Friday, July 4, 2014

अल्लाह हर बशर को, रमज़ान मुबारक हो - सतीश सक्सेना

अल्लाह हर बशर को, रमज़ान मुबारक हो
सब को इबादतों का, अरमान मुबारक हो !


माता पिता को रखना ताउम्र प्यार से तुम !
अल्लाह का दिया ये , अहसान मुबारक हो ! 


इन रहमतों के क़र्ज़े , कैसे  अदा  करोगे ?
माँ-बाप का ये प्यारा दालान मुबारक हो !


रहमत के माह में तो कुछ काम नेक कर ले
जो दे सवाब तुम को रहमान , मुबारक हो !


मुझ को मेरे ख़ुदाया तू राहे हक़ प रखना
तेरा अता किया  , ये ईमान मुबारक हो !

24 comments:

  1. सब ही को रमजान मुबारक हो । बहुत सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
  2. वाह , बहुत हि सुंदर लेखन , आ. सतीश सर धन्यवाद , सभी भाई बंधुओ को मुबारक !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  3. आपकी इस रचना का लिंक कल शनिवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर होगा , धन्यवाद !

    ReplyDelete
  4. माशाल्ला बहुत खुबी,बढ़िया।
    दुवा करते है,आप की कलम सलामत रहे।
    ओर आप यु ही लिखते रहे। सभी दोस्तों को
    रमजान मुबारक।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही विचारणीय और सशक्त.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत खूब ... मुझ को मेरे ख़ुदाया तू राहे हक़ प रखना ................।।।।।।
    आमीन... रमजान मुबारक...

    ReplyDelete
  7. सभी मित्रों को रमजान के इस पावन पर्व पर
    मेरी तरफ से भी बहुत बहुत शुभकामनायें !
    सुन्दर सार्थक गजल हमेशा की तरह !

    ReplyDelete
  8. सुभानाल्लाह ....आखिरी शेर तो गज़ब का है |

    ReplyDelete
  9. वाह.....
    आपको भी मुबारक...
    बहुत प्यारी पोस्ट !!

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  10. रमजान की सबको मुबारकें..उस परम पिता को एक पल के लिए भी न भूलें यही याद दिलाने आता है रमजान

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर......

    ReplyDelete
  12. सबसे नेक काम के लिए आवाहन कर लिया गया है - इस पर भी विचार करें !

    ReplyDelete
  13. बहुत खूबसूरत लिखा है आपने। रमजान मुबारक हो..
    इन रहमतों के क़र्ज़े , कैसे अदा करोगे ?
    माँ-बाप का ये प्यारा दालान मुबारक हो !
    आमीन

    ReplyDelete
  14. रमजान की मुबारक बाद सभी को ...

    ReplyDelete
  15. आपको भी मुबारक़ भाई जान!!

    ReplyDelete
  16. देते हैं आपको भी रमज़ान की बधाई
    यह प्रेम का कलावा भारत को मुबारक़ हो ।

    ReplyDelete

  17. रहमत के माह में तो कुछ काम नेक कर ले
    जो दे सवाब तुम को रहमान , मुबारक हो !
    मुबारक़ रमज़ान से हैं हर शब्‍द और उनके एहसास ......
    आपको भी मुबारक़बाद ......

    ReplyDelete
  18. ब्लॉग बुलेटिन की आज गुरुवार १० जुलाई २०१४ की बुलेटिन -- राम-रहीम के आगे जहाँ और भी हैं – ब्लॉग बुलेटिन -- में आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार!

    ReplyDelete
  19. सभी को मिले सबाब, सभी को रमजान मुबारक. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर सार्थक सारगर्भित अभिव्यक्ति ...!!

    ReplyDelete
  21. इन रहमतों के क़र्ज़े , कैसे अदा करोगे ?
    माँ-बाप का ये प्यारा दालान मुबारक हो !

    रहमत के माह में तो कुछ काम नेक कर ले
    जो दे सवाब तुम को रहमान , मुबारक हो !
    रमजान मुबारक़

    ReplyDelete
  22. sundar,pyari post.....aapko bhi mubarakbad...

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,