Friday, April 6, 2012

स्वप्न रहस्य -सतीश सक्सेना

अली सय्यद सर  से आज फोन पर बात करते हुए उनके नए लेख की  चर्चा हुई जिसमें उन्होंने किशोरावस्था में किसी विदेशी लड़की को स्वप्न में  देखा था और उसका चेहरा मोहरा और आकृति आज भी उन्हें याद है ! समाज वैज्ञानिक अली जैसे विद्वान् के लिए भी यह गुत्थी पहेली जैसी है जिसका जवाब वह आज तक  नहीं खोज पाए हैं , और इस लेख के जरिये, पाठकों से उत्तर की अपेक्षा की है  !


ठीक ऐसी ही एक घटना मेरे साथ भी जुडी है जो मैं प्रबुद्ध पाठकों  के साथ बांटना चाहता हूँ !
१९७५  के आसपास की बात है , लगभग सुबह के चार बजे एक स्वप्न देखा था कि चारो और रुपयों की गड्डियाँ बिखरी हैं , और मैं उन्हें समेट रहा हूँ  ! एक किशोर को रुपयों का स्वप्न किसी भी  तरह असाधारण नहीं कहा जा सकता है मगर जो इस स्वप्न में असाधारण था वह हर गड्डी के ऊपर  एक अंक का लिखा होना और वह अंक  १००३०  बेहद स्पष्ट था ! यह सपना देख मैं जग गया था मगर थोड़ी देर बाद, फिर सोने के बाद, वही सपना  दुबारा  आया , फिर नोटों की गड्डियाँ और वही अंक १००३० , इस बार जागने पर मैंने वह अंक लिख लिया ताकि भूल न जाऊं  !

इस घटना के कुछ माह बाद, बाज़ार में नवभारत टाइम्स का वार्षिकांक १९७६ प्रकाशित हुआ  जिसमें  "स्वप्नों का अद्भुत संसार " नामक लेख में, एक वर्णन हालैंड के एक किसान का था जिसने सपने में कई बार "३६८४ " अंक देखा था, परेशान होकर वह आधी रात को बिस्तर से उठ बैठा ! कुछ समय बाद वह स्टेट लाटरी का इसी नंबर का टिकट खरीद लाया और उसी वर्ष मार्च १९४८ में उसे स्टेट लाटरी का पहला इनाम मिला ! उस लाटरी टिकट का नंबर वही था जो उसने स्वप्न में देखा था !


यह सब पढ़कर मैं वाकई रोमांचित था, वह स्वप्न इतना साफ़ एवं असरदार था की ऐसी असामान्य बातों को सिरे से खारिज करने वाला मैं आज भी यह विश्वास करता हूँ कि जब भी यह अंक मेरे जीवन से जुड़ेगा मुझे असामान्य धन लाभ होगा :-))


इस घटना के कुछ वर्ष बाद बरेली रेलवे स्टेशन  से बदायूं के लिए रेलगाड़ी  पर बैठा था  अचानक सामने के प्लेटफार्म पर खड़ी  ट्रेन के एक  कम्पार्टमेंट पर नज़र पड़ी , उस डिब्बे पर कम्पार्टमेंट नंबर १००२९ अंक लिखा देखा और मैंने अपनी चलती ट्रेन से छलांग लगा दी कि १००३० नंबर का डिब्बा, जरूर इस गाडी में होगा मगर साथ के कई और अंकों के बावजूद १००३०  नहीं मिला  हालाँकि इसे ढूँढने में मेरी वह ट्रेन चली गयी !


मैंने कभी लाटरी नहीं खरीदी मगर इस नंबर के लिए मैं मोहन सिंह पैलेस, दिल्ली गया था , जहाँ लाटरी का सेंटर था ! उसमें सबसे बड़े डीलर से बात करने पर मुझे आश्वासन मिला कि यह टिकट अगले हफ्ते आकर ले जाएँ मगर वह टिकट संख्या नहीं मिल सकी !


तेरी सूरत की किसी से नहीं मिलती सूरत 
हम जहाँ में तेरी तस्वीर , लिए फिरते हैं  !


एक और स्वप्न की चर्चा कर रहा हूँ, जिसके टूटते ही , सोते से उठ कर , एक गीत की रचना की थी , वह गीत "मुक्ता " में छप चुका है !


स्वप्न में आयीं वामा सी
स्नेहमयी तुम कौन हो ?
प्रबुद्ध पाठकों से अनुरोध है  कि  इस अछूते रहस्यमय  विषय  पर  अपने विचार व्यक्त अवश्य  करें  ...

132 comments:

  1. एक अंक का लिखा होना और वह अंक १००३० बेहद स्पष्ट था ! यह सपना देख मैं जग गया था मगर थोड़ी देर बाद, फिर सोने के बाद, वही सपना दुबारा आया , फिर नोटों की गड्डियाँ और वही अंक १००३० , इस बार जागने पर मैंने वह अंक लिख लिया ....

    kahi kuch aaisa mila to aap ke liye jarur le lenge.....

    jai baba banaras....

    ReplyDelete
  2. सपनो की गुत्थी आज तक सुलझी नहीं.................

    सपनों का यथार्थ से कोई लेना देना नहीं.....लोगों ने अपनी सुविधा के लिए मान लिया है कि बुरा सपना याने सुबह होगा कुछ अच्छा....

    हाँ मगर आप १००३० नंबर की लाटरी ज़रूर खोजते रहिये......शायद इस गुत्थी को सुलझाने का श्रेय भी मिले और मालामाल भी हो जाएँ.....
    :-)
    अनंत शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप भी खोजें अगर मिल गया तो बाँट लेंगे :-)

      Delete
    2. :-) पक्का..........

      Delete
  3. satish ji , main dream interpret karta hoon kabhi kabhi , aur iska matlab aapki spiritual enlightment se hai .aur aapke bahut acchi santaan milengi , isse ye bhi sabit hota hai . jahan tak dhan ka swaal hai , ye number aapko newyork tak le jaa sakta hai . jahan aapko kisi se jod sakta hai.. abhi to itna hi ..

    aapka
    vijay

    ReplyDelete
  4. dream analyst hi kuchh bata paayega satish ji.

    ReplyDelete
  5. मुझे लगता है कि इस तरह की अहैतुक कृपा होनी होगी तो स्वयमेव होगी ,उसके लिए छलांग जैसे रिस्क की ज़रुरत नहीं पड़ेगी .कुछ सपने ज़रूर अजीब होते हैं पर इसका रहस्य किसी को नहीं पता !

    ReplyDelete
  6. सपनों का संसार अभी भी अबूझ है , प्रत्येक धर्मों में इसका
    वर्णन है , ......

    ReplyDelete
  7. kai bar sapne sacche hote hain mere sapne aksar sacche hote hain dhyan rakhe kuch n kuch sanket jarur chipa hai.

    ReplyDelete
  8. सतीश जी ...रोचक आलेख है ...!स्वप्न के पीछे भागने से कुछ हासिल नहीं होता |स्वप्न तो स्वप्न ही था |उसे भूल जाइये ...!!मेरी तो यही सलाह है ...
    शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  9. परा मनोविज्ञान का दायरा है यह भाई सतीश सक्सेना साहब .सपनो का संसार .हमने तो दिवा स्वप्न भी सच होते देखें हैं वही मिला है घंटे बाद जो हम पहले से देख रहे थे .देख लिया था .कई सपने आकर हमें बता गए कल क्या होगा क्या क्या हो चुका है जिसका भेद दस दिन बाद खुलेगा .यकीन मानिए वैसा ही हुआ भी जो सपने चुपके से कह गए थे .कभी लिखूंगा चिठ्ठे पर वह किस्से .भविष्य कथन सपनों की मार्फ़त दिल चस्प विषय है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. यकीनन आपको पढना दिलचस्प और ज्ञानवर्धक होगा ...
      इंतज़ार रहेगा वीरू भाई !

      Delete
  10. ...रोचक आलेख है सतीश जी

    ReplyDelete
  11. मेरे साथ बहुत बार ऐसा हुआ है!...सपने हकीकत में बदलते हुए देखें है!..लेकिन सपनों की गुत्थी सुलझा पाना असंभव सा जान पड़ता है!...आपने बहुत विचारणीय विषय पर पोस्ट लिखी है!....आभार!

    ReplyDelete
  12. koi 'frayod' ke sisya mile to 'vyakhya' sahi ho.....

    pranam.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच है यार , मगर फ्रायड का शिष्य लायें कहाँ से ...?
      :-)

      Delete
  13. क्या पता कोई राज़ हो पिछले जनम का .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. यही तो जानना है आप लोगों से ...
      आभार

      Delete
  14. हमारी कामनाओं और कल्पनाओं का विस्तार ही स्वप्न लोक है ऐसी मेरी ही नहीं बहुतों की धारणा है !
    किन्तु मेरी इस धारणा को एक घटना के बाद बदलना पड़ा ! आज से लगभग १२ या १३ साल पहले की घटना है, एक रात मेरे
    बेटे का अक्सिडेंट हुआ है ऐसा सपना आया ! मैंने सपने की बात को सह्जतासे लिया ! लेकिन दुसरे दिन सुबह उसका सच में अक्सिडेंट हो गया !
    तबसे मै सोचती हूँ सपनों की भी एक अजब गजब दुनिया होती है उसकी सत्ता और महत्ता को इनकार नहीं किया जा सकता !
    क्या पता १००३० इस अंक का भी कोई राज होगा ! छलांग मारने जैसा कोई रिस्क मत लीजिये सतीश जी :-}

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत से अनजाने रहस्य हैं मानव जीवन के ...जिन्हें हम समझने में सर्वथा नाकामयाब हैं ! छटी इन्द्रिय क्या है...???

      धीमे चलती गाडी से कूदने में खतरा नहीं है सुमन जी और फिर वे दिन नौजवानी के थे
      :-(

      Delete
  15. सपनों का रहस्य समझना आसान नहीं , पर सपने कई बातों को इन्गित करते हैं ......आपका अंक ज़रूर आपको याद रखने के लिए होगा ताकि जो कुछ भी वर्तमान में हो वह बहुत सही हो

    ReplyDelete
    Replies
    1. ऐसा ही कुछ मुझे लगता है ...
      आभार आपका रश्मि प्रभा जी !

      Delete
  16. sateesh ji sapnon ki dunia rahasyamay hai main itna kah sakti hoon kai baar mere sapne sach hue jaise bhagvaan ne pahle hi ishara kar diya ki ye hoga aapke is sapne ka bhi koi aadhar jaroor hoga ...wait and watch.

    ReplyDelete
    Replies
    1. ठीक कहा आपने ...लगता तो ऐसा ही है !
      आभार आपका !

      Delete
  17. रात में देखे सपने कभी सच्चे नहीं होते । खुली आँखों से देखे सपने फिर भी सच हो सकते हैं , अपनी मेहनत और लग्न से । अपना तो यही मानना है ।

    रात में नींद दो तरह की होती है । NREM और REM स्लीप । सपने REM स्लीप में आते हैं जो सुबह होने से १-२ घंटे पहले होती है । इस समय हॉर्मोनल और केमिकल एक्टिविटी भी ज्यादा होती है । इसीलिए इस समय इरेक्शन भी होता है जिसका होना नपुंसक न होने को सिद्ध करता है ।

    अक्सर सोते समय हम जो विचारों में लेकर सोते हैं , वाही सपने में बिजारे थोट्स बनकर आते हैं । इसीलिए बड़े बूढ़े कहते थे कि सोते समय राम का नाम लेते हुए सोने जाना चाहिए ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. नवीन जानकारी के लिए आपका शुक्रिया डॉ साहब.....
      कल से राम नाम लेकर सोऊंगा ..
      :-))
      राम राम भाई जी !

      Delete
    2. राम का नाम हिप्नोटिक का काम करता है । :)

      Delete
  18. अरे सतीश जी, यह 10030 तो आपका नाम है। 100-30 शत-तीस :)
    यह नहीं बताया कि स्वप्न में नोटों की गड्डियाँ बटोरने में सफल रहे थे या नहीं? कोई रिस्क न उठाएं, यह अंक स्वयं बता रहा है 100 में से 30 बार आप 'बटोरने' में असफल रहेंगे। बस शान्ति से 31 वी बार का इन्तज़ार करें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. कल ही मेरी एक मित्र ने मुझे बताया कि तुम्हारा नाम बंगाली भाषा में सौतीश बोला जाएगा सो यह नंबर तो तुम्हारे नाम को इंगित करता है !
      अब कसम भगवान की, २२ साल की उम्र में मुझे बंगला उच्चारण का कोई ज्ञान न था :-))
      मगर यह विस्मयकारी रहा कि आपने भी सौतीश खोज लिया, विद्वान् दोस्तों का कुछ पता नहीं , कहाँ कहाँ तक न पंहुच जाएँ :-))
      आभारी हूँ सुज्ञ जी !

      Delete
    2. भरोसा रखें सौतीश जी, उन गड्डियों तक पहुंच बनाने की हमारी रुचि नहीं :))
      और सपना कहां हिन्दी बंगाली का भेद करता है :)
      आपके स्नेह से अभिभूत हूँ सतीश जी!

      Delete
  19. मुझे स्वप्न बहुत कम आते हैं,पर जब भी आते हैं मैं बस उन गुत्थियों को सुलझाने में उलझ जाती हूँ ....
    डुबकियां खाती रहती हूँ,पर समझ नहीं पाती हूँ,
    पर अपने अभी तक के जीवन में ४ स्वप्न मैंने ऐसे देखे हैं जिन्हें मैं भूल नहीं सकती हूँ ...
    जैसे मानो सच में मेरे साथ हुआ हो... स्वप्न न हो... पर था स्वप्न ही..
    आपका ये स्वपन मुझे बड़ा ही रोचक लगा....
    आपको जब मिल जाये इस नंबर का लौटरी टिकेट.. तो बताईएगा जरुर... :-)

    wish you good luck....

    ReplyDelete
    Replies
    1. हिम्मत बंधाने के लिए आभार ...
      मिल गया तो मित्रों की पार्टी पक्की :-)

      Delete
  20. 1975 के आसपास आपके बैंक अकाउंट का नंबर क्या था ??? कहीं ऐसा तो नहीं कि लड़का बगल मे और दिंढोरा शहर मे ... पता चले सारा माल आपके ही बैंक अकाउंट मे हो और आप उसको यहाँ वहाँ ढूंढ रहे हो ! वैसे आजकल भी बैंक अकाउंट 14 - 16 अंको के होते है ... एक बार उनको भी चेक कीजिये !

    ReplyDelete
    Replies
    1. उन दिनों दूर दूर तक बैंक अकाउंट नहीं था शिवम् भाई अक्सर कडकी रहती थी....
      शुभकामनायें आपको !

      Delete
  21. यूरेका ....
    सतीश जी मैंने इस अंक का रहस्य पता लगा ही लिया..
    इसका सम्बन्ध लाटरी या ट्रेन से नहीं है
    इसका सम्बन्ध ट्रक या क्रेन से भी नहीं है
    इसका सम्बन्ध तो ब्लॉग्गिंग से है
    आप कम से कम १००३० पोस्ट लगाएंगे
    और आप हर किसी के दिल में उतर जायेंगे

    ReplyDelete
    Replies
    1. वो म्मारा वर्मा जी .......
      लगता तो नहीं कि मैं ऐसा लिक्खाड़ कभी बन पाऊंगा !
      शुभकामनाओं के लिए आभार आपका !

      Delete
  22. सतीश जी, सपनों को मैं भी दस साल पहले तक केवल अपनी दिनचर्या की घटनाओं का फ़िल्मांकन ही समझती थी, लेकिन दस साल पहले जो घटना मेरे साथ घटी उसका साक्षी मेरा पूरा परिवार है. घटना लम्बी है सो मैं भी अब एक पोस्ट के ज़रिये ही उसे सुनाउंगी. लेकिन भरोसा रखिये, इस नम्बर का राज़ ज़रूर खुलेगा, जब भी खुले.

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह पोस्ट अली भाई की ताज़ी पोस्ट से प्रेरित होकर लिख तो दी, मगर शंकित था कि भाई लोग (प्रवीण शाह जैसे ) कहीं मज़ाक न बनायें ! मगर आप एवं अन्य मित्रों की टिप्पणियों से काफी आशा जगी है कि कुछ नयी बातें पता चलेंगी !
      आपके लेख की प्रतीक्षा रहेगी ...कृपया खबर अवश्य कर दें !
      सादर

      Delete
  23. आप भी हमारी तरह गणित में कमजोर जान पड़ते हैं, वरना कोई तो हिसाब बैठ ही जाता.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही पहचाना राहुल सर !
      जोड़ भाग आता ही नहीं ...अक्सर मज़ाक उड़वाता रहा हूँ
      :-(

      Delete
  24. गुरुवर के आदेश से , मंच रहा मैं साज ।
    निपटाने दिल्ली गये, एक जरुरी काज ।

    एक जरुरी काज, बधाई अग्रिम सादर ।
    मिले सफलता आज, सुनाएँ जल्दी आकर ।

    रविकर रहा पुकार, कृपा कर बंदापरवर ।
    अर्जी तेरे द्वार, सफल हों मेरे गुरुवर ।।

    शनिवार चर्चा मंच 842
    आपकी उत्कृष्ट रचना प्रस्तुत की गई है |

    charcamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत है आपका कविवर ...
      आभार आपका जो आपने इस योग्य समझा !

      Delete
  25. इस संख्या का मतलब यही था कि आगे चलकर आप इस पर एक पोस्ट लिखेंगे जिस पर साथी लोग टिपियायेंगे।

    ReplyDelete
  26. सपनो की गुत्थी भले ही अबतक सुलझ न पाई हो पर मै भी इसे वास्तविकता से जोडकर देखती हूं.मैने भी एक बार स्वप्न देखा था कि मै कुछ पकडने की निरंतर कोशिश कर रही हूं,और वो चीज मेरे हाथ के करीब आकर भी छुटी जा रही है.नीन्द मे ही मै रोती रही.जब पापाजी तक मेरे रोने की आवाज गई,तो उन्होने मुझे जगाया और रोने का कारण पूछा.मेरे द्वारा स्वप्न की बात बताने पर उन्होने इतना ही कहा कि तुम्हारी परीछा का परिणाम आनेवाला है,हो सकता है कि तुम कुछ अंको से कुछ छोड रही हो.और,सचमुच एक सप्ताह के अन्दर ही मेरा बी.ए. का परिणाम निकला जो बिल्कुल मेरे स्वप्न की तरह ही था. 6 अंको से मै प्रथम श्रेणी को छोड चुकी थी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब आगे रोने वाला काम नहीं करना शहजादी ....
      शुभकामनायें !

      Delete
  27. मेरे ख्याल से सपनों को सपने जैसा ही मानना चाहिए

    ReplyDelete
  28. क्योंकि मैं ईश्वरीय सत्ता में विस्वास रखता हूँ.जहाँ तक मेरा अनुभव है कुछ तो रहस्य छिपा है इन सपनो में ,, यहाँ पर वंदना अवस्थी दुबे जी की टिपण्णी मेरे लिए काफी मायने रखती है....बीस साल पहले की घटना का एक टिपण्णी के रूप में जिक्र करना मेरे लिए भी असंभव नहीं तो आसान मी नहीं है, यदि में जिक्र भी करूँ तो क्या होगा? सर आपको क्या लगता है की इन्सान इन रहस्यों से पर्दा उठाने में सक्षम है ? आपका जवाब जो भी हो ! लेकिन इतना अवश्य कहना चाहूँगा की इन्सान जो आज तक स्वयं को नहीं समझ पाया है वो क्या इन रहस्यों से पर्दा उठाएगा ? संक्षेप में यही कहूँगा की " कुछ तो है...............?'
    आभार उपरोक्त पोस्ट हेतु...........

    ReplyDelete
    Replies
    1. आज के समय में, इंसान की समझ में यह परा रहस्य आ पायेंगे कम से कम मुझे संदेह है !
      आज के समय में हम रहस्यों की बातें छेड़ते हुए भी डरते हैं कि कुछ विद्वान मज़ाक उड़ायेंगे, अफ़सोस है कि सच्चाई सामने कम आ पाती है , ढकोसले और अनपढ़ों को प्रभावित करने वाले चोंचले सामने पहले आते हैं !
      जन मानस विश्वास करे भी तो कैसे ?
      आभार आपका !

      Delete
  29. सपने कई बार भविष्य में होने वाली घटनाओं की ओर इंगित करते हैं...यह नंबर भविष्य में किसी रूप में आप के लिये शुभ सन्देश ला सकता है यही आशा करनी चाहिए..

    ReplyDelete
    Replies
    1. देखते हैं क्या होता है भाई जी ...
      मगर विश्वास है

      Delete
  30. आन क लागे सोन चिरैया, आपन लागे डाइन
    आन क ख्वाब खयाली हउवे आपन हउवे फाइन

    कहे बेचैन सुनो भाई ब्लॉगर ई बतिया ना ठीक
    एक में गोरी, एक में नोटिया, दुन्नो हउवे नीक

    मजा दुन्नो में आई। भले से ख्वाब में आई।

    ReplyDelete
    Replies

    1. आनंद आ गया कविवर ...
      आज खूब मस्ती में लग रहे हो ! अहो भाग्य ...
      इस मस्ती को आगे बढ़ाइए महाराज तो आनंद आ जाएगा !

      Delete
    2. बड़े मूड में रहली तब तक हो गयल बिजली गुल
      मैना कौआ जस चीखे, चिचियाये लगलिन बुलबुल

      कम्प्यूटर बंद हो गयल। मजा ढेर हो गयल।
      :)

      Delete
  31. aap aur alee bhaai dono mujhe ateendriy kshmta vaale lagte hain ...vaigyaaik vishleshak ESP kahte hain yaanee 'extra sensory perception'
    sorry net connectivitee bahut kharaab hai ..isliye googale indic translateration tool kaam naheen kar raha hai !

    ReplyDelete
  32. आप और अली भाई दोनों मुझे अतीन्द्रिय क्षमता वाले लगते हैं ...वौज्ञानिक विश्लेषक ESP कहते हैं यानी 'एक्स्ट्रा सेंसोरी पर्सेप्सन

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैं तो प्रोफ़ेसरअली सय्यद और आपके आगे धूल भी नहीं डॉ साहब ....
      क्यों मज़ाक करते हैं :-))

      Delete
  33. सतीश जी,
    आपकी और अली जी दोनों के स्वप्न की चर्चा मैने अपने एक मित्र से की जो एक मशहूर मनोचिकित्सक हैं. उनका कहना है
    " The dream is all about a child's thought process. There'r many explanations to this. But it would be pre mature to comment on it without knowing about their childhood. "

    मुझे भी यह बात सही लगी...कि बचपन में हम क्या सोचते हैं...हमारी क्या कल्पनाएँ होती हैं..कौन सी बातें प्रभावित करती हैं..इन सबका हमारे स्वप्न देखने पर बहुत असर पड़ता है.

    हालैंड के किसान के स्वप्न की बात एक संयोग भी हो सकता है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके मनोचिकित्सक मित्र से हम बहुत पहले से सहमत है पर अपने बचपन से भली भांति परिचित होकर भी किसी निष्कर्ष तक नहीं पहुँच पा रहे हैं !

      Delete
    2. अली जी,
      क्या हम अपने आपको कभी बहुत अच्छी तरह जान पाते हैं ??

      Delete
    3. @ रश्मि रविजा,
      आभार आपका चर्चा में गहरे शामिल होने पर ...
      बचपन मध्यम परिवार में गुज़रा, कम से कम धन का कोई अभाव कभी महसूस नहीं किया एक बात और स्पष्ट कर दूं कि बचपन से आज तक पैसे कि इच्छा कभी नहीं की न ही कभी लालच रहा ! "मेरे पास बहुत धन आ जाए " ऐसी सोंच पर भी चिढ़ता रहा हूँ ! आप मुझे संतुष्ट और हंसमुख मान सकते हैं ...

      Delete
    4. बिलकुल सतीश जी,
      आप हंसमुख और संतुष्ट व्यक्ति हैं...पूरा ब्लॉग जगत जानता है..
      ऐसे सपने देखने का यह अर्थ नहीं कि अवचेतन में कोई गहरी दबी इच्छा हो...बस एक fleeting second का thought भी हो सकता है...या नहीं भी...:)

      Delete
    5. रश्मि जी ,
      जिस गांव ,परिवार ,पड़ोस ,स्कूल ,माहौल में हम उस वक़्त थे और जो पालन पोषण हमारा हुआ वो तो सब कुछ साफ़ साफ़ अच्छी तरह से पता है !

      अगर नहीं पता तो यह 'अतिरिक्त प्रविष्टि' ?

      Delete
  34. सतीश भाई ,
    सपनों के आने के कारणों पर चर्चा से पहले आपके और मेरे सपने के बारे में मित्र ब्लागरों की टेलीफोनिक प्रतिक्रिया जानना बेहतर होगा ! हालांकि उनकी सदभावनाओं की एवज में उनके नाम का उल्लेख नहीं करूँगा और शायद इसकी ज़रूरत भी नहीं है :)

    (१) कमसिनी के दौर में सपने आने के कारण जो भी रहे हों पर आपका और सतीश जी का 'एजेंडा' बालपन से ही तय था :)

    (२) आप दोनों के सपने आप दोनों के जीवन की प्राथमिकताओं की पोल खोलते हैं :)

    ReplyDelete
  35. अब ज़रा आपके ख्वाब की चर्चा कर ली जाये ! असल में आपने उन दिनों के आपके पारिवारिक मित्रवत बैकग्राउंड के बारे में कुछ भी नहीं लिखा है इसलिए मुद्दे को अंकों की रौशनी में ही देखा जाये !
    उन दिनों आपकी उम्र भविष्य में अपने पैरों पर खडा होने से ठीक पहले वाली है इसलिए धन की कल्पना स्वाभाविक है पर नम्बर ...?
    आप जिस क्लास में पढ़ रहे थे उसका रोल नम्बर ?
    आपके अभिभावकों ने आपकी कोई पसंदीदा वस्तु खरीदने में इस नोट का इस्तेमाल किया हो ? होने वाली भाभीजान १३ या ऐसे ही मिलते जुलते किसी क्वार्टर नम्बर / गली में रहती हों ?
    ऐसी कोई भी वस्तु जो आप खरीदना चाहते हों जिसकी कीमत इस फिगर के आस पास हो ?

    बहरहाल अगर इस बात का ताल्लुक अगर पैसे से ना हो तो ज़रूर जीसस क्राइस्ट के १३ शिष्यों में से एक आप रहे होंगे या फिर मामला इसी देश में पुनर्जन्म का हो तो आप तेरापन्थ जैन समुदाय के १३ लोगों में से कोई एक रहे होंगे !

    पिछले कुछ दिनों पहले मैंने आपको दस हजारवीं टिप्पणी दी थी उसके बाद की तीसवीं टिप्पणी किसने दी ?

    मेरा ख्याल है कि सभी गड्डियों में एक ही नम्बर होने का मतलब है कि रकम ज्यादा नहीं थी पर जो भी एक गड्डी मूल है वह आपको ऐसी अनेक गड्डिया ( उपलब्धियां ) दिलाएगी ! मान लीजिए यह आपका पहला वेतन रहा हो तो ?

    सपने के मूल स्रोत आप हैं इसलिए आपकी पृष्ठभूमि से ही इस सपने का सही विश्लेषण किया जा सकता है ! वर्ना अंधेरे में तीर मारने का कोई अर्थ नहीं !

    वैसे १३ , २२ या ४ नम्बर का आपके जीवन से क्या वास्ता है ? आपने भाभी जी को पहली गिफ्ट क्या दी थी :)
    मेरे ख्याल से एक आप , दूसरी भाभी और कुल दो बच्चे मिलाकर चार हुए ,बेटी गई और बहु आई मामला बराबर :)
    लौट कर दोबारा आता हूं !

    ReplyDelete
    Replies
    1. @ अली साहब ,
      - रोल नंबर याद नहीं है
      - मेरी ससुराल का मकान नंबर एन १३ था ...
      -१००३० वीं टिप्पणी अवन्ती सिंह की है
      - मेरी गाड़ी का नंबर १३९९
      - मकान नंबर ३४६
      - प्रयोग की गयी बाइक्स का नंबर १९८८ , ६४९८

      Delete
    2. अवंती सिंह पे चर्चा आगे कभी हो पायेगी ! पर बाइक्स को छोड़कर अब तक सारे नम्बर ४ ही दिख रहे हैं !

      Delete
  36. kabhi kabhi swapn bhavishya ki sunder ghatna ka sandesha dete hai .........intzar kiziye ,,best of luck

    ReplyDelete
  37. @ अली साहब,
    - पत्नीश्री को पहली भेंट साड़ी दी थी
    - मेरे अपने जीवन में सबसे अधिक अंक ८ आया है मगर महत्वपूर्ण कार्य अधिकतर ४ अंक से ही हुए हैं ! मेरा अपना मूलांक ८ है और ४ का अंक मेरे लिए विस्मयकारी रहा है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. कीरो अंक ज्योतिष के अनुसार 4 और 8 अंक के गुण दोष लगभग समान हैं।

      Delete
  38. आपके प्रश्न के उत्तर में कहना चाहता हूँ कि मेरे मन को मुझ से बेहतर दूसरा नहीं जान सकता. यही बात आप पर लागू होती है. शब्द हों, अंक हों या उनके अर्थ, ये हमारे मन पर पड़े संस्कारों का घालमेल होता है. आपको दिखा अंक भी उसी का परिणाम है. मन की कार्यप्रणाली इतनी क्लिष्ट है कि इस पर पड़े संस्कार कई रूप धारण करके आते हैं. कभी स्वप्न, कभी दैवी दृष्य बन कर भी. आने वाले समय के दृष्य भी लोग देखते हैं जो सत्य साबित होते हैं और कभी वह भी जो कभी सत्य नहीं होते. हाँ, इन सबमें एक बात सामान्य है कि हम देखते वही हैं जो हम देखना चाहते हैं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार सटीक विवेचना के लिए भाई जी !

      Delete
  39. कुछ सपने सच हो जाते हैं - किस रूप में और कब यह अनिश्चित!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यही मेरा विश्वास है ...
      आदर सहित

      Delete
  40. आपके लिए ख़ास इस नंबर की खोज करूंगा वैसे पोस्ट ग्रेजुएशन में मेरा रोल नंबर १००३० ही था, कहीं वहीँ तो आपके पैसे नहीं रखे थे.... कहिये तो वापस जाकर खुदाई कर दूं कॉलेज की...??? आपके लिए तो कुछ भी, वैसे थोडा हिस्सा मुझे भी मिलने की उम्मीद लगाये बैठा हूँ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. करो यार ...
      आधे आधे कर लेंगे !
      शुभकामनायें खुदाई के लिए :-)

      Delete
  41. सबने बहुत कुछ कह दिया ........मेरे कहने लायक कुछ रहा ही नहीं ...
    फिर भी आपकी उलझन जल्दी सुलझे ....सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुछ उलझन नहीं है अनु ...
      केवल इस विषय पर परिचर्चा आवश्यक लगी ! आभार ..

      Delete
  42. एक ही बात कह सकता हूँ कि मन को समझना बहुत कठिन है.

    ReplyDelete
  43. Thanks Sir, read your comment on my blog and got an opportunity to visit your page. It's really rich! Have heard a lot about you from Vidhi.

    Regards

    Mamta

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत है आपका !
      कल ही आपकी चर्चा हुई , आपकी परिपक्व और स्पष्ट विचार युक्त रचनाएं किसी को भी प्रभावित करने में सक्षम हैं ! आपसे नियमित लेखन की अपेक्षा है ...
      शुभकामनायें आपको !

      Delete
  44. एक ही बात कह सकता हूँ कि मन को समझना बहुत कठिन है.

    ReplyDelete
  45. यह अंक ज़रूर आपके जीवन से कहीं न कहीं जुड़ा होगा ... बाकी सपने पूरे होते हैं या नहीं ... या सपनों का क्या मतलब होता है यह जानना दुरूह करी है ... रोचक प्रस्तुति ॥टिप्पणियाँ और रोचक बना रही हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. ऐसा ही लगता है ...
      अतीन्द्रिय शक्तियों के बारे में ज्ञान की कमी भ्रम पैदा करती है ...
      आभार आपका !

      Delete
  46. बड़े भाई!
    मेरे जैसे बैंकर की समझ में वह आंकड़ा IOBO आ रहा है जो शायद नंबर के रूप में 1030 दिखा हो आपको.. एक भूखे आदमी को एक ऐसे कमरे में बंद कर डिया जहाँ सिर्फ एक छोटी सी ईंट भर सुराख थी.. जब उसे निकालकर पूछा गया कि उसे क्या दिखता था तो वह बोला FOOD! यकीन मानिए उस सुराख से उसे सिर्फ एक फ़्लैट दिखता था, जिसका नंबर था 400D!
    लिहाजा ये अगर IOBO है तो हो सकता है कि अंतिम अक्षर को छोडकर आपका खाता इन्डियन ओवरसीज़ बैंक में हो/या कभी रहा हो!!
    या इस अंग्रेज़ी के संक्षिप्ताक्षर को विस्तार करके सोचें..!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सलिल भाई, आई ओ बी में खाता नहीं था , और नंबर में कोई गलती नहीं थी अविश्वसनीय तौर पर सपना रिपीट हुआ था अतः अच्छी तरह याद है !
      वैसे बैंकिंग अंदाज़ पसंद आया !

      Delete
  47. @ प्रबुद्ध पाठक से अनुरोध है कि इस अछूते रहस्यमय विषय पर अपने विचार व्यक्त अवश्य करें -
    बड़े भाई, हम जे कहने आये हैं कि हमारे भरोसे मत रहना :)

    हमारे एक और बड़े भाई हैं, संबंधित विषय से संबंधित उनकी एक सीरिज़ का एक लिंक दिये जा रहे हैं वो जरूर काम का होगा। http://pittpat.blogspot.in/2010/02/6.html

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनुराग शर्मा विद्वान् हैं और मैं उन्हें गुरु जनों में से एक मानता हूँ .... उनसे मदद मांगते हैं !
      वैसे अली भाई की विवेचना पर विश्वास होता है

      Delete
    2. आदरणीय सतीश जी, आपका सपना रोचक है। सपनों की (और हमारे दिमाग की) दुनिया वाकई विचित्र है और हर सपने का सार ढूंढ पाना लगभग असम्भव। कुछ अनूठे सपने मैंने भी देखे हैं जिनका कोई तार्किक स्पष्टीकरण नहीं है। रविजा जी के मनोवैज्ञानिक मित्र के स्पष्टीकरण का इंतज़ार है। सुज्ञ जी का सुझाया हुआ कोण भी रोचक लगा। सलिल जी की बात को आगे बढाते हुए कहूँ तो लूबो (loobo) व ओबूल (obool) अक्षर विन्यास पर ध्यान दीजिये, शायद कोई क्लू मिले। सपनों द्वारा भविष्यवाणी की बात पर मैं अब तक विश्वास नहीं कर सका हूँ इसलिये 10030 दिन (27+ वर्ष) के बारे मेंकुछ नहीं कहूँगा, लेकिन फिर भी आप ध्यान दे सकते हैं, शायद कुछ नया नज़र आ जाये। वैसे गणितज्ञों के लिये 10030 का घनमूल 21.57 और वर्गमूल 100.15 हैं।

      Delete
    3. अनुराग जी,
      @रविजा जी के मनोवैज्ञानिक मित्र के स्पष्टीकरण का इंतज़ार है।

      मेरे मित्र ने आगे यह भी कहा था कि can be done if they are willing to come for consultation
      मैने इस पंक्ति का उल्लेख नहीं किया क्यूंकि यह संभव ही नहीं...क्यूंकि अली जी जगदलपुर में हैं...तो सतीश जी दिल्ली में
      और शायद जरूरत भी नहीं....क्यूंकि ये सपना उन्हें कोई परेशान तो नहीं कर रहा...बस एक उलझन सी है...जिसका समाधान इतना आसान नहीं.

      मनोवैज्ञानिकों के काम करने के तौर तरीके से तो सब अवगत ही हैं...कितने सेशन करते हैं..सैकड़ों सवाल पूछते हैं...और उन्हीं सवालों से वे जबाब ढूंढ लेते हैं...जिनका हमें आभास भी नहीं होता.

      Delete
    4. @अनुराग शर्मा,
      २७+ वर्ष मुझे अधिक सटीक लग रहा `है , इस वर्ष जीवन में जो सबसे महत्वपूर्ण कार्य किये गए उनमें अपने लिए घर का निर्माण शामिल था ...
      :)

      Delete
  48. सपनो का संसार बड़ा ही अजीबो गरीब हैं ..कभी -कभी मैंने खुद अपने सपने सच होते हुए देखे हैं ..बचपन का ऐक किस्सा याद आता हैं ----" हमारे घर एक पंडित जी रोज़ 'सीदा' ( आटा और दाल.सुखा ) लेने आते थे वो चुपचाप मुझसे मेरा सपना पूछते थे, मैं उस दिन आए हुए सपने का वर्णन कर देती थी ...कभी -कभी याद भी नहीं रहता था ? एक दिन मैने उनसे पूछ ही लिया ! तो जवाब मिला की-- "वो रोज़ 'सट्टा' लगाते हैं कभी -कभी पैसे नहीं मिलते पर अक्सर मिल जाया करते हैं " उस दिनों सट्टा क्या हें मैं .. जानती नहीं थी |"
    मै सोचती हूँ जिस दिन मैं उन्हें कुछ बताती नहीं थी या यू ही गलत -शलत बता देती थी उस दिन उनका सट्टा नहीं खुलता था ..
    तो यह सपने आज भी साइंस के लिए और हमारे लिए भी आश्चर्य ही हैं सतीश जी ...आपको भी एक बार उन नम्बरों को अजमाना चाहिए था ..हो सकता हैं वो सच होते ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. नंबर ही तो नहीं मिल रहा ....
      :-)

      Delete
  49. बिन ताले की चाबी लेकर फिरते मारे मारे। विक्‍टोरिया नम्‍बर ----

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा...हा...हा...हा....
      यह गाना आजकी पोस्ट के लिए बिलकुल उपयुक्त है ...
      अब आप आ ही गयी हैं तो कम से कम कुछ क्लू दे जाइएगा क्या पता कुछ भला हो जाए ..

      Delete
  50. mama, sapno me jo dikhta hai wo hamare ya kisi de dhoondne se nahi milta, par anayaas hi hamre saamne aa jata hai, sahi waqt par hame sapna yaad raha to theek warna wo aapke saamne se hawa ki tarha nikal jaata hai,

    aisa hi ek wakya mere saath hua tha, muze aksar ek railway line aur sakdak saath saath dikhti thi aur itni baar dikhi ki poora raasta yaad ho gaya, aur hamesha train ek jagah rukti thi aur sadak paar karke ek ladki muzse milne aur paani pilane jaroor aati thi. ek din mai car me bareilly se kannoj pahli baar jaa raha tha aur uske baad muze kanpur bhi jaana tha, jab farrukhabad se kannauj ke liye aage bada to mai jis road par chal raha tha uske side me ek railway line bhi chal rahi the aur muze aisa bilkul nahi lag raha tha ki mai pahli baar aaya hu.aur mazedaar baat ye hai ki muze kisi se rasta poochne ki bhi jaroorat nahi padi kuki sapne me mai bahut baar aa chuka tha. aur jab se mai waha se wapas aaya tab se muze wo sapna kabhi dobara hani aaya.

    mai aaj tak nahi samaz paya ki ye sapna ku aata tha..

    raha sawal us ladki ka .....meri shaadi kanpur ki ek ladki se hi ho gai. but unfortunately geetanjali ki surat us ladki se nahi milti...

    ReplyDelete
    Replies
    1. @ शिवानी ,
      यह पूरी पोस्ट स्वप्न अर्थ जानने के लिए ही लिखी गयी है , ऊपर दिए गए कमेन्ट ध्यान से पढ़ते रहें और समझने का प्रयत्न करें ! देश के बेहतरीन विद्वान क्या लिख रहे हैं इसे अनुभव करें और ग्रहण करें मुझे विश्वास है कि काफी कुछ स्पष्ट होगा ...
      शुभकामनायें !

      Delete

    2. जो विद्वजन यहाँ टिप्पणी दे रहे हैं, उनका लिखा पढने और समझने से पहले बेहतर होगा कि उनके नाम के जरिये क्लिक करके उनका प्रोफाइल पहले जाना जाय !
      मेरी पोस्ट पर कई बार इन माननीय विद्वानों की प्रतिक्रियाएं मूल लेख से कहीं बेहतर होती रही हैं !
      यही ब्लॉग लेखन की शक्ति और खूबसूरती है कि आपको बैठे बिठाए बेहतरीन विद्वान अपने ज्ञान को आपसे साझा करते हैं और नतीजा बेहद परिष्कृत विचारों से हम सब लाभान्वित होते हैं ! ...........

      Delete
  51. सतीश जी, आपका स्वप्न विमर्श रोचक बनता जा रहा है। मेरे पुत्र का एक मित्र है 'जीतेन'। उसे अपनी मोबाइल फोन बुक में लिख रखा है 'G-10'। याद कीजिए आपका कोई उस समय का बंगाली मित्र हो और वह आपका नाम 100,30 लिख विशिष्ट अंदाज देता हो।

    10030 और गड्डी दिखना, याद कीजिए यह 100-100 के 30 करारे नोटों की गड्डी तो नहीं जो आपका पहला अर्न हो?

    अली साहब के अनुसार 4 का जोड तो बैठता है पर प्रश्न होता है, 4 का योग कईं संख्याओं में घटित हो सकता है। यह 10030 ही क्यों?
    वैसे आपके ससुराल का मकान नंबर एन १३, आपके मकान नंबर ३४६ का योग 13 और इस स्वप्न संख्या में 13 का आना खुबसूरत संयोग है।

    रश्मि जी नें सही कहा कि कईं सपने ज्वलंत इच्छाओं के परिणाम होते है। निश्चित ही आप संतोषी है किन्तु कुछ इच्छाएं ही मनुष्य मात्र की ज्वलंत होती है वे तीन प्रमुख है (स्त्री)साथी,धन और जमीन। गोरी का स्वप्न अली साहब को आया, गड्डी का स्वप्न आपको अब कोई बन्धु प्रोपर्टी के स्वप्न का उल्लेख करे तो कोई आश्चर्य नहीं :)
    यही ईशारा माननीय सलिल जी की बात में गर्भित है, भोजन की तीव्रेच्छा में 400D को FOOD पढ़ा जाता है।
    अनुराग जी नें भी एक सोच दी कि 10030 दिन जोडकर 27+ की उम्र की किसी घट्ना को याद किया जा सकता है।(obool) पर भी ध्यान दिया जा सकता है।
    एक और बात भविष्य कथन की तरह……इस अंक खोज के प्रयास में आपको डिब्बे का नंबर १००२९ मिला, अर्थात् वह संख्या 10030 अभी घटित नहीं हुई, यह निकट भविष्य में ही घटने का संकेत हो सकता है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. @ सुज्ञ जी ,
      सौतीश पहली बार ही सामने आया है भाई जी ....
      अंक ज्योतिष के बारे में बहुत समझ नहीं है मगर यह सच है कि मेरे जीवन में अंक ४ एवं ८ का अधिकतर योग रहा है ...
      २७+ वर्ष मुझे अधिक सटीक लग रहा `है , इस वर्ष जीवन में जो सबसे महत्वपूर्ण कार्य किये गए उनमें अपने लिए घर का निर्माण शामिल था

      Delete
  52. सपने कभी न कभी हकीकत का रूप ले ही लेते हैं ...बहुत ही रोचक प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  53. वाह!!रोचकआलेख सतीशजी,अच्छी प्रस्तुति........

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....

    ReplyDelete
  54. समय बिताने को अच्छी चर्चा है। जिस से कभी कुछ न निकलेगा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैं यहाँ आपसे सहमत नहीं भाई जी , कई नयी बाते सामने आई हैं और वैसे भी विषय में नयापन तो है ही ...

      Delete
  55. अपने बचपन में अक्सर एक स्वप्न मैं भी देखता था हवा के झोंके के साथ मैं उपर उडता चला गया, हवा का प्रवाह रुक गया और मैं पूरे वेग से नीचे की तरफ गिर रहा हूँ । बस...
    न इसके पहले कुछ और न ही इसके बाद का कुछ याद आ पाया किन्तु उपरोक्तानुसार यह स्वप्न कई बार देखा । शायद आपके साथ इससे सम्बन्धित गुत्थी भी कुछ सुलझ जावे । और हाँ लाटरी टिकिट इन्दौर में देखने में नहीं आ रहे हैं वर्ना आपके लिये 10030 नंबर का टिकिट खरीदकर आपको गिफ्ट करने में मुझे भी बेहद प्रसन्नता होती । आभार सहित...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आना ही आनंद है भाई जी ...

      Delete
  56. आप कहें तो आपके लिये वह कम्पार्टमेन्ट ढूढ़ते हैं।

    ReplyDelete
    Replies

    1. @ आप कहें तो आपके लिये वह कम्पार्टमेन्ट ढूढ़ते हैं।

      हा...हा...हा....हा....हा....हा.....
      मैं भूल ही गया था कि ट्रेन ओपरेशन और ट्राफिक ( ट्रांसपोर्टेशन ) के चीफ हमारे मध्य में ही मौजूद हैं ! यह कमेन्ट ब्लॉग जगत की ताकत का परिचायक है प्रवीण भाई...
      आभार आपके स्नेह का !

      Delete
  57. बचपन में पीपल के पेड के नीचे सोते समय एक स्वप्न मेरे भी अनेक बार देखने में आया - हवा के वेग के साथ मैं उडता जा रहा हूँ अचानक हवा का चलना बन्द हो गया और मैं पूरे वेग से नीचे गिर रहा हूँ । न इसके पहले का और न ही इसके बाद का कुछ याद आता है किन्तु इस हिस्से को अनेकों बार देखा हुआ याद है । शायद आपके स्वप्न रहस्य के साथ यह गुत्थी भी कुछ सुलझ जावे । इन्दौर में लाटरी टिकिट बिकते नहीं दिखते वर्ना आपके लिये 10030 नं. का टिकिट ढूंढकर आपको गिफ्ट करने में मुझे बेहद प्रसन्नता होती । आभार सहित...

    ReplyDelete
  58. सतीश जी , वैसे तो मुझे स्वप्नों कए बहुत मतलब तो नही पता , मगर हाँ जितना भी थोडा बहुत जानती हूँ उस आधार पर यह कह सकती हूँ कि सस्वप्न हमारी जिन्दगी से जुडे अवश्य होते हैं , कभी यह हमारे भविष्य की और इशारा करते हैं और कभी भूत काल में हुयी घटनाओं की ओर..
    जहाँ तक आपके स्वप्न की बात हैं , तो यह नोटों की गड्डियां शायद यह इशारा कर रही थी , आपका भविष्य एक सुखद एंव सम्पन्न है , अवसर आपके आस पास है, जिन पर मेहनत से आपको अपना नाम लिखना है .... अंको का भी अपना महत्व होता है शायद १००३०= ४ आपके जीवन पर अपना प्रभाव रखता हो...

    ReplyDelete
    Replies
    1. चार नंबर की बात सही है अपर्णा जी ..

      Delete
  59. हा.....
    सतीश जी यह क्या किया .....?
    इतना कीमती सपना जग जाहित कर दिया ?
    किसी ने चुरा लिया तो .....??
    अजी छोडिये इसका मतलब है सौ बार तीस मार खाँ बनेंगे आप .....:))
    या....
    सौ-सौ की तीस गड्डियाँ .....:))
    अब भी मौका है तुरंत लाटरी ka टिकट खरीद लें इससे पहले कि मैं खरीद लूँ ....;))

    (मुझे तो सपने में हमेशा एक कब्रिस्तान दिखाई देता है और उस कब्रिस्तान में एक अपंग घसीट कर चलने वाला व्यक्ति , बड़ा डरावना सा सपना है इसलिए दिन में इसे याद भी नहीं करती ....)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपने सपने वाले आदमी से मिलवाइए न कभी ...:)
      आभार आपका !

      Delete
  60. स्वपन रहस्य पर न जाने कितना कुछ लिखा पढ़ा जा चुका है और निष्कर्ष वही ढाक के तीन पात...अच्छा है इस बहाने मित्र इक्कठा हुए, बातचीत हुई...रोचकता बनी रही और बनी रहे पूरे १००३० मिनटों तक...अनेक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया समीर भाई ...
      १००३० मिनट तो मिलेंगे ही ...

      Delete
  61. केवल आपका स्वप्न वाला संस्मरण ही नहीं अपितु टिप्पणियां पढकर भी बहुत मज़ा आया... बहुत उत्सुकता हो रही है, जब भी यह पहेली हल हो तो अपने इस मित्र को अवश्य सूचित करना....

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस नंबर को तलाश तो करो ...
      :-)

      Delete
  62. अपने तो अपने होते हैं,​
    ​बाकी सब सपने होते हैं...​
    ​​
    ​जय हिंद...

    ReplyDelete
  63. एक ठो नया मोबाइल नम्बल ले लीजिए ना .....
    *****10030

    कैसा रहेगा ?

    ReplyDelete
  64. एक ठो नया मोबाइल नम्बल ले लीजिए ना .....
    *****10030

    कैसा रहेगा ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह आइडिया बुरा नहीं होगा प्रवीण भाई ...

      Delete
  65. या फिर 10029 स्त्रियों से प्रणय का जुगाड़ कीजिये :)



    टीप :
    10029 लिखा सो भाभी के सामने इसे कैरेक्टर सर्टीफिकेट की तरह से यूज मत करियेगा कि ये देखो अली भाई भी मान रहे है कि सतीश जी ने भाभी से अलग कोई लफड़ा नहीं किया :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. फोटो में मुस्कराहट मौजूद हो तो कमेन्ट के दूसरे उत्तर समझ में नहीं आते :)

      Delete
  66. आदरणीय सतीश जी मुझे लगता है कि यह तरह का मनोरोग है।
    इस तरह की पुस्तकें या अलेख हमें भ्रमित करते हैं।
    आश्यर्च तब होता है कि जब कोई विद्वान इन पर विश्वास करता है,
    जिस कारण से इन बातों को बल मिलता है।
    यदि सपने हकीकत होने लगते तो अब तक इनका नाम बदल चुका होता।
    फिर भी आलेख रोचक एवं मनोरंजक है।

    ReplyDelete
  67. एक अज्ञानी भला क्या समीक्षा करे आप के इस ख़्वाब की :)
    यदि आप की दृष्टि में ये स्वप्न सुंदर है तो संजो कर रखिये वर्ना भूल जाइये
    लेखन अवश रोचक लगा

    ReplyDelete
  68. सपनों की इस फंतासी दुनिया का रहस्य कभी न कभी तो खुलेगा ... विज्ञानं को कुछ और तरक्की करने दे ....

    ReplyDelete
  69. हकीकत का रूप ले ही लेते हैं सपने कभी न कभी

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,