Monday, August 16, 2010

क्या हमारा मन आज़ाद है ? - सतीश सक्सेना

सुश्री डॉ अजित गुप्ता  की हाल की एक पोस्ट पढ़ कर, लिखने के लिए ,यह विषय मिल गया ! उनका कहना है कि मन आपके व्यक्तित्व की गिरफ्त में रहता है उसे आज़ाद कैसे कराएं  ? क्या यह कभी संभव हो पायेगा  ? 
बरसों से अर्जित, बड़प्पन की चादर को लेकर जीते हम लोग, ३०-४० साल तक कई बार सोचते भी थे कि इस चादर को फ़ेंक, बेफिक्री के साथ,बिना बड़प्पन की परवाह किये, हम भी यह गाना गा पायें कि ....
दिल करदा ...ओ यारां दिलदार मेरा दिल करदा
सदियों जहाँ में हो, चर्चा हमारा ......   
मगर  शालीनता , और सर्वजन सम्मानित हम लोग चाहते हुए भी यह हिम्मत नहीं कर पाते कि झमाझम होती वारिश में अपने घर के सामने बने पार्क में छप छप करते हुए दौड़ सकें... लोग कहेंगे कि भाई साहब को अथवा मैडम को  क्या हो गया है ? 
ख़ास से आम बनने का बड़ा मन है, मगर यह जगत सम्मान का प्रभामंडल लिए हम लोग चाहते हुए भी यह बेड़ियाँ नहीं काट पाते  ....
क्या आप लोग कुछ रास्ता सुझायेंगे हम लोगों को  ?? 

26 comments:

  1. सतीश जी,

    मन तो आज़ाद ही है,देख भी लिजिये कितना चंचल हुआ जा रहा है। आवश्यकता तो उसे आत्मवश करने की है।
    जिसे हम व्यक्तित्व के पाश में समझ रहे है,वह वस्तुतः हमारे 'मान'(इगो) के पाश में है।
    मान छोडते ही व्यक्तित्व खण्ड खण्ड हो जायेगा,मन इतना अनुशासनहीन हो जायेगा कि उसे पुन: आत्मवश करने की आवश्यकता पडेगी।
    यदि आत्मवश हो गया तो जीत है।

    ReplyDelete
  2. सतीश भाई पहली बात तो यही कि जिस गीत का आपने जिक्र किया है वह बहुत सकारात्‍मक गीत है। उसमें जो भाव हैं वे कतई ऐसे नहीं हैं कि जिनसे किसी का अपमान होता है। तो यह गीत तो मुझे लगता है आप गा ही सकते हैं।
    समाज से ज्‍यादा बंधन तो हमारे मन का ही है। केवल बारिश में छपछप करके दौड़ने की बात नहीं है। बस या ट्रेन में भी हम किसी महिला या बुजुर्ग को अपनी सीट देने के पहले इस दुविधा से कितनी बार गुजरते हैं कि जिसे सीट दे रहे हैं वह तो शुक्रिया कहेगा । लेकिन बाकी हमारे बारे में क्‍या सोचेगें। कैसा बेवकूफ है। लेकिन जब आप इससे उबर जाते हैं तो तुरंत खड़े हो जाते हैं।
    अगर सचमुच आपमें यह भाव आता है तो कभी देखिए कि आपके पहले अगर किसी और ने यह काम कर दिया तो आपके अंदर एक तरह की ग्‍लानि महसूस होने लगती है।
    तो मेरे हिसाब से सवाल यह है कि मन क्‍या कहता है। हां मन की बात भी मान से करो,अपमान से नहीं।

    ReplyDelete
  3. क्या आप लोग कुछ रास्ता सुझायेंगे हम लोगों को ??
    क्या फ़ायदा रास्ता सुझाने का। करियेगा अपने मन की ही ,जैसे करते आ रहे हैं। बेफ़ालतू में एक सुझाव बेकार कौन करे। :)

    ReplyDelete
  4. बारिश में छपछप करना भी कोई ऐसा काम है जिसके लिए सलाह ली जाए ...
    सामने वाले पार्क में नहीं तो ...आपका घर तो है ..बालकनी है ...छत है ...!

    ReplyDelete
  5. ये इमेज भी बड़ी कुत्ती चीज है !

    ReplyDelete
  6. सतीश भाई आभार कि चर्चा का आगे बढाया।

    ReplyDelete
  7. *********--,_
    ********['****'*********\*******`''|
    *********|*********,]
    **********`._******].
    ************|***************__/*******-'*********,'**********,'
    *******_/'**********\*********************,....__
    **|--''**************'-;__********|\*****_/******.,'
    ***\**********************`--.__,'_*'----*****,-'
    ***`\*****************************\`-'\__****,|
    ,--;_/*******HAPPY INDEPENDENCE*_/*****.|*,/
    \__************** DAY **********'|****_/**_/*
    **._/**_-,*************************_|***
    **\___/*_/************************,_/
    *******|**********************_/
    *******|********************,/
    *******\********************/
    ********|**************/.-'
    *********\***********_/
    **********|*********/
    ***********|********|
    ******.****|********|
    ******;*****\*******/
    ******'******|*****|
    *************\****_|
    **************\_,/

    स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  8. मन को ज्यादा आजादी के पर ना लगें तो ही बेहतर है क्यूंकि ये फिर कल्पना की उड़ान भरने लगता हैं ...मन तो घोडा है और इन्द्रियां उसकी लगाम ...ज्यादा ढील देना ठीक नहीं हैं ...

    ReplyDelete
  9. सेवानिवृत्त हो पटिये पर आने पर सब ठीक हो जाता है.

    ReplyDelete
  10. Satish Sir!! badi pyari baat kahi aapne......lekin ham to apne dil ko bas ye kah kar sab kuchh karne dete hain....."dil to bachcha hai jee"........:D

    ReplyDelete
  11. सुनो सबकी करो अपने मन की....अब जब व्यक्तित्व और कृतत्व मन से बड़े लगते हैं तब आप सोचने पर मजबूर हो जाते हैं ...
    जब मन इन सब पर हावी हो जाता है तो लोग क्या कहेंगे यह बहुत पीछे छूट जाता है ..

    ReplyDelete
  12. बड़ा मुश्किल है आज के युग में यह सब करना.

    मेरा ब्लॉग
    खूबसूरत, लेकिन पराई युवती को निहारने से बचें
    http://iamsheheryar.blogspot.com/2010/08/blog-post_16.html

    ReplyDelete
  13. mann azaad hota hai, agar pinjre me gaya to bhi hamare hi mann se .....

    ReplyDelete
  14. @अनूप शुक्ल जी ,
    वाह गुरु , खुद भी भड़के और औरों को भी भड़का रहे हो ! :-)

    ReplyDelete
  15. @ अरविन्द मिश्रा जी ,
    हा...हां.. हा...हा...
    सदाबहार अंदाज़ आपका ...मगर कह ठीक रहे हो

    ReplyDelete
  16. अजीत गुप्ता जी की यह पोस्ट वाकई अच्छी है
    और आपने भी चिन्तन का अवसर प्रदान किया है

    ReplyDelete
  17. सक्सेना साहब डा.अजित जी के ब्लॉग पर मैं यही कमेंट्स दे कर आई थी...व्ही यहाँ पेस्ट कर रही हूँ.


    डा.साहब वैसे हमारा किसी डा.को सलाह देना तो अजीब लगेगा ना ? लेकिन फिर भी हम इंडियन हैं न सलाह तो मुफ्त ही दिया करते हैं ..:)

    तो मेरी मानिए...इस हैसियत की पेहरन को उतार ही फेंकिये....वर्ना वो क्या कहते हैं चित्रगुप्त (यमराज) ने अगर पूछा की अपनी मर्ज़ी से जिंदगी जी है या नहीं और अगर आप ने ना में जवाब दिया तो वो आपको इस मृत्यु लोक में फिर से भटकने के लिए फैंक देगा. फिर आप अमरीका जैसे स्वर्ग को ढूँढती रहेंगी...(हा.हा.हा.)
    मेरी बाते बुरी लग रही हों तो क्षमा चाहूंगी.
    आपकी पोस्ट आँखे खोल देती है उन सब की जो अपनी केंचुल में छीपे रहते हैं..उन्हें हटा कर एक बार वास्तविक मजा ले जिंदगी का तो पाएंगे सच में की जिंदी हसीन भी है.

    ReplyDelete
  18. mere aane se poorv dono sandardhon me saari baaten ho li hain.....main to post ke sath sath sabhi tippaniyon se sahmat hoon.....


    shesh shubh..

    ReplyDelete
  19. बेड़ियाँ तो काटनी पड़ेंगी, नहीं तो हाथों में निशान पड़ जायेंगे।

    ReplyDelete
  20. और सर्वजन सम्मानित हम लोग चाहते हुए भी यह हिम्मत नहीं कर पाते कि झमाझम होती वारिश में अपने घर के सामने बने पार्क में छप छप करते हुए दौड़ सकें...





    kyun...?

    kyun nahin daud sakte...???

    ReplyDelete
  21. बहुत सटीक विचार, मन को कौन वश कर पाया है? ज्यादा से ज्यादा मन को thy will be done कहके समझाया जा सकता है. वर्ना तो जो है सो है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  22. आपको देश की स्वतंत्रता दिवस की बधाई.....
    आपको सलाह देने सूरज को दीपक दिखाने की बात है मेरे लिए। आप तो दूसरों को सलाह देते हैं...
    अपन तो खैर बारिश में जबतब भींगने का मजा लेते ही रहते हैं.वरना बारिश ही हमें धो देती है पकड़ कर। करता तो हूं मैं मन की....सत्तर फीसदी। अब ये मन उलटा पुलटा करता रहता है तो क्या करुं।

    ReplyDelete
  23. भाई सतीश जी!

    मन और व्यक्तित्व से संबंधित प्रश्नों को उठा आपने विचार-मंथन का रास्ता खोला है। ऑनरकिलिंग भी बड़प्पन की चादर से निकलती है। आखि़र दूसरे के जीने का हक़ छीन कर हम कैसे समाज का निर्माण करना चाह्ते हैं? हम बदलाव के बीच खड़े हो कर परिर्वतन के प्रवाह को रोक रहे हैं। प्रासांगिकता खो चुकी कुरीतियों को ढो़ रहें हैं।

    -----------------
    गोलियाँ ऑनरकिलर की
    प्रेमियों के चीथड़े हैं॥
    चाहती बदलाव दुनिया-
    हम न बदलेंगे, अड़े हैं॥
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  24. "तुम खुद ही अपने को बंदी बनाए हुए हो,इसलिए तुम्हीं अपने को स्वतंत्र करा सकते हो ,दूसरा कोई नहीं। "-------------ये पंक्तियाँ मैने मिसफ़िट पर १५ अगस्त को लिखी थी।
    ---और उपाय मै बताती हूँ जब मेराअ मन करता है --अपने बच्चों का हाथ पकडती हूँ और साथ मे करती हूँ----छ्प-छ्प......और ---
    "कुछ तो लोग कहेंगे --लोगों का काम है कहना छोडो बेकार की बातों में कहीं बीत न जाए बरखा---

    ReplyDelete
  25. सतीश जी ... बस ये छोटी मोटी बेड़ियाँ काटना मुश्किल होता है पहली बार ... एक बार मान को बच्चा बना लो फिर देखें कितना आनद आएगा ...

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,