Saturday, January 8, 2011

प्रणय निवेदन -1 - सतीश सक्सेना

प्रथम प्यार का, प्रथम पत्र है 
लिखता, निज मृगनयनी को 
उमड़ रहे, जो भाव ह्रदय में 
अर्पित , प्रणय संगिनी को ,
इस आशा के साथ,  कि समझें  भाषा  प्रेमालाप  की ! 
प्रेयसि पहली बार  लिख रहा , चिट्ठी तुमको प्यार की !

अक्षर बन कर जनम लिया 
है , मेरे दिल के  भावों  ने  !
दवे हुए जो बरसों से थे 
लिखा उन्ही  अंगारों  ने  !  
शब्द नहीं लिखे हैं , इसमें  भाषा ह्रदयोदगार की  !
आशा है , सम्मान  करोगी, भेंट  हमारे  प्यार  की  !


तुम्हें दृष्टि  भर जिस दिन 
देखा उन सतरंगी रंगों में !
भूल गया मैं रंग पुराने ,
जितने खिले थे यादों में !
उसी समय से  पढनी सीखी , गीता अपने प्यार  की !
प्रियतम पहली बार गा रहा, मधुर रागिनी प्यार की !

अंतिम शब्द तुम्हारे ऐसे
लिखे हुए मानस पट पर

कभी नहीं मिट पाएंगे ये
जब तक जीवन है पट पर

निज मन की बतलाऊँ कैसे  ? बातें हैं  अहसास   की !
बहुत आ रही मुझे सुहासिन याद तुम्हारे  प्यार की !


(एक बेहद पुराना अप्रकाशित गीत......)अगला भाग पढ़ने के लिए प्रणय निवेदन - II पर क्लिक करें !

60 comments:

  1. आदरणीय सतीश सक्सेना जी
    नमस्कार !
    प्रथम मिलन के शब्द, स्वर्ण
    अक्षर से लिख मानसपट पर
    गूँज रहे हैं मन में अब ,
    जब पास नहीं , तुम मेरे हो !
    बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों....बेहतरीन भाव....खूबसूरत कविता...

    कमाल की लेखनी है आपकी लेखनी को नमन बधाई

    ReplyDelete
  2. @ (एक बेहद पुराना अप्रकाशित गीत.
    अजी ये अहसास कभी पुराने नहीं होते, क्या हुआ जो अप्रकाशित रह गया। यदि प्रकाशित हो जाता तो फिर क्या यह मानस पटल पर गूंजता रहता। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    फ़ुरसत में आचार्य जानकीवल्लभ शास्त्री के साथ

    ReplyDelete
  3. ..हम भी 50 साल के बुढ्ढे हो रहे हैं। हमको भी इसे पढ़कर कुछ-कुछ होता है।

    ReplyDelete
  4. प्रेमपत्र कभी पुराना नही होता, जब भी पढो वही अहसास जाग्रत होता है।
    सुन्दर कविता।
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  5. प्रथम प्यार का, प्रथम पत्र है
    लिखता, निज मृगनयनी को
    उमड़ रहे, जो भाव ह्रदय में
    अर्पित , प्रणय संगिनी को ,
    इस आशा के साथ, कि समझें भाषा प्रेमालाप की !
    प्रेयसि पहली बारलिख रहा,चिट्ठी तुमको प्यार की !

    मन को छू लेने वाला गीत है...

    ReplyDelete
  6. Satish sir!! aapka ye pranay nivedan to bahut saare ashiko ke liye meel ka pathar ban sakta hai bahut khub sir...:)

    प्रथम प्यार का, प्रथम पत्र है
    लिखता, निज मृगनयनी को
    उमड़ रहे, जो भाव ह्रदय में
    अर्पित , प्रणय संगिनी को ,
    इस आशा के साथ, कि समझें भाषा प्रेमालाप की !
    प्रेयसि पहली बारलिख रहा,चिट्ठी तुमको प्यार की !

    ReplyDelete
  7. इस गीत का एक एक शब्द दिल को छूता हुया।सच कहा मनोज जी ने ये एहसास हमेशा ही नये लगते हैं और जीवन के ऊर्जा भरते है। बधाई इस रचना के लिये।उस्ताद जी जरूर इसके लिये आपको 10 मे से 10 नम्बर देते।

    ReplyDelete
  8. यह नगीना कहाँ छिपा रखा था, प्रेम पुराना नहीं पड़ता है, रह रह कर भड़क उठता है। बहुत बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर गीत है...
    वाह...
    ऐसे गीत पढ़कर कुछ खास महसूस होता है...
    और आज जब ये इतना असरकारी है तो जब लिखा गया होगा तब तो... वाह-वाह...
    बोले तो... well-done abba...:)

    ReplyDelete
  10. वाह वाह सतीश जी…………पढकर मज़ा आ गया……………इतना लयबद्ध गीत है कि यूँ लगा कि ये रुका क्यों …………बस प्रेम का ये झरना बहता ही रहता और जाकर अपने सागर मे समा जाता……………बहुत दिनो बाद कोई इतनी प्यारी मनभावन रचना पढने को मिली……………हार्दिक आभार्।

    ReplyDelete

  11. @ पूजा,
    @well-done abba...:)

    :-((

    गन्दी बच्ची ....बड़ों से मज़ाक करती है....
    जब अब्बा तुम्हारी उम्र के थे तब लिखा गया था......

    ReplyDelete
  12. @ वंदना ,
    अगली पोस्ट में पूरी होगी शायद और पसंद आएगी !

    ReplyDelete
  13. @बहुत आ रही मुझे सुहासिन याद तुम्हारे प्यार की !



    सर्दी में प्रणय निवेदन ?
    सुंदर गीत

    ReplyDelete
  14. प्रथम प्यार का ही रंग तो होता है जो कोरे कागज (दिल ) पर इस कदर छा जाता है की कोई दूसरा रंग उस कागज पर चढ़ ही नहीं पाता है| अगर और रंग आता भी है तो इन्द्रधनुष के समान होता है जो लुभावना और
    छणिक होता है | शायद आपका कागज अभी -भी प्रथम प्यार के रंग से ही सराबोर है और तन्हाई मै उसी रंग को निहारने का अभिलाषी है |

    ReplyDelete
  15. वाह सतीश जी ,
    ये स्मृतियाँ पुरानी होने पर और गहन हो जाती हैं ,फिर यहां तो स्वरबद्ध भावनाएं मुखरित हैं .आप दोनों की यह प्रीति सदा-सर्वदा बनी रहे और उत्तरोत्तर और प्रगाढ़ हो !

    ReplyDelete
  16. सतीश जी आप के गीतों का तो पूरा ब्लॉग जगत क़ायल है
    बहुत सुंदर !

    इस आशा के साथ, कि समझें भाषा प्रेमालाप की !
    प्रेयसि पहली बारलिख रहा,चिट्ठी तुमको प्यार की !
    वाह !

    ReplyDelete
  17. भाई अच्छा हुआ जो बता दिया कि गीत बहुत पुराना है ।
    वरना शुरूआती पंक्तियाँ पढ़कर बड़ा लफड़ा हो जाता ।

    हा हा हा ! गीत बढ़िया है भाई ।

    ReplyDelete
  18. लगे रहिये भाई साहब ... थोड़ी सी ही तो देर हुयी है ... इतना तो चलता है !

    ReplyDelete
  19. ekdam dil se nikli hui lag rahi hai.bahut sunder bhaw.

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब सतीश जी। भावनाओं को गीतों में पिरो दिया है आपने।

    ReplyDelete
  21. प्रणय गीत तो सुन्दर है, लेकिन ये तो बतायें कि लिखा किसके लिये था?? क्या भाईईईई....आप भी न..

    ReplyDelete
  22. बढिया रचना, बधाई।

    ReplyDelete
  23. खूबसूरत अहसास ,खूबसूरत भावपूर्ण गीत .
    गीत लिखा पुराना हो सकता है पर अहसास पुराने नहीं होते.

    ReplyDelete
  24. बेहतरीन गीत, बहुत दिन बाद इतना सुन्दर गीत पढ़ा है, लेकिन भैया किसके लिए लिखा था ये भी बता देते!

    ReplyDelete
  25. बेहद भड़काऊ.!

    ReplyDelete
  26. आपकी पुरानी रचना होते हुए भी श्रंगार-रस में गजब की पुख्तता है। परिपूर्णता है।

    सुकोमल अहसास ,सम्वेदनशील भाव, प्रभावशाली गीत।

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति है
    शब्द चयन के क्या कहने !!

    ReplyDelete
  28. budhape ka ishq bahut khatarnak hota hai.
    kavita aacchi hai-----

    ReplyDelete
  29. अरे वाह सतीश जी!!! बेहतरीन लिखा है सरकार!!! बहुत खूब!

    ReplyDelete
  30. जय हो, प्रेम सदा जीवित रहे।

    ReplyDelete
  31. सुन्दर भाव प्रवण गीत . शब्दों में आपने भावनाओ को उड़ेल दिया है .

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर प्रस्तुति बड़े भैय्या ... आभार

    ReplyDelete
  33. सतीश भाई यह तो ठीक है कि अप्रकाशित है(वह भी अब नहीं रहा),पर यह तो बताएं कि क्‍या अप्रसारित भी है। जिसके लिए लिखा गया उस तक पहुंचा कि नहीं। अपन ने भी बहुत पापड़ बेले इसके लिए। पहले गीत लिखा, फिर जिस तक पहुंचाना था उसके लिए जुगत लगाई।
    *
    बहरहाल यादें ताजा हो गईं।

    ReplyDelete
  34. इस आशा के साथ, कि समझें भाषा प्रेमालाप की !
    प्रेयसि पहली बारलिख रहा,चिट्ठी तुमको प्यार की !

    मन की यादें...सदाबहार.

    ReplyDelete
  35. प्रेम है, प्रेम है, पिया मन की मधुर इक भावना,
    अनुभूति, प्यास में डूबी हुई इक कामना...

    धर्मेंद्र-हेमा मालिनी की फिल्म दिल्लगी के एक गीत का मुखड़ा है...कभी यू-ट्यूब पर सुनिएगा, बहुत अच्छा लगेगा...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  36. Bhai saheb kuch to ham logo ke liye chhod dijiye. ab aap bhi naa aisi umra main ...................

    ReplyDelete

  37. @ तारकेश्वर गिरी ,
    येल्लो...कल्लो बात ......
    यह जो बोल रहे हो न मियां ...धुंआ निकलता साफ़ नज़र आ रहा है ! हिन्दू संयुक्त परिवारों की यही ख़ास बात है :-(

    बड़े भाई ने अगर ढंग से अपनी जवानी के दिनों के कपडे पहन लिए तो आँगन में निकलते ही ...छोटे भाइयों और बहुओं में खुसुर पुसुर शुरू हो जाती है ....

    मगर हम भी परवाह करने वालों में से नहीं हैं ! अब यह नहीं चलेगा कि हमें घर में पंडित जी के साथ शगुन निकालने के लिए बैठा कर, तुम चले जाओ मेला घूमने :-)

    ReplyDelete
  38. @ तारकेश्वर गिरी ,
    येल्लो...कल्लो बात ......
    यह जो बोल रहे हो न मियां ...धुंआ निकलता साफ़ नज़र आ रहा है ! हिन्दू संयुक्त परिवारों की यही ख़ास बात है :-(

    बड़े भाई ने अगर ढंग से अपनी जवानी के दिनों के कपडे पहन लिए तो आँगन में निकलते ही ...छोटे भाइयों और बहुओं में खुसुर पुसुर शुरू हो जाती है ....

    मगर हम भी परवाह करने वालों में से नहीं हैं ! अब यह नहीं चलेगा कि हमें घर में पंडित जी के साथ शगुन निकालने के लिए बैठा कर, तुम चले जाओ मेला घूमने :-)



    हा हा हा हा.. बिलकुल सही कह रहे सतीश जी....

    ReplyDelete
  39. इतना स्नेहिल प्रणय-निवेदन । मन झंकॄत हो गया ।

    ReplyDelete
  40. सुंदर और मधुर प्रणय गीत

    ReplyDelete
  41. भाई जी,
    सिद्ध कर दिया कि हो आप भी पुराने प.. पापी नहीं जी, प्रेम पुजारी:)

    ReplyDelete
  42. old is gold, sir ji, इसे पढ़कर कुछ-कुछ होता है |

    ReplyDelete
  43. इतना भी उतावला मत होइएगा.
    नहीं रहे जवानी के दिन अब आप के.

    ReplyDelete
  44. इतना भी उतावला मत होइएगा.
    नहीं रहे जवानी के दिन अब आप के.

    ReplyDelete
  45. प्रथम प्यार का, प्रथम पत्र है
    लिखता, निज मृगनयनी को
    उमड़ रहे, जो भाव ह्रदय में
    अर्पित , प्रणय संगिनी को ...

    आपकी प्रणय संगिनी को मिल तो नहीं पाए पर आपकी रचना से लग रहा है कितनी भाग्यशाली हैं वो .... लाजवाब गीत है ...

    ReplyDelete
  46. प्रणय निवेदन लोगों को कितना प्रिय है, यह तो साफ दिख रहा है।

    ---------
    पति को वश में करने का उपाय।

    ReplyDelete
  47. बढ़िया गीत है...प्रेम रस से ओत-प्रोत...

    ReplyDelete
  48. vrshon purana to bndhuvr yh bina btaye bhilg rha tha kyon ki ab bhabhi ji smksh to aap aise himakt krne se rhe
    sundr shbd chyn v sundr rchna bdhai

    ReplyDelete
  49. आदरणीय सतीश जी
    चिर पुरातन ,चिर नवीन एहसास
    बहुत भव्य प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  50. प्रथम मिलन के शब्द, स्वर्ण
    अक्षर से लिख मानसपट पर
    गूँज रहे हैं मन में अब ,
    जब पास नहीं , तुम मेरे हो !

    प्रेम-रस से सराबोर एक अत्यंत सुंदर गीत।
    गीत तो स्वरबद्ध कर गाने लायक है।

    ReplyDelete
  51. बहुत प्यारा गीत है ... मन खुश हो गया ... धन्यवाद आपका ..

    आपको और आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  52. अक्षर से लिख मानसपट पर
    गूँज रहे हैं मन में अब ,
    जब पास नहीं , तुम मेरे हो
    बहुत सुन्दर गीत
    regards

    ReplyDelete
  53. प्रथम प्यार का, प्रथम पत्र है
    लिखता, निज मृगनयनी को
    उमड़ रहे, जो भाव ह्रदय में
    अर्पित , प्रणय संगिनी को ,
    इस आशा के साथ, कि समझें भाषा प्रेमालाप की !
    प्रेयसि पहली बारलिख रहा,चिट्ठी तुमको प्यार की !

    ओये होए ......क्या बात है सतीश जी .....
    देखिये तो देवेन्द्र जी को भी कुछ कुछ होने लगा है ......

    ReplyDelete
  54. सतीश भाई ,
    प्रणय गीत १ पढकर कुछ सवाल उट्ठे हैं ...

    निज मृगनयनी ?

    मतलब आपको बाकी की मृगनयनियों की भी पहचान थी उस जमाने में :)

    लिख कर अप्रकाशित ही रख छोड़ी थी कि उन्हें दे भी दी थी :)

    सुहासिन बोले तो ?

    ReplyDelete
  55. @ अली सय्यद !
    पहले ऐसा ही कुछ लिखो फिर बात करेंगे ....
    आ गए पंगा करने वैसे ही कुछ कमी नहीं है :-))
    :-)

    ReplyDelete
  56. प्रथम प्यार का, प्रथम पत्र है
    लिखता, निज मृगनयनी को
    उमड़ रहे, जो भाव ह्रदय में
    अर्पित , प्रणय संगिनी को ,
    इस आशा के साथ, कि समझें भाषा प्रेमालाप की !
    प्रेयसि पहली बारलिख रहा,चिट्ठी तुमको प्यार की !

    इतनी पावक अभिव्यक्ति है -
    ह्रदय के अंतस तक उतर कर ख़ुशी की लहर दे गयी

    ReplyDelete
  57. satish ji,
    bahut sunder git hai apke ........
    dusre git se pahle jo vichar likhe hai bahut badhiya hai kayam rahiye uspar, log kaya sochte hai chodiye is baat ko....rikt hruday hamesha bhare hruday se irsha karta hai .......

    ReplyDelete
  58. प्रथम प्यार का, प्रथम पत्र है
    लिखता, निज मृगनयनी को
    उमड़ रहे, जो भाव ह्रदय में
    अर्पित , प्रणय संगिनी को ---वाह--क्या मधुर अनुरोध

    ReplyDelete
  59. इस प्रेम की अभिव्यंजना सुनकर निःशब्द सा रह गया हूँ .
    और तलाश में हूँ प्रेम के अथाह सागर के बीचोबीच से किनारे की ......जिंदाबाद आदरणीय

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,