Thursday, September 12, 2013

आसानी से क्यों होते हैं, मौत के चरचे दुनियां में -सतीश सक्सेना

ऐसा करें कि हाथ पकड़ना सीखें बच्चे दुनिया में ! 
रामू चाचा ,रहमत काका, दोनों सच्चे दुनिया में !

क्यों भड़काते हैं बच्चों को, इनको तो जी लेने दें  !
आसानी से क्यों होते हैं, मौत के चर्चे दुनिया में !

मंदिर मस्जिद की दीवारों को,साधारण रहने दें  !  
अंत समय में,क्यों करते हो,ऐसे खर्चे दुनिया में !

चोर डाकुओं के गिरोह से , गांव सुरक्षित रहने दें 
सुना है,बन्दर बाँट रहे हैं,जीत के पर्चे ,दुनिया में !

ज़हरी बातें, नहीं सिखाएं, इन्हें प्यार से जीने दें  !
हमें पता है,स्वर्ग के दावे,कितने कच्चे दुनिया में !

48 comments:

  1. सुन्दर गीत-
    बधाई आदरणीय सतीश जी-

    ReplyDelete
  2. सुना है बन्दर बाँट रहे हैं--

    ReplyDelete
  3. पीड़ा न अब किसको होती, मौत देखना सीख गये सब,
    रह रह, मर मर जी लेते हैं, नरक बनाते दीख रहे सब।

    ReplyDelete
  4. बहुत प्रभावशाली. सामयिक दर्द को बयाँ करती.

    ReplyDelete
  5. क्या बात कही!
    कमाल है।

    ReplyDelete
  6. रामू चाचा ,रहमत काका, दोनों सच्चे दुनियां में !
    ***
    एक साधारण सी पंक्ति और कितना बड़ा सन्देश!!!
    वाह!
    प्रणाम आपके गीतों को, नमन आपकी कलम को!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार अनुपमा जी !

      Delete
  7. बहुत ही सच्ची और प्रभावशाली कविता । समय को शब्द देती हुई ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके आने से गरिमा आई इस रचना में ..

      Delete
  8. ऐसा करें कि हाथ पकड़ना सीखें बच्चे दुनियां में !
    रामू चाचा ,रहमत काका, दोनों सच्चे दुनियां में !
    kitni acchi soch ....par kahan samjh me aati aisee baten haivanon ko unhe to bs apni roti sekni hai ....

    ReplyDelete
  9. मंदिर मस्जिद की दीवारों को,साधारण रहने दो !
    अंत समय में,क्यों करते हो,ऐसे खरचे दुनियां में !
    बहुत गहन भाव .

    ReplyDelete
  10. रामू चाचा, रहमत काका
    दोनों सच्चे दुनिया में!
    .
    .
    पर कल्लू दादा, गफ्फ़ार-अब्दुल्ला
    कहो, कहां सजा लूँ दुनिया में?

    ReplyDelete
    Replies
    1. उन्हें झेल लेंगे कुछ हम लोग कुछ क़ानून !

      Delete
  11. यथार्थ कहती प्रभावशाली रचना..

    ReplyDelete
  12. बहुत गहन भाव लिए प्रभावी रचना !!

    ReplyDelete
  13. सियासत की काली दुनिया से बच्चे भी अब महफूज नहीं हैं..समसामायिक रचना !

    ReplyDelete
  14. ज़हरी बातें, नहीं सिखाओ,इन्हें प्यार से जीने दो !
    हमें पता है,स्वर्ग के दावे,कितने कच्चे दुनियां में !

    दर्द को बयान करती सच्ची कहानी कौन झुठला पायेगा

    ReplyDelete
  15. ज़हरी बातें, नहीं सिखाओ,इन्हें प्यार से जीने दो !
    हमें पता है,स्वर्ग के दावे,कितने कच्चे दुनियां में !
    ..गहन भाव ...प्रभावी रचना

    ReplyDelete
  16. एक समसामयिक और सार्थक विषय पर लिखी एक बेहतरीन पोस्ट …।ये अमन का पैगाम सभी तक पहुंचे यही अभिलाषा है |

    ReplyDelete
  17. दुर्भाग्यपूर्ण परिस्थितियों पर सौहार्दपूर्ण सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  18. सरल शब्दों में कितनी गहरी बात कही... बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  19. बहुत सुंदर सृजन ! कमाल की प्रस्तुति,

    RECENT POST : बिखरे स्वर.

    ReplyDelete
  20. क्यों भड़काते हो बच्चों को,इनको तो जी लेने दो !
    आसानी से क्यों होते हैं, मौत के चरचे दुनियां में !

    बहुत सुंदर गीत .....

    ReplyDelete
  21. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 14/09/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार यशोदा जी ..

      Delete
  22. सुन्दर व प्रभावशाली प्रस्तुती

    ReplyDelete
  23. सरल सहज अभिव्यक्ति |उम्दा रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  24. इस दुनियां को स्वार्थ वश जहन्नुम हम लोगों ने ही बना रखा है. बेहद सशक्त रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  25. बेहद सुंदर और प्रभावशाली रचना ....बधाई आपको ...सतीश जी...

    ReplyDelete
  26. शुक्रिया आपका ..

    ReplyDelete
  27. पढ़े लिखों की बातों से यह गाँव सुरक्षित रहने दो !
    सुना है,बन्दर बाँट रहे हैं,जीत के परचे,दुनियां में !

    ज़हरी बातें, नहीं सिखाओ,इन्हें प्यार से जीने दो !
    हमें पता है,स्वर्ग के दावे,कितने कच्चे दुनियां में !

    सेकुलर वीरों शर्म करो कुछ ,वोट से आगे भी देखो ,

    हमें पता सब गोरख धंधे राग तुम्हारे दुनिया में।

    बहुत सुन्दर रचना है सक्सेना साहब।

    ReplyDelete
  28. पढ़े लिखों की बातों से यह गाँव सुरक्षित रहने दो !
    सुना है,बन्दर बाँट रहे हैं,जीत के परचे,दुनियां में !

    ज़हरी बातें, नहीं सिखाओ,इन्हें प्यार से जीने दो !
    हमें पता है,स्वर्ग के दावे,कितने कच्चे दुनियां में !

    सतीश जी आपकी रचनायें हमेशा वक्त पर सही टिप्पणी करती हैं।

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  30. बहुत बहुत बहुत खूब. दोहे के स्तर का ! वाह, मजा आ गया.

    ReplyDelete
  31. अपने फेसबुक पर भी शेयर किया ताकि कोई वंचित न रहे। वाह। https://www.facebook.com/abadhya

    ReplyDelete
  32. क्यों भड़काते हो बच्चों को,इनको तो जी लेने दो !
    आसानी से क्यों होते हैं, मौत के चरचे दुनियां में !
    ज़हरी बातें, नहीं सिखाओ,इन्हें प्यार से जीने दो !
    हमें पता है,स्वर्ग के दावे,कितने कच्चे दुनियां में !

    मरने के हो गए लाख बहाने ,मौत सस्ती
    अब जीने की कोई वजह नहीं मिलती
    सार्थक लगी ऊपर की पंक्तियाँ , सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  33. bharna ho bharo jara ,gadde nafrat ke
    prem ki gadi khati gacche duniya me

    ReplyDelete
  34. भरना है तो ,भर दो तुम, गड्डे किये जो नफ़रत के
    प्रेम भाव की गाड़ी खाती गच्चे इस दुनिया मे
    सुरेश राय 'सुरS'

    ReplyDelete
  35. बहुत खुबसूरत लिखते हैं आप ...........कई पढ़े पर हर जगह कमेन्ट करने में दिक्कत आ रही हैं क्यकी आपकी पोस्ट पर अनुभवी लोगों के कमेंटो की भरमार हैं हम न भी करे तो क्या फर्क पड़ने वाला ....आपका ब्लॉग कैसे ज्वाइन करे वह भी नहीं समझ आ रहा

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,