Saturday, May 8, 2010

यह हमारे बुज़ुर्ग -सतीश सक्सेना

          अविनाश वाचस्पति का यहाँ लिखा पहला लेख "माता पिता की उंगली श्रष्टिनियंता की होती है " का शीर्षक पढ़ कर ही आँखों में आंसू छलछला उठे, मैंने यह ऊँगली कभी नहीं पकड़ी ! मैंने अपने बचपन में क्या गुनाह किया था कि परमपिता ने यह कठोर कदम उठाया, शायद धर्म विवेचना में सिद्ध विद्वान् इसका उत्तर दे सकने में समर्थ हों पर जिस बच्चे से 3 वर्ष में माँ और 6 वर्ष में पिता छिन गए हों वह आज भी यह समझने  में असमर्थ है ! शायद यह क्रूर घटना किसी को भी ईश्वरीय सत्ता पर से अविश्वास कराने के लिए काफी है...
                   आज के समय में ,जब मैं घर के  ६५-७० वर्षीय बुजुर्गों, को मोहल्ले की दुकान पर ही खड़े होकर, खरीदे गए सामान में से ,जल्दी जल्दी कुछ खाते हुए देखता हूँ  तो मुझे अपने माता पिता याद आते हैं कि काश वे लोग होते और मुझे उनकी सेवा का मौका मिला होता  यकीनन वे एक सुखी  माता पिता होते ! मगर मुझ अभागे की किस्मत में यह नहीं लिखा था .. 
                    और क्या अपना खून देकर आपको  सींचने  वाली माँ  की स्थिति कहीं ऐसी तो नहीं  ? अगर हाँ तो निश्चित मानिए आपके साथ इससे भी बुरा होगा  !

21 comments:

  1. jinse apanapan mile vo hee apane hai ..............

    aankhe num ho aaee hai..........
    bado ka anadar karane walo ko ishvar satbudhee de.....
    Aasheesh

    ReplyDelete
  2. कहते हैं जब राधा ने बहती हुई मंजूषा में कवच कुंडल सुशोभित शिशु को पाया था तो उस बाँझ स्त्री के स्तनों में भी दूध का संचार होने लगा था... मातृत्व का कोई मोल नहीं... सर! बहुत ही अच्छी पोस्ट!!

    ReplyDelete
  3. माँ की याद बहुत आ रही है , आखे नम हो गयी हैं , शायद इसीलिए बहुत से लोग भगवान को नहीं मानते ।

    ReplyDelete
  4. सतीश जी जिन्होको भगवान ने मां बाप दिये है वो बेवकुफ़ उन की कदर नही करते, उन्हे बोझ समझते है, तभी तो यह बुजुर्ग बाजार मै खडे हो कर जल्दी जल्दी खाते है, ओर जिन अभागो के मां बाप नही वो इस प्यार को तरसते है... आज आप ने भावुक कर दिया.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. मेरी निंदिया है मां, तेरे आंचल में,
    तू शीतल छाया है, दुख के इस जंगल में...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  6. सतीश जी
    आपकी लेखनी गुस्ताख है
    इतनी गहराई में उतार देती है कि बस -- नम हैं आँखे माँ को याद करके जिसे मैनें उनकी झुर्रियों से पहचाना था.

    ReplyDelete
  7. यही तो विडम्बना है , जिनके होते हैं वे उनका महत्त्व नहीं समझते । बचपन में बच्चों को मां बाप की और मां बाप को बुढ़ापे में बच्चों की ज़रुरत होती है।

    ReplyDelete
  8. और जिनको ये नेमत नसीब है ...वे कुछ करते नहीं ...या कर नहीं पाते ....!!

    ReplyDelete
  9. .....काश वे लोग होते और मुझे उनकी सेवा का मौका मिला होता यकीनन वे एक सुखी माता पिता होते ! मगर मुझ अभागे की किस्मत में यह नहीं लिखा था .. ...

    Kassh !

    I also miss my mom !

    ReplyDelete
  10. भावुक कर गये आपके भाव । माता-पिता, बस माता-पिता हैं । उपमायें नहीं समेट सकती उन्हें शब्दों में ।

    ReplyDelete
  11. 'आज के समय में जब मैं घर के 65-70 वर्षीय……………' प्रेमचन्द की 'बूढ़ी काकी'की याद ताज़ा हो गई।विकास और आधुनिकता के तमाम दावों के बावजूद शायद कुछ भी नहीं बदला है।
    मार्मिक आलेख।

    ReplyDelete
  12. आप का पोस्ट पढने के बाद मन भर आया... माँ के नहीं होने का दर्द ओही जान सकता है जिसको माँ नहीं मिली है... बाकी हमरा त इहे मानना है कि जिन्नगी में जिसने आपके ऊपर ममता का छाँव रख दिया ओही माँ है... सायद इसीलिए लोग पत्थर का मूरत को भी माँ मान लेता है.हम त एक्के बात कहेंगे कि
    जिसको नहीं देखा हमने कभी फिर उसकी ज़रुरत क्या होगी
    ऐ माँ! तेरी सूरत से अलग, भगवान की सूरत क्या होगी.

    ReplyDelete
  13. हमेशा की तरह आपकी लेखनी से निकली एक और सशक्त रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  14. माँ से बढ़ कर कोई नहीं....मातृ दिवस क्या उन्हे याद करने के लिए सारी जिंदगी कम है....माँ को सादर नमन...

    ReplyDelete
  15. आंखे नम हो आई है,मां तो मेरे पास है,बस बाबूजी की कमी खल रही है।

    ReplyDelete
  16. mujhe bhi rula diya... aankhe nam ho gai... SUNDER RACHNA

    ReplyDelete
  17. ..अंडमान में अपने माँ की याद दिला दी..बेहतरीन पोस्ट ..बधाई.
    ***************

    'शब्द सृजन की ओर' पर 10 मई 1857 की याद में..आप भी शामिल हों.

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,