Thursday, April 12, 2012

प्रेम अभिव्यक्ति कराता कौन ? -सतीश सक्सेना

एक काफी समय पहले लिखा गीत को दुबारा प्रस्तुत कर रहा हूँ ....आनंद लीजिये !
शीतल मनभावन पवन बहे
बादल चहुँ ओर उमड़ते हैं 
जिस ओर उठाऊँ द्रष्टि वहीं
हरियाली चादर फैली है ,
मन में उठता है प्रश्न, पवन लहराने वाला कौन ?
बादलों के सीने को चीर बूँद बरसाने वाला कौन?


कल कल छल छल जलधार
बहे, ऊँचे शैलों की चोटी से
आकाश चूमते वृक्ष लदे
हैं , रंग बिरंगे फूलों से ,
हर बार रंगों की चादर से, ढक जाने वाला कौन ?
धरा को बार बार रंगीन बना कर जाने वाला कौन ?


चिडियों का यह कलरव वृन्दन 
कोयल की मीठी , कुहू कुहू ,
बादल का यह गंभीर गर्जन ,
वर्षा ऋतु की रिमझिम रिमझिम
हर मौसम की रागिनी अलग,सृजनाने वाला कौन ?
मेघ को देख घने वन में मयूर नचवाने वाला कौन ?

अमावस की काली रातें ,
ह्रदय में भय उपजाती क्यों ?
चाँदनी की शीतल रातें
प्रेमियों को भाती हैं क्यों
देख कर उगता पूरा चाँद , कल्पना शक्ति बढाता कौन ?
चाँद को देख ह्रदय में कवि के,मीठे भाव जगाता कौन ?


कामिनी की मनहर मुस्कान
झुकी नज़रों के तिरछे वार
बिखेरे नाज़ुक कटि पर केश
प्रेम अनुभूति जगाये, वेश ,
लक्ष्य पर पड़ती मीठी मार, रूप आसक्ति बढाता कौन ?
देखि रूपसि का योवन भार प्रेम अभिव्यक्ति कराता कौन ?

60 comments:

  1. एक ही तो है वो...........................
    जाने क्या क्या किया करता है !!!!

    बहुत सुंदर..............
    सादर.

    ReplyDelete
  2. सुन्दर सृजन , बेहतरीन भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  3. कामिनी की मनहर मुस्कान
    झुकी नज़रों के तिरछे वार
    बिखेरे नाज़ुक कटि पर केश
    प्रेम अनुभूति जगाये, वेश ,
    लक्ष्य पर पड़ती मीठी मार, रूप आसक्ति बढाता कौन ?
    देखि रूपसि का योवन भार प्रेम अभिव्यक्ति कराता कौन ?

    बेहतरीन प्रेम भाव की बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,लाजबाब प्रस्तुति,....

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....

    ReplyDelete
  4. चिडियों का यह कलरव वृन्दन
    कोयल की मीठी , कुहू कुहू ,
    बादल का यह गंभीर गर्जन ,
    वर्षा ऋतु की रिमझिम रिमझिम

    प्रकृति के विभिन्न रूपों से प्रभावित और आनन्दित करता सुंदर गीत.

    ReplyDelete
  5. आदरणीय सर जी , पहली बार आपका ब्लॉग पढ़ा , अच्चा लगा . आपकी रचनाये बेहद संतुलित एवं भावनाओं को प्रदर्शित करने में श्रेष्ठ है . धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरे गीत पर आपका स्वागत है अनुराग भाई !
      शुभकामनायें !

      Delete
  6. ईश्वर और प्रकृति के प्रति प्रेम का अनूठा समावेश

    ReplyDelete
  7. रहस्यवादी कौतूहल का सुन्दर समावेश!

    ReplyDelete
  8. पहले शायद पढ़ने में नहीं आया, सुंदर गीत।

    ReplyDelete
  9. प्रकृति प्रेम के सुन्दर ्भावो की सुन्दर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  10. सुंदर प्रकृति चित्रण के साथ छायावाद !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!
    इसी कौन ? पर सभी मौन

    अनजाने होठों पर क्यों पहचाने गीत हैं
    कल तक जो बेगाने थे जन्मों के मीत हैं

    हरीहरी वसुंधरा पे नीला नीला ये गगन
    जिसपे बादलों की पालकी उड़ा रहा पवन
    दिशायें देखो रंग भरी चमक रही उमंग भरी
    ये किसने फूल फूल पे किया सिंगार है
    ये कौन चित्रकार है......????????

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह गीत और यह आवाज अमर रहेगी ...

      Delete
  11. बहुत सुंदर गीत शुभकामनायें आपको ....

    ReplyDelete
  12. मन में उठता है प्रश्न, पवन लहराने वाला कौन ?
    बादलों के सीने को चीर बूँद बरसाने वाला कौन?

    Read more: http://satish-saxena.blogspot.com/#ixzz0aHbR7I91
    ब्लोगिये से सुन्दर रचना कहो लिखवाता है ये कौन ,

    अरे टिपवाता है ये कौन . ?भाई टिपवाता है ये कौन .?

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह समस्या भी खूब याद दिलाई.... :-)
      शुभकामनायें वीरू भाई

      Delete
  13. अद्वैत परब्रह्म कि धुन सुनाता सुंदर गीत ... ...... ....
    शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  14. मन में यह प्रश्न उठना स्वाभाविक ही है। उस परम सत्ता के रूप को हम देख नहीं पाते पर अपने आसपास हर पल हो रहे परिवर्तन को होते रहने से उसकी उपस्थिति को महसूस तो हम करते ही रहते हैं।

    ReplyDelete
  15. बस एक ही शक्ति है जिसे सब ईश्वर मानते हैं ... बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  16. छायावाद की छटा लिये बहुत ही प्यारा गीत ।

    ReplyDelete
  17. एक सभी के मन बसता है, खुद पूछे कि है वो कौन?
    मन में होने का आभास मिले पर तन एड्रेस बताए कौन?
    प्रकृति सत्य, कर्म अनादि। शाश्वत आत्म को पूछे कौन?
    आत्म अवलोकन करे जो बंदा,सत्य पाकर भी होता मौन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका स्वागत है सुज्ञ जी....

      Delete
  18. उसी कौन की सतत खोज मन के अन्दर और विश्व के बाहर लगी रहती है।

    ReplyDelete
  19. उस सत्ता सर्वोच्च की, करते विनय सतीश ।

    लौकिकता के भजन से, होते खुश जगदीश ।

    होते खुश जगदीश , यहाँ जब मरा मरा से ।

    पवन धरा जल चाँद, वृक्ष इस परम्परा से ।

    करे मोक्ष को प्राप्त, हिले प्रभु-मर्जी पत्ता ।

    अंतर-मन भी वास, करे वह ऊंची सत्ता ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रविकर भाई ...
      आपके कमेन्ट लाजवाब हैं , इससे रचना की सुन्दरता में चार चन लगते हैं !
      शुभकामनायें !

      Delete
  20. गीत बहुत ही श्रेष्‍ठ है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अजीत जी ....
      शुभकामनायें आपको !

      Delete
  21. कितना कुछ देता जाता है वह .... पत्थर में रख दो तो वह भी जीवंत हो उठता है

    ReplyDelete
  22. प्रकृति प्रेम के सुन्दर भावो की सुन्दर अभिव्यक्ति.
    सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  23. बहुत ही सुंदर गीत ... ..बधाई

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर गीत ..पढकर मज़ा आ गया ...सुंदर गीत के लिए बधाई

    ReplyDelete
  25. कामिनी की मनहर मुस्कान
    झुकी नज़रों के तिरछे वार
    बिखेरे नाज़ुक कटि पर केश
    प्रेम अनुभूति जगाये, वेश ,
    लक्ष्य पर पड़ती मीठी मार, रूप आसक्ति बढाता कौन ?
    देखि रूपसि का योवन भार प्रेम अभिव्यक्ति कराता कौन ?
    बड़ी सुंदर पंक्तियाँ है....
    प्रकृति इश्वर का साकार रूप है, चारोओर से वही हमें पुकार रहा है !
    बस महसूस करने के लिये आप जैसा संवेदनशील भाउक मन चाहिए !
    सुंदर रचना .....

    ReplyDelete
  26. बहुत बढ़िया .
    गीत विधा में आपकी निपुणता बेमिसाल है भाई जी .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके शब्द प्रोत्साहन हैं मेरे लिए ....

      Delete
  27. इन इन्द्रधनुषी रंगों में प्रकृति की छटा तो है ही,उस रहस्यवाद की ओर भी संकेत है जहां तक पहुंचने की विज्ञान की हर कोशिश नाक़ाम होगी।

    ReplyDelete
  28. कौन???...सदियों से उठने वाले इस प्रश्न का उत्तर प्रकृति है, ईश्वर है, अनुभूति है या फिर से वही प्रश्न..आखिर कौन???.

    ReplyDelete
  29. भाई सतीश जी नमस्ते ! जी हां यही सब तो है जिससे हमें हर पल अहसास होता है की इश्वर है...
    आज इस सेकुलर वाद के युग में बहुत सही सोच को गंभीरता पूर्वक प्रदर्शित किया है आपने ...
    आपकी इस रचना को पढ़ कर मुकेश जी द्वारा गया गीत याद आ गया .....हरी भरी वसुंधरा नीला नीला ये गगन .......ये किसने फुल बिखेर के किया श्रृंगार है ....वो कौन चित्रकार है वो कौन चित्रकार ......आभार आपका

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके शब्द प्रोत्साहन हैं मदन भाई ...

      Delete
  30. वाह ...बहुत ही बढिया।

    ReplyDelete
  31. ले लिया आनंद! शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  32. ये सब खुराफात तो कामदेव ही कर सकते हैं -और कौन करेगा ?
    रोमांटिक कविता, लालित्य भरी ,श्रृंगार परिपूरित

    ReplyDelete
    Replies
    1. सतीश भाई ,
      आपके कहे अनुसार आनंद लेते हुए लिख रहा था पर समय इजाजत नहीं दे रहा इसलिए फिलहाल इतना ही ... आगे वैसे भी चिड़ियों / कवि / चांद / अमावस जैसे हालात के पार लगते ही नाजुक कटि प्रदेश और उसके निकट फिसलन भरी वादियां हैं :)

      बाहर जो शीतल पवन बहे
      बादल चहुँ ओर उमड़ते हों
      हर सू देखूं हरियाली तो
      तब कुदरत से कह बैठूं मैं
      मेरे अंदर कब आओगी ?

      छलछल कर जो जलधार बहे
      ऊंचे हिम गिरी की छाती से
      फल लदे वृक्ष की टहनी जब
      धरती चूमें , जमकर झूमे
      कुछ पुष्प धरा पर बिखरे हों
      तब कुदरत से कह बैठूं मैं
      मेरे अंदर कब आओगी ?

      Delete
  33. अब समझ में आया कि कल से घटाओं ने आपकी छत के ऊपर क्यों डेरा जमाया हुआ है!! भीग गए हम तो आपके गीत की फुहार में!! आनंद!!

    ReplyDelete
  34. अमावस की काली रातें ,
    ह्रदय में भय उपजाती क्यों ?
    चाँदनी की शीतल रातें
    प्रेमियों को भाती हैं क्योंwaah .......bahut badhiya ...

    Read more: http://satish-saxena.blogspot.com/#ixzz1rnf47opS

    ReplyDelete
  35. प्यारा गीत है। समय का अभाव है वरना अंतिम बंद पढ़कर तो ताल से ताल मिलाना चाहिए था। आनंद आ गया।

    ReplyDelete
  36. सुंदर सुंदर मनभावन पंक्तियाँ आपसे लिखवाता है कौन?

    ReplyDelete
  37. आज शुक्रवार
    चर्चा मंच पर
    आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति ||

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  38. प्यारा है ये प्रेम गीत.

    ReplyDelete
  39. देख कर उगता पूरा चाँद , कल्पना शक्ति बढाता कौन ?
    चाँद को देख ह्रदय में कवि के,मीठे भाव जगाता कौन ?
    खुबसूरत शब्दों से सुसज्जित आपके गीत ....और यह सश्यश्यामला वसुंधरा,
    सच ! कितनी खुबसूरत है यह दुनियां......और कितनी सुंदर है उपरोक्त अभिव्यक्ति.............?आभार ........

    ReplyDelete
  40. देख कर उगता पूरा चाँद , कल्पना शक्ति बढाता कौन ?
    चाँद को देख ह्रदय में कवि के,मीठे भाव जगाता कौन ?


    बहुत सुन्दर रचना... शुभकामनायें

    :)

    ReplyDelete
  41. बहुत सुंदर रचना है
    प्रश्न के उत्तर चाह रहे हैं
    ऊपर भी वही तो
    चल रहा है जिस तरह
    नीचे मनमोहन मौन क्यों हैं
    नहीं बता रहे हैं !

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,