Tuesday, December 3, 2013

केवल बच कर रहना होगा, इतने बदबूदारों से - सतीश सक्सेना

मूरख जनता खूब लुटी है, पाखंडी सरदारों से !
देश को बदला लेना होगा,इन देसी गद्दारों से !

पूंछ हिलाकर चलने वाले,सबसे पहले भागेंगे !
सावधान ही रहना होगा, इन झंडे बरदारों से !

अक्सर धोखा देने वाले, बगल में पाये जाते हैं !
आँख खोल के सोना होगा,घर के पहरेदारों से !

कड़ी ठण्ड में बाबा ऊपर,आधा कम्बल डाला है !
आधा कम्बल हमें दिलाये,शिक्षा बरखुरदारों से !

जीवन भर ही वोट डालते रहे, तुम्हारे  कहने पर !
अब कैसे बच पाये इज्जत,इन डाकू सरदारों से !

राजनीति के मुहरों के रंग,देख लिए हैं,जनता ने !
केवल बच कर रहना होगा, इतने बदबूदारों से !


31 comments:

  1. चुनावी माहौल का रंग …… असरदार रचना।

    ReplyDelete
  2. सच कह रहे हैं, पहले से कहाँ पता रहते हैं इनके करम।

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
    Replies
    1. वीरू भाई , कृपया किसी पार्टी के नेता का नाम न लिखें , आभारी रहूँगा !

      Delete
  4. सुन्दर कटाक्ष । मज़ा आ गया , पर इनसे बचें कैसे ? जल में ही तो रहना है ।

    ReplyDelete
  5. वर्तमान हालात का सटीक चित्रण...बेहतरीन सशक्त भाव अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  6. झंडा डंडा दारु रुपया कम्बल सम्बल वोट दिलाएं !
    देश के नाम पे खोल दुकाने , करते रोज नमस्ते हैं !
    इन लोगों ने ही देश का कबाड़ा किया है,, जनता जब तक इनकी दुकाने नहीं उठाएगी तब तक यहसिलसिला चलता रहेगा.इनकी चमड़ी भी बहुत मोटी है, सरलता से पकड़ में नहीं आने वाले ,जब तक सब मिल कर प्रयास न करें. सुन्दर कटाक्ष सतीशजी.आभार.

    ReplyDelete
  7. अक्सर धोखा देने वाले, बगल में पाये जाते हैं !
    आँख खोल के सोना होगा,घर के पहरेदारों से ..
    सच कहा अहि अपने ही होते हैं लूटने वाले ... बच के रहने में ही भलाई है ...

    ReplyDelete
  8. आपके विचार लोकतंत्र के यज्ञ की समिधा बने!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार डॉ अरविन्द !!

      Delete
  9. चुनाव के गोरख धंधे का सही चित्रण |
    नई पोस्ट वो दूल्हा....
    लेटेस्ट हाइगा नॉ. २

    ReplyDelete
  10. असरदार प्रस्तुति

    ReplyDelete
  11. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय- -

    ReplyDelete
  12. कैसे छूटे आदत बदबू की अब जब
    उसके नशे की आदत सी हो गई है !

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया, बेहतरीन सटीक अभिव्यक्ति...!
    ---------------------------------------------------
    Recent post -: वोट से पहले .

    ReplyDelete
  14. सुन्दर कटाक्ष........

    ReplyDelete
  15. सलिल वर्मा जी के अनूठे अंदाज़ मे आज आप सब के लिए पेश है ब्लॉग बुलेटिन की ७०० वीं बुलेटिन ... तो पढ़िये और आनंद लीजिये |
    ब्लॉग बुलेटिन के इस खास संस्करण के अंतर्गत आज की बुलेटिन 700 वीं ब्लॉग-बुलेटिन और रियलिटी शो का जादू मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete


  16. ☆★☆★☆

    अक्सर धोखा देने वाले, बगल में पाये जाते हैं !
    आँख खोल के सोना होगा,घर के पहरेदारों से !

    वाह वाह !
    ग़ज़ब !!

    आदरणीय सतीश जी
    अत्यंत सुंदर सामयिक रचना लिखी है आपने !

    हार्दिक मंगलकामनाएं !
    -राजेन्द्र स्वर्णकार


    ReplyDelete
  17. अक्सर धोखा देने वाले, बगल में पाये जाते हैं !
    आँख खोल के सोना होगा,घर के पहरेदारों से !

    वाह ! वाह !

    ReplyDelete
  18. भलाई है बच के रहने में ही...

    ReplyDelete
  19. जीवन भर ही वोट डालते रहे तुम्हारे कहने पर !
    अब कैसे बच पाये इज्जत, इन डाकू सरदारों से !

    सभी सटीक पंक्तियाँ है, वोट डालने का अधिकार पाकर हम खुश होते है कि,चलो हमें नेता चुनने का अधिकार मिला हुआ है लेकिन किसी चुने जबकि एक से एक अवगुणी नेताओं की भरमार है मुश्किल है बच पाना !

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  21. ओजस्वी रचना के साथ साथ ही सटीक सलाह, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 07/12/2013 को चलो मिलते हैं वहाँ .......( हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 054)
    - पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
  23. और आजकल इतनी तादाद भी कितनी बढ़ी हुई है. सावधान करती अति सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  24. सुन्दर और सार्थक रचना

    ReplyDelete
  25. राजनीति को उजागर करती रचना

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,