Tuesday, May 8, 2012

काश कहीं से मना के लायें , मेरी माँ को , मेरे गीत ! - सतीश सक्सेना

सबसे पहला गीत सुनाया 
मुझे सुलाते , अम्मा ने ! 
थपकी दे दे कर बहलाते   
आंसू पोंछे ,  अम्मा ने  !
सुनते सुनते निंदिया आई,आँचल से निकले थे गीत !
उन्हें आज तक भुला न पाया ,बड़े मधुर थे मेरे गीत !

आज तलक वह मद्धम स्वर 
कुछ याद दिलाये कानों में !
मीठी मीठी  लोरी की धुन, 
आज भी आये, कानों में  ! 
आज जब कभी नींद ना आये,कौन सुनाये मुझको गीत ! 
काश कहीं से मना के लायें , मेरी माँ  को , मेरे गीत  !

मुझे याद है ,थपकी देकर, 
 माँ अहसास दिलाती थी 
मधुर गुनगुनाहट सुनकर 
ही,आँख बंद हो जाती थी !
आज वह लोरी उनके स्वर में, कैसे गायें मेरे  गीत !
कहाँ से ढूँढूँ ,उन यादों को,माँ की याद दिलाते गीत !

कई बार बचपन  की यादें ,
माँ  कैसी थी ?चित्र बनाते, 
पापा अक्सर याद न आते 
पर जब आते, खूब रुलाते !
उनके गले में  बाहें  डाले  , प्यार सीखते ,   मेरे  गीत !
पिता की उंगली पकडे पकडे,सीख लिए थे मैंने  गीत !

पिता में बेटा,शक्ति ढूँढता 
विश्वविजेता उन्हें मानता
नंगे हाथों, बरसातों में , 
नागराज को पकडे देखा ! 
वह स्वरुप,वह शक्ति देखकर,बचपन से ही था निर्भीक  !   
शक्ति पुरुष  थे  पिता हमारे, उन्हें समर्पित मेरे गीत  ! 

राम रूप कुछ विद्रोही  थे  ,
चाहे  कुछ  हो  सर न झुकाएं    
कुछ ऐसा कर पायें जिससे 
घर में  उत्सव रोज मनाएं ! 
सदा उद्यमी, जीवन उनका, रूचि रहस्यमय,निर्जन गीत !
कभी कभी मेरे जीवन में, वे  खुद ही  लिख जाते  गीत  ! 

शक्ति पिता से  पायी मैंने, 
करुणा  पायी माता  से  !
कोई कष्ट न पाए मुझसे , 
यह वर मिला विधाता से !
खाली  हाथों आया था मैं , भर के गगरी छोड़े गीत !
प्यासे पक्षी,बया,चिरैयाँ,सबकी प्यास बुझायें गीत !


क्या मैं तुमसे करूं शिकायत
प्यास नहीं बुझ पाएगी  !
क्या जीवन भर खोया पाया 
उम्र  फिसलती जायेगी  !
जितना जिया,खूब पाया है, खूब हंस लिए मेरे गीत !
मस्ती के अनंत सागर में, जी भर गोते खाते गीत !


जीवन की वे भूलें मेरी  ,
याद आज भी आती है  !
भरी डबडबाई, वे ऑंखें ,
दिल में कसक जगाती हैं ! 
जीवन भर के बड़े वायदे, सपने खूब  दिखाएँ  गीत   !
भुला के वादे,निश्छल दिल से,शर्मिन्दा हैं,मेरे गीत  !


याद मुझे, वे निर्मल बातें ,
बचपन याद दिलाती बातें
दिवा स्वप्न जो हमने देखे
बिखर गए, भंगुर शीशे से  !
जीवन भर के कसम वायदे, नहीं बचा पाए थे गीत  !
अब क्यों रोये मनवा मेरा,मदद नहीं कर पायें गीत !


बहुत दिनों से,  बोझिल  है 
मन,कर्जा चढ़ा मानिनी का ! 
चलते थे, भारी मन लेकर 
मन में  बोझ, संगिनी  का !
दारुण दुःख में साथ निभाएं, कहाँ आज हैं ऐसे  मीत  !
प्यार के करजे उतर ना पायें , खूब जानते मेरे  गीत !


जीवन की कडवी यादों को
भावुक मन से भूले  कौन  ?
जीवन के प्यारे रिश्तों मे
पड़ी गाँठ, सुलझाए कौन  ?
गाँठ पड़ी,तो  कसक रहेगी,हर दम चुभता रहता तीर !
जानबूझ कर,धोखे देकर, कैसे नज़र झुकाते  गीत !

पता नहीं  कुल साँसे कितनी
हम खरीद कर ,  लाये  हैं  !
कल का सूरज नहीं दिखेगा 
आज  समझ , ना पाए  हैं  !
भरी वेदना मन में   लेकर , कैसे  समझ  सकोगे   प्रीत  !
मानव मन फिर चैन न पाए,जीवन भर अकुलायें गीत !



70 comments:

  1. माँ बाऊ जी को याद करते हुए-
    प्रभावी प्रस्तुति दे गए भाई जी -
    शुभकामनायें ||

    ReplyDelete
  2. जिंदगी को समझ के साथ जीना आना चाहिए,वरना तो वह बेकार ही लगती है। गीत हमेशा की तरह बहुत कुछ कह रहा है1

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार राजेश भाई ...
      आपके शब्द महत्व रखते हैं !

      Delete
  3. बेहद सुन्दर गीत!
    जीवन के कई आयाम मुखरित हो उठे हैं!
    सादर!

    ReplyDelete
  4. भाव धाराप्रवाह बहते हैं आपके गीतों में।

    ReplyDelete
  5. वाह!!!!

    गीत पर गीत!!!!

    क्या दुनियां से करें शिकायत
    प्यास नहीं बुझ पाएगी !
    क्या जीवन भर खोया पाया
    उम्र फिसलती जायेगी !
    जितना जिया,खूब पाया है, खूब हँसे हैं, मेरे गीत !
    मस्ती के अनंत सागर में,जी भर गोते खाते गीत !

    बहुत सुंदर.
    अनु

    ReplyDelete
  6. सारी मन की वेदना उड़ेल दी अपने गीत में आपने भाई जी .....
    ज्यादा कुछ कहने की हिम्मत नही छोड़ी आपने .....
    बस! हम जैसों के... तो हम जैसे ही हैं ???
    चलो ! आपको हमारी तरफ़ से ...और आप की तरफ़ से हमें ..
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. समस्त मंगल कामनाएं भाई जी...
      हम दिल से आपके साथ हैं !

      Delete
  7. कमाल का गीत है बड़े भाई!! लगा जैसे एक गीत में आपने अपने जीवन के पुराने सभी वर्षों को जी लिया!! एक फ्लैश-बैक की तरह!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यहाँ कुछ और भी लिखना है सलिल भाई ...
      देखते हैं अब मूड कब बनता है ..
      सादर

      Delete
  8. पता नहीं कुल साँसे कितनी
    हम खरीद कर , लाये हैं !
    कल का सूरज नहीं दिखेगा
    आज समझ , ना पाए हैं !
    भरी वेदना मन में लेकर , कैसे समझ सकेंगे गीत !
    मानव मन फिर चैन न पाए,जीवन भर अकुलायें गीत

    मन की सारी वेदनाओं लाजबाब प्रस्तुति,......के लिए बभाई

    RECENT POST....काव्यान्जलि ...: कभी कभी.....

    ReplyDelete
  9. एक गीत से सारा संसार समेत लिया सक्सेनाजी बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया राजेश जी ...
      आपका स्वागत है ...

      Delete
  10. भावपूर्ण धारा प्रवाह गीत.

    ReplyDelete
  11. बहुत भावुक मन से लिखा गीत .
    संवेदनाओं से परिपूर्ण सुन्दर गीत .

    ReplyDelete
  12. @मानव मन फिर चैन न पाए,जीवन भर अकुलायें गीत

    सही है - भावुक कवि मन कभी चैन न पाए

    ReplyDelete
  13. जीत पिता से पायी मैंने,
    करुणा माँ की भेंट है !
    कोई कष्ट न पाए मुझसे
    यह अंतिम संकल्प है !

    हर छंद दिल से लिखा गया है ॥बहुत सुंदर गीत

    ReplyDelete
  14. स्मृति के घर में गूँजते इतने सुन्दर गीत भला कहाँ भुलाये जा सकते हैं..

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह आशीषें आवश्यक हैं मेरे गीतों के लिए !

      Delete
  15. गीतों के सरताज यूँ ही नहीं बनता कोई....पुराने रंग में आकार आपने दिखा दिया है कि बहुत-कुछ सरल और सहज शब्दों से कहा जा सकता है.अपनी जीवन-यात्रा को पद्यमय सुना दिया,बिना रुके,बिना झिझके,बिना अतिरिक्त शब्दाडंबर के !

    माता-पिता को समर्पित अद्भुत व लंबी रचना !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सरताज के योग्य नहीं मानता अपने आपको मगर कोशिश करता हूँ कि जो लिखा जाए सामान्य भाषा में लिखा जाया और कम पढ़े लिखों के काम का हो ...
      आपकी टिप्पणी मनोबल बढ़ाती है , गीतों का आकलन आपसे अच्छा भला कौन करे !
      आपका आभार

      Delete
  16. क्या दुनियां से करें शिकायत
    प्यास नहीं बुझ पाएगी !
    क्या जीवन भर खोया पाया
    उम्र फिसलती जायेगी !
    जितना जिया,खूब पाया है, खूब हँसे हैं, मेरे गीत !
    मस्ती के अनंत सागर में,जी भर गोते खाते गीत !
    JIWAN KE RANGON KO SAHALATI THAPTHPAATI KHUBSURAT ABHIWYAKTI.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आपका ...रमाकांत सिंह!

      Delete
  17. विश्वनाथ को सर न झुकाया , बड़े अहंकारी थे गीत !
    वहीँ याद कर भूलें अपनी,फफक फफक कर रोये गीत !............(जिंदगी का एक अधूरापन कितना दुःख .कितनी तकलीफ देता हैं ...ये आपकी कविताओं से पता चलता हैं )

    गीतों का यूँ रोना ..कुछ शब्दों और कविताओं की रचना का आरम्भ होना हैं ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आज का बेहतरीन कमेन्ट ...

      Delete
  18. हर शब्द दिलसे निकला लगता है
    बहुत सुंदर रचना ........

    ReplyDelete
  19. जीवन की वे भूलें मेरी
    याद आज भी आती है !
    भरी डबडबाई, वे ऑंखें ,
    दिल में कसक जगाती हैं
    जीवन भर के बड़े वायदे, सपने खूब दिखाएँ गीत !
    भुला के वादे,निश्छल दिल से,शर्मिन्दा हैं,मेरे गीत !


    भावुक करते गीत ...
    बहुत सुंदर ...!!
    शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  20. गीत ही तो हमें अपने भावनाओं में बहा कर अपने अनंत सागर में समेट भी तो लेता है..

    ReplyDelete
  21. जीवन गीत के सारे सुर स्वर यूँ हीं आप गाते रहें , हम भी प्रेरणा पाते रहें

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार रश्मि प्रभा जी ....

      Delete
  22. पता नहीं कुल साँसे कितनी
    हम खरीद कर , लाये हैं !
    कल का सूरज नहीं दिखेगा
    आज समझ , ना पाए हैं !
    भरी वेदना मन में लेकर , कैसे समझ सकेंगे गीत !
    मानव मन फिर चैन न पाए,जीवन भर अकुलायें गीत !

    .....सम्पूर्ण जीवन की यादें बहुत ही भावपूर्ण शब्दों में एक रचना में उंडेल दी हैं...नमन है भाई जी आपकी लेखनी को. बस यही कह सकता हूँ 'कभी कभी जीवन में मिलते, सुनने को ये सुन्दर गीत.'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका यह नमन भाव विह्वल करता है भाई जी , लगता है वाकई अच्छा बन पड़ा है यह गीत ...
      आभार !

      Delete
  23. आपका यह गीत.. केवल केवल गीत नहीं है... ये जीवन की यात्रा हैं... माँ की लोरी से शुरू होने वाला यह गीत... बचपन, जवानी और घर परिवार से होते हुए बढ़ रही है.. व्यापक हो रही है.. जीवन के कितने ही रंग... ख़ुशी के अवसाद के.. प्रेम के... प्रेरणा के ... इस एक गीत में हैं... सलिल जी से ठीक ही कहा है कि इस गीत में आपने पुराने वर्षो को जी लिया है... कविता की जिस परंपरा को साहित्य भूल रहा है.. विस्मृत कर रहा है.. उस परंपरा को मैं पुनर्जीवित होते देख रहा हूं..

    ReplyDelete
    Replies
    1. @ कविता की जिस परंपरा को साहित्य भूल रहा है.. विस्मृत कर रहा है.. उस परंपरा को मैं पुनर्जीवित होते देख रहा हूं..

      यह सच है कि आजकल गीत कम लिखे जा रहे हैं और जहाँ लिखे जाते हैं उन्हें पढने में लोगों को रूचि कम है ! मुझे लगता है कि गीतों की मधुरता पर लोगों का ध्यानाकर्षण आवश्यक है और इसमें गीतों को प्रोत्साहन देना चाहिए जो प्रकाशक से अधिक और कौन कर पायेगा !
      आभार आपका !

      Delete
  24. बेहतरीन भाव ... बहुत सुंदर रचना प्रभावशाली प्रस्तुति

    ReplyDelete
  25. माता -पिता की याद जब मन को विह्वल कर देती है ,ऐसे ही करुण-मधुर गीत रच जाते हैं !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार ...
      आपकी आशीषों के लिए

      Delete
  26. सुन्दर कविता है सतीश जी.

    ReplyDelete
  27. ……………………………
    ……………………………………………
    …………………………………………………………………………
    …………………………………………………………………………………………
    …………………………………………………………………………
    ………………………………………………………………
    ………………………………………………………………………………………………
    ……………………………………………
    ………………………
    …………………………………………………………………
    …………………………………………………………………………………………
    …………………………………………………………………………………………………
    …………………………………………………………………………………………………………………
    …………………………………
    ………


    बड़े भाई
    कुछ कह सकें , इस लायक छोड़ दिया करें कभी तो … … …

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजेंद्र के आते ही जैसे गीतों में जान पड़ जाती है ...
      आपके दिए गए डाट प्रेरणा शील हैं शारदापुत्र , मेरा प्रयत्न होगा कि आपके पसंद लायक कुछ और लिख सकूं !
      आभार आपका !

      Delete
  28. दिन ख़ूबसूरत बीतेगा आज, प्रणाम स्वीकारें|

    ReplyDelete
    Replies
    1. आज का दिन मेरा भी अच्छा है ,
      हिम्मत अफजाई के लिए आभार संजय !

      Delete
  29. अब तो भाई जी पूरे गीत कलश का ही बेसब्री से इंतज़ार है जिसमें इस जैसे कितने ही नायाब गीत भरे होंगें -अब इस गर्मी और आतप में और न तड़पाओ....अपने शुभाकांक्षियों पर कुछ तो नेह बरसा जाओ ! मन तृषित बना है युगों युगों से ..कुछ तो अमृत छलका जाओ ......
    आपके सानिध्य में पामर भी गीतकार बन जायेगा .....यू हैव प्रूव्ड योरसेल्फ सर!

    ReplyDelete
    Replies

    1. आपके यह शब्द भाव विह्वल करने में समर्थ है डॉ अरविन्द मिश्र....

      आप उन लोगों में से हैं जिन्होंने शुरू से मेरी हिम्मत अफजाई की है अगर आपसे प्रेरणा न होती तो शायद गीतों में मधुरता कायम न रहती !

      टिप्पणिया तो यहाँ बहुत मिलती हैं मगर ध्यान से पढ कर दी गयीं, गुरु जनों की टिप्पणियां नितांत दुर्लभ जैसी ही हैं ! इनमें बेहतरीन रचना करवाने की शक्ति निहित होती है !

      आपके आशीर्वाद से रचना प्रखर हुई है !

      आभार आपका !

      Delete
  30. सतीश जी, आपने भाव-विह्वल कर दिया। इतनी सुन्दर रचना पर कुछ कहते नहीं बन रहा। प्रणाम!

    ReplyDelete
    Replies

    1. अनुराग शर्मा को मैं हिंदी के श्रेष्ठ विद्वानों में से एक मानता रहा हूँ , आपके कहे शब्द मेरे लिए ख़ास महत्वपूर्ण ही नहीं, प्रेरणास्पद भी हैं ! मेरे लिए, आपका यहाँ आना ही गौरव शाली है !
      आभार आपका गुरुदेव ! !

      Delete
  31. लिखा तो आपने गज़ब का है ! आपकी भावनाओं और लिखे की जितनी भी तारीफ करूं कम है सतीश भाई !



    ...पर




    अम्मा बाबू जी के भरोसे ?

    ब्लागिंग ?

    कब तक :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. और किसके भरोसे गुरु ...:)) ??

      Delete
    2. बहुत दिनों से आपने उनपर नहीं लिखा जो लोगों पे कहर गुज़ार दें , भूखा मार दें :)

      Delete
    3. जुल्मियों पर ??
      खुल के प्रकाश डालें हुज़ूर, आदेश का पालन होगा !

      Delete
    4. अब क्या प्रकाश डालें ? आप तो पहले भी , बंदे को फांका करवा चुके हैं :)

      Delete
  32. जीवन भर की स्मृतियों का खजाना एक कविता में ....

    ReplyDelete
  33. is geet ka print lekar ghar gaya.....bitiya shalini aanchal aur
    pragati aanchal ne ise khoob maje se ek-ek pankti aage-piche bari-bari se padhe aur lagbhag yaad kar liya.....sayad abhi o dono
    is saral-sahaj bol ke bhitar ke dard ko nahi mahsoos kar saki....

    apan to sallute karte hain. aur haan arvind bhaijee ki baat pe dhyan de khas.


    pranam.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शालिनी, आँचल और प्रगति को कहियेगा कि ताऊ ने उनके लिए और भी कई रचनाएं लिखी हैं ! मेरे गीत की प्रतिलिपि इन दोनों के लिए अवश्य भेजूंगा !
      अक्सर मैं बच्चों में खासा लोकप्रिय हूँ ...
      सस्नेह आशीर्वाद इन तीनों को !

      Delete
  34. यादों की सुन्दर पिटारी गीतो से भरी है सारी ...बहुत भावपूर्ण गीत ..सतीश जी..बधाई..

    ReplyDelete
  35. बक़ौल अनजानः
    मैं कब गाता मेरे स्वर में,प्यार किसी का गाता है
    याद किसी की जब आती इक,नया गीत बन जाता है

    ReplyDelete
  36. पिता में बेटा,शक्ति ढूँढता
    विश्वविजेता उन्हें मानता
    नंगे हाथों, बरसातों में ,
    नाग को पकडे,उनको देखा !
    वह स्वरुप,वह शक्ति देखकर,बचपन से ही था निर्भीक !
    शक्ति पुरुष थे पिता हमारे, उन्हें समर्पित मेरे गीत !

    Read more: http://satish-saxena.blogspot.com/#ixzz0XZwTUj00
    इसे शब्द चित्र कहें बीते कल का या जीवन वृत्त का ताज़ा गीत ,है ये कितना बढ़िया गीत .

    ReplyDelete
  37. sateesh bhai ji
    maa ki loori pita ki shakti aur sampurn parivaar katyag v ullas
    hamaare liye hi to hota hai jinse ham sambal pakar jindgi ke naye safar par nikal padte hain.
    samst antar bhavnao ko bhav vibhor kar gai aapki anupamm kriti.kash aisa sabhi sochte-------
    sadar naman
    poonam

    ReplyDelete
  38. sateesh bhai ji
    maa ki loori pita ko shakti aur pure parivaar ka sanen v tyag sab kuchh samahit hai aapki is anupam kriti me.yahi to hamaara sambal banti hain bhavushhy me ek naye safar ki taraf kadam badhane ke lye---
    hardik namn ke saath
    poonam

    ReplyDelete
  39. जीत पिता से पायी मैंने,
    करुणा माँ की भेंट है !
    अद्वितीय विरासत
    भावुक स्वर

    ReplyDelete
  40. waah bahut accha laga aapka geet satish jee man ko bhigo gaya.......

    ReplyDelete
  41. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  42. कितने सहज, कितने सरल, कितने मीठे तेरे गीत
    राह सुझाते, राह दिखाते, दिल बहलाते तेरे गीत....

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,