Sunday, September 29, 2013

कुछ खस्ता सेर हमारे भी - सतीश सक्सेना

अनुराग शर्मा को समर्पित :

खस्ता शेरों को देख उठे, कुछ सोते शेर हमारे भी ! 
सुनने वालों तक पंहुचेंगे, कुछ देसी बेर हमारे भी !

भूखी डरपोक भीड़ कैसे, जानेगी वोट की ताकत को   
इस देश के दर्द में खड़े हुए,कुछ घायल शेर हमारे भी !

जैसे तैसे जनता आई ,कितना धीरज रख पायेगी ! 
कल रात से , अंडे सड़े हुए ले , बैठे  शेर  हमारे भी !

प्रतिभा लक्ष्मी का साथ नहीं बेईमानों की नगरी में ! 
बाबा-गुंडों में  स्पर्धा , घर में हों , कुबेर हमारे भी !

जाने क्यों वेद लिखे हमने,हँसते हैं अब,अपने ऊपर !
भैंसे भी, कहाँ से समझेंगे, यह गोबर ढेर, हमारे भी !

चोट्टे बेईमान यहाँ आकर,बाबा बन धन को लूट रहे ! 
जनता को समझाते हांफे, पुख्ता शमशेर हमारे भी !

फिर भी कुछ ढेले फेंक रहे ,शायद ये नींदें खुल जाएँ ! 
पंहुचेंगे कहीं तक तो प्यारे,ये कपोत दिलेर,हमारे भी !

32 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. बहुत सटीक और खस्ते शेर हैं -आपका विद्रोही स्वर मुखर हो गया है !

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय-

    ReplyDelete
  4. मार दिया पापड़ वाले को :)
    व्यंग्य, व्यंग्य में गहरी बातें. बाकी कुछेक को भी अवश्य जगायेंगी. आपकी पंक्तियों को देखकर कुछ शब्द ध्यान आये:

    ताऊ का बिन्नेस सांचे का, कोयले* की दलाली कोइ नहीं
    जड़ खोद चमकते क्रोडपति जन-प्रतिनिधि कई हमारे भी
    (*कोयले को सुई से लेकर बोफोर्स तोप तक किसी भी शब्द से बदला जा सकता है)

    नींद खुले मेहनतकश की जो घोड़े बेचके सोया हो
    पट्टी काली स्वर्णिम खाटें साथी मासूम हमारे भी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका और उन खस्ता शेरों का जिनसे प्रेरणा लेकर यह रचना बनी ...
      :)

      Delete
  5. मेधावी, देश से बाहर हैं , गुंडे सब राजनीति में हैं !
    बाबा-गुंडों में स्पर्धा , घर में हों , कुबेर हमारे भी !

    वैसे हर शेर में व्याग का पुट है और सटीक है
    नई पोस्ट अनुभूति : नई रौशनी !
    नई पोस्ट साधू या शैतान

    ReplyDelete
  6. जय हो, भाव खुलकर बह रहे हैं।

    ReplyDelete
  7. शेर घूमते खस्ते-सस्ते इनके उनके द्वारे जी।
    सोच रहा हूँ टहला लाऊँ हँसते शेर हमारे भी॥

    ब्लॉग जगत में खुली छूट है चाहो जैसी बात करो।
    गीत कहानी शेर रुमानी सब प्रिय हुए हमारे भी॥

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप आपने हँसते शेरों को हमारे द्वारे ले आये :)
      रौनक आ गयी सरदार !
      आभार ! :)

      Delete
  8. हम भी कुछ ढेले फेंक रहे ,शायद कुछ नींदें खुल जाएँ !
    पंहुचेंगे कहीं तक तो प्यारे,ये कपोत दिलेर,हमारे भी ...

    पहुँच गए आपके सभी शेर ... दिल से दिल तक ... ओर आपका सन्देश भी ...
    सभी शेर लाजवाब हैं ...

    ReplyDelete
  9. आपके दिल का दर्द सभी लोगों का है पर क्या किया जा सकता है यह जमाना ही ताऊओं और उसकी भैंसों का है.

    शानदार रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. वाकई खस्ता शेर है सभी !

    ReplyDelete
  11. बहुत बढिया..शानदार रचना,

    ReplyDelete
  12. इस पोस्ट की चर्चा, मंगलवार, दिनांक :-01/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -14पर.
    आप भी पधारें, सादर ....राजीव कुमार झा

    ReplyDelete
  13. सुंदर लेखन |

    ReplyDelete
  14. हम भी कुछ ढेले फेंक रहे ,शायद कुछ नींदें खुल जाएँ !
    पंहुचेंगे कहीं तक तो प्यारे,ये कपोत दिलेर,हमारे भी !

    .....लाज़वाब...

    ReplyDelete
  15. ये चलन प्रचलन में है ......बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
  16. सत्य बातो को एक सूत्र में पिरोया है , ढेरो शुभकामनाये

    ReplyDelete
  17. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १/१० /१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चामंच पर की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  18. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १/१० /१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चामंच पर की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  19. आह को चाहिए इक उम्र असर होने तक...आपकी कोशिश रंग लाये...ऐसी मेरी दुआ है...साधुवाद...

    ReplyDelete
  20. बहुत ही बढ़ियाँ...
    बेहतरीन :-)

    ReplyDelete
  21. दिल द्रोही सेर है आपके :)

    ReplyDelete
  22. सटीक चोट--खस्ते गीत आपके सच में खास्ता है।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,