Sunday, June 15, 2014

अलंकार,श्रंगार बिना हम दिल की बातें करते हैं ! -सतीश सक्सेना

जीवन में बदलाव करे उस गीत की बातें करते हैं ,
जो मन को छू जाये उसी संगीत की बातें करते हैं !

अम्मा दादी नानी बाबा से ही हम चलना सीखे , 
स्नेही आँचल में  कटे , अतीत की बातें करते हैं !

जीवन भर तूलिका चलाकर वैसी बना न पाये हैं  
जैसा सपनों में आया उस मीत की बातें करते हैं !

हमको कौन शाबाशी देगा, सन्नाटों में चलते  हैं !
कब्रों के संग बैठ जमीं से,प्रीत की बातें करते हैं !

कंगूरों से  रही लड़ाई ,  इंसानों से प्यार किया !
इतने बुरे समय में भी हम जीत की बातें करते हैं ! 

13 comments:

  1. खूबसूरत रचना...

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  3. कविता,ग़ज़ल,उमंग जगाते गीत की बातें करते हैं !
    जो मन को छू जाये उसी संगीत की बातें करते हैं !

    सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. आपकी हर रचना लाजवाब होती है ।

    ReplyDelete
  5. अम्मा दादी नानी बाबा छुटकी गुड्डन समझ सकें !
    अलंकार,श्रंगार बिना हम दिल की बातें करते हैं !

    बहुत सुंदर सतीश जी । कविता वही जो सबके समझ में आये।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्द्र भाव,भावपूर्ण प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. हमको कौन शाबाशी देगा सन्नाटों में चलते हैं !
    कब्रों के संग बैठ जमीं पर उनसे बातें करते हैं !

    बेहद सुंदर...

    ReplyDelete
  8. bahut sundar v bebak prastuti .aabhar

    ReplyDelete
  9. अंतर में ले सद्-विचार , व्यवहार की बातें करते हैं -
    आदत है आपकी !

    ReplyDelete
  10. लक्ष्य भूल कर इधर उधर न जाने मन यह कहॉ गया ।
    अपने लिए कहॉ फुरसत औरों की बातें करते करते हैं ।
    सुन्दर रचना । बधाई ।

    ReplyDelete
  11. कविता,ग़ज़ल,उमंग जगाते गीत की बातें करते हैं !
    जो मन को छू जाये उसी संगीत की बातें करते हैं !

    ...........भावपूर्ण प्रस्तुति सतीश जी

    ReplyDelete
  12. Very beautiful poem - great reflection with simple examples. Regards.

    ReplyDelete
  13. अलंकार,श्रृंगार के बगैर हैं आपके गीत तब ही तो दिल को छू जाते हैं---खूबसूरत रचना।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,