Saturday, August 20, 2011

कौवे की बोली सुनने को, हम कान लगाये बैठे हैं - सतीश सक्सेना

शुरू से ही पुत्री के प्रति, अधिक संवेदनशील रहा हूँ , दिन प्रति दिन, बड़ी होती पुत्री की विदाई याद कर, आँखों के किनारे नम हो जाते हैं !स्नेही पुत्री के घर में न होने की कल्पना ही, दिल को झकझोरने के लिए काफी है !  
ऐसे ही एक क्षण , निम्न कविता की रचना हुई है जिसमे एक स्नेही भाई और पिता की वेदना  का वर्णन किया गया है .....  

जन्मे दोनों इस घर में हम 
और साथ खेल कर बड़े हुए

इस घर के आंगन में दोनों 
घुटनों बल चलकर खड़े हुए
घर में पहले अधिकार तेरा, 
हम रक्षक है तेरे घर के !
अब रक्षा बंधन के दिन पर, घर के दरवाजे बैठे  हैं !

पहले  तेरे जन्मोत्सव पर
त्यौहार मनाया जाता था,
रंगोली  और  गुब्बारों से !
घरद्वार सजाया जाता था
तेरे जाने के साथ साथ,
घर की रौनक भी चली गयी !
राखी के प्रति,अनुराग लिए,कुछ याद दिलाने बैठे हैं  !

पहले इस घर के आंगन में
संगीत , सुनाई पड़ता था  !
झंकार वायलिन की सुनकर 
घर में उत्सव सा लगता था
जब से जिज्जी तू विदा हुई,
झांझर पायल भी रूठ गयीं ,
छमछम पायल की सुनने को,हम आस लगाए बैठे  हैं !

पहले घर में , प्रवेश करते ,

एक मैना चहका करती थी
चीं चीं करती,  मीठी  बातें
सब मुझे सुनाया करती थी
जबसे तू  विदा हुई घर से,
हम लुटे हुए से बैठे हैं  !
टकटकी लगाये रस्ते में, घर के  दरवाजे  बैठे हैं ! 

पहले घर के हर कोने  में ,

एक गुडिया खेला करती थी
चूड़ी, पायल, कंगन, झुमका 
को संग खिलाया करती थी
जबसे गुड्डे संग विदा हुई , 
हम  ठगे हुए से बैठे हैं  !
कौवे की बोली सुननें को, हम  कान  लगाये बैठे हैं !

पहले इस नंदन कानन में

एक राजकुमारी रहती थी
घर राजमहल सा लगता था
हर रोज दिवाली होती थी !
तेरे जाने के साथ साथ ,
चिड़ियों ने भी आना  छोड़ा !
चुग्गा पानी को लिए हुए, उम्मीद  लगाए बैठे    हैं !

122 comments:

  1. तेरे जाने के साथ साथ , चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद लगाए बैठे हैं !

    बहुत ख्‍खूब अभिव्‍यक्ति !!

    ReplyDelete
  2. आभार इस रचना के लिए ....हमारी सभ्यता अभी बरकरार है ,इस भावना को प्रबल कर रही है आपकी रचना....बहुत कोमल ..सुंदर उदगार हैं ह्रदय के....!!

    ReplyDelete
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. तेरे जाने के साथ साथ ,
    चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए ,
    उम्मीद लगाए बैठे हैं !

    मन को भिगो गई आपकी यह रचना...

    ReplyDelete
  5. rishton ki garmahat ko ujaagar karti samvedansheel rachna !

    ReplyDelete
  6. भई वाह. बहना के प्रति भावमयी ऐसी कविता पढ़ कर अंतर्मन नेह से भीग गया.

    ReplyDelete
  7. बहन के प्रति भाई के उदगार बहुत भावमयी लगे .. अच्छी भावनापूर्ण रचना

    ReplyDelete
  8. गीत वाकई बहुत बढ़िया बन पड़ी है..आप कहते है कवि नही है पर आपकी यह रचना कई तथाकथित कवियों से कई गुना अच्छी है..

    सुंदर,भावपूर्ण,लाजवाब गीत के लिए बधाई.....बहुत दिन के बाद ब्लॉग पर पहुँच पाया क्षमा चाहता हूँ..प्रणाम

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  10. बड़ी भावुक करने वाली कविता है सतीश जी. मेरी बड़ी दीदी की शादी के बाद लम्बे समय तक हमें सब खाली-खाली सा लगता रहा था.

    ReplyDelete
  11. तेरे जाने के साथ साथ , चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद लगाए बैठे हैं !.....

    लाज़वाब ! रचना के भाव मन को अंदर तक भिगो गये...उत्कृष्ट प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  12. जब से जिज्जी तू विदा हुई ,झांझर पायल भी रूठ गयीं
    झंकार ह्रदय की सुनने को, हम आस लगाए बैठे हैं !
    बहुत खूबसूरत भावनात्मक प्रस्तुति जिसकी मिठास भरी खुशबु हम पढकर भी महसूस कर रहें हैं |
    बहुत सुन्दर रचना |

    ReplyDelete
  13. मन की पीड़ा को इतने स्नेहिल ढंग से व्यक्त करने का आभार।

    ReplyDelete
  14. पहले घर के हर कोने में ,
    एक गुडिया खेला करती थी
    चूड़ी, पायल, कंगन, झुमका
    को संग खिलाया करती थी
    जबसे गुड्डे संग विदा हुई , सब ठगे हुए से बैठे हैं !
    कौवे की बोली सुननें को, हम कान लगाये बैठे हैं !
    यह कौवे की बोली भाई-बहन के बीच कहाँ से आ गयी... बहुत भावपूर्ण रचना!

    ReplyDelete
  15. दिल को छू गई ...बहुत ही शानदार प्रस्तुति

    ReplyDelete
  16. सच में बहुत सुंदर रचना है।
    बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  17. बरसात का मौसम ही ऐसा
    छोटी बदली भी ढहती है
    'राखी' आते ही भैया की
    भावों की सरिता बहती है.

    ........ भावों को सुन्दर साँचा दिया.... पढ़कर आनंद आया.

    ReplyDelete
  18. अत्यंत भावुक, मधुर और स्नेहिल रचना. आपके गीत भावुक कर देते हैं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन.... पोस्ट....

    ReplyDelete
  20. मन को छू गई आपकी रचना... एक भाई का बहन के लिए इतना प्यार दुलार बहुत किस्मत वाली है आपकी बहना....

    ReplyDelete
  21. बड़ी प्यारी लगी रचना
    बहुत सुंदर भाव लिये .......

    ReplyDelete
  22. WAH bahut acchhi lagi aaj apki ye rachna....

    :)

    http://anamka.blogspot.com/2011/08/blog-post_20.html

    ReplyDelete
  23. शीशे का मसीहा कोई नहीं, क्यों आस लगाए बैठे हैं :)

    ReplyDelete
  24. @@तेरे जाने के साथ साथ , चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद लगाए बैठे हैं !..
    वाह,गहन भाव,आभार.

    ReplyDelete
  25. सुन्दर गीत !

    ReplyDelete
  26. बहुत बहुत रुलाते हैं
    तेरे ये गीत सच में
    बहुत रुलाते हैं

    ReplyDelete
  27. स्नेहमयी रचना पढ़ कर मन स्नेह भाव से भीग गया..रिश्तों की मिठास कहाँ गई है...अभी भी मौजूद है..बस महसूस करने की ज़रूरत है...

    ReplyDelete
  28. बहुत ही ह्रदय स्पर्शी अभिव्यक्ति ..कोमल भावनाओं को अति सुन्दर शब्दों में संजोया है आपने
    सादर शुभ कामनाएं !!!

    ReplyDelete
  29. बहुत ही ह्रदय स्पर्शी अभिव्यक्ति ..कोमल भावनाओं को अति सुन्दर शब्दों में संजोया है आपने
    सादर शुभ कामनाएं !!!

    ReplyDelete

  30. @ दिनेश राय द्विवेदी ,
    @ "बहुत बहुत रुलाते हैं, तेरे ये गीत ! सच में
    बहुत रुलाते हैं"

    टिपण्णी द्वारा की गयी आपकी यह अभिव्यक्ति, इस रचना की सार्थकता बताने के लिए काफी है !

    आपके दिल से निकले इन शब्दों ने ने इस रचना को अमर कर दिया भैया ! !

    परिवार में बड़े छोटो के साथ स्नेह और प्यार बना रहे ....संवेदनाएं मरे नहीं !

    यह आंसू आवश्यक हैं भाई हमारे परिवार को जोडनें में एक ताकतवर रस्से का कार्य करेंगे !

    बिटिया अपने पिता और भाई को हमेशा साथ खड़े महसूस करेगी ! वह अकेलापन महसूस ना करे ....

    यहाँ यह उद्देश्य पूरा होता है !

    ReplyDelete
  31. क्या आप खुद को ढूँढ पाये हैं आज की नई पुरानी हलचल में :)

    ReplyDelete
  32. निशब्द...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  33. इतनी गहरी संवेदना और अनुभूति का प्रगटन -निःशब्द हूँ !

    ReplyDelete
  34. बहन और बेटी के विदा होते ही हर घर की रौनक चली जाती हैं ..? और फिर सावन के आगमन से घर -द्वार दोनों महक जाते है ...बहुत सुंदर जज्बात दर्शाती कविता ..

    ReplyDelete
  35. क्यों ब्लोगर बंधुओं को रुलाते हो भाई !
    बहन हो या बेटी --एक दिन रुलाकर ही चली जाती हैं ।

    सुन्दर संवेदनशील गीत ।

    ReplyDelete
  36. कितने संवेदनशील भाव पिरोये हैं.....

    ReplyDelete
  37. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  38. Speechless..... while reading Goose bums raised in me.... No comments....

    ReplyDelete
  39. अब आपके गीत मुखर हो रहे हैं और मन को उद्वेलित कर रहे हैं..
    बहने दीजिए इस सरिता को!!

    ReplyDelete
  40. तेरे जाने के साथ साथ , चिड़ियों ने भी आना छोड़ा ....

    अति मार्मिक ....
    बहुत अच्छी रचना सतीश जी ....
    गज़ब लिखते हैं आप ....

    ReplyDelete
  41. लाजवाब सतीश जी ... भाई बहन का प्रेम अमर है ... और राखी की प्रथा इस बात का उदाहरण है ...

    ReplyDelete
  42. कई दिनों से मेरे माँ-बाबा घर से आये हुए थे आज ही उनका जाना हुआ। आप जो कुछ भी लिखते हैं ज़िंदगी से पूरी तरह जुड़ा होता है। मै कमैंट नही कर पाती मगर पढ़ती बहुत कुछ हूँ। कोशिश करूँगी अपने दिल की बात कह सकूँ। सचमुच घर की भैय्या की बहुत याद आई आपकी कविता पढ़ कर आँसू रुकने का नाम नही ले रहे हैं जब माँ ने भी यही कह दिया कि तेरे जाने से घर सूना-सूना हो गया है।

    ReplyDelete
  43. इस ब्लॉग पर किसी व्यक्ति का निंदा या अपमान का कोई कमेन्ट नहीं छापा जाएगा न यह किसी राजनैतिक विचारधारा का स्वागत करता है !
    वीरू भाई से क्षमा याचना सहित !

    ReplyDelete
  44. आपके पोस्ट पर आना बहुत ही सुंदर लगा ।धन्यवाद।

    ReplyDelete
  45. भावमयी प्रस्तुति.जाने किस ओर ले गई.हर कोई आज इसी दर्द से गुजरता है हर त्यौहार में

    ReplyDelete
  46. भाई हो तो ऐसा...बहन को समर्पित इस कविता ने मन को छू लिया...

    ReplyDelete
  47. 46 logo ne itna kuch kah diya hai ki ab mai jo bhi kahuga maatr punaravritti hi hogi.
    Phir bhi itne sundar shabd chayan hetu aabhar jaroor vyakt karunga.

    ReplyDelete
  48. Nice post .

    आज सोमवार है और ब्लॉगर्स मीट वीकली 5 में आ जाइये और वहां शेर भी हैं।

    Janmashtami ki Badhai .

    ReplyDelete
  49. तेरे जाने के साथ साथ , चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद लगाए बैठे हैं !

    bahut acha laga padhkar...

    ReplyDelete
  50. sateesh bhai ji
    bahut hi bhav pravan prastuti.
    bhai -bahn ki prem ki parakashhtha ko chooti hui aapki yah rachna man ko bahut hi bhaa gai .
    sach ,yah bandhan hi itna pavitr aur sneh se bhara hua hai ki har bhai bahn ko is din ka besabri se intjaar rahta hai.sneh se bhari bahn kiyaad me rakhi ke pavitra pawan parv par likhi aapke geet bahut bahut hi achhe lage
    bahut bahut badhai v
    sadar naman
    poonam

    ReplyDelete
  51. पहले इस नंदन कानन में
    एक राजकुमारी रहती थी
    घर राजमहल सा लगता था
    हर रोज दिवाली होती थी !
    तेरे जाने के साथ साथ , चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद लगाए बैठे हैं !
    कोमल भाव के सुकुमार मन की भावना प्रधान संवेगात्मक ,भाव प्रवणता पैदा करती रचना ,प्रतीकों बिम्बों के आलिगन में गोते लगवाती .
    Saturday, August 20, 2011
    प्रधान मंत्री जी कह रहें हैं .....
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    गर्भावस्था और धुम्रपान! (Smoking in pregnancy linked to serious birth defects)
    http://sb.samwaad.com/

    रविवार, २१ अगस्त २०११
    सरकारी "हाथ "डिसपोज़ेबिल दस्ताना ".

    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    ReplyDelete
  52. jara haat badhana bhai mere,
    hum rakhi lekar baithe hain...."

    bahut gahra bhaw....waah.

    pranam.

    ReplyDelete
  53. खूबसूरत गेय रचना,

    आज कुशल कूटनीतिज्ञ योगेश्वर श्री किसन जी का जन्मदिवस जन्माष्टमी है, किसन जी ने धर्म का साथ देकर कौरवों के कुशासन का अंत किया था। इतिहास गवाह है कि जब-जब कुशासन के प्रजा त्राहि त्राहि करती है तब कोई एक नेतृत्व उभरता है और अत्याचार से मुक्ति दिलाता है। आज इतिहास अपने को फ़िर दोहरा रहा है। एक और किसन (बाबु राव हजारे) भ्रष्ट्राचार के खात्मे के लिए कौरवों के विरुद्ध उठ खड़ा हुआ है। आम आदमी लोकपाल को नहीं जानता पर, भ्रष्ट्राचार शब्द से अच्छी तरह परिचित है, उसे भ्रष्ट्राचार से मुक्ति चाहिए।

    आपको जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं एवं हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  54. पहले तेरे जन्मोत्सव पर
    त्यौहार मनाया जाता था,
    रंगोली और गुब्बारों से !
    घरद्वार सजाया जाता था
    तेरे जाने के साथ साथ,
    घर की सुन्दरता चली गयी !
    राखी के प्रति अनुराग लिए,
    घर के दरवाजे बैठे हैं !
    ....बहुत बढ़िया कोमल भावमयी गीत!
    आपको सपरिवार जन्माष्टमी पर हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  55. bahut hi sundar likha hai satish ji...dhanyavad


    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  56. आपको एवं आपके परिवार को जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना! बधाई!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  57. ह्रदयस्पर्शी अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  58. सुंदर और भावमय गीत।

    ReplyDelete
  59. Thank you so much... sometimes its difficult to write comments... padhte-padhte apne bhaiyon ki yaad aa gai, jo meri shaadi ka naam lekar mujhe chidhate hain aur jab main kahti hu "haan, theen hai na, chali jaungi na vidaa hokar tab pata chalega" tab ya to baat badal dete hain, bahana banakar idhar-udhar ho jate hain ya udas ho jate hain... aur jo chhote-chhote cousins hain wo to kahte hain ki "di, aap chinta mat karo, ham aapko kahi nahi jaane denge, aur jaongi to ham bhi aapke saath hi chalenge"
    thank you so much from depth of heart... :)

    ReplyDelete
  60. आदरणीय भाईसाहब सतीश सक्सेना जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !
    प्रणाम !

    सर्वप्रथम तो बहुत विलंब से पहुंचने के लिए क्षमाप्रार्थी हूं … पोस्ट्स लगभग सारी पढ़ी … लेकिन उपस्थिति दर्ज़ कराने में कुछ न कुछ बाधा आती रही । आपने मुझे कभी विस्मृत नहीं किया , इसके लिए आभारी हूं ।
    **********************************************************************
    …और गीत के बारे में क्या कहूं
    कई बार रचनाकार छीन कर ले लेता है पाठक-श्रोता की वाहवाही ! यही स्थिति यहां है …
    न बोले कोई कुटिलता से या , ईर्ष्या से , या समयाभाव के कारण … … …

    लौटते हुए
    तेरे जाने के साथ साथ , चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद लगाए बैठे हैं !

    इन पंक्तियों को साथ न ले जाए , यह संभव ही नहीं !
    वाह ! वाऽऽह ! वाऽऽऽह !

    कुर्सी से उठ कर खड़े हो'कर हाथ उठाए ताली बजा रहा हूं … प्रणाम स्वीकारिएगा !!


    **********************************************************************


    ♥श्रीकृष्ण जन्माष्टमीकी हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  61. दिल ने दिल से बात की , बिन चिट्ठी बिन तार … … …

    ReplyDelete
  62. करुणा,श्रद्धा और विश्वास की डोर हैं बहनें। वे हैं,तो सामाजिकता है। उनके होने से ही हमारी संस्कृति की नींव।

    ReplyDelete
  63. पहले इस नंदन कानन में
    एक राजकुमारी रहती थी
    घर राजमहल सा लगता था
    हर रोज दिवाली होती थी !
    तेरे जाने के साथ साथ , चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद लगाए बैठे हैं !
    bahut sunder
    aapko bhi baht bahut badhai
    rachana

    ReplyDelete
  64. भावनात्मक कविता ... जन्माष्टमी की शुभकामनायें आपको भी !

    ReplyDelete
  65. जब से जिज्जी तू विदा हुई,झांझर पायल भी रूठ गयीं
    झंकार ह्रदय की सुनने को, हम आस लगाए बैठे हैं !..........
    २० अगस्त को ही यह सुंदर रचना पढ़ चुका था किन्तु समयाभाव के कारण उपरोक्त भावुक, मधुर और स्नेहिल रचना के संदर्भ में चाहकर भी आपका आभार व्यक्त नहीं कर पाया,बहरहाल कोमल भावनाओं को अति सुन्दर शब्दों में संजोया है आपने, आभार व्यक्त करता हूँ ............

    ReplyDelete
  66. तेरे जाने के साथ साथ , चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद लगाए बैठे हैं !

    भोगे हुए यथार्थ की जीवन्त अभिव्यक्ति.
    आभार सहित...

    ReplyDelete
  67. कभी-कभी तो आपकी पोस्ट पढकर आंसू निकलने को बेताब हो जाते हैं।
    कभी तीनों बहनों का चेहरा आंखों के सामने घूमने लगा और कभी बेटी का, जो केवल 8 साल की है।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  68. सतीश जी निवेदन है क्षणिकाएं भी लिखें ....
    जब कवितायेँ इतनी अच्छी लिख लेते हैं तो क्षणिकाएं भी लिख सकते हैं ....
    अधिकतर पहचान वाले ब्लोगर अपनी क्षणिकाएं दे चुके हैं सरस्वती-सुमन के लिए
    आपकी क्षणिकाओं का भी इन्तजार रहेगा .....

    ReplyDelete
  69. बहुत सुंदर,रशुभकामनायें

    ReplyDelete
  70. पहले घर के हर कोने में
    एक गुडिया खेला करती थी
    चूड़ी, पायल, कंगन, झुमका
    को संग खिलाया करती थी
    जबसे गुड्डे संग विदा हुई , सब ठगे हुए से बैठे हैं !
    कौवे की बोली सुननें को, हम कान लगाये बैठे हैं !

    बहना को याद कर भाई के मन में उत्पन्न हो रही स्नेहपूर्ण कसक इस गीत के शब्द-शब्द में है।
    पढ़कर मन आर्द्र हो गया।

    ReplyDelete
  71. सटीक शब्द दिया है भावों को आपने बधाई..सतीश जी

    ReplyDelete
  72. बहुत सुन्दर कोमल भावों को संजोये हुए शब्द ...
    लाजवाब कविता

    ReplyDelete
  73. कुछ पंक्तियाँ अपनी भी -
    मन कैसा हो जाता आकुल भीगा सा
    सामने खड़ी हो जाती उसकी सूरत ,
    हो गई पराई कैसे जिसे जनम से
    निष्कलुष रखा जैसे गौरा की मूरत !

    कर उसे याद मन व्याकुल सा हो जाता ,
    कितनी यादें उमड़ी आतीं अंतर में ,
    नन्हें करतल जब विकसे खिले कमल से
    बस दो थापें धर गये नयन को भरने !

    ReplyDelete
  74. बहुत ही सुंदर सतीश जी...कोमल, उदास पर फिर भी कहीं उम्मीद से भरी...बहुत प्यारी...

    ReplyDelete
  75. bahut bhavuk kar gai ap ki ye rachna ,
    yaqeenan ap ke geet bahut achchhe hote hain aur ye geet to shayad har pathak ka man dravit kar dega
    dhanyavad !

    ReplyDelete
  76. अम्मा मेरे बाबा को भेजो री
    के सावन आया ,
    अम्मा मेरे भैया को भेजो री
    के सावन आया |
    बहुत ही सुंदर कविता |

    ReplyDelete
  77. अत्यंत भावों से भरी रचना दिल को छू लेती है.
    यदि मीडिया और ब्लॉग जगत में अन्ना हजारे के समाचारों की एकरसता से ऊब गए हों तो मन को झकझोरने वाले मौलिक, विचारोत्तेजक विचार हेतु पढ़ें
    अन्ना हजारे के बहाने ...... आत्म मंथन http://sachin-why-bharat-ratna.blogspot.com/2011/08/blog-post_24.html

    ReplyDelete
  78. कोमल भाव से पिरोया, भाई बहन के पवित्र प्यार का एक नाजुक सा अह्सास....बहुत ही सुन्दर...

    ReplyDelete
  79. अति सुन्दर ...अवाक हूँ..

    ReplyDelete
  80. आज देख पाया इस जबरदस्त भावपूर्ण अभिव्यक्ति को.

    ReplyDelete
  81. क्या कहूं?
    एक एक शब्द दिल से निकला लगता है। मन के भाव ... आपके और मेरे भी।

    ReplyDelete
  82. क्या खूबसूरत गीत है..:)

    ReplyDelete
  83. तेरे जाने के साथ साथ , चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद लगाए बैठे हैं !चिड़िया भी अब गीत सुनाती अन्ना अन्ना अन्ना !भाई साहब शुक्रिया आप इतने आत्मविश्वास भरपूर हैं ,हमारा भी हौसला बढा .
    मैं भी अन्ना ,तू भी अन्ना ,
    देश बना इतिहास का पन्ना ,
    बहुत चली आलस की पारी ,
    अब तो है हर शख्स चौकन्ना ,
    बहुत सुन लिए भाषण बरसों ,
    अब क्या कहना और क्या सुनना ,
    जिसकी लाठी उसकी भैंस ,
    छल बल अब बिलकुल न चलना ,
    ऐसे शासन का क्या कीजे ,
    जिसमे लोकपाल भी घुन्ना .
    प्रस्तुति :गुंजन शर्मा ,४३३०९ .सिल्वर वुड ड्राइव ,केंटन (मिशगन )
    (बिटिया वीरुभाई )

    ReplyDelete
  84. जन लोकपाल के पहले चरण की सफलता पर बधाई.

    ReplyDelete
  85. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना ! बेहतरीन प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  86. मन फूला फूला फिरे जगत में झूंठा नाता रे ,
    जब तक जीवे माता रोवे ,बहिन रोये दस मासा रे ,
    तेरह दिन तक तिरिया रोवे फेर करे घर वासा रे .लेकिन अपने डॉ अमर का ब्लॉग जगत से सच्चा नाता था ,दो टूक ,बिंदास बोलते थे .उनकी याद आती रहेगी . ब्लॉगजगत की तो वह जीवंत "नौक झोंक "थे ,उनका ब्लॉग बूझते वहां तक पहुँचते सिर्फ यह जानने ,उनका कोई ब्लॉग नहीं है ,वह औरों के हैं .उनके महा -प्रयाण पर वीरुभाई के शतश :नमन ,प्रणाम .उनके प्रति ब्लॉग जगत की संवेदनाएं सांझा हैं .
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    कपिल मुनि के तोते .

    ReplyDelete
  87. कुछ दिनों से अस्वस्थ जा रही ..........इसी कारण ब्लॉग से ब्लॉग परिवार से दूर रही....

    मन को छू गई आपकी रचना...

    ReplyDelete
  88. Itne snehi bhai jis behen ko mil jayein.. uska mayka hamesha bana rehta h... sundar kavita :)

    ReplyDelete
  89. bahut bhavbheenee sneh kee chashnee se pagee rachana choo gayee .

    ise link ko circulate karne me madad kariye .

    http://www.youtube.com/watch?v=0vJD6TzsmA0&feature=related
    dhanyvaad

    ReplyDelete
  90. जैसे ही आसमान पे देखा हिलाले-ईद.
    दुनिया ख़ुशी से झूम उठी है,मनाले ईद.
    ईद मुबारक
    कुँवर कुसुमेश

    ReplyDelete
  91. यह प्यारा गीत छूट गया था, आनंद आया पढ़कर..! सुंदर लय..!

    ReplyDelete
  92. चर्चा में आज नई पुरानी हलचल

    आपकी चर्चा मिस्टर डॉन...:)

    ReplyDelete
  93. जब भी इस ब्लॉग का शीर्षक और आपके लेख पढ़ता था तो मन में सवाल उठते थे कि इस ब्लॉग का शीर्षक ..मेरे गीत.. क्यों है?

    आज जवाब मिल गया।

    ReplyDelete
  94. bahut sundar kavita hai
    padh kar mujhe apne din yaad aa gaye
    mere log pe aapka swagat hai
    http://wordsbymeforme.blogspot.com

    ReplyDelete
  95. धन्यवाद सतीश जी बहन की भावनायें
    क्या होती है भाई से बिछडने के बाद
    ये तो जानती थी पर आज आपकी
    रचना को पढने के बाद भाई के
    दु;ख से भी भेंट हो गई।
    तहेदिल से आभारी हूँ।

    ReplyDelete
  96. .

    पहले घर के इस आंगन में
    संगीत सुनाई पड़ता था !
    वीणा वादन की आवाजें,
    घर में उत्सव सा लगता था
    जब से जिज्जी तू विदा हुई ,झांझर पायल भी रूठ गयीं
    झंकार ह्रदय की सुनने को, हम आस लगाए बैठे हैं !

    बहुत सुन्दर रचना। भाई बहन का स्नेह अमर रहे।

    .

    ReplyDelete
  97. थोडा देर से आया लेकिन आपकी ये भावमय अभिव्यक्ति पढ़कर दिल खुश हो गया !

    ReplyDelete
  98. कितनी संवेदनशील कविता है, आपने ठान लिया है रुलाने का...

    ReplyDelete
  99. सतीश जी भाई साहब !
    पोस्ट पर 101 कमेंट मुबारक हो !


    आशा है स्वस्थ-सानन्द हैं … इस बार नई पोस्ट के लिए इंतज़ार लम्बा लगने लगा है :)

    आशा है , सपरिवार स्वस्थ-सानन्द हैं …


    शस्वरं पर आपकी प्रतीक्षा भी है …

    ReplyDelete
  100. sateesh bhai ji
    aapki nai post ka besabri se intjaar hai.
    sadar naman ke saath
    poonam

    ReplyDelete
  101. तेरे जाने के साथ साथ,चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए,उम्मीद लगाए बैठे हैं !

    वाह बहुत खुबसूरत रचना,
    पढकर आनंद आ गया !!

    ReplyDelete
  102. तेरे जाने के साथ साथ ,
    चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए ,
    उम्मीद लगाए बैठे हैं !
    कभी कोयल की बोली भी सुनवाओ सक्सेना भाई साहब ,बेशक अभी तो कोयलों में काग बहुत बाकी हैं .........

    ReplyDelete
  103. बढ़िया रचना जोरदार हैं ... आभार

    ReplyDelete
  104. तेरे जाने के साथ साथ , चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद लगाए बैठे हैं


    last kadi bahut acchi lagi .......anupam prastuti , maan ko v dil ko chu gayi . badhai .

    sapne-shashi.blogspot.com

    ReplyDelete
  105. Ham aas lagye beithe hai wo wada kar ke bhool gaye......


    jai baba banaras...

    ReplyDelete
  106. दशहरा पर्व के अवसर पर आपको और आपके परिजनों को बधाई और शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  107. सतीश जी नमस्कार,बहुत भावपूर्ण उदगार हैं एक एक पंक्ति सार्थक लगती है ।

    ReplyDelete
  108. kisi bahan ke liye ye kavita sabse accha tofa hoga kya bhav hai itne sundar bhav jis man me aate hai ....kalpan nahi kar sakta wo kina nirmal hoga

    ReplyDelete
  109. " कौवे की बोली सुनने को, हम कान लगाये बैठे हैं "अति सुन्दर अभिव्यक्ति.
    मानस मन को सराबोर कर देने
    वाली ह्रदय द्रावक रचना.
    बहुत खूब.
    धन्यवाद.
    आनन्द विश्वास.

    ReplyDelete
  110. दीये की लौ की भाँति
    करें हर मुसीबत का सामना
    खुश रहकर खुशी बिखेरें
    यही है मेरी शुभकामना।

    ReplyDelete
  111. Beautiful heart touching poem in simple soulful words.घर की याद आ गयी.
    Thanks !!

    ReplyDelete
  112. पीछे जाने पर ही पूरी कविता पढ पाई । मुझे बेटियां नही हैं पर पोतियां हैं उनके विदाई का सोच कर कलेजे में कहीं कुछ दरक गया । बेटी की विदाई को ापने हम सब को अनुभव करा दिया ।

    ReplyDelete
  113. निशब्द किया आप की रचना ने..... आप के ब्लॉग पर आकर ऐसा लगा के न आती तो कितनी अच्छी रचनाओ को पड़ने से वंचित रह जाती ,दिल से आप की कलम को नमन करती हूँ .....

    ReplyDelete
  114. निशब्द किया आप की रचना ने..... आप के ब्लॉग पर आकर ऐसा लगा के न आती तो कितनी अच्छी रचनाओ को पड़ने से वंचित रह जाती ,दिल से आप की कलम को नमन करती हूँ .....

    ReplyDelete
  115. बहुत बहुत सुन्दर और भावुक कविता...
    बेटी की माँ तो नहीं हूँ मगर खुद बेटी हूँ सो दर्द भली भाँती समझ पायी...
    सादर.

    ReplyDelete
  116. स्नेह और प्रेम के रंगों से अंतस मन को रंगती ,बेहतरीन कविता ,शायद ही ऐसा कोई भाई -बहन हो जिसकी आँखें नम न हो जाएँ इसे पढ़कर .

    ReplyDelete
  117. पहले इस नंदन कानन में
    एक राजकुमारी रहती थी
    घर राजमहल सा लगता था
    हर रोज दिवाली होती थी --हर पापा को शायद ऐसा ही लगता होगा --सुन्दर और दिल छू लेनेवाले आपके भाव,आँखे भिंगो गये।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,