Monday, April 27, 2015

इतना देकर दुःख मुझको थक जाती होंगीं -सतीश सक्सेना

मुझे कष्ट दे वो खुद भी थक जातीं होंगीं 
करवट ले ले खुद को खूब जगातीं होंगीं !

दिन तो कटता जैसे तैसे , मगर रात भर,
स्वयं लगाए ज़ख्मों को सहलातीं होंगीं !

शब्द सहानुभूति के विदा हुए , कब के !
अब सखियों में बेचारी,कहलातीं होंगीं !

जीवन भर का संग लिखा कर ले आयीं हैं 
फूटी किस्मत पा कितनी पछतातीं होंगीं !

जाने कितनी बार तसल्ली खुद को देकर , 
अभिमानों को स्वाभिमान बतलातीं होंगीं !

14 comments:

  1. सही है..अन्यों को दुखी करने वाला खुद की नींद भी गंवा बैठता है..उन्हें करुणा की नजर से देखना चाहिए..

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर एवं भावपूर्ण.

    ReplyDelete
  3. कविता सम्वेदना और कोमल भावों से परिपूर्ण है .

    ReplyDelete
  4. संवेदनशील मन के भाव ... कष्ट देने वाले को सुख कहाँ मिलता है ...

    ReplyDelete
  5. ये तो आपके खुद के मन के आकलन हैं--पर सोच जानदार है।

    ReplyDelete
  6. संवेदनाओं से परिपूर्णं रचना।

    ReplyDelete
  7. जीवन भर का संग लिखा कर ले आयीं ,
    फूटी किस्मत पा कितनी पछतातीं होंगीं !

    एक तरफ कटाक्ष और दूसरी तरफ व्यंग्य की झलक है इन पंक्तियों में ।

    ReplyDelete
  8. सुंदर एवं भावपूर्ण रचना...बधाई

    ReplyDelete
  9. जीवन भर का संग लिखा कर ले आयीं ,
    फूटी किस्मत पा कितनी पछतातीं होंगीं !

    बहुत सुंदर सतीश जी.

    ReplyDelete
  10. jitna idhar hai utna idhar hai. Good.

    ReplyDelete
  11. Hello there I'm Marietta.For 2 years now I'm in South Korea as ELT teacher.I first found your site while I
    was looking for brainstorming Teaching Resources for my EFL group
    some time ago. I keep returning ever since.
    It's my favourite article up to now. Thanks for sharing your ideas
    and putting it all together.

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,