Thursday, May 13, 2010

एक नन्हे दोस्त का आपरेशन, जिसमें मेरा साथ देने वाला कोई नहीं था - सतीश सक्सेना

                        उस दिन जब  सदा की भांति, मैं पार्क में पंहुचा तो हमेशा गेट पर पूंछ हिलाकर स्वागत करते एक दोस्त की कमी महसूस हुई ! वह एक २-३ वर्षीय कुतिया,जिसको मैं मिनी कहता था ,आज दिखाई नहीं दे रही थी ! पार्क में घुसते हुए मेरा स्वागत और जाते समय गेट तक आकर विदाई देना, उसका नित्य का नियम था सो उस दिन का क्रम टूटना मुझे कुछ चिंतित कर गया ! माली से पूंछने पर, एक झुरमुट की ओर इशारा करते हुए कहा ,लगता है वह बहुत बीमार है, शायद मर गयी हो ! जब मैं उस   के पास गया तो आँखों में छलछलाते आंसू, मृतप्राय गर्भवती मिनी वाकई बहुत दुर्दशा में थी ! मेरी तरफ दर्द से देख जैसे कह रही हो मुझे बचा लो !
                       कुत्तों की एक दोस्त संस्था ,"Friendicoes" डिफेन्स कालोनी फ्लाईओवर के नीचे कार्यरत थी , वहाँ के व्यवस्थापक गौतम को फोन लगा कर आपातकालीन सहायता की मांग की , उन्होंने तुरंत एम्बुलेंस की व्यवस्था कर भेजना स्वीकार किया ! लगभग १ घंटे इंतज़ार करने के बाद एम्बुलेंस पार्क में पंहुच चुकी थी ! चिंताजनक मिनी को अपनी गोद में उठाकर एम्बुलेंस तक ले जाते समय मुझे पार्क में बैठे लोग विचित्र नज़र से देख रहे थे ! 
                       शायद मणिपुरी की डॉ देवी, ने देखते ही कह दिया कि इसके बच्चे पेट में मर जाने के कारण, जहर फैलने का खतरा है !आपरेशन तुरंत करना होगा !ओपरेशन टेबल पर उसे बेहोशी का इंजेक्शन देते समय , जिस तरह से  मिनी मुझे देख रही थी वह मैं कभी नहीं भूल सकता ! आपरेशन के दौरान मैंने टेलीफोन पर अपने बॉस और सहकर्मियों को "मेरी एक दोस्त का आपरेशन है अतः आफिस नहीं आ सकता ...हाँ ...कुतिया सुनकर.. मेरा साथ देने कोई नहीं आया !  
                        लगभग १५ दिन मिनी उस हास्पिटल में रही , इस दोस्त के कारण , मेरा वहाँ जाना नियमित ही रहा  ! इस बीच में वहां जीवों के प्रति लगाव रखने वाले कितने ही लोगों से मुलाक़ात हुई ! हास्पिटल से मिनी को लाने के लिए मैं अपनी गाड़ी और पार्क में भ्रमण करने वाले पड़ोसी मित्र राजपाल को लेकर वहाँ पंहुचा ! गरीब मिनी जो कभी चलती गाडी में नहीं बैठी थी ,घबराहट में उसने पिछली पूरी सीट गंदी कर दी ! दुबारा गाडी लेकर हॉस्पिटल जाकर सीट साफ़ कराई, इस बीच हमारे वे मित्र अपना माथा पकड़ कर, मेरी हरकतों के साक्षी बने रहे ! बहरहाल लगभग १५ दिन अस्पताल में रहने के बाद, मिनी को जब वापस उसी पार्क में लाकर बाहर छोड़ा तो एक कोने से दूसरे कोने में उसका उछल उछल कर दौड़ते हुए देखना ,आकर मुझे चाटना,  मेरी सारी थकान, मेहनत और पैसे का खर्च भुला चुका था !
निदा फाजली का एक शेर मुझे बहुत पसंद है , आपकी नज़र कर  रहा हूँ , गौर से पढियेगा !
"घर से मस्जिद है बहुत दूर,चलो यूं करलें  
  किसी रोते हुए बच्चे को,  हंसाया  जाए  "

                                   

45 comments:

  1. Aadarneeya satishji !
    Aap insaan ke rup mei ek farishta ho. Bahut saaf aur achhe dil ke ho.Ishwar ne Aapka jeewan doosron ke leye hi banaya hai.
    Aap ka eh post ne duniya ko bata deya ki aapka jeevan ka lakshya kya hai..
    "Doosron ke leye jeena"
    Pranaam!

    ReplyDelete
  2. सच्चा दोस्त!

    ReplyDelete
  3. प्रत्‍येक जीव को
    सजीव अगर मानें
    अपने मन में
    सदा ऐसे विचार पालें
    जो ऐसे पल हर पल
    समस्‍त चेतना में पा लें।

    ReplyDelete
  4. मिनी को जब वापस उसी पार्क में लाकर बाहर छोड़ा तो एक कोने से दूसरे कोने में उसका उछल उछल कर दौड़ते हुए देखना ,आकर मुझे चाटना, मेरी सारी थकान, मेहनत और पैसे का खर्च भुला चुका था !
    बहुत संवेदनशील प्रस्तुति।

    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    ReplyDelete
  5. @Anonymous...

    कुछ दिन पहले एक "अनाम" ने मुझे एक पोस्ट जिसमें मैंने उस दिन की दिनचर्या की चर्चा करते हुए एक जरूरतमंद वृद्ध दम्पति को १०० रुपया और एक पंक्चर वाले को ३० रुपया अधिक देने की चर्चा की थी ! उन "अनाम" का कमेंट्स था की मैं १३० रुपया देकर, दुनिया को अपने महानतम कार्य बता रहा हूँ ...!

    उस कमेंट्स में मेरे प्रयास को, अपना नाम कमाने हेतु किया गया प्रयास और ब्लाग के जरिये फायदा उठाना मात्र था !

    मेरा उस पोस्ट को लिखने का उद्देश्य मंदिर न जाकर, मंदिर में खर्च होने वाले पैसे का अन्य जीवों की मदद पर लगाने का था !

    हर पोस्ट ..हर लेखक या ब्लागर अपनी अपनी समझ और उद्देश्य लेकर लिखता है ! पढने वाले भी उसमें हर अर्थ ढूँढने का प्रयास अपनी समझ के अनुरूप ही करेंगे !

    आपका कमेंट्स अपने नाम से होता तो और अच्छा लगता ! खैर आपका शुक्रिया !

    ReplyDelete
  6. मेरी तरफ दर्द से देख जैसे कह रही हो मुझे बचा लो !

    ek scha dost dost se kehta hai.....

    ReplyDelete
  7. bada nek kaam kiya aapne satish ji...par aaj to insaan ke bachche yunhi tadap tadap ke mar jaate hain...unke liye bhi kuch karne ki zarurat hai

    ReplyDelete
  8. सतीश जी
    सादर
    आपका दोस्त सकुशल है जानकर अत्यंत प्रसन्नता हुई. आपके दोस्त और आपकी दोस्ती के प्रति शुभकामनाएँ. नेक कार्य में कोई साथ दे, न दे क्या फर्क पड़ता है.

    ReplyDelete
  9. शायद इंसानियत इसी को कहते हैं सतीश भईया , आपने बहुत ही नेक काम किया है ।

    ReplyDelete
  10. @ adarneeya satishji !
    हर पोस्ट ..हर लेखक या ब्लागर अपनी अपनी समझ और उद्देश्य लेकर लिखता है ! पढने वाले भी उसमें हर अर्थ ढूँढने का प्रयास अपनी समझ के अनुरूप ही करेंगे !

    Mujhe accha laga aapje kaments padkar. apse sehmat bhi hun. Aapko aur appka har lekh se juda hun basut pasand hai lekin bahut kam kaments deta hun.
    Mere jeevan ke andhere mei rehna pasand karta hun. . Duniya ne mujhe akela kiya .Aur akelapan mujhe accha lagta hai. Isleye annoymus hun

    ReplyDelete
  11. @Anonymous... !
    लोगों के कारण अँधेरे में रहना पसंद करते हो ? क्षमा करें ,मगर मैं इसे कायरता कहूँगा ! किसी शायर का एक शेर मझे बचपन से बहुत पसंद है ...

    "हमको मिटा सके यह जमाने में दम नहीं
    हमसे ज़माना खुद है, जमाने से हम नहीं !"

    ReplyDelete
  12. कितने सह्रदय हैं आप । एक सच्चे दोस्त ौर मिनि बी ापकी दोस्ती को कभी भुलायेगी नही । आपको सलाम .

    ReplyDelete
  13. @Anonymous... !
    लोगों के कारण अँधेरे में रहना पसंद करते हो ? क्षमा करें ,मगर मैं इसे कायरता कहूँगा ! किसी शायर का एक शेर मझे बचपन से बहुत पसंद है ...
    @Aadarneeya satishji ! Mere naam se kayarta paehle se hi juda hai.Mujhe koi fark nahi padta. Accha laga aap jaise mahaan blogger ke muh se sunkar. Mera umr 50 , Ishwar ne mujhe itna kator bana diya ke aur mujhe kisi bhi prakar ka taqleef se gujarna mushkil nahi haina koi shikayat hai jeevan se...
    "हमको मिटा सके यह जमाने में दम नहीं
    हमसे ज़माना खुद है, जमाने से हम नहीं !
    ye shayar app jaise insaan ke liye hai
    shukruya

    ReplyDelete
  14. भावुक कर देने वाला आलेख ..आभार

    ReplyDelete
  15. @
    आप बहुत निराश लगते हो ...अगर दिल्ली में हैं तो मैं आपसे मिलना चाहूँगा ! मेरा नंबर ९८११०७६४५१ है !
    सादर

    ReplyDelete
  16. प्रेरक कार्य ..
    सभी आपकी तरह संवेदनशील हो जाये तो यह जग कितना सुंदर बन जाये ..

    ReplyDelete
  17. बहुत अच्छा कार्य किया । बिल्कुल ऐसी ही एक है हमारे घर में । नाम है रोमा । आजकल गुस्सा है कि हम ब्लॉगिंग करने लगे हैं । लैपटॉप को कई बार आग्नेय नेत्रों से देख चुकी है । आज सायं टहलाने ले जायेंगे । याद दिलाने का आभार ।

    ReplyDelete
  18. आपकी दोस्ती को नमस्कार
    यही तो है इबादत, पू्जा
    यही तो है दान, जकात
    यही तो है प्रेम, श्रद्धा
    यही तो है आस्तिकता, धार्मिकता

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  19. वाह! आज हमें आपके संवेदनशील ह्रदय का पता चला!

    ReplyDelete
  20. सतीश भाई,

    मैं सुबह पार्क में आकर आपकी दोस्त से मिलना चाहूंगा...

    आपके इस लेख ने पाबला जी के घर की एक बेज़ुबान सदस्य की याद दिला दी जो अब इस दुनिया में नहीं है...पाबला जी ने पिछले साल दीवाली के पास उसके दुनिया से अलविदा कहने पर बड़ी ही मार्मिक श्रद्धांजलि दी थी...पटाखों के शोर ने उस बेज़ुबान की जान ली थी...उस लेख की एक लाइन मुझे भुलाए नहीं भूलती...उस बेज़ुबान ने आसमान पर उड़ते विमान को इस तरह देखा जैसे कह रही हो कि इनसान तूने उड़ना तो सीख लिया लेकिन सभ्य होना नहीं सीखा...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  21. आपके दोस्त के स्वास्थ्य के लिये मंगलकामनायें।

    ReplyDelete
  22. बहुत सुंदर काम किया, पुजा से बढ कर. आप का धन्यवाद

    ReplyDelete
  23. बहुत खूब सतीश जी एक बहुत प्रशंसनीय कार्य किया आपने. मानवता तो यही कहती है जो आपने किया
    आभार

    ReplyDelete
  24. इस वाकये से आपके संवेदनशील हृदय का पता चलता है।
    बहुत कम लोग ऐसा कर पाएंगे ।

    ReplyDelete
  25. पता नहीं क्यों कहीं न कहीं खुद को आपके बहुत करीब पाता हूँ.. यानि अपना सा

    ReplyDelete
  26. मानव सम्वेदना का एक सुंदर उदाहरण है यह पोस्ट |
    बहुत अच्छा लगा |
    आशा

    ReplyDelete
  27. satishjee lagata hai meree nazar parkhee nazar hai.............aapke vyktitv ne sabit jo kar diya.
    badee hoo aapse dero aasheesh dene ka man ho aaya hai ..........
    doosaro ko khushee dene me hee asalee khushee chipee hotee hai jeevan kee .
    Happy journey.......
    paraso nikal rahe hai na aap Europe trip par ?
    hum log bhee 2 wks ke liye Australia kal nikal rahe hai
    laptop soch rahee hoo sath na le jau .
    Holiday should be holiday .

    ReplyDelete
  28. सच्चे अर्थों में परमात्मा की सेवा!!!

    ReplyDelete
  29. true friend
    and like the last 2 lines of sher

    ReplyDelete
  30. बेजुबान प्राणी, वाणी से नहीं आँखों से
    बात करते हैं। आँखों भाषा को बांच
    पाना सबके वश की बात नहीं होती।
    मारने वाले से बचाने वाले का क़द सदैव
    बड़ा होता है। जीव मात्र के लिए
    आपके द्वारा दिखाई गई करुणा अद्वैत का
    परिचायक है। इस सदाचरण के लिए आपको
    बहुत...बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  31. जिस तरह से मिनी मुझे देख रही थी वह मैं कभी नहीं भूल सकता!

    आह :-(

    आपने डेज़ी की याद दिला दी मुझे, वह भी मुझे आखिरी बार कुछ ऐसा ही देख गई थी।

    आप जैसे संवेदनशील 'प्राणी' से मिलने की ललक कुछ और बढ़ गई है

    Three cheers for Mini-Satish friendship

    ReplyDelete
  32. ए प्यार करने वाले प्यार का अंजाम देख ले, डूबते हुए सूरज की शुबहा और शाम देख ले..........................................अब आप की बारी है

    ReplyDelete
  33. सतीश भईया आपने बहुत ही नेक काम किया है इंसानियत इसी को कहते हैं ,
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिये बहुत -बहुत धन्यवाद् .

    ReplyDelete
  34. सतीशजी,
    आपके व्यतित्व की परछाई हर एक पोस्ट मैं दिख जाती है, और इस पोस्ट से भी सन्देश मिलता है की हम कुछ भी होने से पहले इंसान हैं, और दोस्ती का रिश्ता जात-पात, धर्म और तो और स्पीशीज भी नहीं देखता! आप की पोस्ट अर्थपूर्ण लेखन और अर्थपूर्ण कार्यों के लिए प्रोत्साहित करती है!

    आभार कविता...

    ReplyDelete
  35. सतीशजी,
    आपके व्यतित्व की परछाई हर एक पोस्ट मैं दिख जाती है, और इस पोस्ट से भी सन्देश मिलता है की हम कुछ भी होने से पहले इंसान हैं, और दोस्ती का रिश्ता जात-पात, धर्म और तो और स्पीशीज भी नहीं देखता! आप की पोस्ट अर्थपूर्ण लेखन और अर्थपूर्ण कार्यों के लिए प्रोत्साहित करती है!
    आभार कविता...

    ReplyDelete
  36. Hello Satish ji,

    May i have address of that hospital please, I may need for my pets in future.

    Thanks
    shweta

    ReplyDelete
    Replies
    1. i thought if you will post it on blog it will helpful to others too ...
      anyway .. please email the hospital address at coolbreeze017@gmail.com
      it will be helpful .

      thanks again .

      Delete
    2. आपने शायद ध्यान से लेख नहीं पढ़ा, यह हॉस्पिटल डिफेन्स कॉलोनी फ्लाईओवर के नीचे, Friendicoes SECA के नाम से कार्यरत है ! बहरहाल अन्य डिटेल दे रहा हूँ , आशा है आप इसका फायदा उठाएंगे !
      http://www.friendicoes.org/
      (011) 24314787, (011) 24320303 271-273, Defence Colony Flyover Market, Defence Colony, Delhi- 110024

      Delete
    3. Thanks much for given info. I read the post fully but i was searching the address in Lucknow . Now its clear ... that its in Delhi.

      Delete
  37. Its a good website ... Thanks again.

    ReplyDelete
    Replies
    1. shweta !
      कृपया भविष्य में अनाम होकर कमेंट न करें , महत्व नहीं दिया जाएगा !

      Delete
    2. Sorry to ask , But which comment did i posted as anonymous ?

      Delete
    3. I am sorry . But if i do so in future , that will be fine if it won't get published or won't be given importance.

      Thanks

      Delete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,