Sunday, March 1, 2015

आओ छींटें मारे, रंग के, बुरा न मानो होली है ! - सतीश सक्सेना

नमन करूं , 
गुरु घंटालों के  !
पाँव छुऊँ , 
भूतनियों  के !

राजनीति के '
मक्कारों ने,
डट कर खेली 
होली है ! 
आओ छींटें मारे रंग के ,  बुरा न मानो होली है !

गुरु है, गुड से 
चेला शक्कर
गुरु के गुरु  
पटाये जाकर  !
गुरुभाई से 
राज पूंछकर , 
गुरु की गैया,
दुह ली है !
जहाँ मिला मौका देवर ने जम के खेली होली है ! 

घूंघट हटा के 
पैग बनाती ! 
हिंदी खुश हो
नाम कमाती !
पंत मैथिली 
सम्मुख इसके
अक्सर भरते 
पानी है !
व्हिस्की और कबाब ने कैसे,हंसके खेली होली है !

जितना  चाहे 
कूड़ा लिख दो !
कुछ ना आये ,
कविता लिख दो

एक पंक्ति में,
दो शब्दों की, 
माला लगती 
सोणी है !
कवि बैठे हैं माथा पकडे , कविता कैसी होली  है !


कापी कर ले ,
जुगत भिडाले !  
लेखक बनकर   
नाम कमा  ले !

हिंदी में 
हाइकू   
लिख मारा,
शिकी की 
गागर फोड़ी है !
गीत छंद की बात भी अब तो,बड़ी पुरानी होली है !  

अधर्म करके  
धर्म सिखाते  
धन पाने के 

कर्म सिखाते 
नज़र बचाके,
कैसे उसने,
दूध में गोली, 
घोली है !
खद्दर पहन के नेताओं ने, देश में खेली होली है !

ब्लू लेवल, 

की बोतल आयी !
नई कार ,
बीबी को भायी !
बाबू जी का

 टूटा चश्मा,
माँ  की चप्पल 
आनी है  !
समय ने, बूढ़े आंसू देखे , छैल छबीली होली है !


23 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर सार्थक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. वाह … बहुत उम्दा होली के रंग

    ReplyDelete
  3. ब्लू लेबल की बोतल / नई कार/ बीबी / बाबू जी / टूटा चश्मा / माँ / चप्पल
    क्या बात है
    इसमें अपनी
    छैल छबीली
    ढूँढ ली मैने भी
    अपनी होली :)

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब ! होली के रंग अनेक.

    ReplyDelete
  5. सुंदर और सार्थक सृजन

    ReplyDelete
  6. हा हा हा ! सही होली के रंग निखर कर आये हैं ! बढिया ...

    ReplyDelete
  7. जो कर जाओ कम है--होली की तरंग है--मस्ती की प्यारी रचना

    ReplyDelete
  8. होली का रंग हास्य और व्यंग के संग... होली है... बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  9. आपने तो होली का अभी से मस्त माहोल जमा दिया है इस गीत में लेकिन, हमारे ब्लॉग जगत के
    गुरु ( ताऊ जी ) की उपस्थिति के बिना होली का मजा कितना अधूरा है न, लेकिन वो आजकल
    है कहाँ :) ??

    ReplyDelete
    Replies
    1. ताऊ अर्थ पूजा में व्यस्त होंगे !! :)

      Delete
    2. अर्थ से ही आता है जीवन में अर्थ
      अर्थपूजा के बिना प्रार्थनायें सब व्यर्थ
      प्रार्थनायें सब व्यर्थ डालो दक्षिणा पेटी में
      भोगेंगे स्वर्ग सुख ऊपर, पायेंगे मोक्ष ! :)

      Delete

  10. ब्लू लेवल,
    की बोतल आयी !
    नई कार ,
    बीबी को भायी !
    बाबू जी का टूटा चश्मा,माँ की चप्पल आनी है !
    समय ने, बूढ़े आंसू देखे , छैल छबीली होली है !

    --वाह!

    ReplyDelete
  11. सटीक ... धार दार ... होली के हास्य में व्यंग की तेज़ धार को अगर वो देख सकें तो बात बन जाए ...
    होली की शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब ! होली मुबारक !

    ReplyDelete
  13. हास्य और व्यंग का अद्भुत और सटीक संयोजन...लाज़वाब प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  14. होली की तरंग में मस्‍ती का माहौल है। वैरी गुड।

    ReplyDelete
  15. पैनी धारदार … सुन्दर रचना … रंगोत्सव होली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  16. This is good satire and pain reflected. But this is world and lives with own values. Good composition. Regards.

    ReplyDelete
  17. कमाल की होली दर्शन ...............

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,