Tuesday, March 30, 2010

ब्लाग जगत में ऐसे लोग भी हैं - स्नेही राज भाटिया

राज भाई  !
१५ -३० मई  में  एक मित्र के साथ विएंना में, उनके बेटे के घर रहूँगा ! इन १५ दिनों यूरोप घूमने  का प्लान है , जिन जगह जाने का मन है वे प्राग , बुडापेस्ट , स्वित्ज़रलैंड , और इटली हैं  यूरेल टिकेट लेने की सोच रहे हैं ! 
क्या यह कम समय में संभव और ठीक रहेगा ?? 
मार्गदर्शन चाहिए !
सतीश सक्सेना 

नमस्कार सतीश जी,
 आप का स्वागत है युरोप मै, मै Wien से करीब ६०० कि मी दुर रहता हुं जर्मनी मै , मेरे नजदीक का शहर है Munchen (मुनिख), अगर समय हो तो मुझे भी दर्शन जरुरे देवे........

.............मेने आप के हिसाब से एक रुट बनाया है..... सब से पहले आप  Wien मै उतरे दो दिन वहां घुमे, रात को घर पर आराम करे, तीसरे दिन सुबह सवेरे चार पांच बजे वहा से रेल पकडे पराग के लिये( वियाना से पराग की दुरी सडक दुवारा २५५ कि मी) करीब ३ घंटे मै आप पराग पहुच जायेगे दो दिन यहां घुमे, दुसरे दिन शाम को यहां से रेल पकडे जर्मनी  के शहर मुनिख की, रात मेरे यहां ठहरे, दुसरे दिन मुनिख शहर की खास खास जगह मै आप को दिखा दुंगा,( पराग से मुनिख की दुरी सडक दुवारा करीब ३०० कि मी) फ़िर ५० कि मी मेरा घर))अगर आप चाहे तो  कुछ दिन मेरे यहां भी रुक सकते है, इसी दिन रात को मै आप को स्विट्रजर लेंड की रेल मै बिठा दुंगा, ......... यहां रुकना चाहे तो ठीक नही तो यहा से आगे आप बुडापेस्ट जाये, यहां भी दो से तीन दिन, फ़िर वापिस आप वियाना आ जाये...... आगे आप लिखे कि.... ओर क्या इस टिकट मै इंटर सिटी भी शामिल है या नही....अगर कुछ ज्यादा जानना हो तो मुझे फ़ोन कर ले या फ़िर गुगल पर बात कर ले, मै कल शनि वार को भारतीया समय के अनुसार रात सात बजे के बाद गुगल पर मोजूद होऊगां या मुझे मेरे मोबईल पर आप काल कर ले--- 0049-१५२५*******  या फ़िर मेल कर ले मै पुरी मदद करुंगा.
धन्यवाद सहित
राज भाटिया 


उपरोक्त बड़े पत्र  के कुछ अंश छापने का मकसद एक शानदार ,दिलदार, घर से बहुत दूर जर्मनी में बसे एक वास्तविक भारतीय का परिचय, हिन्दी ब्लाग जगत को करवाना है जिसको हम सिर्फ एक ब्लागर के रूप में पहचानते हैं ! मुझे नहीं पता कि मेरी यह "  नीरस "   पोस्ट कितने ब्लागर पसंद करेंगे , मैंने ब्लाग जगत पर बहुत कम लोग एक दूसरे का सम्मान करते देखे है और यह सम्मान भी बदले में दी गयी टिप्पणी के रूप में होता है ! आज " अतिथि कब जाओगे ""  के समय में  मुझे राज भाटिया  भारतीय संस्कृति के सही प्रतिनिधि के रूप में दिखाई पड़ रहे हैं !

मेरा राज भाटिया से सिर्फ एक बार की मुलाकात है जब अजय झा ने उनके स्वागत में  ब्लागर सम्मलेन बुलाया था , और उस मीटिंग में हम दोनों ने शायद चंद शब्द प्रयोग किये होंगे आपस में  ! मेरे यूरोप प्रवास में जर्मनी जाना शामिल ही नहीं है फिर भी जिस आत्मीयता का परिचय देते हुए उन्होंने अपनी मेजवानी पेश की है उससे उन्होंने वाकई मिसाल छोड़ी है हम भारतीयों के लिए !

ईश्वर राज भाटिया जैसे भारत पुत्रों  को  हर जगह सम्मान बख्शे  !

46 comments:

  1. राज भाटिया एक हीरा/हीरो व्यक्तित्व

    ReplyDelete
  2. Bharat se door base Bhartiy log aaj bhee
    " Atithi Devo Bhav " yehee yaad rakh ker
    jee rahe hain .

    Raj bhai ne aapko sahee marg darshan diya aur Swagat kiya -

    Asha hai aap ki yatra yaadgaar aur shaandar rahegee.

    ReplyDelete
  3. सतीश भाई,

    ये बहुत ज़रूरी पोस्ट थी। नीरस वाली बात तो बेमानी है ही। रिश्ता ज़रूरी है। परदेश में तो भारतीयता ही रिश्ते का पर्याय है। राजजी ने खुलेदिल से अपने भारतीय होने का परिचय दिया है। उनका जज्बा जबर्दस्त है। ब्लागिंग का रिश्ता अब एक ऐसा नया आयाम है कि किसी शहर में वहां के ब्लागर से मुलाकात हो जाती है पर उसी शहर के वासी किसी परिजन से मिलना नहीं हो पाता।

    अच्छी पोस्ट। आपको यात्रा की अग्रिम शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  4. nice..............................

    ReplyDelete
  5. जो भारत से बाहर विदेश में रहने लगे .. जिन्‍होने दूसरों की जीवनशैली को नजदीक से देखा .. वे भारतीय संस्‍कृति को महत्‍व देते हैं .. उसके विपरीत भारतवर्ष में रहनेवाले ही भारतीय सभ्‍यता और संस्‍कृति में कमियां ढूंढते हुए .. हिंदी बोलने तक में शर्म .. और विदेशियों के अच्‍छे संस्‍कारों का नहीं .. बुरी आदतों का नकल करते हैं .. राज भाटिया जी का पत्र छापकर आपने बहुत अच्‍छा किया है .. सुखद यात्रा के लिए आपको शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  6. जब पहली बार उनसे मुलाकात हुई थी तो हमने भी उनमें यही आत्मीयतापन, स्नेही भाव पाया...भाटिया जी वाकई एक सच्चे भारतीय और शानदार व्यक्तित्व के इन्सान हैं...
    आपकी यात्रा मंगलमय हो! शुभकामनाऎँ!!!

    ReplyDelete
  7. भाटिया जी बहुत ही बढ़िया इंसान हैं....
    ब्लोगिंग ने समान रुचियों वाले लोगों को एक साथ जोड़ने का ऐसा काम किया है जिसके बारे में कुछ वर्ष पहले कभी सपने में भी नहीं सोचा जा सकता था

    ReplyDelete
  8. राज जी के बारे में जो चित्र मन में बना था, उसे इस पत्र ने एकदम सही साबित कर दिया है।

    प्रभु करे कि इस तरह के सहस्रों महामनस्क इस दुनियां में अवतरित हों!!

    सस्नेह -- शास्त्री

    हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है.
    हर महीने कम से कम एक हिन्दी पुस्तक खरीदें !
    मैं और आप नहीं तो क्या विदेशी लोग हिन्दी
    लेखकों को प्रोत्साहन देंगे ??

    http://www.Sarathi.info

    ReplyDelete
  9. राज भाटिया जी को प्रणाम!! उनका निमंत्रण हमारे पास भी था मगर पड़ोस से लौटना पड़ा..(यूके से):)

    आपकी यात्रा मंगलमय हो. किस्से सुनने का इन्तजार रहेगा यूरोप यात्रा के.

    ReplyDelete
  10. लो जी, कल्लो बात. भाटिया जी कब से विदेशी हो गये? हमसे तो ऐसे ही बाते करते हैं जैसे रोहतक में बैठे हों. कभी लगता ही नही कि वो बाहर हैं. एक दम देशी आदमी और देशी मिजाज.

    आप तो उनसे जरूर मिलकर आना जी. और हमारी तरफ़ से भी गले मिल लेना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. राज भाटिया जी तो हैं ही धनी अपनेपन के
    आप का व्‍यक्तित्‍व भी कम नहीं है
    सिर्फ नाम में ही नहीं ईश है
    होता तो सबके मन में ईश्‍वर है
    वो किस किसके सामने आता है
    हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग में वो सबके पास है
    यही राज बना खास है।

    यहां तो हर टिप्‍पणीकार खास है
    मेरा तो यही मानना है।
    फिर किसी को तो लोहा होना ही होगा
    अगर चाहते हैं कि चुंबक हमें खींचे अपनी ओर
    चुंबक से चिपककर लोहा भी चुंबक कैसे न होगा
    हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग चुंबक और हम लोहे हैं
    लोहे से चुंबकीयत्‍व की ओर सफर जारी है
    हम तो आप सबके आभारी हैं।

    ReplyDelete
  12. बहुत ज़रूरी पोस्ट. यात्रा के लिये शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  13. सतीश जी आप ने तो खाम्खां मै मुझे मान दिया, अजी यह तो मेरा फ़र्ज बनता है कि अपने भारतिया भाई का स्वागत कर सकूं, बस ओर कुछ नही, वेसे जब कोई भारतिया हमे यहां मिलता है तो लगता है हमे भारत ही मिल गया हो

    आप का धन्यवाद

    ReplyDelete
  14. राज भाटिया जी की जो छवि मेरे मन में थी, उसकी पुष्टि आपकी इस पोस्ट ने कर दी है

    मुझे अफ़सोस है कि उनके हालिया भारत प्रवास के दौरान दिल्ली में उनसे मिलने का वादा करने के बावज़ूद नहीं पहुँच सका।

    खैर, अगली बार दुगुने जोश से मिलेंगे

    ReplyDelete
  15. सतीश जी , राज भाई से जब भी मिलें तो एक जादू की झप्पी हमारी ओर से लें आप जब वापस आएंगे तो आपसे गले लग कर हम अपनी झप्पी आपसे ले लेंगे । राज भाई से वो मुलाकात तो उम्र भर की सुंदर यादों में संजो के रखी हैं हमने ..शुभकामनाएं जाईये और हां फ़ोटो शोटो खूब लाईयेगा ...अरे पोस्ट बनाने के लिए और क्या

    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  16. @ राज भाटिया

    यह भी खूब कही

    आपको भारत मिलता है

    और हम जर्मनी हो आते हैं

    एक बार कनाडा भी गए थे

    दुबई भी दो बार

    जब मिले थे समीर लाल जी से

    और मीनाक्षी धन्‍वंतरी जी से

    देखी आप सबने मेरी विदेश यात्रा।


    वैसे मीनाक्षी जी कहां हैं आजकल

    काफी दिनों से दिखलाई नहीं दी हैं।

    ReplyDelete
  17. गया तो यू के भी हूं

    जब तेजिन्‍द्र शर्मा जी से मिला हूं

    कितनी याद दिलाऊं

    जब और याद आएगी

    तो फिर से टिप्‍पणी देने आऊंगा।

    ReplyDelete
  18. अच्छी पोस्ट। आपको यात्रा की अग्रिम शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  19. राज जी रहते परदेश में हैं
    पर दिल बसता देश में है।

    नेक दिल इंसान हैं जी।
    उनका हमारा प्रणाम्।

    ReplyDelete
  20. भाटिया जी के साथ लगभग डेढ़ दिन रहा हूँ। उन्हें नजदीक से जाना है। बहुत कम लोग ऐसै हो सकते हैं।

    ReplyDelete
  21. राज दादा जी बिंदास हैं खरे सोने वाला व्यक्तित्व मुझे उनसे बात करने काअ अवसर मिला सच उनका स्नेह सभी पा सकते है
    सतीष जी अहो भाग्य

    ReplyDelete
  22. खुदा मिलता है इंसां ही नहीं मिलता
    ये चीज़ है देखी कहीं कहीं मैंने

    ReplyDelete
  23. ब्लागिंग का रिश्ता अब एक ऐसा नया आयाम है कि किसी शहर में वहां के ब्लागर से मुलाकात हो जाती है पर उसी शहर के वासी किसी परिजन से मिलना नहीं हो पाता।
    इस आयाम को क्या अपन विडंबना कह सकते हैं!

    ReplyDelete
  24. Sateesh ji isme koi shaq nahin ki Raj ji ek 'golden heart' rakhne wale vyaktitva hain.. aap to ek baar mile bhi hain lekin main sirf phone par baat kar pata hoon tab bhi unhone mujhe bhi aamantrit kiya hai sath hi Visa sambandhit samasyaon ka nirakaran bhi kiya..
    Ishwar sabko unke jaisa hi banaye.

    ReplyDelete
  25. इतने दिन देश से दूर रहने के बावजूद अपने देश से और देश वासियों से इतना प्रेम राज जी के विशाल हृदय और सुंदर भावनाओं का परिचय देता है..इसमें कोई दो राय नही कि राज जी एक महान शक्सियत नही है....हम सब बहुत भाग्यशाली है जो है लोग हमारे बीच है अन्यथा लोग तो विदेश की बात छोड़ दे पास पड़ोस के शहरों में भी मेजबानी करने से कतराते है चाहे वो जीतने भी करीब हो....और राज जी का यह प्रेम देश कर दिल विभोर हो जाता है.. सतीश जी बहुत ही बढ़िया विचार प्रकट करती है आपकी यह पोस्ट और कुछ सोच रखने वालों के लिए कम से कम राज जी से कुछ सीखे लोग जिन्हे मानव से कतराने की आदत है....धन्यवाद सतीश जी

    ReplyDelete
  26. राज जी से एक ही मुलाकात हुई है । लेकिन पहली बार में ही उन्होंने दिल जीत लिया। एक नेक , सच्चे और निश्छल इंसान नज़र आये , जो आज की दुनिया में बहुत कम मिलते हैं ।
    निश्चित ही विदेशों में रहने वाले भारतीय भारत में रहने वाले भारतियों से ज्यादा भारतीय हैं।
    मैं इसका स्वाद ले चुका हूँ ।
    आपकी यात्रा मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  27. राज भाई से दो एक बार बातचीत हुई है, मुलाकात नहीं. ऐसे धनी व्यक्तित्व को नमन.

    ReplyDelete
  28. राज भाटिया जी से एक बार मुलाकात का अवसर मिला हैं
    बहुत स्नेह से गले लगा लिया था, अभी भी वो स्पर्श नहीं भुला हूँ
    सतीश जी अब तो चले ही जाईये, राज जी से मिल ही आइये
    हमारा अनुरोध हैं, बहुत आनंद मिलेगा जब आप दोनों मिलेंगे
    फिर पोस्ट्स आयेंगी पराया देश और मेरे गीत पर, हम पढ़ के आनंद लेंगे

    ReplyDelete
  29. सतीश जी, यह हमारे महान देश भारत और भारतीय संस्कृति की पहचान है. ऐसी जिंदादिली आपको और किसी देश के नागरिकों में विरले ही देखने को मिलेगी.

    मैं स्वयं भी जब अपनी पत्नी एवं बेटी के साथ यूरोप घुमने के लिए गया तो राज भाटिया जैसे ही मेरे एक मित्र मोफिज़ अहमद ने भी हमें होटल में ठहरने नहीं दिया और पुरे 7-8 दिन तक अपने घर पर ही रखा. रोजाना वह मेरे साथ मिल कर घुमने के लिए मेरा सफरनामा तैयार करते थे. यहाँ तक की अपने परिवार को साथ लेकर वह 2 दिन के लिए हमारे साथ घुमने भी गए. यकीन मानिये मुझे घर से इतनी दूर लगा ही नहीं की मैं कहीं दूर हूँ.

    ReplyDelete
  30. सतीश जी ,आप की यात्रा मंगलमय हो हमारी शुभकामनाएं आप के साथ हैं और रहेंगी

    राज भाटिया जी को उन के देशवासियों का प्रणाम पहुंचा दीजिये

    सच है कि वो अपने देश की संस्कृति का प्रतिनिधित्व
    कर रहे हैं

    ReplyDelete
  31. यही भारतीयता है। आधुनिकता और भारतीयता में यही बहुत बड़ा अन्‍तर है कि हम कहीं जाने पर परिवार ढूंढते हैं और आधुनिक लोग होटल। राज जी जैसी मानसिकता हम सब की बनी रहे बस यही कामना है।

    ReplyDelete
  32. राज भाटिया जी की जो छवि मेरे मन में थी, उसकी पुष्टि आपकी इस पोस्ट ने कर दी है...
    आपकी यात्रा मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  33. आपको शुभकामनाएं आपकी यात्रा के लिए! राज जी से जरूर मिलिएगा और लौट कर लिखियेगा कैसा रहा सफ़र?

    ReplyDelete
  34. एकदम सत्य बात कही आपने , इंसान की पहचान उसकी बातों से ही हो जाती है ! भाटिया साहब वाकई एक सह्रदय इंसान है !

    ReplyDelete
  35. भाटिया को जितना भी ब्लॉग के ज़रिए जाना है ... उनकी बेबाकी, अपनापन खींचता है अपनी तरफ ... आपने बहुत अच्छा किया इस पोस्ट को लगा कर ...वैसे यूरॉप जाते आते अगर दुबई में रुकेंगे तो मुझे भी बहुत अच्छा लगेगा .. आपका स्वागत है हमारे घर भी ...

    आपको यात्रा की शुभकामनाएं ....

    ReplyDelete
  36. @दिगम्बर नासवा,
    आभारी हैं आपके आमंत्रण के , इस पोस्ट को लिखने का मकसद पूरा हो गया ! अगर इससे कुछ लोगों के मान में भी सच्ची प्यार भावना जाग जाये तो क्या कहने !
    सादर आपका

    ReplyDelete
  37. Raaj bhaatiya har Dil ajij hain aur mere Priy hain blogari ke shuruwaati dino se.

    ReplyDelete
  38. सक्सेना जी आप की यात्रा मंगलमय हो !!

    ReplyDelete
  39. राज जी से मेरी भी पहली बार बात हुई थी तो ऐसा लगा कि मैं अपने ही परिवार में ही बात कर रहा हूँ।

    बधाई आपको राज जी से मिलने की।

    ReplyDelete
  40. राज जी दा जवाब नहीं...

    ब्लॉग परिवार के लिए मैं यूं ही नहीं कहता...

    इक दूसरे से करते हैं प्यार हम,
    इक दूसरे के लिए बेक़रार हम...

    मुझे ताज्जुब तब होता है जब राज जी जैसे व्यक्ति के भरोसे को ही भारत में एक शख्स चंद नोटों की खा़तिर तोड़ सकता है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete

  41. भाटिया साहब वाकई एक सह्रदय इंसान है यह पहले झटके में ही महसूस हो जाता है । वह दिल का करार तो हैं ही, सतीश जी आप तो..
    मेरा सलाम लेते जाना ओ उड़नखटोले वाले राही

    ReplyDelete
  42. राज भाटिया जी की जो छवि मेरे मन में थी, उसकी पुष्टि आपकी इस पोस्ट ने कर दी है

    ReplyDelete
  43. Bahut khush qismat hain aap! Raj ji ko hamara naman! Aapki yatra zaroor sukh karak banegi!Inshallah!

    ReplyDelete
  44. आपकी यात्रा शुभ हो

    ReplyDelete
  45. sateesh jee raj bhatiya jee se parichay karvane ke liye dhanyvaad......vaise unkee tippaniya doosaro ke blog par pad kar kuch had tak parichit hone ka dum hum bhar sakte hai na...? :)

    Yatra ke liye shubhkamnae........

    ReplyDelete
  46. राज भाटिया जी जैसे लोग वाकई बहुत कम हैं। उनकी इस खूबी से परिचित कराने का शुक्रिया।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,