Wednesday, June 11, 2014

अगर याद ईश्वर की आये, माँ के पैर दबाना सीख ! - सतीश सक्सेना

ज्ञान सदा सम्मानित होगा खूब पुस्तकें पढ़ना सीख !
पुस्तक पढ़ने से पहले ही,बच्चे ध्यान लगाना सीख !


कड़ी धूप में, बहे पसीना, हार न माने, जीना सीख !
प्रतिद्वंदी फुर्तीला होगा,लेकिन पाँव बढ़ाना सीख !

हंसकर करें हमेशा स्वागत, मित्रों का अपने दरवाजे 
सारे धर्मों का,आदर कर,साथ बैठ कर,खाना सीख !

जीवन लगे असम्भव जीना,दृढ निश्चय से आंसू पोंछ  
बिना रुके,मंजिल पाओगे,कछुवे जैसा चलना सीख !

कभी न रोना न घबराना, कहीं पे हाथ नहीं फैलाना  
अगर याद ईश्वर की आये, माँ के पैर दबाना सीख !

20 comments:

  1. बुरे समय में बिन घबराये,हँसते हँसते जीना सीख !
    अगर याद ईश्वर की आये, माँ के पैर दबाना सीख ! bahut sunder

    ReplyDelete
  2. वाह !

    वैसे समय गला दबाना सीख का भी चल रहा है ओने कोने :P

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर, सुन्दर सीख देती हुई शानदार रचना. बधाई आपको|

    ReplyDelete
  4. प्रेरक रचना है - बच्चों के लिए शिक्षाप्रद .

    ReplyDelete
  5. प्रेरणा दायक गीत .. अति सुन्दर !

    ReplyDelete
  6. bachhe-bade sab ke liye sarthak rachna....

    ReplyDelete
  7. दुनिया में सम्मान मिलेगा,खूब किताबें पढ़ना सीख !
    पुस्तक पढ़ने से पहले ही,भैया ध्यान लगाना सीख !
    bilkul sahi bat kahi hai aapne .ye dhyan hi to bhatakta rahta hai .

    ReplyDelete
  8. उम्दा प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  9. मिल जाएगी मञ्जिल अपनी पावन - मन से चलना सीख
    घर - घर में अपनी आत्मा है इसी - भाव से बढना सीख ॥

    ReplyDelete
  10. कितनी भली सी सीख..आभार !

    ReplyDelete
  11. बुरे समय में बिन घबराये,हँसते हँसते जीना सीख !

    Prerak Rachana ... abhaar

    ReplyDelete
  12. प्रेरणा दायक गीत ..

    ReplyDelete
  13. जिन मातपिता की सेवा की ,उन धरती पर ही स्वर्ग पाय लियो
    यह कहावत अनुचित नहीं

    ReplyDelete
  14. आपकी इस प्रस्तुति को आज कि बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन - थोड़ी हँसी, थोड़ी गुदगुदी में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  15. सुंदर भावपूर्ण रचना गीत व लेखन , सतीश भाई धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ब्लॉग ( हिंदी में प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  16. बुरे समय में बिन घबराये,हँसते हँसते जीना सीख !
    अगर याद ईश्वर की आये, माँ के पैर दबाना सीख !

    सुंदर सीख।

    ReplyDelete
  17. कड़ी धूप में, बहे पसीना, हार न माने, जीना सीख !
    प्रतिद्वंदी फुर्तीला होगा,लेकिन पाँव बढ़ाना सीख !

    बुरे समय में बिन घबराये,हँसते हँसते जीना सीख !
    अगर याद ईश्वर की आये, माँ के पैर दबाना सीख !
    अनुपम भाव सन्योजन .....
    आभार

    ReplyDelete
  18. वाह, बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  19. सीख देती सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  20. बढ़िया रचना व लेखन , आदरणीय धन्यवाद !
    ब्लॉग जगत में एक नए पोस्ट्स न्यूज़ ब्लॉग की शुरुवात हुई है , जिसमें आज आपकी ये पोस्ट चुनी गई है आपकी इस रचना का लिंक I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर है , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,