Monday, March 29, 2010

आपके १८ वर्षीय बच्चे का आत्म विश्वास - सतीश सक्सेना

१८ वर्ष होने के अपने मायने हैं , वयस्क होते ही कानून से कुछ अधिकार, अपने आप मिल जाते हैं ! इस उम्र तक आते आते बच्चों की अपेक्षाएं भी बढ़ी होती हैं  ! माँ बाप के उचित सहयोग से बच्चों में आत्मविश्वास और अपने बड़ों के प्रति आदर भावना विकसित होनी, स्वाभाविक होती है !


वयस्क होने से पहले बच्चों को गाड़ी चलाना सिखलाना और अपनी हैसियत से अधिक पैसे वाले परिवारों में दोस्ती के कारण ,फिजूलखर्च की आदत डलवाना, अक्सर घातक सिद्ध होता है ! घर का माहौल ऐसा रखें कि बच्चे को माँ की या पिता की अवज्ञा की आदत न पड़े !  आप बच्चे को कभी भी यह अहसास न होने दें कि आप उस पर विश्वास नहीं करते हैं  ! विश्वास करने का नतीजा आपको यह मिलेगा कि जेब में पैसे होने के बावजूद, बच्चा गलत रास्ते पर नहीं जायेगा  और पैसे बर्वाद भी नहीं करेगा  क्योंकि यह धन उसका अपना होगा !
  • वयस्क होते ही बच्चों का, पर्याप्त पैसे के साथ बैंक खाता खुलवाएं और पासबुक ,चेक बुक और डेबिट कार्ड इस उम्र में, बिना किसी रोकटोक के उसे दें ! साथ ही  हर मांह एक निश्चित जेब खर्च देते रहे जिसे वह बैंक में, जब चाहे निकालने  के अधिकार के साथ , बैंक में खुद जमा किया करे ! इस पैसे का उपयोग पर कोई बंदिश न हो !
  • गाड़ी चलाना सीखने के बाद, ड्रायविंग लायसेंस बनवा कर उसे दें यह ध्यान रहे कि आवश्यकता और तफरीह के बीच का फर्क उसे आना चाहिए ! 
  • घर की आवश्यक वस्तुओं की खरीदारी की जिम्मेवारी उसे भी शेयर  करने दें !
  • आप उसके सामने,अपने बड़ों का हमेशा सम्मान करें 1
आपके इस कदम के साथ यकीन करें आप अपने और बच्चे के मध्य एक बेहद मज़बूत रिश्ता बना पायेंगे  जिसको आज की ,तेज तूफानी हवा हिला भी न पायेगी ! 

    16 comments:

    1. आत्मविश्वास के लिये आवश्यक है ।

      ReplyDelete
    2. isase bachcho ko sahi aur galat nirayay lene ki kshamata ka bhi vikas hota hai...

      ReplyDelete
    3. छोटी छोटी पर जरूरी बातों पर आपने ध्यान दिलाया है. सही है इससे बच्चे का आत्मविश्वास बढेगा.

      ReplyDelete
    4. This comment has been removed by a blog administrator.

      ReplyDelete
    5. सही सलाह है। वैसे यह सब हम अपने बच्चों के साथ समय रहते कर चुके हैं और उस के नतीजे सही रहे हैं।

      ReplyDelete
    6. सटीक सलाह

      जीवन के रास्तो पर आप जैसे अनुभवी लोगो की समझ हम नवयुवकों का मार्गदर्शन करते रहे

      जिंदगी को आप जिस तरीके से अपनी पोस्ट्स में अक्सर लिखते हैं वो मुझे बहुत प्रभावित करता हैं

      ReplyDelete
    7. बहुत सही सलाह है ।
      ध्यान रखना चाहिए इन बातों का ।

      ReplyDelete
    8. द्विवेदी जी की बात दोहराना चाहूँगा कि
      यह सब हम अपने बच्चों के साथ समय रहते कर चुके हैं और उस के नतीजे सही रहे हैं।

      यह आवश्यक भी है

      ReplyDelete
    9. सतीश सक्सेना जी आप यह सारे गुण या अबगुण मेरे बच्चो मै पायेगे, आप मई मै खुद ही उन से मिल कर बताईयेगा, आप ने बहुत सुंदर ढंग से सही बात लिखी है.
      धन्यवाद

      ReplyDelete
    10. सही सलाह .. बच्‍चों को जिम्‍मेदार बनाया ही जाना चाहिए !!

      ReplyDelete
    11. वयस्क होते ही बच्चों का पर्याप्त पैसे के साथ बैंक खाता खुलवाएं और पासबुक ,चेक बुक और डेबिट कार्ड इस उम्र में बिना किसी रोकटोक के उसे दें ! साथ ही हर मांह एक निश्चित जेब खर्च देते रहे जिसे वह बैंक में जब चाहे निकालने के अधिकार के साथ , बैंक में खुद जमा करे ! इस पैसे का उपयोग पर कोई बंदिश न हो

      yeh salaah maanNe se pehle me dar rahi hu..lekin sab mujhse bade jab apne rev.me likh rahe hai ki unhone aisa kiya aur unke nateeje sahi rahe to man hota hai ham b apne baccho ke sath ek baar aisa kar k dekhe...

      shukriya....

      ReplyDelete
    12. @राज भाटिया,
      आपके स्नेह का आभारी हूँ अन्यथा आज के इस समय में कोई किसी के लिए अपना समय नहीं देता , अभी तक मेरी इस ट्रिप में जर्मनी आना संभव नहीं हो पा रहा ! अगर समय निकाल सका तो जर्मनी केवल आपसे मिलने आऊँगा और यह मेरी कोशिश होगी ! मैं आपको शीघ्र लिखूंगा !
      जिस घर के बड़े स्नेही हों उस घर में विष बेल जन्म नहीं ले सकती ऐसा मेरा विश्वास है !
      सादर

      @अनामिका ,
      पैसा देने का अर्थ बच्चे को यह अहसास कराना है कि आप उस की समझ पर बहुत विश्वास करते हैं , वह इस पैसे का ऐसा उपयोग नहीं करेगा जिससे उसकी माँ का दिल दुखे केवल तभी और तभी उसके हाथ में इतने अधिकार दें !
      बड़ों की भी कोई भी राय ,व्यक्ति विशेष की पात्रता पर ही निर्भर करती है ! समय, स्थान और परिस्थिति देख का फैसला करें , सिर्फ एक द्रष्टान्त पढ़कर तो बिलकुल नहीं !
      स्नेह सहित

      ReplyDelete
    13. ध्यान दिये जाने योग्य बातों पर आपने ध्यान दिलाया है. बहुत आभार आपका.

      रामराम.

      ReplyDelete
    14. आजकल बच्‍चों का आत्‍मविश्‍वास तो बढ़ा ही हुआ है। हमारे जमाने में हमारे पास डर के अलावा कुछ नहीं था और आज डर ही नहीं है। विष बेल तो उगे या नहीं लेकिन माता-पिता को सम्‍मान सहित रखने वाले बच्‍चे अवश्‍य कम होते जा रहे हैं।

      ReplyDelete
    15. सच कह रहे है आप आज की तेज़ हवा बच्चों को न हिला पाए इसके उपाय ही ढूंढते रहते हैं हम
      इस नेक सलाह के लिए आभार.आप लिख रहे हैं तो सत्यापन हो ही चुका होगा

      ReplyDelete
    16. सही कहा सतीश जी ..... बच्चों के विश्वास का रिश्ता जरूर रखना चाहिए .. ..

      ReplyDelete

    एक निवेदन !
    आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


    - सतीश सक्सेना

    Related Posts Plugin for Blogger,