Friday, August 5, 2011

उन्मुक्त हंसी -सतीश सक्सेना

            सुबह सुबह टहलने जाते  समय , अक्सर पार्क में ठहाका लगते अधेड़ उम्र के लोग मिलते हैं , उनके साथ खड़े होकर, हास्यास्पद और बनावटी हंसी, हँसते देखने पर,  यकीन मानिए आपकी हंसी छूट जायेगी  कि क्या हँसी है यह भी  ??
             हँसते समय शारीरिक व्यायाम के साथ साथ, रक्त में ओक्सिजन का बेहतर संचार और मांसपेशियों में खिंचाव बेहतर तरीके से होता है ! हाँ जबरन हँसी के साथ , मानसिक संतुष्टि शायद ही कभी महसूस कर पायेंगे ! सामूहिक हंसी से, हंसने की आदत पड़ने में अवश्य सहायता मिलती है अतः जो लोग हंसना भूल चुके हों उन्हें इस प्रकार के लाफिंग क्लास अवश्य ज्वाइन करने चाहिए !  
            मुझे लगता है कि उन्मुक्त होकर हँसने के लिए सबसे पहले, एक निर्मल और चिंतामुक्त मन चाहिए ! अगर आपने  कभी बच्चों की हंसी, का दिल से आनंद लेना हो तो खिलखिलाते वक्त उनकी आँखों में झाँक कर देखें, उनमें आपके प्रति प्रगाढ़ विश्वास और प्यार भरा होगा  ! यही  है असली हंसी..... इस हंसी से आपका तनाव दूर भाग जाएगा और ब्लड प्रेशर कभी पास नहीं आएगा ! मनीषियों ने, इसी हँसी को सेहत के लिए आवश्यक बताया है ! 
खेद है, कि हम लोग  हँसी का अर्थ जाने बिना,हंसने का प्रयत्न करते हैं , आइये स्वाभविक रूप में हंसने के लिए बच्चों के साथ कुछ देर खेलते हैं ! 

62 comments:

  1. @मुझे लगता है कि उन्मुक्त होकर हँसने के लिए सबसे पहले, एक निर्मल और चिंतामुक्त मन चाहिए !
    बिलकुल सही -मन चंगा तो कठौती में गंगा.

    ReplyDelete
  2. सतीश जी हम तो आपके फोटो में आपकी उन्मुक्त हँसी को देखकर ही मदमस्त हो जाते हैं और इंतजार करते रहतें हैं कि कब यह हंसमुख चेहरा मेरे ब्लॉग पर आकर अपनी हंसीं की बौछारों से मेरी पोस्टों को सराबोर करेगा.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.
    आपकी उन्मुक्त हंसीं को प्रणाम.

    ReplyDelete
  3. हम लोग हँसी का अर्थ जाने बिना, हंसने का प्रयत्न करते हैं !
    ......jo ekdam galat hai......aap bilkul sahi hain.

    ReplyDelete
  4. sach kaha maasoom ki ankho me jo aanand dayak hansi hoti us se mila sukoon kahin aur nahi mil sakta.

    ReplyDelete
  5. खुशी की बात यह है कि आप मार्निंग वॉक ही नहीं करते आसपास को ध्यान से महसूस भी करते हैं।
    अधेड़ वय के पुरूष बनावटी हंसी हंसते हैं। हर पल घड़ी पर ध्यान रखते हैं। उन्मुक्त हंसी नहीं हंसते। सही है मगर करें भी तो क्या करें...? कहां से लायें बच्चों सी उन्मुक्त हंसी...? बाजार में खरीदी नहीं जा सकती, दफ्तर में मिलती नहीं है वरना आज के दौर में हासिल करना क्या कठिन था! चलो अच्छा हुआ वरना बेचारे बच्चे मरहूम रह जाते इससे भी।
    उन्मुक्त हंसी के लिए निर्मल और चिंतामुक्त मन चाहिए। निर्मल मन जहरीली हंसी से खिन्न हो दुःखी हो जाता है। क्या यही प्रकृति का स्वभाव है?

    ReplyDelete
  6. उन्मुक्त होकर हँसने के लिए सबसे पहले, एक निर्मल और चिंतामुक्त मन चाहिए !

    बहुत ही सुंदर बात कही आपने. पर अफ़्सोस हालात पर काबू करना हर किसी के वश में नही होता. शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  7. निर्मल मन हों,
    खिलते जन हों।

    ReplyDelete
  8. सतीश जी यह गाँव और शहर का अंतर भी है ।

    वहां गाँव की उन्मुक्त हवा में , किसानों के ठहाके गूंजते हैं ।
    यहाँ हंसने के लिए भी लोग , लाफ्टर क्लब ढूंढते हैं ।।

    सही कहा --दिल खोल कर हंसने से तनाव सहित कई विकार दूर हो जाते हैं ।

    ReplyDelete
  9. jab man nishchhal ho tabhi hansane se swasthya labh bhi hora hai.

    ReplyDelete
  10. हम लोग हँसी का अर्थ जाने बिना, हंसने का प्रयत्न करते हैं !

    सच में ....
    सुंदर पोस्ट

    ReplyDelete
  11. सतीश जी ,
    आज कल मैं यही हंसी हर पल महसूस कर रही हूँ ..यह मासूम हंसी सच ही सारे तनाव भगा देती है .. अच्छी पोस्ट

    ReplyDelete
  12. बच्चों की मुस्कान बहुत निर्मल और निश्छल होती है। उन जैसा मन कहां है बड़ों में....

    ReplyDelete
  13. हँसते रहे इस से टेंशन भी दूर होता है. आप कि हंसी चर्चा मंच तक पहुँची

    ReplyDelete
  14. बड़ी पुराणी कहावत है कि इंसान ही एक ऐसा शख्स है जो हंस सकता है और जिसपर हंसा जा सकता है.. जानवर तक डर जाते हैं ऐसी हंसी से जो बनावटी है... और बच्चों की हंसी के पीछे तो देवता मुस्कुराते हैं!!

    ReplyDelete
  15. समाज में हंसना ,खुलकर हंसना ,मन से हंसना अब विरलघटना बनके रह गया है .भौंडे लाफ्टर शोज़ का सैलाब इसका प्रमाण है .कुछ लोग नकली हंसने का कहा कमा रहें हैं . -http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    ReplyDelete
  16. आजकल तो शहरी बच्चे ख़ुद तनाव में जी रहे हैं। ऐसे में तनावमुक्त बच्चा ढूंढना भी सच में एक मुश्किल काम है लेकिन यह सच है कि हंसी की वजह से चेहरे की 46 मांसपेशियां हरकत में आती हैं और दिमाग़ से तनाव दूर हो जाता है। जब असली हंसी नहीं आती है तो सभ्यताग्रस्त और पैसापरस्त सेठ अलस्सुबह कुत्ते को पॉटी कराते हुए खोखली हंसी हंसने पर मजबूर हो जाता है। लेकिन उसकी हालत देखकर कुत्तामुक्त लोगों को वास्तविक हंसी ही आती है।
    आपकी पोस्ट पूरी तरह सामयिक समस्या को हल करती है और बेहतरीन है।

    एक अच्छी और लाभकारी रचना देने के लिए आपका आभार !

    हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। सोमवार को
    ब्लॉगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं।

    ReplyDelete
  17. आपकी किसी पोस्ट की हलचल है ६-८-११ शनिवार को नयी-पुरानी हलचल पर ..कृपया अवश्य पधारें..!!

    ReplyDelete
  18. उन्मुक्त निश्छल हसीं -क्या कहने -याद है जब हम दिल्ली में मिले हैं तो हमारे ठहाके....अब हम आत्मश्लाघा तो नहीं करेगें मगर इतना तो कहेगें ही निर्मल हंसी के लिए निर्मल मन का होना जरुरी है!

    ReplyDelete
  19. लोग यह मान कर हँसते है की हंसने से सेहत ठीक रहती है | चाहें हँसी कैसी भी हो ......

    ReplyDelete
  20. उन्मुक्त होकर हँसने के लिये
    सच में निर्मल ह्रदय चिंतारहित मन का
    होना बेहद जरुरी है !

    ReplyDelete
  21. True laugh narrates the state of mind & soul.some one takes its an exercise but really it shows how much we adhesive and possessive towards life .

    ReplyDelete
  22. उन्‍मुक्‍त हंसी का शायद एक तरीका है हंस कर उन्‍मुकत होने का प्रयास. आए या न आए गाना चाहिए, की तरह हंसी के बारे में भी सोच सकते हैं.

    ReplyDelete
  23. व्यापार और अर्थ के इस युग में लोग हंसी भी क़िस्तों में निकालते हैं ...

    ReplyDelete
  24. दरअसल भौतिक सुखों की अनंत चाह और तलाश में यह निश्छल हँसी गुम हो गई है और फेफड़े में रक्त संचार के लिए लोग बनावटी ठहाके लगाते हैं ...

    ReplyDelete
  25. उन्मुक्त हँसी। आप ने मुझे पिताजी की याद दिला दी। जब भी वे घर लौटते थे। उन के पहले उन के ठहाके की ध्वनि हमारे कानों में पड़ती थी। मुहल्ले में प्रवेश करते ही कुछ न कुछ ऐसा अवश्य होता था या वे स्वयं ऐसा अवसर प्रदान कर देते थे कि ठहाका अवश्य लगता था।

    ReplyDelete
  26. सार्थक और सटीक प्रस्तुति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  27. हम लोग हँसी का अर्थ जाने बिना, हंसने का प्रयत्न करते हैं !

    एक दम सही कहा

    ReplyDelete
  28. बड़े हो चुके लोगों के लिए निर्मल हँसी सबसे कठिन कार्य है.

    ReplyDelete
  29. हास्यास्पद और बनावटी हंसी, हँसते देखने पर, यकीन मानिए आपकी हंसी छूट जायेगी कि क्या हँसी है यह ?....वाकई हम अपनी हंसी खोते जा रहे हैं.

    ReplyDelete
  30. वाकई ! पार्कों में अक्सर लोग दिमाग से हँसते हैं जबकि दिल से हँसना सेहत के लिए लाभदायक हो सकता है , वैसे सर बनावती खिल-खिलाहट से भी फेफड़ों तक ताजी हवा का संचार तो होता ही है ......................
    आभार उपरोक्त पोस्ट हेतु,,

    P.S.Bhakuni

    ReplyDelete
  31. मासूम हंसी चिंतामुक्त कर देती है....

    ReplyDelete
  32. सुबह सुबह टहलने जाते समय , अक्सर पार्क में ठहाका लगते अधेड़ उम्र के लोग मिलते हैं , उनके साथ खड़े होकर, हास्यास्पद और बनावटी हंसी, हँसते देखने पर, यकीन मानिए आपकी हंसी छूट जायेगी कि क्या हँसी है यह ??no they are undergoing a therapy http://www.laughtertherapy.com/

    i know u never had an intention to be ridiculing them because u cant but still its sending a wrong signal

    and yes in a childs laughter there is god

    ReplyDelete
  33. इतनी उलझनों और नाटकीयता के बीच कैसी भी हँस लें ,हँसी सबसे बड़ी नेमत लगती है .... डर सिर्फ़ इतना है कि कहीं ये नकली हँसी देखने को भी तरस न जायें..... सादर !

    ReplyDelete
  34. बिलकुल निर्दोष हसी है....कोई छल-कपट नही....

    ReplyDelete
  35. बिलकुल...बहुत बहुत सही बात!!!

    ReplyDelete
  36. सतीश भाई जी ...आपका लेख सार्थकता लिए हुए है ...शुक्रिया अपने मन के भावों को सबके साथ बाँटने के लिए
    मन ही हँसीं....बस छोटे बच्चों का साथ पकडे रखो ...हँसी अपने आप ही आ जाएगी ...हँसने के लिए किसी को सोचना नहीं पड़ेगा
    --

    ReplyDelete
  37. निर्मल हंसी - निर्मल मन

    ReplyDelete
  38. बिल्कुल सही आकलन किया है।

    ReplyDelete
  39. असली बात तो यह कि रोने से ही फूरसत नहीं मिलती।

    ReplyDelete
  40. bahut sahi kaha aapne.vaidya vaagbhatt ne bhi uch aisa hi kaha hai apne lekh me.

    ReplyDelete
  41. उन्मुक्त हँसी की दुर्लभता के दौर में लाफ्टर क्लब की काल्पनिक हँसी भी शरीर को थोडा-बहुत लाभ तो दिलवा ही देती है । इसीलिये ये भी जहाँ-जहाँ चल रही है सफलतापूर्वक चल ही रही है ।

    ReplyDelete
  42. उन्मुक्त हंसी के लिए अब वातावरण कहां उपलब्ध है?
    यह सही है कि किसी निर्दोष बालक की हंसी देख मन आनंदित हो जाता है।
    और सतीश जी,
    "हास्यास्पद और बनावटी हंसी, हँसते देखने पर, यकीन मानिए आपकी हंसी छूट जायेगी कि क्या हँसी है यह ??"

    यकिन मानिए वे भी एक दूसरे को बनावटी हंसी हंसते देखकर असल हंसी हंसने लगते है।

    ReplyDelete
  43. अक्सर सफ़र में रहता हूँ और हर जगह बच्चों की हंसी पर कुर्बान जाता हूँ।
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  44. कभी हम उनको, कभी अपने ठहाकों को सुनते हैं :-)

    ReplyDelete
  45. घर से मस्जिद है बहुत दूर,
    चलो यूं कर लें,
    किसी रोते हुए बच्चे को हंसाया जाए...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  46. हम लोग हँसी का अर्थ जाने बिना, हंसने का प्रयत्न करते हैं !

    बिलकुल सही.

    ReplyDelete
  47. Super food :Beetroots are known to enhance physical strength,say cheers to Beet root juice.Experts suggests that consuming this humble juice could help people enjoy a more active life .(Source: Bombay Times ,Variety).

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2011/08/blog-post_07.html
    ताउम्र एक्टिव लाइफ के लिए बलसंवर्धक चुकंदर .
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    शुक्रवार, ५ अगस्त २०११
    Erectile dysfunction? Try losing weight Health
    सतीश भाई उन्मुक्त और चिंता मुक्त होना तो आजकल के ज़माने में दुर्लभ है अलबत्ता हंसी अभावों और तनावों का विस्फोट भी है क्योंकि जीवन से हंसने के अवसर चुक गएँ हैं .

    ReplyDelete
  48. सही बात कही है सर आपने।
    --------
    आपकी इस पोस्ट की हलचल आज यहाँ भी है

    ReplyDelete
  49. निर्मल-चिंतामुक्त मन वालों को कृत्रिम हंसी की ज़रूरत ही क्योंकर होगी...

    ReplyDelete
  50. मनुष्य ही एक ऐसा प्राणी है जो हंस सकता है। प्रकृति के इस वरदान का हमें लाभ उठाना चाहिए।
    हंसी और स्वास्थ्य का सीधा संबंध है।

    ReplyDelete
  51. सच कहा सतीश जी बनाबटी और दिल से निकली हंसी अलग प्रभाव छोडती है.

    ReplyDelete
  52. बिल्कुल सही कहा आपने....हम लोग हँसी का अर्थ जाने बिना, हंसने का प्रयत्न करते हैं !

    ReplyDelete
  53. सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  54. sateesh bhai ji
    bahut hi sahi baat aapne likhi hai bade -bade manishhiyon dwra bhi khulkar hansna sehat ka raj bataya gaya hai.ek vastvik citran ke liye bahut bahut badhai
    naman
    poonam

    ReplyDelete
  55. सतीश जी कभी आपने भी इनके साथ हंसने की कोशिश की है बनावटी हंसते हंसते कब आप सचमुच हंसने लगते हैं पता ही नही चलता । जब आप की हंसी सच्ची हो जाती है तो मन भी प्रसन्न हो ही जाता है ।

    ReplyDelete
  56. @ आदरणीय आशा जी ,
    इसमें कोई शक नहीं कि समूह को हँसते देख, हंसी अवश्य आएगी ! मगर यह लेख, हास्य ग्रुप का सहारा लिए बिना, हंसने में हमारी असमर्थता बताने का प्रयत्न कर रहा है ! प्राकर्तिक हास्य के लिए साथी के प्रति स्नेह और अपनापन बेहद आवश्यक है अन्यथा हंसी ही नहीं आएगी !

    ReplyDelete
  57. दिल खोल कर हंसने से कई विकार दूर हो जाते हैं ।
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार......सतीश जी

    ReplyDelete
  58. bachche to masoo or komal hote hai jaise phoolo ka guldasta..

    ReplyDelete
  59. निर्मल मन में निर्मल हास का वास होता है...सुबह सवेरे पार्क में नकली हँसी हँसते लोगों को देख कर हँसी नहीं गुस्सा आता...क्यों कि उन्हीं लोगों में से कोई राह चलते मिलने पर मुस्कान लेने से भी कतरा जाते...पीछे मुड़ कर देखने लगते और हम झेंप जाते मन में गुस्सा दबाए कि यूँही अपनी मुस्कान बर्बाद कर दी...

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,