Saturday, May 31, 2014

जाने कैसी नज़र लगी,खलिहानों को !-सतीश सक्सेना

मूरख जनता चुन लेती धनवानों को !
बाद में रोती, रोटी और मकानों को !

रामलीला मैदान में,भारी भीड़ जुटी,
आस लगाए सुनती,महिमावानों को !

काली दाढ़ी , आँख दबाये , मुस्कायें ,
अब तो जल्दी पंख लगें,अरमानों को !

रक्तबीज  शुक्राचार्यों  के , पनप रहे 
निंदा, नहीं सुनायी देती , कानों को !

दद्दा , ताऊ  कितने, गुमसुम रहते हैं !
जाने कैसी नज़र लगी,खलिहानों को !



नोट :  यह रचना आज जयपुर में छपी , बताने के लिए संतोष त्रिवेदी का आभार 
http://dailynewsnetwork.epapr.in/283149/Daily-news/04-06-2014#page/8/2 

22 comments:


  1. काली दाढ़ी , आँख दबाये , मुस्कायें ,
    अब तो जल्दी पंख लगें,अरमानों को !

    दद्दा , ताऊ कितने, गुमसुम रहते हैं !
    जाने कैसी नज़र लगी,खलिहानों को !

    देर से आये , पर मन में विश्वास लिए !
    रखा तो होगा,तुमने कुछ वरदानों को !

    काली दाढ़ी , आँख दबाये , मुस्कायें ,
    अब तो जल्दी पंख लगें,अरमानों को !

    दद्दा , ताऊ कितने, गुमसुम रहते हैं !
    जाने कैसी नज़र लगी,खलिहानों को !

    देर से आये , पर मन में विश्वास लिए !
    रखा तो होगा,तुमने कुछ वरदानों को !

    वाह ! सतीश जी थप्पड़ भी मार दिया और गाल को सहला भी दिया -बहुत बढ़िया
    New post मोदी सरकार की प्रथामिकता क्या है ?
    new post ग्रीष्म ऋतू !

    ReplyDelete
  2. रक्तबीज शुक्राचार्यों के , पनप रहे
    निंदा, नहीं सुनायी देती , कानों को !

    कमाल की रचना....
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. गज़ब कटाक्ष...

    ReplyDelete
  4. काली दाढ़ी , आँख दबाये , मुस्कायें ,
    अब तो जल्दी पंख लगें,अरमानों को !
    यह बहुत खूब कहा है, सटीक रचना !

    ReplyDelete
  5. रक्तबीज शुक्राचार्यों के , पनप रहे
    निंदा, नहीं सुनायी देती , कानों को ...

    वाह ... व्यंग की धार कमाल है ... लाजवाब अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  6. Truly the public is deceived at the hands of cheaters. Let it once more try with its aspirations. Good luck!

    ReplyDelete
  7. शुक्राचार्य और रक्तबीज प्रयोग बहुत अर्थपूर्ण हैं !

    ReplyDelete
  8. रक्तबीज शुक्राचार्यों के , पनप रहे

    bahut sundar

    abhaar

    ReplyDelete
  9. आपके लिए जान हाजिर है साहब

    ReplyDelete
  10. सटीक अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  11. ईश्वर ने कुछ वरदान बचा रखे होंगे अच्छे सच्चों के लिए भी !
    बहुत शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  12. रक्तबीज शुक्राचार्यों के , पनप रहे
    निंदा, नहीं सुनायी देती , कानों को !
    नि:शब्‍द करती पंक्तियां

    ReplyDelete
  13. कटु सत्य...प्रभावी रचना

    ReplyDelete
  14. उम्दा रचना ...

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,