Friday, June 11, 2010

जीना इसी का नाम है - सतीश सक्सेना

आज सुबह मोहल्ले में एक स्वर्गीय मित्र के बेटे को काफी दिन बाद देखा तो रुक गया , लगा कि अस्वस्थ है तो स्नेहवश पूछ बैठा, क्या बात है ?

"अब उमर भी तो हो चली है " यह जवाब था उस ४१-४२ वर्षीय जवान का , सुनकर मैं काफी देर तक सोच रहा था कि यह धीर गंभीर लड़का,अपने पिता के जाने के बाद ,बरसों से हँसना छोड़, अपने घर का बुजुर्ग बन चुका था ! मुझे लगता है, इस प्रकार अपने आप को, अनजाने में दी गयी आत्मसलाह, हमारा मस्तिष्क बहुत गंभीरता से लेता है और शरीर उसी प्रकार अपने आपको ढालने लग जाता है ! और अगर एक बार आपका अवचेतन मन यह स्वीकार कर ले कि आप अस्वस्थ हैं ,बूढ़े हैं, तो इससे उबरने में बहुत देर हो जाती है ! अधिकतर हम अपना "अच्छा " "अच्छा " बताने में ही अपना जीवन काट देते हैं , "सब लोग क्या कहेंगे " के चक्कर में बहुत सा "सुन्दर" छिपा लेते हैं, जो हमें सबसे अच्छा लगता है !

मुझे याद है लगभग ७५  वर्षीय स्वर्गीय गोपाल गोडसे से, जब मैंने पहली बार, कनाट प्लेस के एक रेस्टोरेंट में, उनसे पूछा था कि आप क्या पीना पसंद करेंगे तो उन्होंने निस्संकोच बीयर पीने की इच्छा व्यक्त की और उनके व्यक्तित्व से अचंभित,प्रभावित मैं, वह मीटिंग कभी नहीं भुला पाया  !

पीसा की झुकी मीनार ,एफिल टावर और माउन्ट टिटलिस  के फोटो जो हजारों बार लोगों ने देखे हैं , ब्लाग पर प्रकाशित कर, क्या नया दे पाऊंगा ? बेहतर समझता हूँ कि ईमानदारी के साथ मैं लोगों को यह बताऊँ कि यूरोप प्रवास के उन्मुक्त वातावरण में जितनी वाइन की चुस्कियां लीं, उतनी शायद पूरे साल में नहीं पी होगी ! अगर इस भावना के साथ, मैं एक भी हताश पाठक को,हँसते हुए जीना सिखा पाया तो यह लेखन सफल हो जायेगा ! बचपन से याद किसी अज्ञात लेख़क की कुछ लाइनें, आपकी नज़र हैं जो सर्वथा सच हैं ...

क्षणभंगुर जीवन की कलिका , कल प्रात को जाने खिली न खिली 
मलयाचल की शुचि शीतल मंद ,  समीर  न  जानें , बही न बही  !
कलि काल कुठार लिए फिरता , तन नम्र से चोट झिली न झिली ,
भजि ले हरि नाम अरी रसना, फिर अंत समय में  हिली न हिली ! 

36 comments:

  1. मैं तो अभी भी ख़ुद को 14 साल का ही समझता हूँ.... और चौदह का ही फील करता हूँ..... इसलिए बाल तरुणाई अब भी है....

    ReplyDelete
  2. आज जीने और जिन्दगी के मायने ही बदल गयें हैं ,लोग सिर्फ और सिर्फ अपने बारे में सोचते हैं ऐसे में गंभीरता से दूसरों के बारे में सोचना अपने आप में उम्दा और बेहद सराहनीय कार्य है साथ ही हमें अपने बारे में हमेशा आत्म मंथन कर यह जरूर सोचना चाहिए की हमारा जीवन किसी को ठगने,लूटने या किसी को मौत के मुंह में धकेलने से तो नहीं चल रहा है अगर ऐसा है तो निश्चय ही हमें अपने आप में तुरंत बदलाव करना चाहिए अन्यथा हमारा जीवन कितना भी ऐसो आराम में क्यों न बीत रहा हो लेकिन असल में वो मौत से भी बदतर है ?

    ReplyDelete
  3. मुझे लगता है अभी तो जीवन आरंभ ही हुआ है।

    ReplyDelete
  4. जिन्दगी जिन्दादिली का नाम है
    मुर्दादिल क्या खाक जिया करते है

    ReplyDelete
  5. जिन्दगी जिन्दादिली का नाम है
    मुर्दादिल क्या खाक जिया करते है

    ReplyDelete
  6. मन के हारे हार है, मन के जीते जीत ।
    युवा रहेंगे सदैव ।
    सुन्दर लेख, सुगढ़ काव्य ।

    ReplyDelete
  7. भावपूर्ण संस्मरण ..... बढ़िया प्रस्तुति ..आभार

    ReplyDelete
  8. आपको पढना हमेशा सुखदायी होता है। एक और सुन्दर प्रस्तुति के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  9. महत्वपूर्ण पोस्ट, साधुवाद

    ReplyDelete
  10. "जीना इसी का नाम है"

    ReplyDelete
  11. वाह बहुत सुन्दर लिखा है।

    ReplyDelete
  12. जिन्दादिली जिन्दगी को जिन्दगी बनाकर रखती है वर्ना तो शोक मनाने के तो अनगिनत कारण है ही. अंतर्मन को स्वस्थ रखना जरूरी होता है.
    और फिर बीयर और चीयर में कुछ तो समानता तो होगी ही.

    ReplyDelete
  13. मन तो तृप्त हो गया पोस्ट पढ़ कर सतीश जी मगर यह रसना नहीं -इसके लिए कब ,कहाँ और क्या आफर कर रहे हैं ?

    ReplyDelete
  14. सतीश भाई, बहुत बढ़िया लिखा आपने ! यह सच है हम जैसा सोचते है वैसा ही हमारे स्वभाव में बदलाव आता है !

    ReplyDelete
  15. बढ़िया प्रस्तुति ..आभार

    kripya meri madad kijiye. aaj maine jab apne blog ka template badla to mere blog ke sare postings dikhai nahi de rahi , blog gayab sa ho gaya hai . please koi madad kar sakte hai to isi post par kare ya mera email hai
    swvnit@yahoo.co.in

    ReplyDelete
  16. वाइन की चुस्कियां आपने लीं
    और झूम वहां के टॉवर रहे हैं
    कहीं टेढ़े, कहीं तिरछे
    ऐसा ही होता है सतीश भाई।

    ReplyDelete
  17. शराब की वजह से तो अब तक लोगोँ का बर्बाद होना सुनते आये हैँ । क्योँ साहेब ?

    ReplyDelete
  18. बड़े मनचले और गंभीर लोग आ गये है जवाब देना ही पड़ेगा !

    @अरविन्द मिश्र,
    आपका मन तृप्त हुआ अच्छा लगा, रसना के लिए फैसला आप पर छोड़ते हैं, देश या विदेश आप जहाँ कहें, वायदा रहा !

    @ डॉ अनवर जमाल,
    आखिर आपको भी वाइन के कारण, यहाँ आकर टिप्पणी करने को मैंने मजबूर कर दिया हा...हा...हा....हा....
    मैं शराब का कतई शौक़ीन नहीं हूँ, कोई ऐब नहीं आपके इस दोस्त में, इंशाअल्लाह अगर सुबह को चाय भी कभी मैडम के खराब मूड के कारण ना मिले तो बिलकुल तलब नहीं होती ! आज तक कभी अकेले नहीं पी मगर अगर अरविन्द मिश्र जैसे मित्र आग्रह करें तो पीना और पिलाना जायज मान लेता हूँ ! आशा है इसके बावजूद आप जैसे सूफी मित्रों की नज़रे इनायत बनी रहेगी :-)

    ReplyDelete
  19. सार्थक पोस्ट....ज़िंदगी जीना ही तो कला है...मौत का क्या वो तो आनी ही है..

    ReplyDelete
  20. अर्ज किया है.
    लोग न जाने क्यों गुनगुनाना भूल बैठे हैं
    हम तो हर पल जीने का बहाना ढूँढ लेते हैं.

    ReplyDelete
  21. bahut hi sunder post hai... avchetan man wali baat bahut achhi lagi , mein bhi isse sehmat hoon... :)

    ReplyDelete
  22. सतीश जी , हम तो अभी २५ के ही हुए हैं ।
    जी हाँ , मैंने हाल ही में अपने birthdays की सिल्वर जुबली मनाई है ।
    दूसरी बार । :)
    ये कैसी रही ।

    ReplyDelete
  23. क्या बात कही है बहुत खूब , दोहा याद आ गया मन के हारे हार है ,मन के जीते जीत .....

    ReplyDelete
  24. jab subah need khulti hai to apne apko taro taja samjhta hun. aur Surya Dev ko namaskar karke naye din ki shuruwat. Buda to sharir hota hai man nahi.

    Ab to online pine pilane ki bate hone lagi hain.

    ReplyDelete
  25. jis manassthiti me hun bawajood aise haal me bhi yahi kahne ka man hai
    saaqi sharab peene de masjid me baithkar
    ya vo jagah bata de jahan khuda n ho

    ReplyDelete
  26. बहुत ही उम्दा लेख.

    ReplyDelete
  27. ऐसा है तो फिर किसी दिन आपको हम वो शराब पिलायेँगे जिसका ज़िक्र 'दीवान ए हाफ़िज़' मेँ है ।

    ReplyDelete
  28. Kabhi Palkoon Pay Ansoo Hain Kabhi Lab Per Shikayat Hay
    Mager Aee Zindagee Phir Bhi Mujhay Tujh Say Mohabbat HAY

    ReplyDelete
  29. आपकी निकाली तस्वीर बहुत खूबसूरत है और प्रेरणा देती ये पोस्ट भी..

    ReplyDelete
  30. सही सलाह है..सब मन का खेला है.

    यहाँ भी चले आते तो कुछ चुस्कियाँ और हो लेतीं. :)

    ReplyDelete
  31. किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार
    किसी का दर्द मिल सके तो ले उधार
    किसी के वास्ते हो तेरे दिल में प्यार
    जीना इसी का नाम है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  32. दादा आपने अपने मित्र के पुत्लिर ये कहा उसे मै खुद
    अपने जीवन मे भोग चुका हू. आपने याद दिला दी अब एक पोस्ट लिखनी पडेगी इस पर.

    ReplyDelete
  33. सब अपने समझने के बात है कहा गया है मन के हारे हार है मन के जीते जीत..हमें कभी नही समझना चाहिए की उम्र हो गई क्योंकि जीवन हर दिन शुरू होता है और बात आत्मविश्वास की है वो है तो कोई कभी बूढ़ा नही होता....बेहद सुंदर संस्मरण...यूरोप यात्रा सचित्र बढ़िया लगा...प्रणाम चाचा जी

    ReplyDelete
  34. मजे हैं मजे लिये जायें।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,