Friday, March 21, 2014

रिटायरमेंट का वर्ष और अपने ही घर में वृद्ध शेरों की दुर्दशा - सतीश सक्सेना

लगता है ३० वर्ष में ही, ६० वर्ष पूरे होने का घंटा बजा दिया कि अब स्कूल बंद हो गया, आज के बाद अब यहाँ नहीं आना, फीस आदि का रिफंड के लिए चेक घर भेज दिया जाएगा ! :)

रिटायरमेंट के वर्ष में, पहला तनाव यह होता है कि फंड, ग्रेचुटी के पैसे बच्चों और बच्चों की अम्मा द्वारा झपटने से  कैसे बचाये जाएँ जिनपर इन लोगों की नज़र, पिछले सालों से टिकी है ! परिवार में बहुमत एवं असर माँ बेटे का है जो इस विषय में एकमत हैं ! मैंने रिटायरमेंट के साल अक्सर अपने साथियों को अप्रत्याशित तनाव में पाया है और वह भी अपने ही परिवार से, जिसके लिए बरसों से अपने मित्रों में, तारीफे करते नहीं अघाते थे, वे  अब यह कैसे बताएं  कि परिवार के तमाम जरूरतें, उनके रिटायर होने का इंतज़ार कर रहीं हैं !

रिटायरमेंट के समय इंसान अक्सर शेष बचे हुए, १५-२० वर्षों की सिक्यूरिटी के लिए बेहद तनाव में पाता है ! पूरे जीवन अपने परिवार के लिए, जी तोड़ मेहनत कर पालने वाले इन वृद्ध शेरों, को अपने घरों में ही उपेक्षा और हिकारत का शिकार होना पड़ता है , उन्हें यह अहसास कराया जाता है कि वे लालची हैं व उन्हें अपने बच्चों की आवश्यकताओं का ध्यान नहीं है ! 

घायल शेरनी, जो बरसों से अपने पति की बड़बड़ और अकड़ से परेशान रही है उसे यही मौक़ा सही मिलता है , बुड्ढे के कमजोर दिनों में ,सामर्थ्यवान पुत्र का साथ देकर,काफी संतोष का अनुभव करती है और वह पहले से ही टूटी कमर और असहाय अकेले व्यक्ति पर, जोरदार हमला करने का कोई मौका नहीं चूकती ! उसकी पूरी कोशिश यह रहती है कि इस बुड्ढे सरदार की, सिक्यूरिटी छीन कर, परिवार पर आश्रित कर दिया जाए इससे इसकी अकड़ भी सुधर जायेगी तथा बच्चों को पैसे भी मिल जायेंगे और फिर बेटे का दिल करे तो ठीक नहीं तो इस मरे और सड़े से इंसान का क्या करना ! :)

अफ़सोस यह है कि अक्सर पुत्र भी अपने पिता को सहयोग नहीं करते उन्हें अपनी जवानी में ही , पिता के पूरे जीवन के बचाये २०-३० लाख रूपये, उनके सपने पूरे करने, घर खरीदने अथवा कार खरीदने को मिल जाएँ, इससे अच्छा आसान साधन और कुछ नज़र नहीं आता !

इस वर्ष मैं भी रिटायर हो रहा हूँ , सामर्थ्यवान एवं पर्याप्त शक्तिशाली बच्चों के कारण मेरे जैसे भाग्यवान लोग इस दुनिया में बहुत कम ही होंगे मगर जब अपने मित्रों को देखता हूँ तो दिल दहल जाता है !  कल ऑफिस में अपने दो हमउम्र मित्रों से बात करते समय , मैंने यह फैसला किया कि इन सर्वगुण संपन्न एवं अनुभवी रिटायर शेरों को संगठित करूंगा एवं इस शक्ति का उपयोग आपस में एक दूसरे की मदद देकर करेंगे ! यह कार्य करने के लिए  "dignified lion's club" की स्थापना का संकल्प करता हूँ !

विवेक जी  से कवि दिवस पर हुई चर्चा में , उन्होंने एक बेहतरीन आयडिया, जिस पर वह काम कर रहे हैं, के बारे  बताया था कि हर शहर में वृद्धों का एक डाटा बेस तैयार किया जाएगा जिनमें उनकी आवश्यकताएं एवं सहायता देने  हेतु, उन्हीं शहरों में रहने वाले स्वयंसेवक स्वेच्छिक रूप से आगे आयेंगे  ! मेरी अपनी इच्छा, इस कार्य के लिए, ह्रदय से लगने की है जिसे अब ३० वर्ष (६० ) उम्र में मैं शुरू करना चाहता हूँ ! :) 
यहाँ मददगारों की कमीं नहीं है सिर्फ नेतृत्व चाहिए, भीड़ की भीड़ उठ खडी होगी मदद करने के लिए !!

सहायकों की कमीं नहीं है, साथ हज़ारों आयेंगे !
इन बूढ़ों की मदद के लिए हाथ हज़ारों आयेंगे !

50 comments:

  1. सुना है कि एक द्वार बंद होता है तो ईश्वर अनंत द्वार खोल देता है, देखने की नजर चाहिए, कुछ नया करने का जज्बा चाहिए बस, रिटायरमेंट के अपने फायदे ही फायदे है, जो काम तब हम करना चाहते थे जिम्मेदारीवश नहीं कर पाये तो अब किया जा सकता है, मन में संकल्प करे तो क्या नहीं हो सकता ? सटीक आलेख लेकिन आलेख के साथ चित्र कुछ बेबूझ सा लग रहा है :) !

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे …
      अपना अपना प्लान है :)

      ( सन्देश खुश रहने का है )

      Delete
    2. "dignified lions club" :) ??

      Delete
    3. गौरवशाली शेरो का क्लब

      Delete
    4. सुमन जी शेर को नहीं शायद अल्मारी देख कर असहज महसूस कर रही हैं :)
      अच्छी फोटो है :)

      Delete
    5. लोग खुश ही नहीं होते ?? उम्र ही ऎसी है .....:)

      Delete
  2. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
    Replies
    1. विवेक जी का कमेन्ट भूल से डिलीट हो गया है , अतः उनका कमेन्ट दुबारा दे रहा हूँ !
      Vivek ji has left a new comment on your post "रिटायरमेंट का वर्ष और अपने ही घर में वृद्ध शेरों क...":

      बहुत बहुत साधुवाद आपके संकल्प के लिए,

      Delete
    2. आभार आपका विवेक जी ,
      वृद्धों पर आपकी वेब साईट का इंतज़ार है !

      Delete
  3. शुभकामनाएँ ! उम्मीद है अवकाशप्राप्ति का बाद ब्लॉग पर सक्रियता और बढ़ेगी.
    नई पोस्ट : कुछ कहते हैं दरवाजे

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 22/03/2014 को "दर्द की बस्ती":चर्चा मंच:चर्चा अंक:1559 पर.

    ReplyDelete
  5. एक बात हमको, बिल्कुल भी नहीं भाती है,
    कि साठ की उम्र, इतनी जल्दी आ जाती है।

    कहते हैं सब लोग साठ में सठियाने लगते हैं ,
    पर सक्सेना जी तो अभी तक ज़वान लगते हैं।

    सरकार वफादारी का ये कैसा सिला देती है ,
    भरी ज़वानी में परमानेंट तबादला कर देती है।

    जीवन भर तो करते रहे सरकार की नौकरी ,
    अब करनी पड़ेगी घरेलु सरकार की चाकरी।

    जो रौब दफ्तर में अक्सर मारते थे सब पर ,
    अब देखते हैं किस का हुक्म चलेगा घर पर।

    शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने घाव हरे कर दिए सरकार .....

      Delete
  6. एक अँजलि भर देना चाहँगा आपके इस यज्ञ में आहुति मैं भी कभी :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हमेशा स्वागत है प्रोफ़ेसर साहब !!

      Delete
  7. शब्द आपको रिटायर नहीं करेंगे, हमें बहुत कुछ पढ़ने को और मिलेगा, सुनने को और मिलेगा।

    ReplyDelete
  8. शब्द आपको रिटायर नहीं करेंगे, हमें बहुत पढ़ने को मिलेगा, सुनने को मिलेगा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार इन मंगलकामनाओं के लिए ….

      Delete
    2. अवकाशप्राप्ति का बाद ब्लोगिग में आपकी सक्रियता बढ़ जायगी,जिससे हमे रोज कुछ नया पढने को मिलेगा,,,,!

      RECENT POST - प्यार में दर्द है.

      Delete
  9. सुविचार संप्रेषित करती पोस्ट ...आपको भविष्य के लिए मंगलकामनाएं ...!!

    ReplyDelete
  10. बनाओ बनाओ, पर इस क्लब में हम जैसों का क्या काम? रिटायर तो कभी होंगे नहीं।

    ReplyDelete
  11. रिटायरमेंट जैसा सब्द आप जैसे सृजनशील लोगों के लिये है ही नही ।

    ReplyDelete
  12. सद्प्रयास अवश्य सफल होगा ......मंगलकामनाये .....

    ReplyDelete
  13. आप और रिटायर ?अब तो आप फ़ुल-टाइम जॉब में लग रहे हैं :बहुतों का आसरा बनकर आप बहुत बड़ा काम कर रहे हैं.मुझे विश्वास है बहुते से हाथ आपके साथ हो जाएँगे .

    ReplyDelete
  14. बड़ा करूण दृश्य खींच दिया सतीश जी आपने ! लेकिन सभी वृद्ध शेरों की दशा इतनी दयनीय नहीं होती और हर पत्नी घायल शेरनी के तरह हमलावर नहीं होती ! अपने परिवार की स्वार्थपरता के शिकार हुए ऐसे पीड़ित बुजुर्गों की सहायतार्थ आप डिग्नीफाइड लायंस क्लब की स्थापना कर रहे हैं बहुत ही नेक विचार है ! हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  15. Great thoughts! Wish you best of luck!

    ReplyDelete
  16. मुझे लगता है वृद्धावस्था आने से पहले अपना सेल्फ हेल्प ग्रुप बना लेना चाहिये...ताकि बच्चे खुल के जी सकें...नेता कभी रिटायर नहीं होता तो हम क्यूँ...काम की कमी नहीं है...अब पैसों के लिए नहीं समाज के लिये काम कीजिये...

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह !! आभार आपका

      Delete
    2. सार्थक और सकारात्मक आईडिया।

      Delete
  17. वीर तुम बढ़े चलो, धीर तुम बढ़े चलो...

    युवाओं की हर कोई बात कर रहा है...लेकिन इस मुद्दे पर कम ही लोगों का ध्यान है...सतीश भाई, आपकी जागरूकता को साधुवाद...मैं हर कदम पर आपके साथ हूं..

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर विचार ,कदम बढाइये ,काफिला बन जायेंगे !
    latest post कि आज होली है !

    ReplyDelete
  19. भाई अच्छा है गृहणियाँ अवकाश प्राप्त नहीं करती
    जब तक तेल ईंधन है चलती रहती है
    मेरे पति के पास अभी 3-4 है
    तब तक आप रोज लिख मुझे मेल कर दिया कीजिये
    बाद मे शायद मैं बूढ़ी हो जाऊँ ..... दिखे ही नहीं
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी पंक्तियाँ बढ़िया लगीं :)

      Delete
  20. सतीश जी ! कवि और कविता कभी बूढी नहीं होती । आप आजीवन ऐसे ही रहेंगे ,जैसे अभी हैं ।

    ReplyDelete
  21. ...कौन कहता है कि आप रिटायर हो रहे हैं? आपके पास तो फुल टाइम जॉब पहले से है - ब्लॉगिंग!
    इंटरनेट ने लोगों को रिटायर करना जाने कब से बंद कर दिया है!!!! :)

    दूसरे पक्ष की ओर देखें तो रिटायरमेंट को पुरुषों का मेनोपॉज भी कहा गया है! ढेरों तनाव देता है! :)
    आपसे सहानुभूति है! :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. बढिया !!
      स्वागत है आपका रवि भाई !!

      Delete
  22. उम्र भर कार्य करने के बाद रिटायरमेंट के बाद ही वह समय मिल पाता है जब व्यक्ति अपने रूचि के कार्यों को करने को स्वतंत्र है...नौकरी से रिटायर होना ज़िंदगी से रिटायर होना नहीं...

    ReplyDelete
  23. सहायकों की कमीं नहीं है, साथ हज़ारों आयेंगे !
    बूढ़े शेरों की मदद हेतु,अब हाथ हज़ारों आयेंगे !
    एक शाश्वत सत्य किन्तु आज भी बच्चे माँ बाप से प्यार करते हैं
    इसमे कोई संदेह नहीं एक सार्थक और सचेतक लेख के लिए प्रणाम

    ReplyDelete
  24. रिटायरमेंट आपको एक अवसर देता है उन मनभावन कामों को करने का जिन्हें आप अब तक नौकरी की व्यस्तता के कारण नहीं कर पाए थे बशर्ते कि आप शारीरिक रूप से स्वस्थ हों और आपके ऊपर जिम्मेदारियों का बोझ बाकी न रह गया हो तथा समयबद्ध योजनाएं बनाकर उन्हें सेवानिवृत्ति के पहले अंजाम दे दिया गया हो. शुभकामनाएं इस अभिलाषा के साथ कि आप इस अवसर का पूरा-पूरा लाभ उठाने में समर्थ हों!

    ReplyDelete
  25. Nana...very touchy and emotional post...I like the idea of club...would like to help in any and every manner ...love you nana..:)..:)

    ReplyDelete
  26. Nana...very touchy and emotional post...I like the idea of club for elderly people..would like to be a part and help in any and every way...love you nana..:)..:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. मुझे मालूम है कि तू २ साल की थी जबसे नाना को बहुत प्यार करती है मोटू !!

      Delete
  27. Replies
    1. स्वागत है आपका मगर झिझक क्यों गए टाइगर :)

      Delete
  28. अब आया ऊंट पहाड के नीचे.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  29. यह एक चुनौतीपूर्ण सामजिक मुद्दा है और आपकी पहल आश्वस्ति दायक है!
    नाम सिंपल रखें -जैसे सीनियर सिटीजन वेलफेयर असोसिएशन , एज्ड पीपुल्स पैराडाइज ,बुजुर्ग कल्याण केंद्र आदि

    ReplyDelete
  30. bahut khoob satish ji . waah kuch aisi baat ho to dil khush ho jaata hai
    dushant ji ka sher yaad aa raha hai .
    ek pathar to tabiyat se uchhalao yaaro, aasman me suraakh ho jaayenga
    bahut badhayi satish ji

    ReplyDelete
    Replies
    1. विजय भाई स्वागत है आपका यहाँ ,
      आपकी, मुक्त सरल हृदय प्रशंसा, मनभावन है ,ऐसे कवि बहुत कम हैं जो खुद की मजबूत कलम के नवजूद दूसरों की मुक्त प्रशंसा करें ! आपका प्यार बना रहे आपको निराश नहीं करूंगा !!

      Delete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,