyDelete
  51. chhoti chhoti pehal hi badlaav laayegi
    aur har samay yae pehal kartae rehna haen

    yae sab wo vishay haen jin par aap ko roj kuchh naa kuchh likhna haen

    ho saktaa haen sakaratmk blogger sae aap nakaratmk blogger banaa diyae jaye par ussae kyaa

    likhna hogaa aap ko inhi vishyo par varna samaaj soyaa rehaegaa

    ReplyDelete
  52. ऐसा देखकर तो वैराग्‍य आने लगता है।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,