Wednesday, November 20, 2013

कैसे जाओगे यहाँ से, लेके प्यार, सजना - सतीश सक्सेना

विवाह पर गीत गाने की परम्परा, हमारे समाज में शुरू से ही है , सजधज कर मांगलिक अवसर पर महिलाओं द्वारा, ढोलक की थाप पर, यह गीत गुनगुनाइए एक बार …दूसरी बार रचना की है किसी विवाह गीत की  अगर आप पसंद करें तो सफल मानूं !
  

कैसे आये हो गली में लेके प्यार सजना ?
कैसे जाओगे यहाँ से, लेके प्यार सजना ?

सजके आये हो हमारे द्वार,खूब सजना !
कैसे जाओगे यहाँ से , ले उधार सजना ! 

फेरे डाले हैं यहाँ पे तुमने सात, सजना !
कैसे जाओगे यहाँ से, लेके हार सजना !

कसमें खायीं हैं,हमारे घर सात सजना   
कैसे दोगे तुम प्यार का, उधार सजना !

गांठें  बाँधी हैं , ननद ने , हमारी सजना !  
कैसे जाआगे छुटाके,पल्लू यार सजना !

खाना मामा ने खिलाया हमें साथ सजना !
कैसे खाओगे अकेले, अबकी बार सजना !

सारे नाचे हो गली में आके,आज सजना ! 
कैसे जाओगे गली से, ऐसे यार सजना !

यह आनंद दायक गीत अर्चना चाओजी की मधुर आवाज में सुने …  

31 comments:

  1. sundar geet.... vivah geet likhne ki parampara khatm ho gai hai.... nay samay aur sandarbh ko leke vivah geet rachiye... achha lagega...

    ReplyDelete
  2. bahut bahut achha............

    ReplyDelete
  3. इस पोस्ट की चर्चा, बृहस्पतिवार, दिनांक :- 21/11/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक - 47 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
  4. बहुत प्यारा विवाह गीत है !
    वैसे इतने सुन्दर गीत पर कुछ कहना तो नहीं चाहिए पर क्या करूँ मेरा अनुभव कहता है विवाह के भी दो पहलु होते है सुन्दर गीतों से जो शुरुवात होती है वही बाद में बेसुरे तू-तू मै-मै के कोलाहल में परिणित हो जाती है :)
    कभी गाँव में विवाह पर बहुत सुन्दर लोकगीत हुआ करते थे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये ही कटु सत्य है, ज्यादातर तू-तू मैं-मैं राग आधारित गीत ही शेष रह जाते हैं.:)

      रामराम.

      Delete
  5. बढ़िया भाव-
    उत्कृष्ट प्रस्तुति-
    आभार भाई जी-

    ReplyDelete
  6. रोचक भाव-गीत । प्रवाह-पूर्ण सुन्दर प्रस्तुति । मज़ा आ गया ।

    ReplyDelete
  7. सुन्दर गीत ... इसको कोई लयबद्ध भी कर दे तो मज़ा आ जायेगा शादियों में ...

    ReplyDelete
  8. ह्म्म! बढ़िया है ...

    ReplyDelete
  9. हम्म...औरतें सामूहिक रूप से शादी के गीत बड़े ही शौक और पसंद से गाती हैं...मगर ये तो पता ही नहीं था कि बाहर बैठे पुरुष इसे मन लगाकर बड़े ध्यान से सुनते रहते हैं:):):):)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे !!
      यह मेरी रचना है मैडम :)

      Delete
    2. सच्ची ...ये तो आपकी ही रचना है...वापस अभी पढ़ा...
      गीत बनने योग्य है...लय भाव बहुत अच्छे|

      Delete
  10. होता है होता है
    सबको पता होता है
    औरतों को भी
    सब पता होता है
    किसको कितना होता है
    प्यार ऐसा ही होता है
    कोई कहता है
    कोई नहीं कहता है
    समझना इसको
    सबके बूते का
    बिल्कुल नहीं होता है
    किये जाओ किये जाओ :)

    ReplyDelete
  11. एक समय था बारातियों को उलाहनों और तानों से खूब सुनाया जाता था...खूब सुनाया आपने...

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर गीत......

    ReplyDelete
  13. गाँवों में विवाह के अवसर पर गाली-गीत भी होते हैं ,जो समधी -पक्ष को सुनाए जाते हैं जो गाली नही स्नेह का प्रतीक माने जाते हैं । सुनकर त्यौरियाँ नही चढतीं मुस्कराहट बिखरती है । इनके लिये कवि वृन्द ने ठीक ही कहा है ---फीकी पै नीकी लगै ,कहिये समय विचारि , सबकौ मन हरषित करै ,ज्यों विवाह में गारि । आजकल फिल्मी गानों के चलते कौन पूछता है ढोलक पर गाए जाने वाले इन मधुर लोकगीतों को ...। आपका प्रयास अच्छा है ।

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर गीत

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर गीत

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर गीत

    ReplyDelete
  17. किसी समय बारातियों को ऐसी तरह खूब उलाहने सुनने को मिलते थे ..एक अलग ही मजा था उसका ..अब बहुत कम हो गया है यह ...आपने इस कड़ी में सुन्दर गीत प्रस्तुति किया ..इसके लिए धन्यवाद ....

    ReplyDelete
  18. आपकी यह सामाजिक सरोकार प्रियता अनुकरणीय और स्मरणीय है

    ReplyDelete
  19. लयबद्ध गीत रचने में आपको स्वाभाविक महारत हासिल है, बहुत सुंदर गीत.

    रामराम.

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुन्दर

    ReplyDelete
  21. भाई साहब, इस गीत को पढते हुए ढोलक की थाप बैकग्राउंड में खुद ब खुद बजने लगती है!! कमाल किया है आपने. मन झूम झूम गया!

    ReplyDelete
  22. सुन्दर गीत

    ReplyDelete
  23. वाह अर्चना जी ने तो समा ही बाद दिया ... मेरी मुराद पूरी कर दी ...

    ReplyDelete
  24. बहुत भावप्रबल गीत … अर्चना जी कि मधुर आवाज़.... बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,