Thursday, May 7, 2015

कुछ तो बातें, ख़ास रही हैं चेले में - सतीश सक्सेना

कैसे यह सरदार गिर गया खेले में,
कुछ तो गहरी बात, रही है चेले में !

कैसे बादल फटे,अभी तो फेंका था   
इतनी ताकत कहाँ लगी थी,ढेले में !

गाली देकर,इनके ही सारथियों ने  
रथ के पीछे, बाँध घसीटा मेले में !

ऐसे ही शुभ लाभ  चाहने वालों ने !
लालाजी बिक गए नकासे धेले में !

पुनर्जन्म लंकेश का हुआ रघुकुल में
अबकी राम लड़ेंगे, युद्ध  अकेले में !


29 comments:

  1. बहुत धमाकेदार प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  2. राम ने हंस कर सब सुख त्यागे,
    और तुम दुखों से डर कर भागे,
    देखो ओ दीवानों तुम ये काम ना करो,
    राम का नाम बदनाम ना करो...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  3. क्या बात है, बहुत मौजूँ रचना है।

    ReplyDelete
  4. सतीश सर बेहतरीन रचना है व प्रस्तुति भी लाजवाब , धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  5. रोज राम की कसमें,खाने वालों ने
    रुला दिए खुद राम, अयोध्या मेले में !
    -
    -
    Kya baat hai ,,,,, waaah

    Lajawab rachna hai

    Badhayi / Aabhaar

    ReplyDelete
  6. बहुत उम्दा सामयिक गजल....।

    ReplyDelete
  7. कमाल...
    ये पहले युग पुरुष कहाये जाते थे,
    बड़ा ही कड़वा स्वाद है, वृद्ध करेले में !
    बहुत बढ़िया रचना..
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  8. उम्दा सामयिक चिंतन भरी प्रस्तुति.. .

    ReplyDelete
  9. क्या बात है खींच कर लपेटा है :)

    ReplyDelete
  10. वर्त्तमान राजनैतिक परिदृश्य में आपकी यह कविता आपके अंतस की वेद्ना को व्यक्त करती है.. कोई भी सम्वेदंशील व्यक्ति नैतिक मूल्यों के इस पतन पर चुप नहीं बैठ सकता. आपकी इस रचना को मेरा प्रणाम, बड़े भाई!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका सलिल !!

      Delete
  11. घर के मुखिया के लिए भारतीय संस्कार क्या कहते है :) ??

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब...बहुत बढ़िया रचना..

    ReplyDelete
  13. This is how one takes reverse-turn for political gains. But do not forget this country is Auranzebs also who got killed his brother Dara & Murad, and captivated his father in Agra fort.However no analogy here.

    ReplyDelete
  14. करारी चोट है आज की गिरावट पर !

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया..

    ReplyDelete
  16. no better words can describe the fate Advani ji and the truth of our times.

    ReplyDelete
  17. आज के अबूझ हालत पे सज्ञान लेती आपकी कविता---भगवान भी अकेले खड़े पाये जायेंगे--कितने अर्थों को अपने में समोये.

    ReplyDelete
  18. वाह, बहुत खूब। उम्‍दा अभिव्‍यक्ति।

    ReplyDelete
  19. बहुत ही अर्थपूर्ण भाव हैं रचना में ... सुन्दर ...

    ReplyDelete
  20. सरल भाषा , दमदार प्रस्तुति, बधाई

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,