Saturday, July 1, 2017

रुकिए नहीं, दौड़ते रहें , रुकना अंत होगा अभिव्यक्ति का, जीवन दौड़ का -सतीश सक्सेना

मेरे लिए ब्लॉगिंग करना हमेशा स्फूर्तिदायक रहा है, ब्लॉगिंग मेरे लिए पहले दिन से लेकर आजतक मेरे विचारों का एकमात्र संकलन स्थल रहा है और इसकी उपयोगिता मेरे लिए कभी कम नहीं हुई भले ही लोग आएं या न आएं ! शुरू से लेकर अबतक लगभग ४ पोस्ट प्रति माह लिखता रहा हूँ जो लगातार जारी रही दुखद यह है कि लोगों ने लिखना बंद कर दिया शायद इसलिए कि अब कमेंट मिलने कम हो गए !
लेखन से आपको अपनी अभिव्यक्ति को व्यक्त करने का अवसर मिलता है इसपर तालियों की आशा नहीं करनी चाहिए बल्कि हर नए लेख को और अधिक ईमानदारी से लिखने का प्रयास करते रहना है !

लेखन पर कमेंट न मिलना निराशा का कारण नहीं होना चाहिए बल्कि लेखन में निखार लाने के प्रति कृतसंकल्प होना चाहिए ,निश्चित ही सतत लेखन, आपकी अभिव्यक्ति में सुधार करने में सहायक होगा !

मेरा मानना है कि आप सकारात्मक लिखते रहिये अगर आपके विचारों में , रचनात्मकता है तो लोग एक दिन आपके लेखन को अवश्य पढ़ेंगे और उसे सम्मान भी मिलेगा !

सस्नेह मंगलकामनाएं कि आपकी कलम सुनहरी हो !
#हिन्दी_ब्लॉगिंग

24 comments:

  1. सम्मान की आशा कभी रखनी ही नहीं चाहिए, निस्वार्थ रहे तो सम्मान ही सम्मान है, आपके ब्लॉग पोस्ट से सदैव प्रेरणा ही मिलती है, यहाँ तक की दौड़ना भी शुरू कर दिया है, और कल तो बेटी ने भी कह दिया कि अरे यार मम्मी आपके सामने तो हमको भी शर्म आएगी 😊👍 दौड़ना ही पड़ेगा

    ReplyDelete
  2. कमेंट्स की वजह से नहीं , फेसबुक पर सक्रियता की वजह से ब्लॉग पर लिखना कम हो गया है ।
    में भी बीच बीच मे लिखती रही हूं ।

    ReplyDelete
  3. हिन्दी ब्लाग दिवस मुबारक्

    ReplyDelete
  4. अतिसुन्दर ब्लाग दिवस मुबारक्

    ReplyDelete
  5. सार्थक बात ... लेखन की दौड़ हो या असली दौड़ आप कहाँ रुके ...शुभकामनाएँ | हमें भी प्रेरणा मिलती है |

    ReplyDelete
  6. आपकी कलम हो या कलम से लिखी गई आपकी दृढ़ता - सीखने को बाध्य करती है

    ReplyDelete
  7. बहुत सही कहा

    ReplyDelete
  8. सच में आपसे प्रेरणा लेनी पड़ेगी महीने में चार नहीं तो कमसे कम एक
    पोस्ट लिखने की, :) आभार प्रेरक पोस्ट है !

    ReplyDelete
  9. खन से आपको अपनी अभिव्यक्ति को व्यक्त करने का अवसर मिलता है इसपर तालियों की आशा नहीं करनी चाहिए बल्कि हर नए लेख को और अधिक ईमानदारी से लिखने का प्रयास करते रहना है !
    सर, आप तो ब्लाग जगत के रोल माडल हैं आपकी चुस्ती फ़ुर्ती से बहुत ही प्रेणा मिलती है.
    #हिंदी_ब्लागिँग में नया जोश भरने के लिये आपका सादर आभार
    रामराम
    ०३१

    ReplyDelete
  10. सतीश भाई,#हिन्दी_ब्लॉलिंग को आप जैसी ही गति और ऊर्जा की आवश्यकता है...

    ReplyDelete
  11. अन्तर्राष्ट्रीय ब्लोगर्स डे की शुभकामनायें ..... हिन्दी ब्लॉग दिवस का हैशटैग है #हिन्दी_ब्लॉगिंग .... पोस्ट लिखें या टिपण्णी , टैग अवश्य करें ......

    ReplyDelete
  12. सही कहा तभी तो हम भी लगातार लिखते रहे

    लेकिन हम तो कहेंगे
    ताऊ के डंडे ने कमाल कर दिया
    ब्लोगर्स को बुला कमाल कर दिया

    #हिंदी_ब्लोगिंग जिंदाबाद
    यात्रा कहीं से शुरू हो वापसी घर पर ही होती है :)

    ReplyDelete
  13. सिर्फ टिप्पणियां कम होना ही कारण नहीं रहा ...
    बस कामना है कि अब शांति से बढ़ता रहे कारवां.

    ReplyDelete
  14. हिन्दी ब्लॉगिंग की गति बनाये रखने हेतु आपका प्रयास सराहनीय है -शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. सतीश भाई आपकी ऊर्जा से हम भी ऊर्जा लेते हैं।

    ReplyDelete
  16. इस बार यात्रा अनवरत जारी रहे

    ReplyDelete
  17. यह तो 100 मीटर की दौड़ है! मैराथन पोस्ट लिखिए।

    ReplyDelete
  18. जी सर, कुछ न कुछ लगातार लिखते रहने से तारतम्य बना रहता है और लेखन भी निखरता है।

    ReplyDelete
  19. ब्लाग को लगभग लावारिस छोड़ दिया गया था। कभी कभार कोई पोस्ट डाल दी तो डाल दी। पर शायद वो गलती थी।

    ReplyDelete
  20. आपकी सकारात्मकता एक सुखद अहसास देता है ........ आप तो सर सबसे अधिक युवा हैं :)

    ReplyDelete
  21. पद्य जब भीतर से प्रगट हुआ तब लिखा , टिप्पणी के लिए कभी नहीं लिखा । ब्लॉग के अतिरिक्त किसी अन्य जगह अब तक जुड़ी भी नहीं । हार्दिक प्रयास है कि मैं इतना तरसूं कि बस बरसूं । आभार ।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना