Wednesday, November 27, 2013

अब न उठेंगे , यह बंजारे , खूंटे पक्के दिखते हैं - सतीश सक्सेना

चेहरे पॉलिश किये घूमते कैसे फिक्के लगते हैं ! 
जब भी ये मैदान में उतरें, सीधे छक्के लगते हैं !

जबसे ताकत मिली है इनको आसमान में रहते हैं 
हमको तो इनकी गाडी के,जमें से चक्के लगते हैं !

वैसे तो पढ़ने वालों को,तालिबान का नाम दिया !
फिर कैसे स्याही के बदले, खूनी थक्के लगते हैं !

काम कराके वारे न्यारे , अनपढ़ खद्दर वालों के 
सिर्फ दलाली में सोने के, ढेरो सिक्के लगते हैं !

पीज़ा बर्गर खाते खाते,देसी आदत बिगड़ गयी !
अब न उठेंगे , यह बंजारे ,  खूंटे पक्के लगते हैं !

35 comments:

  1. हमें कुछ लिखना है बहुत जरूरी है
    आपके लिये भी यही मजबूरी है
    सब कुछ ठीक सा अगर हो जायेगा
    आपका और हमारा लिखना
    बेरोजगार हो जायेगा
    बताईयेगा जरूर कभी
    अगर ऐसा हो गया तो
    क्या फिर किया जायेगा :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. काश हमारा लिखना बेरोजगार हो जाए , प्रोफ़ेसर !!
      आभार आपका !

      Delete

  2. वैसे तो पढ़ने वालों को,तालिबान का नाम दिया !
    फिर कैसे स्याही के बदले,खून के थक्के दिखते हैं !

    ReplyDelete
  3. Aapne itni kari khinchaayi
    we sare chupchap rahe.
    Kya jawab de, soch rahe
    sab, hakke bakke lagte hain!
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. हिंदी अनुवाद :

      आपने इतनी करी खिंचाई
      वे सारे चुपचाप रहे
      क्या जवाब दें, सोच रहे सब
      हक्के बक्के लगते हैं !

      आभार आपका सलिल !!

      Delete
    2. हिंदी अनुवाद नहीं लिप्यातरण... :)
      वैसे सतीश जी आपकी यह रचना पसंद आई मुझे....

      Delete
  4. वैसे तो पढ़ने वालों को,तालिबान का नाम दिया !
    फिर कैसे स्याही के बदले,खून के थक्के दिखते हैं !

    पैसा,इज्जत खूब कमाई, अनपढ़ खद्दर वालों ने !
    सिर्फ दलाली में सोने के, ढेरों सिक्के दिखते हैं !

    राजनीति के धंधे बाज़ों को तालिबानों में भी वोट छिपे दीखते हैं।

    तालिबान हो गई राजनीति ,स्विस में सिक्के ढलते हैं

    बुध्दिमंद यहाँ पर देखो धन दौलत में तुलते हैं।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचना । कितना अच्छा लिखते हैं आप । बधाई ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपसे अच्छा नहीं , आभार आपका !!

      Delete
  6. जबर्दस्त उद्गार ....!!

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया आदरणीय-
    सुन्दर चित्र के साथ साझा किया है -
    विशेष आभार -

    हौले हौले नजर मिलाई, प्रेम पाश ने जकड लिया,-
    पर थाने जब करी शिकायत हक्के बक्के लगते हैं-

    ReplyDelete
  8. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    ReplyDelete
  9. उम्दा रचना और प्रभावी पंक्तिया ......!!!

    ReplyDelete
  10. पैसा,इज्जत खूब कमाई, अनपढ़ खद्दर वालों ने !
    सिर्फ दलाली में सोने के, ढेरों सिक्के दिखते हैं !
    बहुत बढिया.....

    ReplyDelete
  11. खुद ही तुम अपने चेले को,थोडा और समझ लेना !
    भाई जी बिल्कुल हम सारी सावधानी बरत रहे हैं :-)

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सटीक और सधी हुई बात कही आपने, लाजवाब.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. सार्थक सन्देश देती रचना...

    ReplyDelete
  14. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 28-11-2013 को चर्चा मंच पर दिया गया है
    कृपया पधारें
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. क्या बात है बहुत खूब सर जी !!

    ReplyDelete
  16. पैसा,इज्जत खूब कमाई, अनपढ़ खद्दर वालों ने !
    सिर्फ दलाली में सोने के, ढेरों सिक्के दिखते हैं !

    bahut sahi aur sunder

    ReplyDelete
  17. आपकी यह रचना बिल्कुल अलग तरह की तीखी धार वाली है ।

    ReplyDelete
  18. पैसा,इज्जत खूब कमाई, अनपढ़ खद्दर वालों ने !
    सिर्फ दलाली में सोने के, ढेरों सिक्के दिखते हैं !
    PAINI DHAR PAR CHALATI SACHCHI KAHANI KO BAYAAN KARATI GITON KI MALA PRANAM BHAI SAHAB AAPAKE JIWANT GIT KO

    ReplyDelete
  19. सटीक कटाक्ष .......

    ReplyDelete
  20. वैसे तो पढ़ने वालों को,तालिबान का नाम दिया !
    फिर कैसे स्याही के बदले,खून के थक्के दिखते हैं !
    बहुत सुन्दर |
    नई पोस्ट तुम

    ReplyDelete
  21. पैसा ,इज्जत खूब कमाई, अनपढ़ खद्दर वालों ने !
    सिर्फ दलाली में सोने के, ढेरों सिक्के दिखते हैं ! इन नेताओं की पिछले साठ साल की यही विरासत है जो उन्होंने पीढ़ी दर पीढ़ी आगे प्रदान की है.हमें ही लूटा है हमारे नेताओं ने ,किस से करें गिला जब सब ही चोर बन गएँ हो.

    ReplyDelete
  22. पैसा ,इज्जत खूब कमाई, अनपढ़ खद्दर वालों ने !
    सिर्फ दलाली में सोने के, ढेरों सिक्के दिखते हैं ! इन नेताओं की पिछले साठ साल की यही विरासत है जो उन्होंने पीढ़ी दर पीढ़ी आगे प्रदान की है.हमें ही लूटा है हमारे नेताओं ने ,किस से करें गिला जब सब ही चोर बन गएँ हो.

    ReplyDelete
  23. हालात तो अच्‍छे नहीं ही हैं

    ReplyDelete
  24. पैसा,इज्जत खूब कमाई, अनपढ़ खद्दर वालों ने !
    सिर्फ दलाली में सोने के, ढेरों सिक्के दिखते हैं !
    @@ वाह !

    ReplyDelete
  25. पैसा,इज्जत खूब कमाई, अनपढ़ खद्दर वालों ने !
    सिर्फ दलाली में सोने के, ढेरों सिक्के दिखते हैं !
    हकीकत तो यही है.

    ReplyDelete
  26. वाह, बहुत खूब। बड़ा ही सन्नाट।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,