Saturday, June 12, 2010

एक विश्वास यह भी - सतीश सक्सेना

डिस्नेलैंड  पेरिस के अन्दर ही एक होटल ,मैजिक सर्कस में ठहरना हुआ था , नाश्ते के समय साथ एक यूरोपियन दम्पति भी अपने लगभग डेढ़ साल के बच्चे के साथ नाश्ता कर रहे थे  ! नाश्ते के दौरान माँ ने अपने बच्चे की कोई मदद नहीं की और मैं अपना नाश्ता भूल उस नन्हे स्मार्ट का नाश्ता करते हुए देखता रहा ! वाकायदा चाकू छुरी  का समुचित उपयोग करते , इस आत्मविश्वासी शिशु  का यह फोटो  मुझे डिस्ने लैंड की हमेशा याद दिलाएगा !


          मुझे आपने परिवार में, इसी की हमउम्र टिन्नी की याद आ गयी जो हम सबकी लाडली और अधिक केयर रखने की बदौलत  आज भी शायद  इस प्रकार खाना नहीं सीख पायी है !
          क्या अधिक संरक्षण और अपने बच्चे की बुद्धि पर भरोसा न करते हुए हम लोग, उसका आत्मविश्वास  तोड़ने के अपराधी नहीं हैं  ?

29 comments:

  1. arewa ah bahut pyaara bachcha hai...

    ReplyDelete
  2. we always treat out kids as kids and dont allow them to grow up . This is exactly what i said few days back in 2 of your posts . We need to treat individuals as individuals

    i thought you went with your family

    looks like you went alone

    In 1992 when i went to bremen germany alone my parents were on tether hooks and lo and behold in germany in a restaurant i found a bunch of kids not more than 6 years all alone enjoying pizza party . ordering what they like , making payments etc

    good post

    ReplyDelete
  3. अरे वाह इस नन्हे स्मार्ट की ये अदा हमे भी बेहद पसंद आई....
    regards

    ReplyDelete
  4. अरे वाह इस नन्हे स्मार्ट की ये अदा हमे भी बेहद पसंद आई....
    regards

    ReplyDelete
  5. hum sab shayad apne bachchon ki jaroorat se jyada dekhbhaal karte hain, isliye kabhi kabhi vah aathnirbhar bahin ban paate,

    aapne bahut badiya baat se roobroo karaaya, dhnyvad

    http://sanjaykuamr.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. पोस्ट सँजो लिया है। श्रीमती जी लौट कर आती हैं तो दिखाना है :)

    बच्चे को आप की नज़र तो नहीं लगी? फोन कर पूछ लीजिए। लग गई हो तो लोहबान वगैरह के टोटके भी बता दीजिएगा। ;)

    ReplyDelete
  7. सही है,
    ग्रीष्म ऋतु में वर्ष भर पुराने एक पौधे को खूब पानी देते रहें, और दूसरे को प्रकृति के भरोसे छो़ड़ दें। दूसरे पौधे की जड़ें पानी की खोज में भूमि में बहुत नीचे तक चली जाती हैं, और वह टिकाऊ बन जाता है। दूसरा वृक्ष अधिक हरा अवश्य नजर आएगा। लेकिन मूल के गहराई तक न होने के कारण आंधी में शायद गिर जाए।

    ReplyDelete
  8. सर!
    देखा जाये तो आदमजात की इतनी कुव्वत ही नहीं कि बच्चों को पैदा कर सके.
    बच्चों के पैदा होने में मां-बाप माध्यम ज़रूर बनतें हैं पर वो पैदा करतें हैं? ज़रा गम्भीरता से सोचें??
    निरही बच्चे को पहले परिवार और फिर समाज अपने आग्रहों पूर्वआग्रहों के बोझ से मार डालता है. बच्चे अपनी-अपनी मालिकित का एलान भर हैं.
    मां बाप के अधूरे सपनें पूरे करने के अहंकार के साधन... "मेरा बच्चा सबसे आगे" में "मेरा" महत्पूर्ण साध्य है, "बच्चा" तो साधन भर र्है! क्यों भूलते हैं हम जो अस्तित्त्व संसार में लाता है वही हमें सम्भालता भी है ताउम्र...

    किसी शायर की दो लाइनें स्मरण हो आयीं :
    बच्चों के नन्हें हाथों को छू लेने दो चादँ सितारे!
    चार किताबें पड़कर फिर ये भी, हम जैसे हो जायेंगें!!

    ReplyDelete
  9. बहुत सही कहा आपने ...........कभी कभी अधिक संरक्षण और अपने बच्चे की बुद्धि पर भरोसा न करते हुए हम लोग, उसका आत्मविश्वास तोड़ डालते है !

    ReplyDelete
  10. हम हमेशा अपने बच्चों के सामने यह बताने की कोशिश करते हैं की जैसे हम सब जानते हैं... और बच्च्चा मान लेता है..हमने भगवान् को नहीं देखा और कह देते हैं की भगवान् होता है.. यही बात बच्चों को लेकर ओवर पोजेस्सिव होने में किए जाने वाले नुक्सान की है...

    ReplyDelete
  11. उम्दा विचारणीय प्रस्तुती ....

    ReplyDelete
  12. इक बार में बेरूत के AIRPORT पर था बोर्डिंग के लिए लाइन में लगा था , मेरे आगे इक साऊदी फैमिली खड़ी थी उनके साथ एक प्यारी सी बच्ची थी , बच्ची खेलते हुए गिर गयी में जैसे ही उसको उठाने के लिए आयेज बढ़ाँ बच्ची के बाप ने मुझे रोक दिया, कहने लगा इस को खुद खड़ा होने दो, इस को अभी से आदत पड़नी चाहिए. में सोच रहा था की हम होते तो कितनी संवेदनशीलता दिखाते.

    ReplyDelete
  13. कुछ लोग दिल से सोचते हैं कुछ लोग दिमाग़ से सोचते हैं...

    ReplyDelete
  14. @-क्या अधिक संरक्षण और अपने बच्चे की बुद्धि पर भरोसा न करते हुए हम लोग, उसका आत्मविश्वास तोड़ने के अपराधी नहीं हैं ?

    A very significant question came in your mind.

    Over protective parents hamper the normal growth of our children.

    Many times when i counsel such parents, they are averse to such advices. They are not ready to understand. Simply stuck with their beliefs.

    If we really want our child to be independent and confident, we must follow west. Unfortunately we are following the Live-in- relationship theory , but not this attitude from them.

    Parents, who treat their kids as individuals and infuse confidence in them to survive all kind of situations and hardships are genuinely admirable.

    Divya

    ReplyDelete
  15. सतीश जी , इसे देखकर वो बात याद आ गई --उत्थे ते बच्चा बच्चा अंग्रेज़ है जी ।
    अब अंग्रेज़ का बच्चा तो अंग्रेज़ ही बनेगा जी ।

    ReplyDelete
  16. सांस्कृतिक अंतर का एक महत्वपूर्ण बिन्दु उठाया आपने ।

    ReplyDelete
  17. दर-असल इस मामले में भी हमें सहनशीलता दिखानी चाहिए. बच्चे को स्वयं अपने ऊपर आत्मविश्वास पैदा करने में मदद करनी चाहिए. लेकिन हमारा प्यार इस सोच पर भारी पड़ जाता है.

    ReplyDelete
  18. हम बच्चों को लेकर ज्यादा नर्वस रहते हैं -
    मगर वह बच्चा अभी सीख ही रहा है!
    उसे सीखने के लिए -सेल्फ रिलायांट होने की बहुत बचपन से ट्रेनिंग दी जा रही है -१८ -१९ वर्षों में माँ बाप को छोड़ चल देगा
    मगर अपने यहाँ का वात्सल्य प्रेम बच्चों को दुलार की पिलई बना देता है जीवन भर माँ बाप की छाती पर मूंग दलते रहते हैं !

    ReplyDelete
  19. आत्मविश्वास बचपन से ही पैदा किया जाता है………………एक उम्दा आलेख्।

    ReplyDelete
  20. Post jitni badiya Tippaniyan us se jyada badiya parantu main Dr. Arvind Mishra ji se sahmat hoon.


    aaj poora din 15-16 gilas pani, 3 kg Tarbooj 1 chay (Sorry) 1.5 cup tomoto soup bus..kal ki kal dekhenge lekin subah 9 baje wt. tha 90.150 sham 7.30 baje wt. tha 89.350

    pet theek hai.. koi haiza-vaiza nahi hua..filhaal...

    ReplyDelete
  21. काफी हद तक आप सही कह रहे हैं.. पर पूरी तरह से सहमत नहीं.. उसके कारण हैं. कभी मिलेंगे तो मिलकर ढेरों बात करेंगे आपसे... और हाँ ये तस्वीर आपने इज़ाज़त ले के निकाली थीं ना? वर्ना बहुत बवाल होता है यहाँ बच्चों कि तस्वीर बिना पूछे निकलने पर. मैंने क्रच में निकाल ली थीं.. मुझसे तो कुछ नहीं कहा पर मेरे जिस फ्रेंड का बच्चा वहाँ का मेंबर था उनसे शिकायत कर दी थी..

    ReplyDelete
  22. बिलकुल सच कहा आपने.अपनी गलतियों से ही सीख कर आत्मविश्वास आता है बच्चे में, एक बार ऐसा ही कुछ हम भी देख हैरान हो गए थे .शिकागो में एक स्विम्मिंग पूल में हमने देखा कि बच्चों के पूल में एक पिता ने अपने ९ माह के बच्चे को डाल दिया और वो बच्चा आराम से तैरने लगा .हमने हैरान होकर पूछा तो उसने कहा कि उसने बच्चे को ६ माह में ही एक छोटे से पूल में छोड़ दिया था और वो बच्चा हाथ - पाँव मरने लगा और तभी से तैरना जनता है .

    ReplyDelete
  23. सच है अधिक संरक्षण से बच्चों के सेकने में अवरोध आता है

    ReplyDelete
  24. Aat wishwas to tod dete hain...apni galti sweekarna bhi nahi sikhaya jata..gar bachha table se takraye,to 'is table ne mara mere bachhe ko? Chalo ham bhi use marenge'...galti table ki...zindageebhar aise log doosaron ka scapegoat banate rahte hain! Kyonki unse kabhi galati ho hi nahi sakti!

    Aap "arthi to uthi....' me us ladki ke baare me jaanna chahte hain..gar mujhe e-mail ID mile to bata sakti hun..scrap pe likhna mauzoom nahi hoga!

    ReplyDelete
  25. बच्‍चों पर कोई बात छोड दें तभी तो वे स्‍मार्ट बनेंगे .. हम भारतीय अपने बच्‍चों को पराधीन बना देते हैं !!

    ReplyDelete
  26. सुन्दर पोस्ट है। कल ही दिल्ली एयरपोर्ट पर एक बच्ची मिली जो मसूरी में कक्षा नौ में पढ़ती है और अकेले कानपुर आ रही थी। उससे बात करने के बाद अचानक अपना छोटा बेटा याद आया जिसको हम अकेले बाजार नहीं भेजते बावजूद उसके यह कहने पर - पापा अब मैं बड़ा हो गया हूं।

    ReplyDelete
  27. क्या अधिक संरक्षण और अपने बच्चे की बुद्धि पर भरोसा न करते हुए हम लोग, उसका आत्मविश्वास तोड़ने के अपराधी नहीं हैं ...
    सहमत हुआ जा सकता है मगर अभिभावकों के आस पास के माहौल पर भी निर्भर करता है ...
    आये दिन सुर्खिया बने किस्से डराते भी तो हैं ...
    संरक्षण और आजादी दोनों ही संतुलित होनी चाहिए ...!!

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,