Monday, May 4, 2015

घनघोर घटायें बन जातीं,बंजारिन अखियाँ शाम ढले ! - सतीश सक्सेना

कड़वे तानें दरवाजे पर , दे जाएँ सखियाँ  शाम ढले !
तुमने ही भुलाये थे वादे,बतलायें चिड़ियाँ शाम ढ़ले !

मेरे आँगन में इक जोड़ा , 
बरसों से चीं चीं करता है !
जाने क्यों आता देख मुझे,
कुछ गुमसुम हो जाता है !
कसमें, वादे, सपने जैसे 
हँसते रोते , ही बड़े हुए  !
जाने किन पश्चातापों से, 
भर आईं अँखियाँ शाम ढ़ले !
तुमने ही भुलाये थे वादे,बतलायें चिड़ियाँ शाम ढ़ले !

शहनाई की धुन में अक्सर 
मंज़र , बाराती हो जाए !
ढोलक मृदंग के साथ,खुलीं 
चौखटें गुलाबी हो जाएँ !
ये स्मृतिचिन्ह न जाने कब
से प्रश्नचिन्ह बन खड़े हुए !
जाने क्यों नज़र झुकाएं हैं,
चूड़ी की कनियाँ शाम ढले !
तुमने ही भुलाये थे वादे,बतलायें चिड़ियाँ शाम ढ़ले !

सावन भादों तेरी यादों के 
दुनियां से छिपाए रहता हूँ !
ऐसे भी दिखाएँ क्यों आंसू 
वारिश में, चलते रोता हूँ !
कितने सपने रो पड़े बिना  
फूटी किस्मत से, लड़े हुए !
घनघोर घटायें बन जातीं,
बंजारिन अखियाँ शाम ढले !
तुमने ही भुलाये थे वादे,बतलायें चिड़ियाँ शाम ढ़ले !

क्यों जाम उठाने से पहले 
आँखें भी छलके जाती हैं
मदिरालय में,मेरे आते ही 
साकी भी छल के जाती है
मैं आता दर्द भूलने को ,
पर जैसे  भाले गड़े हुए  !
हर बार शराबी प्याले में, 
रंजीदा अँखियाँ शाम ढले !
तुमने ही भुलाये थे वादे,बतलायें चिड़ियाँ शाम ढ़ले !

कोई भी उदासी का फोटो,
तेरी नज़रें, दिल दहलाएं !
मुस्कान किसी चेहरे पे हो 
तू बार बार सम्मुख आये !
वे ख्वाब सुनहरे भी टूटे 
जो नवरत्नों से जड़े हुए  !
दिन जैसे तैसे कट जाता, 
लहराती रतियाँ शाम ढ़ले !
तुमने ही भुलाये थे वादे,बतलायें चिड़ियाँ शाम ढ़ले !

15 comments:

  1. दर्द छलक रहा है गीत में --सुन्दर रचना अतीत की याद में सतीश जी ! सुन्दर कहूँ या कहूँ आह !

    ReplyDelete
  2. घनघोर घटायें बन जातीं,बंजारिन अखियाँ शाम ढले !
    तुमने ही भुलाये थे वादे , बतलायें चिड़ियाँ शाम ढ़ले--हर शब्द मनो भावों के साथ गूँथ से गए हैं--सुन्दर और मोहक पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
  3. भाव पूर्ण |उम्दा लिखा है |

    ReplyDelete
  4. गीत जो जीवन को जीवन से जोड़ते हैं

    ReplyDelete
  5. वे ख्वाब सुनहरे भी टूटे
    थे, नवरत्नों से जड़े हुए !
    दिन जैसे तैसे कट जाता, लहराती रतियाँ शाम ढ़ले !
    तुमने ही भुलाये थे वादे , बतलायें चिड़ियाँ शाम ढ़ले !

    आह भी और वाह भी।

    ReplyDelete
  6. कोई भी उदासी का फोटो,
    तेरी नज़रें दिल दहलाएं !
    मुस्कान किसी चेहरे पे हो
    तू बार बार सम्मुख आये !
    वे ख्वाब सुनहरे भी टूटे
    थे, नवरत्नों से जड़े हुए !
    दिन जैसे तैसे कट जाता, लहराती रतियाँ शाम ढ़ले !
    तुमने ही भुलाये थे वादे , बतलायें चिड़ियाँ शाम ढ़ले !

    बेहतरीन दिल को छूती हुई.यादों में खो जाने को विवश करती

    ReplyDelete
  7. Something very painful, troubling, deep sensation - words which could not be fulfilled. Poetic pain. Good.

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. Koi bhi udasi ka photo,teri nazren dil dahlain muskaan kisi chehre pe ho,tu baar baar sammukh aaye.....kya gazab tasveer pesh ki h pyaar ki inteha ki ...Aadaab Satish ji

    ReplyDelete
  10. Koi bhi udasi ka photo,teri nazren dil dahlain muskaan kisi chehre pe ho,tu baar baar sammukh aaye.....kya gazab tasveer pesh ki h pyaar ki inteha ki ...Aadaab Satish ji

    ReplyDelete
  11. दिन जैसे तैसे कट जाता, लहराती रतियाँ शाम ढ़ले !
    तुमने ही भुलाये थे वादे,बतलायें चिड़ियाँ शाम ढ़ले !
    Laajawaab

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,