Friday, June 21, 2013

हिमालय, को समझते,उम्र गुज़र जायेगी - सतीश सक्सेना

                   यह नहीं समझ आया, कि इंसानियत भूलों से, पहाड़ के नुक्सान को पूरा करने को , इस ग़ज़ल में ऐसा क्या लिखें   कि अर्थ पूरा हो ???
                   हमारी बेवकूफियों से पहाड़ रो रहे हैं , नदियाँ क्रोधित हैं , अगर नहीं सुधरे तो अभी बहुत कुछ सहना बाकी है  ! Ref: 16 june 2013, केदार घाटी 

लगता भूलों में ही यह,उम्र गुज़र जायेगी !
हिमालय को समझते,उम्र गुज़र जायेगी ! 

आज सब दब गए,इस दर्द के, पहाड़ तले
अब तो लगता है,रोते, उम्र गुज़र जायेगी !

किसको मालूम था,उस रात उफनती, वह 
नदीं, देखते देखते ऊपर से, गुज़र जायेगी !

कैसे मिल पाएंगे ?जो लोग,खो गए घर से,
मां को,समझाने में ही, उम्र गुज़र जायेंगी !

बहुत गुमान था,नदियों को बांधते, मानव 
केदार ऐ खौफ में ही, उम्र, गुज़र जायेगी  !

57 comments:

  1. मैदानों को पथरीला बनाने की
    यह अहंकारी चाह
    यूँ ही ओर भी ना जाने कितनी ही
    जिंदगियां लील जाएगी।

    ReplyDelete
  2. मैदानों को पथरीला बनाने की
    यह अहंकारी चाह
    यूँ ही ओर भी ना जाने कितनी ही
    जिंदगियां लील जाएगी।

    ReplyDelete
  3. सच्चाई को शब्दों में बखूबी उतारा है आपने . आभार . ये है मर्द की हकीकत आप भी जानें संपत्ति का अधिकार -४.नारी ब्लोगर्स के लिए एक नयी शुरुआत आप भी जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    ReplyDelete
  4. मार्मिक अभिवयक्ति...

    ReplyDelete
  5. बड़ा मुश्किल होगा इस तरह उम्र गुजारना.....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. बिलकुल सही कहा , ये सब हमारी ही गलतियाँ है, हमने प्रक्रति से छेड़ छाड़ की है , उसका ही नतीजा है ये,बहुत सटीक अभिव्यक्ति , शुभकामनाये,

    यहाँ भी पधारे
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/06/blog-post_21.html

    ReplyDelete
  7. प्रकृति अपनी अवहेलना का प्रतिकार शायद इसी तरह करती है ...... सादर !

    ReplyDelete
  8. बहुत बड़ा सच व्यक्त किया है आपने, हम क्या सोच लेते हैं और क्या हो जाता है, अब यही सोचने में समय बीत जायेगा।

    ReplyDelete
  9. आदमी नहीं बदलेगा उम्र गुजर जायेगी !

    सत्य वचन !

    ReplyDelete
  10. मानव अपनी बुद्धि पर बहुत इतराता है .... लेकिन प्रकृति उसे सच का आईना दिखा देती है .... मार्मिक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. बहुत गुमान था,नदियों को बांधते, मानव
    प्रकृति के, खौफ में ही,उम्र गुज़र जायेगी !
    किन्तु चेतेगा फिर भी नहीं !

    ReplyDelete
  12. गजब अभिव्यक्ति
    बहुत गुमान था,नदियों को बांधते, मानव
    केदार ऐ खौफ में ही , उम्र गुज़र जायेगी !

    ReplyDelete
  13. बहुत गुमान था,नदियों को बांधते, मानव
    केदार ऐ खौफ में ही , उम्र गुज़र जायेगी !

    बहुत सही कहा.

    रामराम.

    ReplyDelete
  14. इंसान अपना बोया हुआ ही काट रहा है दोष भगवान के मत्थे, जिस तरह पर्यावरण को ध्वस्त किया जा रहा है उससे ना केवल पहाड बल्कि मैदान और समंदर भी ऐसा ही व्यवहार करेंगे.

    रामारम.

    ReplyDelete
  15. इन्सान के कर्मों का फल भगवान को भी भुगतना पड़ रहा है।

    ReplyDelete
  16. स्तब्ध और किंकर्तव्यविमूढ़ हूँ

    ReplyDelete
  17. कैसे मिल पाएंगे,जो लोग,खो गए घर से,
    मां को,समझाने में ही,उम्र गुज़र जायेंगी !
    sacchi bat kaise samjha payenge ...

    ReplyDelete
  18. पहाड़ को नोचने खसोटने का सबब है यह सब ,हविश ,हविश ,सड़क सड़क

    ReplyDelete
  19. बहुत ही दुखद :(

    ReplyDelete
  20. आज सब दब गए , इस दर्द के, पहाड़ तले
    अब तो लगता है,रोते, उम्र गुज़र जायेगी !

    सच बात है ....जिनके अपने गए हैं उनके लिए उम्र भर का दर्द है ....!!

    ReplyDelete
  21. बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति सतीश जी, इन पंक्तियों ने दिल को छू लिया। आपने सारे देश का दर्द इन शब्दों में बयां किया है। भगवान देश को इससे उबरने की शक्ति दे।

    ReplyDelete
  22. बहुत कुछ सोंचने पर विवश करती रचना...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  23. प्राकृतिक तत्वों को मनमाने ढंग से चलाने का दंभ ऐसे ही परिणाम दिखायेगा - और तब इंसान कुछ न कर पाएगा !

    ReplyDelete
  24. कहीं पर सूखे की मार, कहीं पर विनाशकारी बाढ़
    सोचा न था,कुदरत इस तरह कहर बरपा जायेगी !

    ReplyDelete
  25. सुप्रभात आपने जहां के दर्द को अपने लहू से लिख दिया

    कैसे मिल पाएंगे ?जो लोग,खो गए घर से,
    मां को,समझाने में ही,उम्र गुज़र जायेंगी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सतीश भाई आपकी टिप्पणियों का .आपकी टिप्पणियाँ हमारी शान हैं .पारितंत्रों की टूटन हामरी ही टूटन घुटन बनेगी बन रही है ,मौत का सबब भी यही बनेगी .बन रही है .

      Delete
  26. बहुत दुखद है. सुन्दर ग़ज़ल.

    ReplyDelete
  27. .
    .
    .
    लगता भूलों में ही, यह उम्र, गुज़र जायेगी
    हिमालय को, समझते,उम्र गुज़र जायेगी !


    सतीश जी,

    हिमालय तो समझा रहा है बहुत बार से... कहता है बार बार कि वजन नहीं उठा सकता इन भारी भरकम धर्मस्थानों-मकानों-होटलों-गेस्टहाउसों-आश्रमों-ऐशगाहों का, और वह भी ठीक नदी के सीने के ऊपर ही... पर हम हैं कि समझना ही नहीं चाहते...


    ...

    ReplyDelete
  28. ,कुदरत को किसने समझा है,? कौन समझ सकता है?केवल समझने का दावा करने से क्या होता है

    ReplyDelete
  29. himalaya ka dard zubaan pa gaya is saal....

    ReplyDelete

  30. आपकी पर्यावरण सचेत दृष्टि को सलाम .शुक्रिया आपकी टिप्पणियों का .ॐ शान्ति .

    ReplyDelete

  31. आपकी पर्यावरण सचेत दृष्टि को सलाम .शुक्रिया आपकी टिप्पणियों का .ॐ शान्ति .


    हिमालय हेज़ ए वेरी फ्रेजाइल इकोलोजी .हिमालय पारितंत्र कांग्रेस की तरह छीज रहा है .सबने लूटा खसोटा है हिमालय .

    ReplyDelete
  32. नियति है साहब, अगर समझ भी लिया , तब भी उम्र कहाँ थमने वाली है :)

    लिखते रहिए

    ReplyDelete
  33. यह एक इशारा भर है समझाने को कि प्रकृति से छेड़छाड़ कैसे दिन दिखा सकती है.

    ReplyDelete
  34. prakriti ke dohan ke prinaam bhugtne koyee devta nhi ayega ye sab srijan ke charan hain.

    ReplyDelete
  35. prakriti ke dohan ke prinaam bhugtne koyee devta nhi ayega ye sab srijan ke charan hain.

    ReplyDelete
  36. स्तब्ध और किंकर्तव्यविमूढ़ हूँ........बहुत दुखद है.बहुत कुछ सोंचने पर विवश करती रचना...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  37. प्रकृति देती है भरपूर मगर इंसान हद करे पार तो ब्याज सहित वापस ले लेती है , त्रासदी ने दिया भारी सबक !

    ReplyDelete
  38. केवल आह! बस..

    ReplyDelete
  39. सच में यह इंसान की भूलों का ही परिणाम है
    सार्थक रचना
    सादर !

    ReplyDelete
  40. सच में यह इंसान की भूलों का ही परिणाम है
    सार्थक सामयिक रचना
    सादर !

    ReplyDelete
  41. अगली पोस्ट प्रतीक्षित रहती है आपकी .शुक्रिया आपकी टिपण्णी का .ॐ शान्ति .

    ReplyDelete
  42. केदार ए खौफ में ही उम्र गुजर जायेगी ।

    बहुत सही कहा ।

    ReplyDelete
  43. सुन्दरम मनोहरं .शुक्रिया आपका मेहरबानी आपकी टिप्पणियों के लिए .

    ReplyDelete
  44. दंभ मानव का उसे ही ले डूबेगा

    ReplyDelete
  45. कैसे मिल पाएंगे ?जो लोग,खो गए घर से,
    मां को,समझाने में ही,उम्र गुज़र जायेंगी !

    बहुत गुमान था,नदियों को बांधते, मानव
    केदार ऐ खौफ में ही, उम्र, गुज़र जायेगी !

    बहुत कुछ सोंचने पर विवश करती रचना......भारी सबक त्रासदी ने दिया

    ReplyDelete
  46. बहुत सशक्त अभिव्यक्ति .किन शब्दों में आपका धन्यवाद करें ....

    ReplyDelete
  47. बहुत ही दुखद है इस घटना के बारे लिखना ....उस दर्द से गुजरने जैसा ....

    इक आह है बस ...!!

    ReplyDelete
  48. कैसे मिल पाएंगे ?जो लोग,खो गए घर से,
    मां को,समझाने में ही,उम्र गुज़र जायेंगी !

    ....अंतस को छूती बहुत भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  49. बेहद सशक्त भावाभिव्यक्ति .....सहज अनुभूत अभिव्यक्ति मन की परिवेश की .ॐ शान्ति .

    ReplyDelete
  50. Well said, Sateesh. Keep writing.
    regards
    Sniel

    ReplyDelete
  51. कैसे मिल पाएंगे ?जो लोग,खो गए घर से,
    मां को,समझाने में ही,उम्र गुज़र जायेंगी !

    बहुत कुछ सोंचने पर विवश करती रचना.

    ReplyDelete
  52. ॐ शान्ति .कल पीस मार्च के लिए न्युयोर्क के लिए प्रस्थान है ४ - ७ जुलाई पीस विलेज में कटेगी .ॐ शान्ति .शुक्रिया आपकी टिपण्णी के लिए .

    ReplyDelete
  53. सार्थक रचना। लुटने वाले एक बार फिर तड़पते रह गए, लूटने वाले इस बार भी निकल लिए नया आशियाना बनाने ...

    ReplyDelete
  54. Bahut khub kaha hai apne,,,subbab

    ReplyDelete
  55. वाकई यह पीड़ा कभी कोई नहीं भूल पाएगा...बहुत मार्मिक....

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,