Monday, December 2, 2013

घर की इज्जत बेंच,किसी के घर का पानी भरते हैं -सतीश सक्सेना


कैसे, कैसे लोग राष्ट्र की ध्वजा उठाये चलते हैं !
राजनीति के मक्कारों के, चंवर उठाये चलते हैं !

नोट कमाने,राष्ट्रभक्त बन,खद्दर पहन के आये हैं !
पीठ पे नाम लिखाये उनका,पूंछ उठाये चलते हैं !

मंत्री का विश्वास मिला तो वारे न्यारे हो जाएंगे !
दल्लागीरी करते , मन में लड्डू खाये, चलते हैं !

नेता के मंत्री बनते ही, नोट कमाएंगे जी भर के,  
जोश जोश में दुश्मन के, कंगूरे ढाये चलते हैं !

खुद पार्टी के ड्रमर बन गए,बच्चे ढोल बजायेंगे,
धन पाने को राष्ट्रभक्ति के,रंग लगाये चलते हैं !

20 comments:

  1. यथार्थ -
    बढ़िया दृश्य उभरा है आदरणीय-

    ReplyDelete
  2. भाई जी !
    ये मौका भी तो बस कुछ
    किस्मत वालों को मिलता है
    हम करना भी चाहें ऐसा
    कोई घास तक नहीं देता है
    गलती से भी किसी रोज जब
    हमारी सरकार जीत के आयेगी
    हर कक्षा के पाठ्यक्रम में
    चमचागिरी का पाठ जुड़्वायेगी :)

    ReplyDelete
  3. जब स्वयं बिक जायेंगे , देश को क्या बचाएंगे !
    अच्छी सच्ची कविता !

    ReplyDelete
  4. शीर्षक में अद्भुत आकर्षण है । सुन्दर शब्द-संयोजन । सम्यक एवम् सटीक संरचना । बधाई ।

    ReplyDelete
  5. बढ़िया रचना......
    धारदार भाव..............
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. भाई जी ..आप व्यर्थ चिंता में घुलते है ....आज एक नही ,अनगनित ऐसे हे मिलते हैं ..
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  7. क्या बात है चुनावी माहौल में सटीक व्यंग्य |

    ReplyDelete
  8. यथार्थ पूर्ण उत्कृष्ट गजल ....!
    ==================
    नई पोस्ट-: चुनाव आया...

    ReplyDelete
  9. KARARA TAMACHA KINTU LOG BADE HATHI HAIN

    ReplyDelete
  10. आपकी इस उत्कृष्ट रचना की चर्चा कल मंगलवार ३ /१२ /१३ को चर्चामंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है

    ReplyDelete
  11. मोटी चमड़ी वाले नेताओं कोई भी शब्द तीक्ष्ण नहीं है -सुन्दर और सटीक रचना |
    नई पोस्ट वो दूल्हा....
    नई पोस्ट हँस-हाइगा

    ReplyDelete
  12. बहुत सूंदर यथार्थ परक चित्रण .

    ReplyDelete
  13. इस देश का फ्यूचर क्या होगा
    हिस्ट्री तो हिस्ट्री ही रह गया

    ReplyDelete
  14. नाम बाप का लिखा पीठ पर,पूंछ उठाये फिरते हैं !
    पोस्टर पर फोटू लगवाकर,छाती फुलाके चलते हैं !

    वर्तमान राजनैतिक हालात का सशक्त चित्रण, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  15. Bade bhai!! Is post se deegar ek baat kahna chaahta hoon.. Bakaul Gurudev K P SAXENA in dinon aapne Mere Geet par jo ISPEED pakadi hai ki main soch mein pad jata hoon ki is bhari JAWANI mein ye haal hai to BUZURGIYAT praapt karne tak aap hangama macha denge..
    Jokes apart!! Keep the spirit up!!!

    ReplyDelete
  16. सटीक व्यंग्य ठोका है वर्तमान हालातों पर

    ReplyDelete
  17. अद्भुत रचना...

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,