Thursday, January 13, 2011

आपातकालीन स्थिति और तमाशबीन भीड़ -सतीश सक्सेना

१९८७, कनाट प्लेस का एक सिनेमा हॉल, शायद  प्लाज़ा  की एक घटना ....
                दो वर्षीया गुडिया को गोद में लेकर, बालकनी में घुस ही रहा था कि अचानक अँधेरे में एक अजीब आवाज और धुआं उठने के साथ साथ शोर,  भागो बम फट गया ...बाहर भागो ...... 
                 और लोग एक दूसरे को धक्का देते हुए, बाहर भागने लगे ! बालकनी के एक कोने से तेज धुआं निकलने से सिनेमा हॉल में आग लगने का अंदेशा , भीड़ को दौड़ाने के लिए काफी था ! 
                  तुरंत फुर्ती से, गुडिया को सबसे अंत की सीट पर बैठा कर,भागते लोगों के विपरीत, मैं धुएं की स्रोत ( भीड़ का बम ) की ओर भागा , मन में यह चिंता थी कि अगर इस सिलेंडर को तुरंत बाहर नहीं फेंका तो हॉल में धुआं भर जाने के कारण , शो रद्द न हो जाए ! अँधेरे और दम घोंटू धुएं में आँखें बंद ,टटोल कर, आखिर जमीन पर गिरा, तेजी के साथ धुआं फेंकता वह सिलेंडर उठा कर बाहर भागा !
                    बाहर खड़ी तमाशबीनों की भीड़, मुझे अपनी ओर भागते देख, मुझे रास्ता देने की वजाय मेरे आगे आगे भागने लगी ! तेज आवाज के साथ धुआं फेंकते इस सिलिंडर को , सीढियों  फलांगते हुए ,जब बाहर खुले में पटका तब गुडिया की याद आयी कि उसे अकेला हाल में बैठा कर आया  हूँ ! 
                    उत्सुक लोगों और तालियाँ  बजाते तमाशबीनो को फिर धक्का देते हुए उसी स्पीड से सीढियाँ चढ़ते हुए हाल में दुबारा पंहुचा तो बुरी तरह हांफ रहा था , मगर बेटी को उसी सीट पर पाकर जान में जान आई ! 
                  अपनी बेटी को लेकर जब बाहर आया तो लोग और सिनेमा हॉल के कर्मचारी तालियाँ बजा रहे थे  !  जब उसे गोद में लिया तो वह बहादुर लड़की बिना रोये बैठी हुई थी ! १० मिनट देर से वह शो शुरू हो पाया !
                 अक्सर किसी भी प्रकार की दुर्घटना होने पर हम लोग तमाशबीनों की भूमिका छोड़, अगर मदद के लिए पहल करें तो और लोग भी आगे आते देखे जाते हैं ! पहल कौन करे ? नाज़ुक मौकों पर ,तुरंत फैसला कर कार्यवाही न कर पाने की हमारी कमी, किसी की जान ले सकती है !

66 comments:

  1. .

    सचमुच ऐसे अनुभव जरूर बाँटने चाहिए, प्रेरणा मिलती है.
    धैर्य और बुद्धि इन विकट स्थितियों में प्रायः साथ छोड़ देते हैं.
    लेकिन आपने दोनों को साथ रखा और एक बड़ी दुर्घटना होने से बचा लिया,
    हिम्मत को सराहने से अधिक इस पूरे वाकया से सीख ले रहा हूँ.

    .

    ReplyDelete
  2. समर शेष है, नहीं पाप का भागी केवल व्याध,
    जो तटस्थ हैं, समय लिखेगा उनके भी अपराध!


    तटस्थता के तटबधं जीवन के हर आयाम में तोड़े बिना हम एक स्वस्थ समाज नहीं बना सकेंगें।

    सवाल यह भी है कि हर बार श्री सतीश सक्सेना जैसे जीवट वाले लोग आगे बढ़्कर जलता हुआ सिलेंडर बाहर कब तक फैकेंगे?

    दूसरा सवाल यह भी है कि समाज की तटस्थता के कारण ही सिनेमा हाल की सुरक्षा व्यवस्था घास चरने गयी हुयी थी। और सुविधाभोगिता का इससे बढ़्कर उदाहरण क्या होगा कि न सतीश जी को किसी ने धन्यवाद दिया, न उन सिनेमा मालिकों के खिलाफ रपट लिखायी कि उन्होने जनता की जान जोखिम में डाली?
    यही कारण है कि इसके लगभग दस साल बाद साकेत के उपहार सिनेमा हाल में भीषण अग्नि कांड हुया!

    ReplyDelete
  3. आपकी हिम्मत की दाद देनी पडेगी और बुद्धि की भी जो उस वक्त इतनी समझदारी से काम लिया।

    ReplyDelete

  4. प्रतुल वशिष्ठ और संवेदना के स्वर की टिप्पणियों ने इस लेख को सम्पूर्णता प्रदान कर दी !

    लेखन के उद्देश्य को समझ अगर एक भी मन उद्वेलित हो जाए तो लेखन सार्थक और मेहनत सफल हो जाती है !

    मैं आभारी हूँ चैतन्य आलोक और प्रतुल वशिष्ठ का कि उन्होंने इसके मंतव्य को उभारने में मदद की !

    ReplyDelete
  5. The presence of mind in you is tremendous. A personality figure like you , not even bothering about your own daughter.... saved a lot of ppl.You are indeed a Gr8 person & a good soul & human. Thanks to this blog to you introduce to us.

    ReplyDelete
  6. प्रेरणादायक संस्मरण ...

    ReplyDelete
  7. इस कलयुगी समाज मै सुकर्मों का मूल्य कोई नहीं आंकता , यंहा तो आदमी सिर्फ अपने लिए जिए जा रहा है , कुछ आप जैसे लोगों की वजह से समाज मै नैतिकता का अंश विद्यमान है | हो सकता है कुछ लोगों के दिलों मै इस घटना से नैतिकता का जन्म हो | धन्यवाद ............

    ReplyDelete
  8. परिस्थितियां जब विकट होती है, इसी समय विवेक का जाग्रत रहना दुर्लभ है। बुद्धि जब धेर्य से काम ले तो ऐसे जीवट भरे कार्य सम्भव है।

    इस पूरी घटना से यही सीखना है, हम भीड वाला व्यवहार न करें, कुछ उपर उठकर सोचें।

    इस जीवट भरे अनुभव को प्रस्तुत करने के लिये आभार।

    ReplyDelete
  9. सलाम सलाम सलाम। आपके जज्‍बे को सलाम। गुडि़या के धीरज को भी सलाम।

    ReplyDelete
  10. सचमुच आपने जो किया वह अनुकरणीय है .लोग तो अपनी जान लेकर ऐसे भागते हैं कि रास्ते में किसे धकेल रहे हैं यह भी होश नहीं रहता.
    अभिनन्दन आपका !

    ReplyDelete
  11. सचमुच आपने जो किया वह अनुकरणीय है .लोग तो अपनी जान लेकर ऐसे भागते हैं कि रास्ते में किसे धकेल रहे हैं यह भी होश नहीं रहता.
    अभिनन्दन आपका !

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब... मैं ताली तो बजाऊँगी परन्तु इस बात के साथ कि मैं कभी उस छोर पर नहीं रहुइन्गीन जहाँ तमाशबीन होते हैं... मैं आपके और उस नन्हीं-सी जान के छोर पर रहूँगीं...
    thank you so much again to teach something very nice...

    ReplyDelete
  13. sir braeivry award ke liye aapka naam jana chaiye.

    ReplyDelete
  14. ........

    sab kuch kaha ja chuka hai...aisi baten kahne ki nahi apitu karne ki
    hoti hai .....

    a gr8 sallute to you bhaijee..

    pranam.

    ReplyDelete
  15. बहुत साहस का कार्य किया था आपने। अपनी नन्‍हीं सी बेटी को उस भीड़ में बैठाकर आपात धर्म निबाहना किसी के भी बस का नहीं होता। आपको मेरा सेल्‍यूट।

    ReplyDelete
  16. सतीश जी,

    ऐसी स्थिति में जहाँ लोग केवल अपनी और अपनों की जान बचाने की फ़िक्र करते हैं वहां आपने अपनी दो वर्ष की छोटी बच्ची को अकेला छोड़कर लोगों के लिए अपनी जान की बाज़ी लगा दी , वास्तव में अनुकरणीय है !
    मानवता की डूबती साँसों को आपने प्राणवान किया है !
    हमें आप पर नाज़ है !

    सार्थक एवं प्रेरणादायक पोस्ट !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  17. मकर संक्राति ,तिल संक्रांत ,ओणम,घुगुतिया , बिहू ,लोहड़ी ,पोंगल एवं पतंग पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं........

    ReplyDelete
  18. बेहद हिम्मती घटना का प्रसंग । भीड को तो ऐसे अवसरों पर हम प्रायः ऐसी भूमिका में ही देख पाते हैं । श्री सुज्ञजी की यह सोच कि-
    इस पूरी घटना से यही सीखना है, हम भीड वाला व्यवहार न करें, कुछ उपर उठकर सोचें।
    वास्तव में अपनाये जाने की आवश्यकता है ।
    मेरे लेख पर आपके लिये रिटिप्पणी भी मैंने छोडी हुई है । धन्यवाद...

    ReplyDelete
  19. आपका साहस, बिटिया का पिता पर विश्वास अनुकरणीय है। काश, भीड़ भी थोड़ा धैर्य धर लेती।

    ReplyDelete
  20. @ पूजा,
    शाबाश ....यह अनुकरणीय होगा बहुत सी लडकियों के लिए ! अरे हाँ ! वह " नन्ही सी जान " अब तुम्हारी उम्र की है और एक कंपनी में मैनेजर है
    :-)

    ReplyDelete
  21. आपने समझदारी , हिम्मत और बुद्धि से काम किया....
    वह अनुकरणीय है..... अनुभव को प्रस्तुत करने के लिये.... आपको हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  22. आप एक अच्छे गीतकार के साथ ही एक बेहतरीन नागरिक और इंसान भी हैं यह सिद्ध कर दिया आपने.
    आपकी बेटी भी जाहिर है आपपर ही गई है बहादुरी और समझदारी में.
    आज आपकी नन्ही सी जान बहुत गर्व करती होगी आप पर
    इतना प्रेरक संस्मरण बांटने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  23. आपकी हिम्मत को दाद देनी पड़ेगी..बहुत प्रेरणादायक संस्मरण..

    ReplyDelete
  24. आपकी हिम्मत प्रशंसनीय है, ऐसे वक्त मे तो लोग सिर्फ अपनी जान बचाने मे लग जाते है।

    ReplyDelete
  25. yahi jawani ka josh aur jagba hota hai------

    ReplyDelete
  26. काश हम सब ऎसा करे तो भारत मे हादसो की संख्या कितनी कम हो जाये, धन्यवाद

    ReplyDelete
  27. अचानक आपातकाल में व्यक्ति का मूल प्रकट हो जाता है . कुछ गुण व्यक्ति के पास जन्म से ही होते है और वही उस का मूल स्वभाव होता है . आप के मूल में अदभुद साहस का गुण है जो उस वक्त प्रकट हो गया .बाकि अपने मूल से अनुसार डर कर भाग रहे थे .

    ReplyDelete
  28. wakai aapki himmat & presence of mind ki dad deni hogi...aise samay me apne bachhe ko akele chhod kar yah karya karna sachmuch veerta ka karya hai...

    ReplyDelete
  29. आपकी हिम्मत की दाद देनी पडेगी| सचमुच आपने जो किया वह अनुकरणीय है| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  30. आपको एक जोरदार सैल्यूट पैर बजा कर, फौजियों वाला

    प्रणाम

    ReplyDelete
  31. बहुत प्रेरणादायक प्रसंग. ऐसे प्रसंग मनुष्य को याद दिलाते रहते हैं कि विपत्ति के समय धैर्य से काम लेना कितना आवश्यक है.

    ReplyDelete
  32. कमाल की हिम्मत दिखाई है आपने ... इतना presence of mind किसी किसी में ही होता है ... आपके जज़्बे को सलाम ... शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  33. रैड एंड ब्लैक पहनने वालों की बात ही कुछ और है ।
    मियां डैशिंग लग रहे हो ।

    बहुत प्रेरणात्मक प्रसंग ।
    आपकी बहादुरी को सलाम ।

    ReplyDelete
  34. जय श्री कृष्ण...आप बहुत अच्छा लिखतें हैं...वाकई.... आशा हैं आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा....!!

    ReplyDelete
  35. रोमांचकारी घटना
    प्रेरणा देती हुई भी. हम दुर्घटना की आशंका से भागने की कोशिश करते तो हैं पर दुर्घटना को रोकने का प्रयास नही करते

    ReplyDelete
  36. aapki himmat ko salaam jo auro ke liye prerna de rahi hai.

    hamara blog apka intzar kar raha hai.

    ReplyDelete
  37. आपके जज़्बे को और आपकी बहादुर बेटी को सलाम ! मैं भी ऐसे समय पर भरसक कोशिश करती हूँ कि अपनी जान बचाकर भागने की जगह आपकी ही तरह दुर्घटना रोक सकूँ या कुछ लोगों की मदद कर सकूँ.

    ReplyDelete
  38. आपकी हिम्मत सर जी !!
    प्रेरक संस्मरण बांटने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  39. आपको और आपके परिवार को मकर संक्रांति के पर्व की ढेरों शुभकामनाएँ !"

    ReplyDelete
  40. सतीश भाई,
    आपकी ज़िंदगी के फ़लसफ़े पर ये गीत बिल्कुल फिट बैठता है- अपने लिए जिए तो क्या जिए, तू जी ए दिल ज़माने के लिए...

    काश उस वक्त भी रेड एंड व्हाईट बहादुरी का पुरस्कार होता...

    आप रेड एंड व्हाईट नहीं पीते तो क्या रेड शर्ट तो पहनते हैं...डॉ दराल की तरह मेरी भी इस डैशिंग शर्ट से नज़र नहीं हट रही...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  41. समर शेष है, नहीं पाप का भागी केवल व्याध,
    जो तटस्थ हैं, समय लिखेगा उनके भी अपराध!


    तटस्थता के तटबधं जीवन के हर आयाम में तोड़े बिना हम एक स्वस्थ समाज नहीं बना सकेंगें।

    सवाल यह भी है कि हर बार श्री सतीश सक्सेना जैसे जीवट वाले लोग आगे बढ़्कर जलता हुआ सिलेंडर बाहर कब तक फैकेंगे?

    दूसरा सवाल यह भी है कि समाज की तटस्थता के कारण ही सिनेमा हाल की सुरक्षा व्यवस्था घास चरने गयी हुयी थी। और सुविधाभोगिता का इससे बढ़्कर उदाहरण क्या होगा कि न सतीश जी को किसी ने धन्यवाद दिया, न उन सिनेमा मालिकों के खिलाफ रपट लिखायी कि उन्होने जनता की जान जोखिम में डाली?
    यही कारण है कि इसके लगभग दस साल बाद साकेत के उपहार सिनेमा हाल में भीषण अग्नि कांड हुया!

    ReplyDelete
  42. सक्रांति ...लोहड़ी और पोंगल....हमारे प्यारे-प्यारे त्योंहारों की शुभकामनायें......सादर

    ReplyDelete
  43. aapke is adamya sahas ki jitni prasansa ki jaye cum haibhai satishji bahut bahut badhai

    ReplyDelete
  44. फिलहाल कम्पनी के मैनेजर की उम्र की उस नन्ही सी जान के हौसलों के स्रोत , रेड एंड ब्लेक पहनने वाले मियां डेशिंग की बात ही कुछ और है :)

    अत्यंत प्रेरक प्रसंग !

    ReplyDelete
  45. आपतकाल परखिए चारी में धरम, मित्र अरु नारी के साथ पहले नंबर पर तो धीरज ही है.

    ReplyDelete
  46. बहुत खूब! आपको तो वीरता पुरस्कार मिलना चाहिये था। खबर अखबार में छपनी चाहिये थी। ग्रेट!

    ReplyDelete

  47. @ अनूप सुकुल जी ,

    यार आपके इस कमेन्ट को मैं व्यंग्य मान लूं जिसे एक बडबोले के लिए आपने यहाँ चिपका दिया !

    इस तरह की सामान्य पहल की घटनाएं वीरता पुरस्कार की हकदार नहीं हुआ करती ...औरों ने भी तारीफें की हैं यह घटना अनुकरणीय मानी जा सकती है मगर वीरता पुरस्कार सिर्फ आप जैसे गुरु ब्लागर ही दे सकते हैं ...

    कभी कभी सीधा चलने की कोशिश भी किया करो यार !

    ReplyDelete
  48. आपका साहस,और धैर्य ने आपके व्यक्तित्व को और प्रभावी बना दिया है ,यक़ीनन जो भी आपके संपर्क में आएगा वो आपसे मिलकर जरूर खुश होगा और प्रभावित भी .

    ReplyDelete
  49. जैसी ही पहली टिप्पणी चिपकाई नेट कनेक्शन गोल हो गया और मैं दूसरी टिप्पणी पोस्ट ना कर पाया खैर अब लीजिए...

    सच्ची बात ये कि दो क्यूट बच्चों के साथ खुद भी बेहद हसीन लग रहे हो जनाब !

    ReplyDelete
  50. सतीश जी, यह घटना कुछ लोगों की एक समाज जैविक प्रवृत्ति -एलट्रूइज्म -निज प्रजाति की रक्षा के लिए किये जाने वाले आत्मोत्सर्ग का ही सुन्दर उदाहरण है -और इसे आपके व्यक्तित्व में समाविष्ट होने का अंदेशा मुझे था और आपने आज मेरे अंदेशे के सच को उजागर भी कर दिया !यह प्रवृत्ति विरले लोगों में अधिक साधिक सक्रियता से होती है और आप उनमें से एक हैं!

    ReplyDelete
  51. mere geet safal aur sakar lagen. sabhi ki bhawanaye paropakari hi honi chahiye. good memory. thank you..

    ReplyDelete
  52. मुझे बहुत अच्छा लगा..की आपने अपने कीमती समय में मुझे कुछ कहा....और मेरी भलाई के लिए कहा......स्कूल का विवरण इसलिए क्यों की कल तक मेरे पास सियाव मेरे स्कूल colege के कुछ और था नही मेरे पास बताने को...हाल ही...सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया में as a PO मेरा सेलेक्टिओं हुआ हैं....!
    में हटा दूंगी विवरण जल्दी ही.....
    आभार..
    डिम्पल राठी

    ReplyDelete
  53. मुझे बहुत अच्छा लगा..की आपने अपने कीमती समय में मुझे कुछ कहा....और मेरी भलाई के लिए कहा......स्कूल का विवरण इसलिए क्यों की कल तक मेरे पास सियाव मेरे स्कूल colege के कुछ और था नही मेरे पास बताने को...हाल ही...सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया में as a PO मेरा सेलेक्टिओं हुआ हैं....!
    में हटा दूंगी विवरण जल्दी ही.....
    आभार..
    डिम्पल राठी

    ReplyDelete
  54. Great person, great personality, Great spirit & quick think act situation., above all I liked the pic with your lil ones. without forget to mention the shirt is a eye catchy one ;)Very informative post

    ReplyDelete
  55. ऐसी विकत परिस्थिति में बिना घबराए..समय की मांग के अनुसार कार्य करना...सबके वश की बात नहीं...आप की सूझ-बूझ से इतनी बड़ी दुर्घटना टल गयी....इसके आत्मिक संतोष से बढ़कर कोई पुरस्कार क्या होगा.

    विचलित ना होने के गुण, बिटिया को आपसे ही मिले होंगे...उस छोटी सी उम्र में ही यह ज़ाहिर हो गया...आगे भी उसका यही ज़ज्बा कायम रहेगा ...शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  56. bahut prerana dayak sansmaran.......

    aaj bhee aapka AC ke chakkar me car me baithne wala sansmaran rongte khade kardeta hai....

    ine anubhavo se kaiyo ko labh milega .......

    ab bitiya kaisee hai ?

    ReplyDelete
  57. लोहड़ी,पोंगल और मकर सक्रांति उत्तरायण की ढेर सारी शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  58. बढिया अनुभव, संस्मरण के लिए आभार॥

    ReplyDelete
  59. प्रेरणादायक अनुभव सांझा करने के लिये आभार। कुछ तो सबक सीखेंगे ही हम सब।

    ReplyDelete
  60. sahi kaha......hum sab tamaashbeen hone se jyada koi bhumika kahi nahi nibhaate shaayaddddddd..................

    prernadayak lagaa...

    ReplyDelete
  61. आपात् स्थिति में अपनी जान सुरक्षित रखना भी एक चुनौती होती है। अगर वह तय हो,तो अवश्य ही सार्वजनिक हित में आगे आना चाहिए।

    ReplyDelete
  62. .
    .
    .
    सर,

    सही बोले तो दुनिया में दो तरह का आदमी होता है... एक तरह का आदमी का तादाद जियादा होता है, पर होता वो 'भीड़' है, वो 'भीड़' बन कर पैदा होता है, जीता है और भीड़ के जइसे ही मर भी जाता है... दूसरी तरह का आदमी बहुत कम मिलता है, वो 'भीड़' नहीं होता, ज्यादा कुछ हमेशाइच अपना सेफ्टी-वेफ्टी के बारे में नहीं सोचता, रिस्क लेता है और वही करता है जो मुसीबत के मौके पर 'आदमी' को करना चाहिये...कुछ लोग ऐसे आदमी को हीरो भी बोलता है...

    आप दूसरी तरह के आदमी हो...

    I salute you !



    ...

    ReplyDelete
  63. इस प्रेरक प्रसंग के लिए आभार!
    प्रणाम स्वीकारें!

    ReplyDelete
  64. कितनी साहस और सूझबूझ आपने दिखलाया---नमन आपको

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,