Sunday, May 25, 2014

दुनियां वाले कैसे समझें , अग्निशिखा सम्मोहन गीत -सतीश सक्सेना

कलियों ने अक्सर बेचारे
भौंरे  को बदनाम किया !
खूब खेल खेले थे फिर भी  
मौका पा अपमान किया !
किसने शोषण किया अकेले, 
किसने फुसलाये थे गीत !
किसको बोलें,कौन सुनेगा,कहाँ से हिम्मत लाएं गीत !

अक्सर भोली ही कहलाये
ये सजधज कर रहने वाली !
मगर मनोहर सुंदरता में 
कमजोरी , रहती हैं सारी !
केवल भंवरा ही सुन पाये, 
वे  धीमे आवाहन  गीत !
दुनियां वाले कैसे समझें, कलियों के सम्मोहन गीत !

स्त्रियश्चरित्रं पुरुषस्य भाग्यम
देवो न जानाति कुतो मनुष्यः
शक्तिः एवं सामर्थ्य-निहितः 
व्यग्रस्वभावः , सदा मनुष्यः !
इसी शक्ति की कर्कशता में, 
पदच्युत रहते पौरुष गीत !
रक्षण पोषण करते फिर भी, निन्दित होते मानव गीत !

नारी से आकर्षित  होकर
पुरुषों ने जीवन पाया है !
कंगन चूड़ी को पहनाकर
मानव ने मधुबन पाया है !
मगर मानवी समझ न पायी, 
मंजुल मधुर समर्पण गीत !
अधिपति दीवारों का बनके , जीत के हारे पौरुष गीत !

निर्बल होने के कारण ही 
हीन भावना मन में आयी 
सुंदरता  आकर्षक  होकर  
ममता भूल, द्वेष ले आयी 
कड़वी भाषा औ गुस्से का 
गलत आकलन करते गीत ! 
धोखा खायें सबसे ज्यादा,  अपनी  जान गवाएं गीत !

दीपशिखा में चमक मनोहर
आवाहन  कर, पास बुलाये !
भूखा प्यासा , मूर्ख  पतंगा , 
कहाँ पे आके, प्यास  बुझाये  ! 
शीतल छाया भूले घर की,
कहाँ सुनाये जाकर गीत !
जीवन कैसे आहुति देते , कैसे जलते  परिणय गीत !

 (स्वप्न गीत के लिए )

28 comments:

  1. पढ़ा ! सतीश भाई, भयंकर रूप से एकपक्षीय और स्त्री विरोधी कविता है ! विस्तृत टिप्पणी आचार्य श्री अरविन्द जी का कमेन्ट आने के बाद :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. सरकार ,
      क्यों सरल कविता को असरल बनाने पर तुले हैं , गौर अवश्य करें मगर गंभीर नज़र चाहिए :)

      Delete
    2. कुछ अपवादों को छोड़ कर मैं अली जी से सहमत हूँ !
      स्त्री और पुरुष दोनों के लिए पूर्ण समर्पण की परिभाषाएं भिन्न हैं . स्त्री पूर्ण समर्पित होती है तो तो मुक्त कर देती है और स्वयं बंध जाती है . जबकि पुरुष के लिए पूर्ण समर्पण का मतलब बाँध देना है और मुक्त हो जाना है . और यदि वह मुक्त करता है तो उसपर शक किया जा सकता है !!

      Delete
  2. मन की सुंदरता के लिए तन की सुंदरता मात्र भ्रम है, फिर चाहे स्त्री हो या पुरुष।

    ReplyDelete
  3. इस धरा के प्रत्येक पुंसत्व -पुरुष की पीड़ा इन गहन भावपूर्ण
    पंक्तियों में भरी हुयी है -(जाके पैर फटी बिवाई ताहि जाने पीर परायी :-)
    पूर्ण समर्पण करता है वो फिर भी होता है उपेक्षित !

    ReplyDelete
  4. आपकि बहुत अच्छी सोच है, और बहुत हि अच्छी जानकारी।
    जरुर पधारे HCT- Mp3 गाने मेँ अपनी फोटो आसानी से लगाए।

    ReplyDelete
  5. Parinay geet kabhi jalte nahi....dono to yek-dusre ke prayay hain...manvi samjhti bhi khoob hai,paurush-manuhar harte kahan,dil me ghar banate hain.....yatharth ko ingit karti aapke har shabd....wah..

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन ,बहुत खूब

    ReplyDelete
  7. भूमरो - भूमरो श्याम रंग भूमरो आए हो किस बगिया से ?

    ReplyDelete
  8. बढ़िया लिखा हैं सतीश भाई , जोरदार व मस्त लेखन ! धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ब्लॉग ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  9. स्त्री-पुरुष जीवन गाडी के दो पहिये, एक दूसरे के पूरक बने रहें तभी सफल होती है जीवन यात्रा ...

    ReplyDelete
  10. सुन्‍दर मनोहर।

    ReplyDelete
  11. Very beautiful creation, mystifying and truth telling to good extent. Many such instances in ordinary lives but the women are rather enhancers for men also. Words are finely webbed. Please continue. Regards.

    ReplyDelete
  12. कमाल है ! हम आज ही ठीक इसका उल्टा लिखने की सोच रहे थे कि तभी आपकी रचना पर दृष्टि पड़ी ! :)
    नारी के रूप भी विभिन्न होते हैं , कुछ खट्टे , कुछ मीठे !

    ReplyDelete
  13. सतीश जी की कविता अपने उद्देश्य में सफल रही। नर नारी के मनोविज्ञान को समझना कठिन है. मगर एक पुरुष के नाते मैं अपने मन की बात कह सकता हूँ मगर वह समूचे पुरुष प्रजाति का प्रतिनिधित्व करता है नहीं कह सकता। हाँ देश काल परिस्थितियां (संस्कृति परम्परा समाहित) मनुष्य के मूल स्वाभाव में तब्दीलियां ल सकती हैं -मनुष्य आदिम रूप से हिंस्र है ,क्रोधी है, बलपूर्वक अपनी मनवाता आया , वह सम्पूर्ण समर्पण चाहता है (दैहिक और मानसिक दोनों ही ) वह विश्वासघात होने पर मरने मारने पर उतारू हो जाता है। इश्क ने कई जाने ली हैं और सभ्य समाज में भी ली हैं ! मगर इन जैवीय व्यवहार प्रतिरूपों पर सामाजिक सांस्कृतिक और धार्मिक दबावों ने प्रभावी असर डाला है ! मगर आज भी मनुष्य का दिल एक वनमानुष सा है -नारियों को यह सीख कि उससे खेलें तो मगर अपने रिस्क पर! वह सब कुछ लुटने लुटाने को तैयार है मगर बेवफाई उसे कतई बर्दाश्त नहीं!

    ReplyDelete
  14. रचना सुन्दर है ....पर कई बातें स्त्री पुरुष से अलग सिर्फ व्यक्तिगत रूप ही देखी जाएँ

    ReplyDelete
  15. किसी गीतकार की कविता कभी भी स्टीरियो टाइप नहीं हो सकती , हर अभिव्यक्ति के पीछे अपना मनोविज्ञान होता है ! अगर कोई कवि हमेशा एक जैसे लोकप्रिय विचार कविताओं में ढाल रहा है तो यह निश्चित ही वह उसकी टोटल अभिव्यक्ति नहीं हो सकती ! मैंने महिलाओं पर , मां पर , बहिन और बेटी पर जितनी रचनाएं लिखी हैं वे सब एक स्नेहिल अभिव्यक्ति के अंतर्गत लिखी गयीं अथवा करुणा युक्त भावना प्रधान ही रही थी !
    मेरी अधिकतर रचनाओं में पुरुषों और समाज की बेईमानियों का विशद वर्णन रहा है मगर इस रचना में , महिलाओं के बारे में भी कुछ उसी प्रकार के विचार हैं जो मैंने समाज में देखे और महसूस किये , मगर इसका अर्थ कुछ विद्वान् अगर नेगेटिव लगाकर पूरे समाज पर प्रहार मानकर विचार करने लगें तो यह अपने अपने रिएक्शन मात्र ही हैं !
    यकीनन लड़कियां अधिक कोमल ह्रदया होती हैं , मगर अपवाद कहाँ नहीं,
    बस्स इतना ही !
    आप सबको मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
    Replies
    1. कवि की रचना भले ही उसकी अपनी समझ और अनुभव पर आधारित हो , मगर उसका अर्थ हर पाठक को अपने समय, स्थान और परिस्थितियों द्वारा लगाने की छूट होती है और उन्हें पारिभाषित अपने अपने नज़रिए से ही किया गया है, भावनाओं और अनुभवों की अभिव्यक्ति, प्रतिबंधित नहीं की जा सकती और करनी भी नहीं चाहिए ! जो लोग कविताओं में अपनी सुविधा अनुसार सुखांत तलाश करने का प्रयत्न कर रहे हैं मेरी समझ से वे अपने आपसे ही अन्याय कर रहे हैं ! हमें अपनी ऑंखें खोल कर, रखनी ही होंगी !

      Delete
    2. पूर्ण रूप से सहमत
      आँख खुली दिखने का
      मतलब दिख रहा है
      जरूरी नहीं होता है
      अगर कोई एक चीज को
      देख रहा होता है
      एक उसे रस्सी
      दूसरा उसी चीज को
      साँप कह रहा होता है
      लिखने वाला भी
      कुछ सोचता ही है
      कुछ ना कुछ
      लिख रहा होता है ।

      Delete
  16. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति सोमवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  17. उत्कृष्ट रचना ........

    ReplyDelete
  18. समर्पण जैसी कोई बात किसी भी स्त्री पुरुष मे कैसे संभव हैं जब तक वो किसी रिश्ते बंधे हो। फिर पहले उस रिश्ते को परिभाषित करना जरुरी हैं क्युकी रिश्ते की परिभाषा के बाद ही स्त्री और पुरुष के आपस के सम्बन्ध की बात हो सकती हैं और फिर समर्पण की।

    ReplyDelete
  19. जीवन को हर कोण से देखने की क्षमता हासिल करनी ही होगी तभी सभी के साथ न्याय हो सकता है

    ReplyDelete
  20. सुंदर,भावभीनी---परंतु एकपक्षीय,क्शमा करें

    ReplyDelete
  21. जब हवाओं में सुरभि बिखर जाती है न कलियों का दोष है न भौरों का दोष है
    रही बात समर्पण की जब तक इगो है रिश्ते में समर्पण कहाँ ? सार्थक गीत है !

    ReplyDelete
  22. स्त्री-पुरुष जीवन गाडी के दो पहिये,

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,