Friday, December 3, 2010

ये कुत्ते - सतीश सक्सेना

अगर आप अकेलापन महसूस करते हैं तो एक कुत्ता पाल लें यकीन मानिये (बशर्ते गिरिजेश राव जी से ना पूंछे  ;-) ) आपको अकेलापन नहीं खलेगा ! आदिकाल से मानव के साथ साथ रहने वाला यह परम मित्र , घर की सुरक्षा के साथ साथ, अपनी  छटी इन्द्रिय के लिए मशहूर है ! आपकी आहट यह लगभग  एक किलोमीटर से महसूस कर लेता है और यदि आप बीमार है यह घर के अन्य सदस्यों से पहले ही  महसूस कर लेगा ! आपके दुःख की छाया इसके चेहरे से कोई भी जान सकता है !
आज के समय में यह गूंगा दोस्त , प्यार की एक मिसाल है !आप शायद यकीन भी न करें मगर चित्र में आदेश मानने की मुद्रा में बैठा गूफी ,३० - ३५ लोगो के परिवार में हर किसी को भली भांति उनकी आदतों के साथ पहचानता है ! किसी को भी आपस में लड़ते देख तुरंत बीच बचाव के लिए धक्का देता है ! 
पूरे परिवार में सबसे निर्दोष और निष्छल सिर्फ यही "कुत्ता " है जो हम मानवों को स्नेह का पाठ पढ़ाने की कोशिश करता रहता है ! 

52 comments:

  1. भाई आपकी सलाह नहीं मान सकेंगे। हमें तो उन इंसानों से भी डर लगता है जो कुत्ते की तरह हरकत करते हैं। एक बात बताओं कि सारी ही कहावते कुत्तों पर ही क्‍यों बनी हैं?

    ReplyDelete
  2. मै तो हमेशा से ये ही सोचता हूँ कि किस वजह से इसे कुत्ता कहा जाता है |

    ReplyDelete
  3. आपसे सहमत. राहुल सिंह जी से हमने अर्ज किया है. वे एक पोस्ट उस कुत्ते के बारे में डालें जिसकी वजह से उनकी प्राण रक्षा हुई थी.(http://akaltara.blogspot.com)

    ReplyDelete
  4. सर,
    कुत्तें वाकई एक सबसे वफादार जानवर हैं |

    ReplyDelete
  5. सर,
    कुत्तें वाकई एक सबसे वफादार जानवर हैं |

    ReplyDelete
  6. वफादार कुत्ता बेइमान दोस्त से ज्यादा अच्छा है

    ReplyDelete
  7. सही कहा आपने...गूफी बड़ा स्मार्ट लग रहा है.

    ReplyDelete
  8. सर जी! आपके कुत्ते का नाम गूफी है? गूफी से तो हमारी पहचान कामिक्स के दिनों से है।

    पर एक बात देखी गयी है कि कुत्ते बहुत डिप्लोमैटिक होते हैं, जब भौंकते हैं तब साथ साथ पूछं भी हिलाते रहते हैं। फिर जब जैसा माहौल हुआ एडजस्ट हो जाते है, भौकने पर या पूछं हिलाने पर।

    ऐसा कहा जाता है कि अपने इसी गुण के कारण आदमजात के साथ इनका मधुर सम्बन्ध आज भी बना हुआ है।

    ReplyDelete
  9. बिलकुल सहमत हूँ ....बल्कि मैं अपने घर पर यह बोर्ड लगाने वाला हूँ -कुत्ता विद्वेषी :प्रवेश निषेधित !
    हाँ कुत्ता मालिकों की बड़ी जिम्मेदारियां भी होती हैं बिना उनके कोई भी कुता न पाले तभी अच्छा है .

    ReplyDelete
  10. बड़े स्नेहप्रिय होते हैं ये हमारे साथी।

    ReplyDelete
  11. सतीश भाई साहब, आपसे सहमत हूँ !

    ReplyDelete
  12. अच्छी लगी यह कुकुरवादिता। प्रणाम तो शिवकुमार मिश्र जोड़ देंगे! :)

    ReplyDelete
  13. सलाह बढ़िया है ,अमल में ला सकते है

    ReplyDelete
  14. सबसे निर्दोष और निश्छल कुत्ते से मिलना अच्छा लगा ...
    मगर मैंने कुत्ते पालने वालों को इंसानों से नफरत करते भी देखा है ....

    ReplyDelete
  15. bhaijee, dekhiye pahile pichla path
    ko udaharn sahit poora hone dijiye
    phir agilka path likhiyega........

    aur han aap jiski bat yahan kar rahe hain .... oos se to bandhi-ganti aur khuli-langoti ke waqt se sinajorika undurstanding raha hai.wakai ye swan-insan ka sabse bara sewak hota hai.


    pranam.

    ReplyDelete
  16. बहुत सही कहा आपने. पर जब ये बिछुडते हैं तो अनंत पीडा दे जाते हैं इसलिये अब और नही पाल सकते.

    रामराम

    ReplyDelete
  17. बहुत सही कहा आपने. पर जब ये बिछुडते हैं तो अनंत पीडा दे जाते हैं इसलिये अब और नही पाल सकते.

    रामराम

    ReplyDelete
  18. सतीश जी बहुत सही कहा आपने. कुत्ते अब आदमी से ज्यादा कहीं ना कहीं वफादार सिद्ध हो रहे है. एक सच्चा और हमदर्द दोस्त की तरह.

    ReplyDelete
  19. कुत्ता आजकल के ९०% इंसानों से अच्छा है.सुन्दर भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  20. @वाणी जी लगे हाथ उस इंसान /इंसानों का नाम भी बता दीजिये न ..व् से नहीं शुरू होता ? :)

    ReplyDelete
  21. बात आपकी सही हो सकती है .परन्तु फिर उनसे बिछड़ने की पीड़ा के डर से पालने की हिम्मत नहीं होती
    वैसे गूफी नाम बहुत प्यारा है.

    ReplyDelete
  22. निर्दोष निश्छल, आदेश मानने वाला मालिक की आदतें पहिचानने वाला झगडने वालो में बीच बचाव करने आगे आने वाला , मानव का मित्र , घर की सुरक्षा करने वाला अपने मालिक का दुख उनके चेहरे से पहिचानने वाला , ये सब गुण उसने आदमी से ले लिये इसलिये आदमी के पास तो ये गुण होने का सवाल नहीं क्योंकि वह तो सब इसने ले लिये

    ReplyDelete
  23. आपके विचारों से अवगत हुआ। मुझे उम्मीद है, इंसान अभी ज़िन्दा है अपनी इंसानियत के साथ। वैसे ब्लॉगर जब से हुआ हूं अकेलापन महसूस नहीं हुआ। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    विचार- डॉ. राजेन्द्र प्रसाद - भारतीयता के प्रतीक

    ReplyDelete
  24. सतीश जी , बाकि सब तो ठीक है । लेकिन ये चूमा चाटी वाली बात ज़रा हज़म नहीं हो रही ।

    ReplyDelete
  25. कुत्तों के साथ तो अपना बहुत पुराना याराना है :)

    ReplyDelete
  26. कुत्‍ते गलीवाले आवारा होते हैं
    गालीवाले होते हैं
    ये बेगली हैं
    लगते ये गलेवाले हैं
    गली से गले तक का सफर
    गले की गलियों को भी निखार देता है
    इसे गालियों में भी प्रयोग किया जाता है
    वफादारी में इसका कोई सानी नहीं है
    जब ये बोल रहे हों सीरीयसली
    गाली वालों की गाली गले में फंस जाती है
    सामने वाले को खूब हंसी आती है
    आओ बंधु, गोरी के गांव चलें

    ReplyDelete
  27. kutta shabd se agar aapka abhipray
    vafadar se hai to uttam vichar
    varna sochna padega

    ReplyDelete
  28. .
    .
    .
    सर जी,

    बात तो आपकी सही है... पर यह 'पालना' और 'मालिक' कहलाना अपने बस का नहीं... कोई कुत्ता स्वयं ही मुझे अपने दोस्त के रूप में adopt कर ले तो बात दूसरी होगी...

    ...

    ReplyDelete
  29. Sach me kutte bahut vafadar hote hain..... achhi post...

    ReplyDelete
  30. अकेलापन दूर करने के और भी उपाय हैं :) हमसे तो ना हो पायेगा कुत्तापालन.

    ReplyDelete
  31. सतीश भाई आप का ख्याल सही है, यह वफादार है क्यों की लालची नहीं

    ReplyDelete
  32. मैंने कुत्ते पालने वालों को इंसानों से नफरत करते भी देखा है ....

    अच्छा लेख ........

    ReplyDelete
  33. कल एक अजीब तमाशा देखने को मिला, पुरे चौदह कुत्ते एक ही के पीछे लगे हुए थे, वैशाली सेक्टर -२, के पास.

    ReplyDelete
  34. सुन्दर पोस्ट. कुत्ते वफादार होते हैं. फोटो भी बढ़िया है.

    ReplyDelete
  35. तो हम ये मान लें कि यह पोस्ट चार पैरों वालों पर ही है ? :)

    ReplyDelete
  36. बचपन में एक कुत्ते ने काट लिया था और जवानी में एक कुतिया नें , भगवान की कसम तब से कुत्तों से बहुत डर लगता है ।

    ReplyDelete
  37. हमारे पास एक डाबरमैन कुतिया थी (फिजी)
    उसके सामने मेरे पिताजी को कोई छू भी नहीं सकता था।
    फिलहाल कोई नहीं है, लेकिन जल्द ही लाना चाहता हूँ।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  38. सतीश जी, उपरोक्त सभी बातों से सहमत हूँ.... मगर सुबह पार्क में जो खानदानी लोग कुत्ता ले कर चलते हैं...... और पैदल चलने वाली पटरी पर जो ये गंदगी मचाते है.... तो समझ नहीं आता कुत्ते के मालिक को कोसूं या कुत्ते को.

    इनसे तो अच्छे वो आवारा कुत्ते लगते है ... और निवुत तो कम से कम रोड के किनारे होते है..... रोड के बीचोबीच नहीं.

    ReplyDelete
  39. Adikal se hi Kutta aur ghoda manushya ke pratham sangi rahen hain.Bahut sundar prastuti.Plz. visit my blog.

    ReplyDelete
  40. कुत्ते की वफ़ादारी का कोई सानी नहीं ...शुक्रिया

    ReplyDelete
  41. बिलकुल सही कहा है \हमारे पास भी" जूही" है पामेरियन जो १८ साल की हो चुकी है और स्नेहिल इतनी की चोर का भी स्वागत कर ले |
    बस पानी से डरती है |

    ReplyDelete
  42. कुत्‍ते इंसान से लाख गुना बेहतर होते हैं। पर सतीश जी एक बात समझ में नहीं आती कि लोग इंसान को कुत्‍ते की गाली क्‍यों देते हैं।


    ---------
    ईश्‍वर ने दुनिया कैसे बनाई?
    उन्‍होंने मुझे तंत्र-मंत्र के द्वारा हज़ार बार मारा।

    ReplyDelete
  43. हमको तो वैसे डर लगता है कुतों से...
    वैसे हमारे एक मित्र हैं अतुल, वो भी एक डौगी पाले हुए हैं और वो उनका बहुत अच्छा मित्र भी है :)

    ReplyDelete
  44. आपकी बात बिलकुल सही है ..पर इंसान अलग अलग सोच रखता है ...और अपनी सोच के आधार पर हीधारणा बानयेगा ....

    गूफी बहुत प्यारा लग रहा है ....

    ReplyDelete
  45. @ प्रवीण शाह,
    मगर कुत्तों को चांस तो देना पड़ेगा ...
    :-)

    ReplyDelete
  46. @ सुनील कुमार ,
    गुणी मित्र के कारण टिप्पणियों में आनंद दूना हो जाता है सुनील भाई ! आनंद आ गया .

    ReplyDelete
  47. वफादार कुत्ता बेइमान दोस्त से ज्यादा अच्छा है

    ReplyDelete
  48. मुझे भी अपने tony-kity याद आ गए...
    अब माँ पालने नहीं दे रही, कहती है जब ससुराल जाना तो वहीँ पालना... :)

    ReplyDelete
  49. इनका प्रेम अतुलनीय होता है, जब आप काम से वापस घर आते हैं तो याद कीजिये... सारी थकान तो यह एसे ही उतार देते हैं!

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,