Friday, July 25, 2014

मुझको सदियों से रुलाता है कोई - सतीश सक्सेना

मुझको सदियों से,रुलाता है कोई,
रोज आकर ,थपथपाता है कोई !

करवटें मुझको बदलता  पाकर ,
हाथ बालों में, फिराता है कोई !

जब कभी दर्द , न सोने दें मुझे ,
नींद को,लोरी सुनाता है कोई !

एक बच्चे से ही, तो गलती हुई !
पूरे जीवन , रूठ जाता है कोई !

जब कभी आँख से आंसू छलके,
हिम्मतें मुझको दिलाता है कोई 

कितनी रातें रूठ कर खाया नहीं 
एक कौरा,मुंह में दे जाता कोई !

19 comments:

  1. " मा निषाद ! प्रतिष्ठां त्वमगमः शाश्वतीः समा: ।
    यत् क्रौञ्चमिथुनादेकमवधीः काममोहितम् ॥"
    वाल्मीकि ,[ आदि- काव्य ]

    ReplyDelete
  2. मर्मस्पर्शी पंक्तियाँ .....

    ReplyDelete
  3. रो लेना बहुत अच्छा होता है
    खुशनसीब होता है
    आज के समय में
    अगर कोई रो भी पाता है ।

    ReplyDelete
  4. Some times you are marvellous.Nice poem :)

    ReplyDelete
  5. वेदना से ही तो जनमती है कविता। आपकी कविता दिल को छू गई।

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन अंदाज़..... सुन्दर
    अभिव्यक्ति........

    ReplyDelete
  7. माँ की याद.... बहुत मार्मिक।

    ReplyDelete
  8. कितनी रातें रूठ कर खाया नहीं
    एक कौरा, मुंह में दे जाता कोई !
    … माँ जैसा कोई नहीं

    मर्मस्पर्शी रचना

    ReplyDelete
  9. आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 26 . 7 . 2014 दिन शनिवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
  10. भावपूर्ण !
    शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  11. Besides fears and frustrations of day to day life, there is a self which struggles against all odds and tries to uplift spirit. You have good friend with you. Congrats.

    ReplyDelete
  12. बहुत मार्मिक रचना है !

    ReplyDelete
  13. लाजवाब ! हर एक पंक्ति कितना खूबसूरत !

    ReplyDelete
  14. कितनी रातें रूठ कर खाया नहीं
    एक कौरा, मुंह में दे जाता कोई !
    … माँ जैसा कोई नहीं

    मर्मस्पर्शी रचना सतीश जी :))

    ReplyDelete
  15. koi aata,aapko bharma jata....sahara de jata....dil chhu li..aapki rachna..

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,