Monday, January 10, 2011

प्रणय निवेदन -II - सतीश सक्सेना

आज स्वप्न में देख तुम्हें ,
झंकार उठी वीणा फिरसे ! 
शायद जैसे तुमने मुझको 
याद किया अन्तरमन से !
जैसे तड़प उठी हो सजनी  ! 
करके यादें,  प्यार   की !
लगता पहली बार महकती, बगिया अपने प्यार की !

कैसे भूल सकी होगी तुम ? 
मिलना पहली बार का  ! 
कैसे सह पायी होगीं इस 
तरह बिछड़ना प्यार का ?
लगता कोई सखी सहेली , 
याद दिलाये, प्यार की  !
मन में उठती आज महक ये, उसी हमारे प्यार की !

कैसे प्रिये ,छिपा पाऊं यह 
प्रीति भला अपने मन में !
कैसे , किसे,  बता पाऊं 
जो टीस उठे मेरे दिल में ! 
मन में  आता है  बतला दूं , 
सबको  बातें प्यार की  !
लगता सारा गगन पढ़ रहा, पोथी अपने प्यार की !

लोग पूंछते तरह तरह  के
प्रश्न, लिए शंका मन   में ,
किसको क्या बतलाऊं कैसा 
रंग  चढ़ा ?व्याकुल मन  में ,
गली गली में  चर्चा चलती, 
सजनी अपने  प्यार  की !
लिख लिख बारम्बार फाड़ता, चिट्ठी अपने प्यार की !

Ist part of this poem is available on following link ....

http://satish-saxena.blogspot.in/2010/03/blog-post_12.html

      

62 comments:

  1. आप इस पक्ष को भी शब्दों से इतना सशक्त निभा ले जाते हैं, प्रणाम।

    ReplyDelete
  2. kyaa andaaz or kya alekhn he mere bdhe bhayi mubark ho . akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  3. अभी हाल ही में किसी कार्यक्रम में फिल्म अभिनेता धर्मेंद्र से किसी ने पूछा कि आपको अपनी जवानी के दिन याद करके कैसा लगता है? वे बोले- मेरी जवानी के दिन अभी बीते कहाँ हैं? मैं तो अभी भी १२-१५ शादियाँ कर सकता हूँ। इसके बाद जोर का ठहाका लगाया उन्होंने।

    इस ज़ज़्बे को सलाम करते हुए मैं आपके भावों को भी उसी आइने में देखता हूँ। थ्री सैल्यूट्स टु यू।

    ReplyDelete
  4. सतीश जी ,
    बहुत सुंदर रचना ,ये ख़ज़ाना कहां छिपा कर रखा था
    सच पूछिये तो ये गीत मुझे पिछले गीत से भी ज़्यादा अच्छा लगा ,इस की लयबद्धता और भावों का सुंदर शब्दों में प्रकटीकरण पाठक को बिना पूरा पढ़े हटने की इजाज़त नहीं देता
    बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
  5. सतीश जी ... ये कहना चाहूंगी की इंसान की उम्र उतनी ही होती है जितना वी महूस करता है ... kahin padha tha "its all mental" ... और प्रेम और कला की तो मुझे बिलकुल ही नहीं लगता ही कोई उम्र होती है ... वक़्त के साथ बढ़ते बढ़ते प्रेम कई ऊँचाइयों को छूता है ... जैसा की 'सुफिज्म' में या 'सूफी' रचनाओं में देखने को मिलता है ... इसमें कुछ भी गलत नहीं ... और जहां तक खुश होने ये मुस्कुराने की बात है ... कोई क्या कहेगा ये सोच कर जीना ही छोड़ दे क्या ?? ... आप हमेशा खुश रहिये दिल खोल कर हसिये ... और जो दिल कहे वो लिखिए ... हम तक पहुंचिए ... शुक्रिया इस बेहतरीन रचना के लिए ...

    ReplyDelete
  6. क्या प्रेम करने की भी कोई उम्र होती है ????
    अगर हाँ तो इस उम्र का निर्धारण किसने किया ?? प्रेम तो एक अभिव्यक्ति है जो किसी भी उम्र में कभी भी हो सकती है....ये तो एक ऐसा आचरण है जो जीवन में नित नए उल्लास रुपी रंग भरता है....

    ReplyDelete
  7. यही तो त्रासदी है हमारे समाज की, जिसको भी थोड़ा भी समान देते है उनसे आशा पाल बैठते है नैतिकता के सोपानो के उच्चतम स्तर की ................ और नैतिकता की परिभाषा भी आप ही आप घड लेतें है........................ अब किसी सजन का अपनी सजनी के लिए प्रेमोद्गार व्यक्त करना कहाँ की अनैतिकता या अशोभनीय हो गयी...............निश्चल रसभरी बड़ी प्यारी लगी आपकी दोनों रचनाएं

    ReplyDelete
  8. "सबसे बड़ा रोग, क्या कहेंगे लोग"

    पहले भी आपकी बेहतरीन रचना पढ़ी थी,
    आज फिर एक भावमयी रचना सामने है.
    आपकी लेखनी दिल को जीतने में पूर्णतयः सक्षम है. बहुत ही सुन्दर ..
    हार्दिक बधाई
    शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  9. भावनाओं, अनुभूतियो और संवेदनाओं की कोई उम्र नहीं होती।

    पुख्तता अनुभुतियों की मोहताज नहीं होती, वह तो अनुभवो से ही होती है।

    अनुभवो की याद सदा आनंद ही देती है।

    ReplyDelete
  10. kavita men vyakt sare bhaw apne hi hon yah zaroori nahin.kayee baar doosron ke bhawon ko bhi shabdon ke madyam se jeena padta hai.

    ReplyDelete
  11. likhkar bar-bar phadta,pati tere pyar ki.bahut achchhi lagi aapki kavita aur bhoomika.sahi kah rahe hain aap jeevan jeene ke liye hansna aur khush rahna bahad zaroori hai aur aap jaise shai samajhte hain vaise hi karen.mer blog par aane ke liye shukriya,aage bhi aayen aur mera utsah verdhan karen.aage se title bhi hindi me hi dekhenge,dhanyawad...

    ReplyDelete
  12. सर जी तुस्सी ग्रेट हो...
    सच बताऊँ, तो ये हर उम्र का प्रोब्लम है... लिखते वक़्त सोचते थे कि लोग पढेंगें तो क्या कहेंगें??? फ़िर अन्दर से कही से एक आवाज़ आई कि "तू तो हमेशा ही experiments में यकीन रखती है, और यहाँ खुद के लिए आई थी... तो फ़िर ये लोग???"
    फ़िर सोचा हटाओ... जो होगा देखा जाएगा...
    इसीलिए ऐसा लग रहा है जैसे इस भंवर में मैं अकेली नहीं थी... :)
    कविता बहुत प्यारी.. सही 2nd part है...

    ReplyDelete
  13. सत्य को समझना जितना मुश्किल है,साहस के साथ उसकी अभिव्यक्ति उससे भी अधिक कठिन। परतों में जीते मनुष्य की त्रासदी को आपने संक्षेप में आवाज़ दी है। शुक्रिया। गीत भी अच्छा बन पड़ा है।

    ReplyDelete
  14. ये भी अच्छी कही पर अब लोगों के कहने से क्या डरना लोग हैं तो कहेंगे ही लोगों का काम है कहना
    बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
  15. सचमुच तुस्सी बड़े ग्रेट हो. बेहतरीन रचना.

    ReplyDelete
  16. सुन्दर कविता कही आपने, पहले पहले प्यार के जैसी
    भाई साहब प्रेम की कोई उम्र नही होती,
    बल्कि मेरा मानना तो ये है कि परिपक्व उम्र का प्रेम ज्यादा परिपक्व होता है
    “प्रेम वो दवा है जो एक्सपायरी डेट के बाद भी काम करती है“

    ReplyDelete
  17. pahli baar nazren chura gaye the hum
    lekin aisa har baar nahi chalega....

    pranam

    ReplyDelete
  18. प्रेम की अनूभूति लिए बेहद सुंदर रचना .....

    ReplyDelete
  19. बहुत शानदार, गीत--बधाई---बस अन्तिम टेक में तुकान्त भिन्नता होगयी है( तेरे नाम की..).सुधर सकती है....

    ReplyDelete
  20. प्रेम उम्रजनित नहीं होता,उसके स्वरूप ज़रूर भिन्न प्रकार के होते हैं। कुंठा,हताशा और कृत्रिमता ने हमारे जीवन को ऐसा घेर रखा है कि हम बहुत अपनी मौलिकता को भी आवाज़ नहीं दे पा रहे।

    ReplyDelete
  21. chha gaye Satish sir......:)

    sabne bahut kuchh kah diya....apan to yahi kahenge....kash aise pyare bhaw hamare mann me panap paye..:)

    ReplyDelete
  22. सतीश भाई, मल्लिका पुखराज आप और हम जैसों के लिए ही गा गई हैं-

    हवा भी खुशगवार है, गुलों पे भी निखार है
    तरन्नुमें हज़ार हैं, बहार पुरबहार है,
    कहां चला है साक़िया, इधर तो लौट इधर तो आ,
    अरे ये देखता है क्या, उठा सुबू, सुबू उठा
    सुबू उठा प्याला भर, प्यार भर के दे इधर.
    चमन की सिमट कर नज़र, समां तो देख बेखबर,
    वो काली काली बदलियां, उफ्क पे हो गई अयान,
    वो इक हजुम-ए-मयकशां, है सु-ए-मयकदां रवां,
    ये क्या गुमां है बदगुमां, समझ ना मुझ को नातवां,
    ख्याल-ए-ज़ुहाद अभी कहां,
    अभी तो मैं जवां हूं,
    अभी तो मैं जवां हूं...

    वैसे उम्मीद की हद एक ये भी है-

    एक 99 साल की बड़ी बी मोबाइल स्टोर पर जाकर बोलीं...मुझे लाइफटाइम रिचार्ज कार्ड चाहिए...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  23. श्रंगार पक्ष को इतनी कुशलता से निभाना एक चुनौती भरा काम है जिसे बड़ी सुन्दरता से निभाया है आपने.

    ReplyDelete
  24. कमाल के गीत लिखते हैं आप तो.बेहद खूबसूरत.

    ReplyDelete
  25. प्रेम के बिना भी जीवन कोई जीवन है !
    बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  26. हम तो वकील हैं भाई, हमारी जवानी तो पचास पार शुरू होती है।

    ReplyDelete
  27. @ सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी ,
    आपके आने का आभार !
    @ इस्मत जैदी ,
    आपके आने से निस्संदेह हिम्मत अफजाई होती है ...आभार
    @ क्षितिजा ,
    ठीक कह रही हो ...मैं आपसे सहमत हूँ !
    @ क्रिएटिव मंच ,
    आपने पसंद किया ...अच्छा लगा !

    ReplyDelete
  28. ‘जीवन को जीने का प्रयास करें ...
    यकीन करें, जीवन के कष्ट बहुत कम लगने लगेंगे’
    सत्य वचन प्रभू :)

    ReplyDelete
  29. @ डॉ श्याम गुप्ता ,
    ध्यान दिलाने के लिए आपका आभार ! नव वर्ष की शुभकामनायें स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  30. प्रणय निवेदनो की परंपरा में एक और अमूल्य कड़ी . इत्ते लोगों ने ग्रेट लिखा है . तो मै ग्रेटेस्ट लिख लेता हूँ . इसको अतिश्योक्ति mat मान लीजियेगा .

    ReplyDelete
  31. लोग पूंछते तरह तरह के
    प्रश्न, लिए शंका मन में ,
    किसको क्या बतलाऊं कैसा
    रंग चढ़ा व्याकुल मन में ।

    एक सच्चा प्रेम गीत।

    सक्सेना जी, पाठक के मनोभावों से तादात्म्य स्थापित कर लेने वाली रचना चिरजीवी और सर्वकालिक
    होती है। इस गीत में ये गुण हैं।

    ReplyDelete
  32. is rachna ko padh kar to dil ki ek ichha ne sir uthaya ki agar aisa ho pata ki aap ke suro me, apki awaaz me ye geet aapse gate hue suna jata to kya sama bandh jata.

    me imagine karne ki koshish kar rahi hun. :)

    hatts off for this poem.

    ReplyDelete
  33. अज़ी अभी आपकी हमारी उम्र ही क्या है ।
    लगे रहो भैया । यही तो खेलने खाने के दिन हैं ।
    वो क्या कहते हैं --हाँ नहीं तो । :)

    ReplyDelete
  34. लोग पूंछते तरह तरह के
    प्रश्न, लिए शंका मन में ,
    किसको क्या बतलाऊं कैसा
    रंग चढ़ा ?व्याकुल मन में ,
    गली गली में चर्चा चलती, सजनी अपने प्यार की !
    लिख लिख बारम्बार फाड़ता , पाती अपने प्यार की !

    सतीश जी पिछली पोस्ट तो पुराणी कह सार लिया ...पर यह तो बिलकुल तरोताजा है ....
    कौन है वो .....?
    कैसे तुमने जानती है ...?
    दिल से पहचानती है ....?
    अब फाड़ने की जरुरत नहीं बस यहीं छापते रहे .....
    बात उन तक पहुँच ही जाएगी .....

    ReplyDelete
  35. सकारात्मक जीवन जीने की दिशा में आपके विचार जितने उपयोगी और स्पष्ट हैं आपकी कविताएँ अन्दर के उतने ही बालपन का सजीव चित्रण भी कर रही लगती हैं ।

    ReplyDelete
  36. द्विधा रहित हो कर वही करें जो आपको ठीक लगे .
    किसी के कहने की चिन्ता छोड़िये !

    ReplyDelete
  37. सुन्दर कविता कही आपने, पहले पहले प्यार के जैसी
    ...........बेहद खूबसूरत.

    ReplyDelete
  38. सर जी तुस्सी ग्रेट हो...
    सर जी तुस्सी ग्रेट हो...
    सर जी तुस्सी ग्रेट हो...
    सर जी तुस्सी ग्रेट हो...

    ReplyDelete
  39. kuch to log kahenge...logon ka kam hai kehna.....:)zamane ki yahi reet hai satish ji..na jane kab badlegi...
    poonam

    ReplyDelete
  40. बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ।

    ReplyDelete
  41. प्रणय निवेदन प्रथम और द्वितीय एक साथ पढ़ा.
    कविता में इस्तेमाल करने के लिए आपके पास
    शब्दों का भण्डार है. आप शब्दों के संयोजन भी
    अद्भुत तरीके से करते हैं.

    दोनों निवेदन बहुत सुन्दर लिखा है आपने.

    ReplyDelete
  42. आज स्वप्न में देख तुम्हें
    झंकार उठे वीणा के स्वर
    शायद जैसे तुमने मुझको
    याद किया अन्तरमन से !
    बहुत सुंदर रचना...बधाई ...

    ReplyDelete
  43. bahut hi sach baat likhi hain aapne apni kavita ki shuruwati panktiyon me,
    mujhe bahut bahut achhi lagi aapki bahtreen soch aur badhiprastuti ke liye hardik naman.
    poonam

    ReplyDelete
  44. दोनों निवेदनों में भावों की आधारभूमि पर शब्द खूब नाचे हैं ! अच्छे गीत लगे ! लय काबिले-तारीफ़ है !

    ReplyDelete
  45. अभिव्यक्ति का उम्र से कोई रिश्ता नहीं होना चाहिए. मन तो बड़ा नहीं होता हमारी सोच बदल जाती है लेकिन मन तो उसके अनुरुप ही जीने दिया जाय तो अच्छा है. कोई क्या कहेगा? फिर क्या जीना छोड़ दिया जाय? सब के साथ अपने मन के अनुसार जीने से ही परम सुख मिलता है.

    ReplyDelete
  46. बहुत सुन्दर रचना
    प्रेम गीत लेखन में उम्र का हस्तक्षेप तो नहीं है.

    ReplyDelete
  47. http://kriwija.blogspot.com/2011/01/blog-post.html
    अम्मा चली गयी
    बहन रेखा जी की माता जी का देहांत हो गया है .
    इस दुःख भरी घड़ी में आप भी चलें और अपने साथियों को भी सुचना दे दें .
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  48. सतीश भाई ,
    श्री एम वर्मा साहब ने उम्र के हस्तक्षेप के दायरे से सिर्फ प्रेम गीत 'लेखन' को ही बाहर किया है और उनके इस सिद्धांत से मैं भी सैद्धांतिक रूप से सहमत हूं :)

    ReplyDelete
  49. गीत सुन्दर है, बहुत सुन्दर है.

    ReplyDelete
  50. उम्र बाँध नही सकती प्रीत की सीमा रेखा को
    प्रति पल बढती जाती है , फिर रोके भी क्यो इस मन को

    बहुत सुंदर गीत लिखे आपने

    ReplyDelete
  51. आज स्वप्न में देख तुम्हें
    झंकार उठे वीणा के स्वर
    शायद जैसे तुमने मुझको
    याद किया अन्तरमन से
    क्या बात है भाई... बहुत सुन्दर गीत. अपके गीत पढ के लगता है कि आप मूलत: गीतकार ही हैं. बहुत सधे हुए और सुन्दर गीतों की रचना की है आपने.

    ReplyDelete
  52. बहुत खूब! दुआ है कि आपके सारे प्रणय निवेदन मंजूर कर लिये जायें!

    ReplyDelete
  53. आज स्वप्न में देख तुम्हें
    झंकार उठे वीणा के स्वर
    शायद जैसे तुमने मुझको
    याद किया अन्तरमन से!
    apka pranya nivedan bar-bar padhane ka dil karta hai. lagta hai jaise mere hi man ki vyatha ho.

    ReplyDelete
  54. लोग पूंछते तरह तरह के
    प्रश्न, लिए शंका मन में ,
    किसको क्या बतलाऊं कैसा
    रंग चढ़ा ?व्याकुल मन में ,
    गली गली में चर्चा चलती, सजनी अपने प्यार की !
    लिख लिख बारम्बार फाड़ता , पाती अपने प्यार की !
    PYAR KIYA TO DARNA KIYA--------

    ReplyDelete
  55. प्रेमी मन का इतना सहज चित्रण - आपकी कलम को नमन - बहुत सुंदर प्रणय गीत - बधाई तथा पढवाने के लिए आभार

    ReplyDelete
  56. बढ़िया प्रस्तुति.मकर संक्रांति पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ....

    ReplyDelete
  57. श्रृंगार रस के इतने दिललुभावने गीत--बधाई

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,