Monday, April 26, 2010

आभूषण रहित धरा को कर क्यों लोग मनाते दीवाली ? -सतीश सक्सेना

कितने कवियों ने मौसम की
गाथा गायी कविताओं में !
अब मौसम पर कविता लिखते
लेखनी ठहर क्यों जाती है !
बरसों बीते , दिखती न कहीं 

हर ओर छा रही हरियाली !
अब धुआं भरे इस मौसम में क्यों लोग मनाते दीवाली ?


धरती की छाती से निकली 
सहमी सहमी कोंपलें दिखे
काला गहराता धुआं देख
कलियों में वह मुस्कान नहीं
जलवायु प्रकृति को दूषित कर 

धरती लगती खाली खाली
विध्वंस हाथ से अपना कर , क्यों लोग मनाते  दीवाली  ?

प्रकृति का चक्र बदलने को 
काटते पेड़ निर्दयता से  !
बरसात घटी बादल न दिखे
ठंडी जलधार बहे कैसे  !
कर रहीं नष्ट ख़ुद ही समाज,  

कालिदासों की संताने !
आभूषण रहित धरा को कर,क्यों लोग मनाते दीवाली ?

अब नहीं नाचता मोर कहीं
घनघोर मेघ का नाम नहीं !
अब नहीं दीखता इन्द्रधनुष 
सतरंगी आभा साथ लिए !
कर उपवन स्वयं तवाह अरे 

क्यों फूल ढूँढता है माली ?
जहरीली सांसे लेकर अब,  क्यों लोग मनाते दीवाली ? 

32 comments:

  1. बहुत सुंदर....और संवेदनशील रचना....

    ReplyDelete
  2. कर उपवन स्वयं तवाह अरे क्यों फूल ढूँढता है माली,
    जहरीली सांसे लेकर अब क्यों लोग मनाते दीवाली ?

    सुन्दर कविता सतीश जी !

    ReplyDelete
  3. पर्यावरण के प्रति आपका समर्पण सराहनीय है.

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति संवेदनशील हृदयस्पर्शी मन के भावों को बहुत गहराई से लिखा है

    ReplyDelete
  5. एहसास की यह अभिव्यक्ति बहुत खूब

    ReplyDelete
  6. अच्छी जानकारी से भरी विवेचना को ब्लॉग पर सुन्दर ढंग से प्रस्तुत करने के लिए धन्यवाद / सार्थकता से भरी विवेचना युक्त,विचारोत्तेजक कविता के लिए भी धन्यवाद / ऐसे ही प्रस्तुती और सोच से ब्लॉग की सार्थकता बढ़ेगी / आशा है आप भविष्य में भी ब्लॉग की सार्थकता को बढाकर,उसे एक सशक्त सामानांतर मिडिया के रूप में स्थापित करने में,अपना बहुमूल्य व सक्रिय योगदान देते रहेंगे / आप देश हित में हमारे ब्लॉग के इस पोस्ट http://honestyprojectrealdemocracy.blogspot.com/2010/04/blog-post_16.html पर पधारकर १०० शब्दों में अपना बहुमूल्य विचार भी जरूर व्यक्त करें / विचार और टिप्पणियां ही ब्लॉग की ताकत है / हमने उम्दा विचारों को सम्मानित करने की व्यवस्था भी कर रखा है / इस हफ्ते उम्दा विचार के लिए अजित गुप्ता जी सम्मानित की गयी हैं /

    ReplyDelete
  7. सच कहा आपने प्रकर्ति की तरफ तो आदमी ने घ्यान देना ही छोड़ दिया हैं ,बस अपने पैरो से धरती माँ को कुचलते रहतें हैं , मन्थे से तो लगाना ही भूल गए हैं ,

    ReplyDelete
  8. "अब नहीं नाचता मोर कहीं
    घनघोर मेघ का नाम नहीं
    अब नहीं दीखता इन्द्रधनुष
    सतरंगी आभा साथ लिए
    कर उपवन स्वयं तवाह अरे क्यों फूल ढूँढता है माली,
    जहरीली सांसे लेकर अब क्यों लोग मनाते दीवाली ?"

    बहुत बढ़िया लगी जी आपकी ये कविता भी!सच में ऐसी रचनाये पढ़ कर ही विशवास होता है कि "साहित्य समाज का दर्पण होता है"!

    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  9. वाक़ई बहुत सुंदर और संवेदनशील रचना है...

    ReplyDelete
  10. sunder vicharo kee utnee hee sunder abhivykti...........

    ReplyDelete
  11. प्रशंसा के शब्द नहीं हैं । बस लिखे रहिये ।

    ReplyDelete
  12. खुद को बहलाने को सुन्दर ख़याल ही अच्छे होते हैं
    आपने देखा नहीं लोग जितना ज्यादा पाप करते हैं उतना ही ज्यादा मंदिर में जाते हैं
    वो दिखावे के लिए नहीं जाते ,खुद को बहलाने जाते हैं
    बस वही आलम आपकी कविता के जवाब में सूझ रहा है ......

    ReplyDelete
  13. aapne neemboo latka kar achchha kiya Sateesh ji.. lagta to yahi hai ki nazar lag gayee hai ab sach jo bhi ho.

    ReplyDelete
  14. Awwal to kavita achhi lagi!
    Sandesh dene mein samarth!
    Achook!
    Darasal, maanav ab daanav se bhi gaya guzra ho chuka hai, jo apni hi maa (prakriti) ka cheer haran karne par aamaada hai!
    Dooja aapka comments ke vishay mein vichar bhi pasand aaya!
    Sadhuwaad!

    ReplyDelete
  15. hamesha ki tareh ek aur samvedansheel rachna...bahut badhiya.badhayi.

    ReplyDelete
  16. हर बार की तरह अद्भुत, अप्रतिम, अद्वितिय.. कृपया एक बार एडिट कर लें पोस्ट को… कुछ जगहों पर “मनाते दीवाली” की जगह “मानते दीवाली” टंकित हो गया है...और हाँ..आज की हमारी पोस्ट आपको समर्पित है..आशीर्वाद देंगे..

    ReplyDelete
  17. पर्यावरण को दर्शाती संवेदनशील रचना...

    ReplyDelete
  18. कर उपवन स्वयं तवाह अरे क्यों फूल ढूँढता है माली,
    जहरीली सांसे लेकर अब क्यों लोग मनाते दीवाली ?

    पर्यावरण के प्रति चिंता और चिंतन जरूरी है
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  19. आपने बिलकुल सही कहा...हम लोग खुद ही अपना बेडागर्क करने पर तुले हैं....
    सटीक एवं सामयिक कविता

    ReplyDelete
  20. आपके गीत की सार्थकता से इनकार किया ही नहीं जा सकता. लेकिन हम स्म्वेद्न्हीं हो चुके हैं. इन चीजों का इलज़ाम हम सरकार और दुसरे लोगों पर लगाकर, चायखानों, काफी शाप्स में लम्बी बहसें, भाषण दे कर, अपने कर्तव्य की इतिश्री करने की आदी हो चुके हैं. यमुना नाला बन गयी, किसे फ़िक्र है? गंगा आज जिस हाल में है, उसे देखकर ज़िम्मेदार और गंगा मैया की जय बोलने वाले खुश हैं क्योंकि हर वर्ष एक खासा मोटा खज़ाना पुनुरुद्धार के नाम आता है. जंगल काट कर कालोनियां बनाई जा रही हैं. प्लास्टिक सभ्यता में शामिल है.
    बचे होली जैसे त्यौहार, वो तो अपनी शान-शौकत, खुद को धार्मिक दिखाने का फंडा है.
    मैं इस गीत से इतना प्रभावित हुआ कि जी चाह रहा है आप का नाम डिलीट करके अपना लिख दूं.

    ReplyDelete
  21. सही बात तो है वैसे ही प्रकृति को दूषित कर दिया और आतिशवाजी चला चला कर और प्रदूषण फैला रहे है ।कालीदास की सन्ताने बहुत अच्छा शब्द प्रयोग किया है ,लोग उसी दरख्त को काट रहे है जिसकी डाल पर आशियाना है ।पहले तो खिजां स्वम लाये अब बाग मे ढूढ्ते है फूल ,यै कैसे है ’फ़ूल ’।घनघोर मेघ तो अब किताबो की बातें रह गई "घन घमंड नभ गरजत घोरा "बे रौनक बिजली जरूर थोडा बहुत चमक जाती है ।पहले इन्द्र धनुष से लोग वर्षा का अन्दाजा लगा लेते थे ""धनुष चढे बंगाली ,वर्षा आज या काली ""पर्यावरण पर बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  22. अब नहीं नाचता मोर कहीं
    घनघोर मेघ का नाम नहीं
    अब नहीं दीखता इन्द्रधनुष
    सतरंगी आभा साथ लिए
    कर उपवन स्वयं तवाह अरे क्यों फूल ढूँढता है माली,
    जहरीली सांसे लेकर अब क्यों लोग मनाते दीवाली ?

    ati sundar !
    aap ke geeton kaa to waqaee jawab naheen ,jabki ye ek mushkil kaam hai,
    aur geeet bhee aisa jo ek sandesh de raha ho
    jo samaj aur desh ke hit men ho

    ReplyDelete
  23. कविता के माध्यम से सही प्रश्न उठाया है.
    अच्छी प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  24. प्रयावरण पर बहुत सुन्दर रचना ।
    बहुत बढ़िया लगी जी आपकी ये कविता !

    ReplyDelete
  25. कर रहीं नष्ट ख़ुद ही समाज, कालिदासों की संताने !


    - सत्य .

    ReplyDelete
  26. ब्लाग पर आना सार्थक हुआ
    काबिलेतारीफ़ प्रस्तुति
    आपको बधाई
    सृजन चलता रहे
    साधुवाद...पुनः साधुवाद
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    ReplyDelete
  27. गुरुदेव… नया पोस्ट के लिए अपना असीस दीजिएगा...अऊर मारगदर्सन भी...आपका बात माथा पर लगाते हैं हम...

    ReplyDelete
  28. गुरुदेव..अपका फोलोअर त हम सुरुए से हैं.. महीना भर से आपका चुपेचाप पीछा कर रहे हैं... (देखिए जब आप पंचर बनवा रहे थे तब से लेकर, जब आप साईं बाबा से प्रार्थना कर रहे थे तब तक)... लेकिन का किजिएगा हमरा जैसा शिष्य आपको देखाइये नहीं देता है... गुरुदेव आपका आसीर्वाद रहा त टिके रहेंगे ..अऊर कभी हमरा की बोर्ड (लैप टोपवा का काहे कि हमरा जैसा एकलव्य से अंगूठा त आप नहिए मांगिएगा) भी मांगे त हम खुशी से हाजिर कर देनेगे आपका चरन में... प्रनाम...

    ReplyDelete
  29. सुन्दर,सार्थक आपकी कविता --हर के चेतना को झकझोर देनेवाली। पर्यावरण को बचाने की संवेदनशील कोशिश करती रचना.

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,