Monday, June 16, 2014

उनको द्वारे पे ही अल्लाह याद आएंगे -सतीश सक्सेना

हम अगर दिख गए तो याद खुदा आएंगे 
ये तो तय है , वे मुझे देख के घबराएंगे !

एक अर्से के बाद, दर पे उनके आया हूँ !
देख मुझको,उन्हें अल्लाह नज़र आएंगे !

काश उस वक़्त,सहारे के लिए हो कोई !
वे मुझे  देख के हर हाल, लडख़ड़ायेंगे !

वे तो शायद मुझे, पहचान ही नहीं पाएं !
सूनी आँखों से छिने ख्वाब याद आएंगे !

यादें उनको तो वहीँ छोड़ के आना होगा !
वरना मिलने पे तो, वे होंठ थरथराएँगे !

17 comments:

  1. ढाई आखर को उन्हें भूल के आना होगा !
    वरना याद आने पे , वे होंठ थरथराएँगे !

    ........वाह क्या बात है..ही पुराना ज़बरदस्त अंदाज़ :))

    ReplyDelete
  2. तुझे देख कर अगर
    लड़खड़ाना होगा
    पता पहले से
    होनी चाहिये ये बात
    उस दिन कुछ भी
    पी के नहीं आना होगा । :)

    बहुत खूब :)

    ReplyDelete
  3. सचमुच ढाई आखर भूलने का वक्त क्या आ पहुंचा! ?

    ReplyDelete
  4. sir ji wakai padhate padhate gungunane hi lage.... maza aa gaya

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति !!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर _/\_

    ReplyDelete
  7. वे तो शायद मुझे, पहचान ही नहीं पाएं !
    पर इन आँखों से छिने ख्वाब याद आएंगे !
    ...वाह..क्या बात है...बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  8. क्या बात है
    जबरदस्त

    ReplyDelete
  9. एक अर्से के बाद, दर पे उनके आया हूँ !
    देख मुझको, उन्हें अल्लाह याद आएंगे ..
    बहुत खूब ... जुड़ा अंदाज़ की रचना है ... हर शेर जैसे चुभती बात कहता हुआ ...

    ReplyDelete
  10. भाव - प्रवण , सुन्दर गीत ।

    ReplyDelete
  11. very well said. absolutely lovely.

    ReplyDelete
  12. काश उस वक़्त,सहारे के लिए हो कोई !
    वे मुझे देख के, हर हाल, लडख़ड़ायेंगे !

    वे तो शायद मुझे, पहचान ही नहीं पाएं !
    पर इन आँखों से छिने ख्वाब याद आएंगे !
    सीधी और सटीक पंक्तियाँ

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,