Friday, November 29, 2013

अपने मित्रों के स्नेह के, आभारी हैं मेरे गीत - सतीश सक्सेना

"मेरे गीत " पर, २४ मई २००८ को पहली कविता "पापा मुझको लम्बा कर दो "  प्रकाशित की गयी थी, जिसकी  रचना ३०-१०-१९८९ को हुई जब मेरी ४ वर्षीया बेटी के मुंह के शब्द कविता बन गए ! इस कविता का एक एक शब्द उस नन्हें मुख की मनुहार का सच्चा वर्णन है जो उसने अपने पापा से कही थी ! यह बाल कविता स्वर्गीय राधेश्याम "प्रगल्भ" को समर्पित की गई थी, जो कि उस समय "बालमेला" नाम की पत्रिका का संपादन कर रहे थे !

और आज ४०० प्रविष्टियों एवं १६२०६ टिप्पणियों एवं १,९६,३७२ पेज व्यू के साथ "मेरे गीत" को, अलेक्सा ट्रैफिक रैंक के अनुसार  भारत में १८६२६ एवं विश्व में १८१०३७ रैंक पर पाकर , खासा संतोष अनुभव कर रहा हूँ !

 शुरुआत में लेखन पर अधिक जोर था , मेरे एक पाठक ने उस समय लिखा था कि मेरे गीत पर गीत कम होते हैं , कहीं दिल को छू गया  और कविता ,पद्य लेखन शुरू किया और अब जब मैं गीत ग़ज़ल अधिक लिख रहा हूँ तो कुछ लोग मुझे कवि भी कहने लगे हैं !

आजकल लेखन में अक्सर मौलिकता की कमी पायी जाती है , मेरी कोशिश रही है कि किसी अन्य मशहूर कवि का प्रभाव मेरी रचनाओं में न आ सके जो कुछ निकले प्रभावी अथवा अप्रभावी मेरे दिल से निकले चाहे लोग पसंद करें या न करें , और शायद मैं इसमें कामयाब रहा हूँ ! इस पूरे रचना काल में मैंने कभी व्याकरण और शिल्प के सुधार की  आवश्यकता के कारण अपनी रचना को नहीं बदला ! मुझे लगता है , ईमानदार भाव अभिव्यक्ति, मौलिक और विशिष्ट होनी चाहिए न कि उसे पुरानी एवं खूब बखानी गयी शैली में बाँध दिया जाय !

कुछ ऐसा राग रचें मिलकर,
सुनकर उल्लास उठे मन से !
कुछ ऐसी लय संगीत  बजे 
सब बाहर आयें ,घरोंदों  से !
गीतों में यदि झंकार न हो,तो व्यर्थ रहे महफ़िल सारी !
रचना के मूल्यांकन में है  , इन  शब्दों की जिम्मेदारी  !


ब्लॉग जगत में सब लेखक हैं अतः पाठकों का अभाव रहता है , बहुत कम लोग ऐसे हैं जो मित्रों को ध्यान से पढ़ते हैं शायद इतना समय ही नहीं है अतः अक्सर बेहद उत्कृष्ट ब्लॉग लेखकों को भी, लोग पढ़ने से वंचित रह जाते हैं ! अफ़सोस है कि नवोदित लेखकों को, जो प्रोत्साहन हम सबसे मिलना चाहिए नहीं मिल पाता ! मेरा विचार है कि बड़े लेखकों द्वारा प्रोत्साहन के अभाव एवं विपरीत माहौल में और उत्कृष्ट लिखना चाहिए, मुझे विश्वास है आज नहीं तो कल कलम अपनी पहचान करा देगी ! 

ज़ख़्मी दिल का दर्द,तुम्हारे  
शोधग्रंथ , कैसे समझेंगे  ?
हानि लाभ का लेखा लिखते  ,
कवि का मन कैसे जानेंगे ?
ह्रदय वेदना की गहराई, तुमको हो अहसास, लिखूंगा !
तुम कितने भी अंक घटाओ,अनुत्तीर्ण का दर्द लिखूंगा !

हमने हाथ में,  नहीं उठायी ,
तख्ती कभी क्लास जाने को !
कभी न बस्ता, बाँधा हमने,
घर से, गुरुकुल को जाने को !
काव्यशिल्प, को फेंक किनारे,मैं आँचल के गीत लिखूंगा !
प्रथम परीक्षा के,पहले दिन,निष्काषित का दर्द लिखूंगा !

शब्द अर्थ ही जान न पाए ,
विद्वानों  का वेश बनाए ! 
क्या भावना समझ पाओगे
धन संचय के लक्ष्य बनाए !
माँ की दवा, को चोरी करते, बच्चे की वेदना लिखूंगा ! 
श्रद्धा तुम पहचान न पाए,एकलव्य की व्यथा लिखूंगा ! 

अंत में सब मित्रों का आभार व्यक्त करना चाहूंगा, जिन्होंने जब तब मेरे ब्लॉग का ज़िक्र कर मेरा उत्साह वर्धन किया निस्संदेह उनका उपकार है मेरे ऊपर , इसके बिना शायद कलम में वह ताकत नहीं होती जिसके कारण मैं आत्मसंतुष्टि महसूस करता हूँ , मैं अपने मित्रों के इस उत्साह वर्धन को अपना सबसे बड़ा पुरस्कार मानता हूँ  ! 

अपने मित्रों के स्नेह के, आभारी हैं मेरे गीत !!

32 comments:

  1. गीतों में यदि झंकार न हो,तो व्यर्थ रहे महफ़िल सारी !
    रचना के मूल्यांकन में है , इन शब्दों की जिम्मेदारी !
    बेहद सशक्‍त भाव लिये ... उत्‍कृष्‍ट पोस्‍ट
    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत बधाई-
    ऐसे ही आप सदा रचते रहें मोहक और सन्देशपूरक गीत-
    सादर

    ReplyDelete
  3. आपके गीत दिल को छूते हैं। विषय की विविधता है। मौलिकता है। जब आपकी किताब प्रकाशित कर रहा था, तब आपने कहा था कि किसी विद्वान को दिखा दू किताब, लेकिन मुझे विश्वास था आपकी मौलिकता पर। पहले भी कहा था, आज भी कह रहा हूँ, तुलसीदास लिख कर चले गए, विद्वत जन आज भी सुधार कर रहे हैं उनमे। आप निश्चिंत हो, लिखते रहें। बधाई और शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  4. सुन्दरतम भावों का अविरल प्रवाह , विशालाक्षा (७)

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत बधाई .....!!!
    एक आग्रह है प्रकाशित कविता भी हम सब पढ़ पाते और अच्छा लगता ......

    ReplyDelete
  6. और आज ४०० प्रविष्टियों एवं १६२०६ टिप्पणियों एवं १,९६,३७२ पेज व्यू के साथ "मेरे गीत" को, अलेक्सा ट्राफिक रैंक के अनुसार भारत में १८६२६ एवं विश्व में १८१०३७ रैंक पर पाकर , खासा संतोष अनुभव कर रहा हूँ !

    badhaii swikarey

    ReplyDelete
  7. आपने सदा ही उपेक्षितों के लिए कलम उठाई है..जिनका दर्द कोई नहीं समझता उनकी पीड़ा को शब्द दिए हैं...मेरे गीत को शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. आपमे गद्य व कविता दोनों विधाओं के लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है. निरंतर लेखनी चलाते रहिये, यही निवेदन है. बहुत बहुत बधाईयां और शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. बधाई एवं शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  10. बहुत बहुत बधाई ! एवं शुभकामनाएँ !!
    आपकी रचनाओं का सतत प्रवाह जारी रहे !!

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (30-11-2013) "सहमा-सहमा हर इक चेहरा" “चर्चामंच : चर्चा अंक - 1447” पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.
    सादर...!

    ReplyDelete
  12. ~जो सजे-सँवरे.. वो सादगी क्या..
    जो बंधन में बँधे.. वो अभिव्यक्ति क्या... ~

    इस मुक़ाम पर पहुँचने पर आपको दिल से बधाई!
    आप सदा इसी तरह लिखते रहें! आपकी लेखनी अनवरत, बिना किसी भेद-भाव के... स्वाभाविक रूप से गीत गाती रहे... यही हमारी शुभकामनाएँ हैं! :-)

    ~सादर

    ReplyDelete
  13. सुन्दर भावों की शीतल निर्झरणी यूँ की सतत प्रवाहमान रहे. शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  14. waah ..aage kya likhun samajh men nahi aaya ...

    ReplyDelete
  15. अविरल बहे निर्मल
    धारा गीतों की
    उत्साह रहे शिखर पर
    हमेशा ही ऐसे
    सीखें हम भी
    कुछ कह लेना
    निकलें कभी
    उल्लूक पने से :)


    ReplyDelete
  16. सुन्दर भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति, बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  17. इस पड़ाव पर
    बधाई शुभकामनाएं आपको

    ReplyDelete
  18. बहुत बहुत बधाई ! एवं शुभकामनाएँ ...!
    ========================
    नई पोस्ट-: चुनाव आया...

    ReplyDelete
  19. सुन्दर और भावपूर्ण रचना |इसी तरह लिखते रहिये |
    आशा

    ReplyDelete
  20. Mers is aabhasi jagat se parichay aapne karaya.. Aapko hamne sada agraj sa samman diya.. Aapki sabse badi visheshata aapka KHUD KO NA BADALNA hai.. Apni rai, apne aadarsh, apni samvedana par kabhi kisi ka prabhav nahin padne diya.. Aapki rachnayein hamesha hi imaandar rahin hain.. Aaj aapke is retrospective post ko mera salaam!!
    KABHI BANAAWAT DIKHI NAHIN
    KAAGAZ KE PHOOL NAHIN YE MEET
    JO LIYA DIYA IS JEEVAN SE BAS
    WO HI GAATE HAIN MERE GEET!

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस प्यार के लिए आभारी हूँ , सलिल !!

      कभी बनावट नहीं दिखायी,फूल नहीं कागज के मीत !
      लिया दिया जो कुछ जीवन से, वही तो गाते मेरे गीत !

      Delete
    2. ............
      ............

      jo bhi aisi geet likhenge.....
      mere jiwan ke aadhar banenge........


      pranam.

      Delete
  21. शब्द बेचारे बौने पड रहे हैं आपकी अद्भुत-अभिव्यक्ति के सामने । मेरे पास एक ही शब्द है कहने को और वह है - " अनिवर्चनीय अभिव्यक्ति ।"

    ReplyDelete
  22. आपके गीत वाकई एक आवाज़ है जो कई बातों को अभिव्यक्ति देते हैं। … शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  23. हे भगवान! अवकाश पर जाने की भूमिका तो तैयार नहीं हो रही है ?
    आगे कहूँ तो संवेदना आपकी कविताओं का मुख्य अंतर्भाव है और जहाँ संवेदना है वहीं मनुजता है !
    बढ़ते रहें ,और यश कमाएँ!

    ReplyDelete
  24. आपके गीतों में अद्भुत शब्द-सामर्थ्य है तथा शिल्प की कोई कमी द्रष्टव्य नहीं होती, 'कठिन काव्य के प्रेतों' को ऐसा भले ही लगे.उनमें एक लय रहती है जो अंतर्निहित संगीत का सृजन सा करती है और यही कविता की पहचान है.

    ReplyDelete
  25. ज़ख़्मी दिल का दर्द,तुम्हारे
    शोधग्रंथ , कैसे समझेंगे ?

    हानि लाभ का लेखा लिखते ,
    कवि का मन कैसे जानेंगे ?
    ....वाह! बहुत सुन्दर और सटीक पोस्ट...हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  26. आपको ४०० की बधाई, हम ३६२ तक तो पहुँच गये हैं और आपके अनुगामी हैं।

    ReplyDelete
  27. बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  28. आपके गीत ब्लॉग जगत की शान हैं...सतत लेखन के लिए बधाई...

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,