Sunday, April 8, 2012

हम लोग - सतीश सक्सेना

पुरानी पीढ़ी, अपने जमाने की सीखी सारी परम्पराएं, इन घबराई हुई लड़कियों (नव वधुओं) पर निर्ममता के साथ लादने की दोषी है ! मैंने कई जगह प्रतिष्ठित ओहदों पर बैठे लोगों के सामने भी, यह परम्पराएं होती देखीं हैं ! इन परम्पराओं के जरिये बहू को "शालीनता" के साथ बड़ों का "सम्मान" करना सिखाया जाता है ! कॉन्वेंट एजुकेटेड इंजिनियर और मैनेजर बहू, घूंघट काढ कर, बैठी रहे ...थकी होने पर भी, सास ननद को काम न करने दे आदि आदि...

और अफ़सोस यह है कि शालीनता के पाठ को पढ़ाने में उस घर की महिलायें सबसे आगे होती हैं ऐसा करते समय उन्हें अपनी बेटी की याद नहीं रहती जिसे यही पाठ जबरदस्ती दूसरे घर पढाया जाना है !

              अपनी बच्ची के आंसू और घुटन महसूस होते हैं मगर दूसरों की बच्ची के आंसू हमें अपने नहीं लगते, २० साल बाद इसी गैर बच्ची (आज की नव वधु) से, जो उस समय, घर की शासक होती है, हम प्यार और सहारे की उम्मीद करते हैं !  

हमें अपने घर में विरोध करना आना चाहिए .... 

71 comments:

  1. आपसेे पूरी तरह सहमत, बहुओं को बेटी जैसा व्यवहार मिले सास से।

    ReplyDelete
  2. और अफ़सोस यह है कि शालीनता के पाठ को पढ़ाने में उस घर की महिलायें सबसे आगे होती हैं ऐसा करते समय उन्हें अपनी बेटी की याद नहीं रहती जिसे यही पाठ जबरदस्ती दूसरे घर पढाया जाना है !

    यह याद रहे तो हालात ही बदल जाएँ...

    ReplyDelete
  3. सत्य का बीज है इस रचना में लेकिन एक और छोर है इन संबंधों का जहां रेश ड्राइविंग है ,नंगा पन है,शब्दों में बर्ताव में पैरहन में .दुनिया रंग बिरंगी सब के अनुभव अलग अलग फिर भी मैं हिमायती सकारात्मक चिंतन और लेखन का हूँ इस मायने में इस पोस्ट का समर्थन करता हूँ .लेकिन कई रंग है पुत्र वधुओं के .जिन्हें हम तो पुत्र वधु मानते हैं वह कुछ भी नहीं मानतीं हैं संबंधों को. महज़ अपेंडिक्स से वहां पड़े रहतें हैं हम लोग एक और इसी मुगालते में मेरी पुत्रवधू ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहमत हूँ, समस्या के कई पक्ष हो सकते हैं। माँ बाप की परिपक्वता और बच्चों को निरपेक्ष शिक्षा इस नाते और भी ज़रूरी हो जाती है। सुन्दर भावना, सुन्दर पोस्ट!

      Delete
    2. आपकी टिप्पणी लगता है अधूरी रह गयी है वीरू भाई ...

      Delete
  4. बेटियों की परवरिश बदली है जाहिर है उनके साथ व्यवहार भी बदलना ही चाहिए.बहु भी आखिर किसी की बेटी होती है.
    आपकी बेटियों पर लिखी हर पोस्ट बहुत सुकून देती है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्योंकि मैं अपने आपको बेटियों के अधिक नज़दीक पाता हूँ ....और शायद उन्हें पापा के प्यार की अधिक आवश्यकता होती है !
      सच है या नहीं ...??

      Delete
  5. एक विवेक-युक्त आचार-विचार भरी पोस्ट!!

    पर एक मात्र विरोध इस समस्या का इकलौता माध्यम नहीं है। यह घर है और प्रत्येक व्यक्ति की समझ, धैर्य, सहनशीलता और विवेक का अलग अलग स्तर होता है। सभी जानते है अच्छे व्यवहार का प्रतिदान अच्छे व्यवहार से मिलता है पर कभी कभी व्यक्ति प्रतिदान देने में समय व्यतीत कर देना है और संयोग से दूसरे में धैर्य नहीं होता। ऐसी स्थिति में व्यक्ति प्रायः जल्दबाज़ी में निर्णय कर बैठाता है कि या तो भलाई दिखावा मात्र है या हमेशा भालाई का बदला भलाई नहीं मिलता।
    सुख शान्ति और संतोष सभी को प्रिय है बस उसे समझने, आत्मसात करने और क्रियाशील करने में अन्तर पड जाता है। यही मुख्य समस्या है।
    आपके सुन्दर विचारों का समर्थन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सुज्ञ जी ...

      Delete
  6. काश ! समय रहते सब समझ जाते..

    ReplyDelete
  7. mahtwapurn baat he...yah ho to jamana badal jaye

    ReplyDelete
  8. परिवार के हर सदस्य को इन्सान जैसा व्यवहार मिलना चाहिए। चाहे वह बहू हो या सास, बेटा हो या दामाद। बेटी हो या पत्नी और माता पिता को भी।

    ReplyDelete
  9. अपनी बच्ची के आंसू और घुटन महसूस होते हैं मगर दूसरों की बच्ची के आंसू हमें अपने नहीं लगते, २० साल बाद इसी गैर बच्ची(नव वधु) से, जो उस समय, घर की शासक होती है, हम प्यार और सहारे की उम्मीद करते हैं !

    बहुओं को बेटी जैसा व्यवहार मिलना चाहिए.

    ReplyDelete
  10. bahu ko beti bana kar laiye, beti bana kar pyar aur dular se rakhiye,aap beti ko bhool jayenge.

    ReplyDelete
  11. काश ये बात सबको समझ आती

    ReplyDelete
  12. बहु निश्चित रूप से बेटी होती है. इस विचार को गंभीरता से धारण करने की आवश्यकता है.

    ReplyDelete
  13. जब तक भरतीय परिवारों में यौतुक की भाषा व परिभाषा ,संवर्धित व परिवर्तित नहीं होती बेटी व बहु की संवेदना मात्र परिवेदना तक ही सिमित रहेगी ,और इसके लिए बहुसंख्य जन-मानस गंभीर नहीं दिखता ..अच्छा लगता है आपके अपने संस्मरणों को सुनकर ,पढ़कर ...काश सार्वभौम हो जाता /

    ReplyDelete
  14. इस बात को लोग समझकर भी समझना नहीं चाहते .... अपने ज़माने की लीक पर अड़े रहते हैं .

    ReplyDelete
  15. समाज मे आनेवाले महत्वपूर्ण बदलाव के लिये बेटी और बहू के बीच के अंतर को दूर करना आवश्यक है.......

    ReplyDelete
  16. आपकी यह पंक्तियाँ याद आ गई...............

    आँखों में , पट्टी बाँध
    कर, गाड़ी चला रहे !
    टकरायेंगे , कहाँ पर ?
    हमें खुद पता नहीं !

    कोशिश हम सब करेंगे इन बेरहीयों को तोरने की

    ReplyDelete
  17. सास भी कभी बहू थी ...
    बहू बेटी एक सामान

    ReplyDelete
  18. यह पंक्तियाँ याद आ गई

    आँखों में , पट्टी बाँध कर, गाड़ी चला रहे !
    टकरायेंगे , कहाँ पर ? हमें खुद पता नहीं !

    कोशिश हम सब करेंगे इन बेरियो को तोरने की
    और धीरे धीरे हम सब बदल रहे हैं. समय तो लगेगा ही
    प्यार भरा सलाम

    ReplyDelete
  19. बढ़िया प्रस्तुति ।
    आभार ।।

    ReplyDelete
  20. पहले इस नंदन कानन में
    एक राजकुमारी रहती थी
    घर राजमहल सा लगता था
    हर रोज दिवाली होती थी !

    पर अब बेटी की शादी के बाद लगता है
    बेटी WHITE हाउस में रहती है
    और वहां EASTER मनाती है

    ReplyDelete
    Replies
    1. मुबारक हो ...
      अब आप हिंदी में कमेन्ट देने तेजी से सीख रहे हो !
      शुभकामनायें !

      Delete
  21. ऐसी अवांछित परम्परा को ढोते रहना पिछड़ेपन की निशानी नहीं तो और क्या है ?

    वधू किसी की बेटी भी है।
    यह भी याद रखनी चाहिए कि अपनी बेटी किसी की बहू भी है।

    ReplyDelete
  22. अब लग रहा है कि आपकी वापसी हुई है.. बहुत लंबी चुप्पी साध ली थी आपने!! एक बहु की भी तो यही ख्वाहिश होती है कि
    ननदी में देखी है बहना की सूरत,
    सासू जी मेरी हैं ममता की मूरत
    पिता जैसा ससुर जी का भेस!!

    ReplyDelete
  23. फलता-फूलता रहे आपका घर.

    ReplyDelete
  24. बहुत सही कह रहे हैं आप.अब स्थितियाँ बदल रही हैं.हाँ पुरानी परंपरायें ढोनेवाले अभी ज़रा कम समझे हैं .समय उन्हें भी समझा देगा !

    ReplyDelete
  25. ज़माना बदल गया......................रीति-रिवाज़ भी काफी बदल गए..................ना बदलीं तो ये सासें(बहुओं की )......................जमाई की सास तो बड़ी मीठी होती है...

    मैं ज़रूर एक अच्छी सास बनने की कोशिश करूंगी.....जैसे बेटे की दोस्त हूँ वैसे ही बहु की भी बनना चाहूंगी....
    :-)

    सादर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभकामनायें आपको !!

      Delete
  26. भावी सास ससुर के लिए सही नसीहत ।
    साधुवाद ।

    ReplyDelete
  27. सुंदर चिंतन ...सहमत हूँ.....

    ReplyDelete
  28. ये बात याद रखे कि बेटियाँ ही बहू बनती है,...बेहतरीन प्रस्तुति,

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....
    RECENT POST...फुहार....: रूप तुम्हारा...

    ReplyDelete
  29. सतीश भाई,​
    ​आपकी नसीहत पर हर घर चले तो स्वर्ग सा सुंदर न हो जाए...​
    ​​
    ​दिक्कत बस यही है कि थ्योरिटिकल करेक्ट बातों को प्रैक्टीकली इंपलीमेंट करने के लिए हम मेहनत नहीं करते...​
    ​​
    ​जय हिंद...

    ReplyDelete
  30. सतीश भाई,​
    ​आपकी नसीहत पर हर घर चले तो स्वर्ग सा सुंदर न हो जाए...​
    ​​
    ​दिक्कत बस यही है कि थ्योरिटिकल करेक्ट बातों को प्रैक्टीकली इंपलीमेंट करने के लिए हम मेहनत नहीं करते...​
    ​​
    ​जय हिंद...

    ReplyDelete
  31. जी, सही कहा। चैरिटी बिगिंस एट होम! वैसे भी नये घर में जाने के अपने स्ट्रैस-पॉइंट होते हैं जिनको संज्ञान में लेना चाहिये।

    ReplyDelete
  32. ससुर और जेठ बेचारे तो घर में ज्यादा दखलंदाजी करते नहीं...देवर भाभी को खुश करने में ही लगे रहते हैं...सास, भाभी, देवरानी और ननद के समझने योग्य बात...महिलाओं को महिलाओं का ही ज्यादा सहयोग चाहिए...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच्चाई यही है भाई जी ....

      Delete
  33. जरुर बहू को बेटी समझा जाए , बहू भी अपने माता पिता की तरह ही व्यवहार करे ...
    ज्यादा जिम्मेदारी ससुराल पक्ष की होती है मगर बात दोनों ओर से ही निभती है !!

    ReplyDelete
  34. यह एक बहु आयामी मामला है मगर आपकी सोच बहुत अच्छी है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत कोशिश की पर समझ में नहीं आया कि प्रणाम का चित्र कैसे लगाऊं !

      Delete
  35. सहमत है ... काश ये बात हर कोई समझ पता !

    ReplyDelete
  36. और अफ़सोस यह है कि शालीनता के पाठ को पढ़ाने में उस घर की महिलायें सबसे आगे होती हैं ऐसा करते समय उन्हें अपनी बेटी की याद नहीं रहती जिसे यही पाठ जबरदस्ती दूसरे घर पढाया जाना है !
    बिलकुल सहमत हूँ आपसे,
    अच्छी लगी पोस्ट !

    ReplyDelete
  37. बहू को बेटी समझा जाए ...
    सार्थक सोच...सार्थक चिंतन...

    ReplyDelete
  38. बहुत सुन्दर सोच है आपकी .....अगर ऐसा हो जाये तो रिश्तों की परिभाषाएं बदल जायें फिर 'नन्द ' बहन और 'सास ' माँ कहलाये......बहुत कुछ बदल जाये .....और सिर्फ हम ही यह कर सकते हैं ...अगर आज अभी से इसकी पहल करें .....

    ReplyDelete
  39. सही सोच ... इसी सकारात्मक सोच से परिवार की नीव मजबूत होती है ...

    ReplyDelete
  40. सिक्‍के के दोनों पहलू हैं। आज लोग आपकी तरह ही पुत्रवधु को पूरा प्‍यार देते हैं लेकिन पुत्रवधुएं फिर भी उनका अपमान करने में बाज नहीं आती। इसलिए खुशियां दोनों तरफ से ही आती हैं।

    ReplyDelete
  41. काश हम वैसे ही अंदर से हों,जैसे दिखते हों !
    ....एकसमान व्यहार तभी संभव है !

    ReplyDelete
  42. उम्दा विचारों से सजा हुआ आलेख |

    ReplyDelete
  43. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्‍पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
  44. इस विचार शैली को आगे बढ़ाने के लिये शुक्रिया.

    ReplyDelete
  45. सुंदर प्रस्तुति!!!

    कुछ लिखने का मन है अन्यथा ना लें।
    ़़़़
    आपने तो लिखा है ब्लाग पर अपने
    किसी व्यक्ति अथवा पार्टी विशेष की
    आलोचना को महत्व नहीं दिया जायेगा
    पर मुझे पता नहीं था कि आप जैसा
    व्यक्ति सास को ही मोहरा बनायेगा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका स्वागत है सुशील भाई ..
      ऐसी सासें सबको मिलें :-))

      Delete
  46. .

    सुंदर सोच !
    सार्थक सोच !
    सकारात्मक सोच !

    आपकी सोच बहुत अच्छी है !

    ReplyDelete
  47. नासावा जी की बात से सहमत हूँ . सकारात्मक सोच से परिवार की नीव मजबूत होती है

    ReplyDelete
  48. जी, आपकी बातों से मैं क्या कोई भी असहमत नहीं हो सकता।
    कुछ बातें ऐसी होती हैं जिसे दूर तक ले जाना चाहिए, खासतौर पर उस समाज तक तो जरूर जहां ये बुराई आज भी मौजूद है।

    ReplyDelete
  49. सार्थक सोच, इससे हमें भी कुछ सीखने के लिए मिला हैं !

    ReplyDelete
  50. Adarneeya Satish Ji ! Pranaam !
    A Very good & educative post. I agree that these days Girls are most educated & hold high positions in their Jobs. Even they need to travel overseas. We as parents & as in laws are proud of their intelligence , smartness & their responsibility.When a Girl gets married, her resposibility mutiplies. She is again the most competent daughter /daughter in law to shoulder the responsibility as a wife, as a daughter in law, & as a mother too.
    I personally feel if she is willingly ready to share the household task , a helping hand to in- laws, there her designation or her major education does not arise.
    I too have my daughter in law & my daughter too. Both of them are employed & holding a responsible position making frequent visit to overseas.
    They are doing all the chores in home & in office too.After all it the mind & the individual thinking.
    Regards
    A well wisher & your Follower.

    ReplyDelete
  51. man ko bahut khushi hoti hai jab kabhi es tarah ka mahaul kisi ghar mein dikhta hai ...kash aapki tarah hi sabki soch hoti!
    bahut badiya sarthak prastuti hetu aabhar!

    ReplyDelete
  52. बहुत अच्छे विचार हैं आपके , इस ज़माने के लिए बेहद ज़रूरी।

    ReplyDelete
  53. agree with you...pat sikke ke do pahlu hai kahin saas ko to kahin bahu ko samajne ki jarurat hai.

    ReplyDelete
  54. बहुत बढ़िया....

    agreed..... :)

    ReplyDelete
  55. सतीश सक्सेना

    आपके विचारों से में पूरी तरह सहमत हूँ. बहू को इतना प्यार दो की वो बेटी बन जाये और आपको माता पिता समान आदर दे.

    ReplyDelete
  56. आपके विचारों से में पूरी तरह सहमत हूँ. बहू को इतना प्यार दो की वो बेटी बन जाये और आपको माता पिता समान आदर दे.

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,