Monday, June 8, 2020

बस्ती के मुकद्दर को ही जान क्या करेंगे -सतीश सक्सेना


ये कौम ही मिटी, तो वरदान क्या करेंगे !
धूर्तों से मिल रहे, ये अनुदान क्या करेंगे ?

गुंडों के राज में भी, जीना लिखा के लाये
बस्ती के मुकद्दर को ही
  जान क्या करेंगे ?

आशीष कुबेरों का, लेकर बने हैं हाकिम  
लालाओं के बनाये दरबान, क्या करेंगे ?

घुटनों पे बैठ, पगड़ी पैरों में मालिकों के !
बोतल में बंद हैं ये, मतदान क्या करेंगे ?

बेशर्म जमूरे और सच को जमीं बिछाकर
हथियार मदारी के , आह्वान क्या करेंगे !

इक दिन छटे अँधेरा विश्वास की किरण है 
जनतंत्र की व्यथा हैं, व्यवधान क्या करेंगे !

18 comments:

  1. बेशर्मी के बख्तर ओढ़े झूठ ही हथियार हैं
    सच की लाशें बिछाकर आह्वान क्या करेंगे

    हमेशा की तरह धारदार और लाजवाब्।

    ReplyDelete
    Replies
    1. गज़ब प्रोफ़ेसर ,
      बहुत बढ़िया टिप्पणी , आभार आपका !सोंचता हूँ कि पोस्ट का हिस्सा ही बना दूँ !

      Delete
    2. आपकी लेखनी है ही लाजवाब स्वत:स्फूर्त निकल पड़ते हैं भाव।

      Delete
  2. एक दिन छँटे अँधेरा ,विश्वास की किरण है , यही जनतंत्र की व्यथा भी है और सम्बल भी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत गिरिजा जी , आभार सहित

      Delete
  3. वाह! बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत आभार सहित

      Delete
  4. आशीष कुबेरों का लेकर, बने हैं हाकिम
    लालाओं के बनाये दरबान, क्या करेंगे ?
    घुटनों पे बैठ , जोड़े हैं हाथ, मालिकों के
    बोतल में बंद हैं ये, मतदान क्या करेंगे ?
    बहुत खूब हाकिमों की चाटुकारिता पर करारा व्यंग | सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत है रेनू आपका ..

      Delete
  5. बेहद सशक्त और सटीक लेखन
    सादर 🙏🏼🙏🏼

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत के साथ आभार !!

      Delete
  6. बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत के साथ आभार भाई

      Delete
  7. बोतल में बन्द हैं ये ...
    क्या बात लिखी है सर ... देश की व्यवस्था जाने कौन रफ़्तार से चल रही है ...

    ReplyDelete
  8. बेशर्म जमूरे और सच को जमीं बिछाकर
    हथियार मदारी के , आह्वान क्या करेंगे !

    इक दिन छटे अँधेरा विश्वास की किरण है
    जनतंत्र की व्यथा हैं, व्यवधान क्या करेंगे !

    बहुत सही, कभी तो वह दिन आएगा !

    ReplyDelete
  9. वाह क्या सुंदर लिखावट है सुंदर मैं अभी इस ब्लॉग को Bookmark कर रहा हूँ ,ताकि आगे भी आपकी कविता पढता रहूँ ,धन्यवाद आपका !!
    Appsguruji (आप सभी के लिए बेहतरीन आर्टिकल संग्रह) Navin Bhardwaj

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,