Wednesday, August 4, 2010

काऊ दिन उठ गयो मेरो हाथ, बलम तोय ऐसो मारूंगी -सतीश सक्सेना

आज जब भी भारतीय पारिवारिक संस्कृतिक उत्सव और शादी समारोहों में डी जे स्टेज देखता हूँ, मुझे वे मधुर कर्णप्रिय गीत याद आते हैं जो अपनी मधुरता के साथ, साथ प्यार का एक सन्देश भी देते थे ! उस मधुरता पर आज भी सैकड़ों डी जे गाने न्योछावर करने का दिल करता है !   


शादी की तैयारियों के साथ साथ नवविवाहिता का श्रंगार और उसको वर्णन करता यह गीत दिल में झंकार पैदा कर देता है !  बन्नों तेरी अंखिया सुरमे दानी    , इस तरह बन्नों की भाभियाँ और बहिने ,उसके वस्त्रों गहनों और रूप की तारीफ़ कर, उसको हंसाने और अपना घर छोड़ने की तकलीफ भुलाने में कामयाब रहती थीं ! 


लोकगीतों में प्यार की अभिव्यक्ति को याद करें तो हाल का ही यह मशहूर मधुर गीत जिसमें अपने सैयां के प्यार में डूबी नवविवाहिता, अपनी ससुराल की सारी परेशानियों को कैसे हँसते हँसते स्वीकारती है ,  सास गारी देवे, देवर जी समझा लेवे, ससुराल गेंदा फूल  !


३५ -४० साल पहले सुना, ब्रज भाषा के एक लोकगीत का मुखड़ा और उसकी धुन आज तक याद है ,शादी व्याह के अवसर पर महिलाएं अपने पति के प्रति पर अपने प्यार का इज़हार, गुस्से के प्रदर्शन के साथ , कुछ ऐसे करती थीं ...


   "काहू दिन उठ गयो मेरो  हाथ, बलम तोहे  ऐसो मारूँगी  !
   ऐसो मारूंगी ...बलम तोहे ऐसो मारूंगी ..काहू दिन उठ गयो ...   


कितना प्यार छिपा है, इस मारने की धमकी में , मगर लोक चरित्र को पहचानने वाले अब कितने हैं जो इन लाइनों में छिपे प्यार को पहचानते हैं !


और अंत में  " दल्ली सहर में म्हारो घाघरो जो घूम्यों ..." लोकगीतों को आधुनिक समय में लोकप्रिय बनाने के प्रयत्नों में, इला अरुण का नाम नहीं भुलाया जा सकता ! गज़ब की आवाज़ और अंदाज़  के साथ उनको सुनते हुए, लगता है गाँव के मेले में बैठे हों  !  
( चित्र गूगल से साभार )

37 comments:

  1. बेहतरीन पोस्ट...आनन्द आ गया. बन्नों तेरी अँखिया...क्या बात है.

    ReplyDelete
  2. सक्सेना साहब,
    दिल को छू गई आपकी बातें। जो लोकगीत थे, उनमें प्यार, दुलार, अपनापन जैसी चीजें शामिल थीं जबकि आजकल के गाने सिर्फ़ पैसे और मौजमस्ती के उद्देश्य से लिखे जाते हैं। यही वजह है कि इन गानों की कोई उम्र नहीं है और वो लोकगीत या पुराने गाने सर्वकालिक हैं।

    ReplyDelete
  3. काहे न पूरा छाप दिया ये लोकगीत?

    ReplyDelete
  4. सच में ही लोकगीतों का तो कहना ही क्या । बहुत ही प्यारी पोस्ट .अच्छा लगा पढकर

    ReplyDelete
  5. धत्त! सोचा पूरा गीत होगा. ऑडियो भि सुनने को मिलेगा. कम से कम पूरा गीत ही लिख देते,धुन तो मैं जोड़ जाड कर सेट कर लेती.बच्चे की शादी में खूब मजा लेती' "काहू दिन उठ गयो मेरो हाथ, बलम तोहे ऐसो मारूंगी''
    लोक गीतों की मधुरता आज भी कानों में रस घोल देती है.मेरी दादी हर तीज त्यौहार,रस्म मौके के लोक गीतों को गाने में 'मास्टर' थी पर अफ़सोस मैंने उनसे कुछ नही सीखा.
    इतना प्यारा आर्टिकल जो लिखा है ना उसकी ये 'सजा' है कि मुझे कैसे भी करके कहीं से भी ये गीत ला कर दो.
    'इन्हें' छेड़ूँगी गा गा के आदित्य की शादी में.
    हा हा हा
    प्यार

    ReplyDelete
  6. @ इंदु पुरी,
    तुम्हारे आने से इन लोक गीतों में झंकार आ गयी इन्दु माँ !

    यह गीत ६५ में मथुरा में कहीं सुना था इसका सिर्फ एक दो लाइनें ही याद हैं ...आप कहो तो उसपर पैरोडी कर सकता हूँ .. जो लाइने मुझे याद हैं, वे निम्न हैं


    बलम तोय ऐसो मारूंगी
    कहू दिन उठ गयो मेरो हाथ
    सजन तोय ऐसो मारूंगी ....
    चिमटा मारूंगी, बलम
    तोहे झाड़ू मारूंगी...

    शायद ब्रजभाषा में गाये जाने वाले रसिया सम्बन्धित किसी किताब में यह मिल जाए !
    मेरा विचार है कि ब्लाग जगत में ब्रज क्षेत्र के कई विद्वान् कार्यरत है वे मदद करें तो यह गीत मिल सकता है ! आप गूगल बज पर अपील करें तो शायद काम बन जाए !

    ReplyDelete
  7. सतीश जी
    भई बडा मजा आ गया ।

    ये दो ही लाइनें बचपन की याद दिला देती हैं ।

    पर इन्‍दु जी की ही इच्‍छा मेरी भी है,

    अगर कभी ये गीत पूरा मिल जाये तो प्रकाशित जरूर करियेगा ।


    धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  8. Satishjee lok geeto kee ek alag hee mithas hai..................

    Meree pasand ka ek lok geet hai aapne bhee avashy hee suna hoga.......... jisme patnee apane pati ko kajaj bana aankho me laga palko me band rakhana chahtee hai..........Amazing..............

    than kajliyo banaloo
    mhar hivda s lagaloo
    than palka m band kar
    rakhoolee..................

    isme pati patnee douno ke hee samvad bhav vibhor kar dete hai........

    agalee post aapkee post se prerit ho ek marwadee lokgeet apanee post ko dungee usase bachpan kee bahut yade judee hai.....

    aapkee post sadaiv jeevan se kuch aur jod jatee hai.....
    Aabhar.

    ReplyDelete
  9. mharee aankhya m lagaloo........ye sahee pankti hai....

    ReplyDelete
  10. लोकगीतों की मिठास बताती उम्दा पोस्ट ....आज भी शादी ब्याह में खूब प्रचलन है इन गीतों का ...

    ReplyDelete
  11. lok geet ki meethas..........aapke post aur fir comments me bhi dikh rahi hai.......:)

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर लगा आज आप को पढना

    ReplyDelete
  13. लोकगीतों की मिठास आज कहाँ………………आपने सही कहा बस अबतो यादो मे ही बसते हैं।

    ReplyDelete
  14. लोकगीतों पर पोस्ट लिखकर लोक गीतों के लोक में पहुंचा दिया |जहाँ अपनापन है ,भावनाए है |समय कितनी तेजी से बदल रहा है फिल्मो का लोक जीवन पर गहरा असर है \अभी कुछ दिन पहले गाँव जाना हुआ था पडोस में सोहर के गीतों का कार्यक्रम था \मै ये सोचकर गई थी चलो पारम्परिक गीत सुनने को मिल जावेंगे |किन्तु सरे गीत फ़िल्मी गीतों की तर्ज पर थे |निराशा ही हाथ लगी |ऐसे ही अप्रेल के महीने में पहाड़ो पर जाना हुआ डराईवर से कहा आपके पास कोई पहाड़ी लोक गीतों की सी दी बजा दो तो उसने भी पहाड़ी बोली के फ़िल्मी तर्ज के गाने लगा दिए |खैर
    अम्मा मेरे बाबा को भेजो री
    के सावन आया ......
    नन्ही नन्ही बूंदिया रे
    सावन का मेरा झूलना.....
    उठी तन मन में हर्ष हिलोर
    रचाई मेहँदी हाथो में .......
    ऐसे कई गीतों की याद दिला दी आपने \\
    धन्यवाद |
    और बड़ी होने के नाते धैर्य रखने आशीर्वाद आपके साथ है और साथ ही ढेर सारे आशीर्वाद और शुभकामनाये |

    ReplyDelete
  15. सतीश भाई साहब,

    बस थोडा सा इंतज़ार कर लीजिये ..............कार्तिक के विवाह में आप सब को माथुर चतुर्वेदी समाज के बहुरंगी विवाह गीतों का वह आनंद मिलेगा कि आप भी क्या याद रखेंगे ! बस थोडा सा सब्र करें !

    ReplyDelete
  16. सतीश भाई साहब,

    बस थोडा सा इंतज़ार कर लीजिये ..............कार्तिक के विवाह में आप सब को माथुर चतुर्वेदी समाज के बहुरंगी विवाह गीतों का वह आनंद मिलेगा कि आप भी क्या याद रखेंगे ! बस थोडा सा सब्र करें !

    ReplyDelete
  17. लोकगीतों में शादी व्याह में गाली की भी परम्परा भी है जिसे महिलायें बड़े मनोयोग से गाती हैं -कभी उस पर भी ..
    झप झप बरसे बदरी ....दुल्हे का भाई छिनरा ...बहन **री ..अरहर के खेत में छितरी ....अरे यह मैं क्या लिख रहा हूँ -सभी समाज में तो निषेध है इसका !

    ReplyDelete
  18. बड़े सुन्दर सुन्दर गीतों में घुमा लाये आप।

    ReplyDelete
  19. वाह सतीश जी । लोकगीतों के बारे में पढ़कर आनंद आ गया । हमें तो --सास गारी देवे --सबसे बढ़िया लगता है ।

    ReplyDelete
  20. बहुत बढ़िया , लोक गीत का अपना अलग ही मजा हैं, लेकिन बड़े भाई एक बात बताइए इसकी जरुरत अभी क्यों आन पड़ी, कंही भाभी जी से कुछ खटपट.................... न न ये तो चलता रहता हैं.

    ReplyDelete
  21. बलम तोय ऐसो मारूंगी
    कहू दिन उठ गयो मेरो हाथ
    सजन तोय ऐसो मारूंगी ....
    चिमटा मारूंगी, बलम
    तोहे झाड़ू मारूंगी...
    वाह! मज़ा आ गया पढकर, काश कोई मेरे लिए भी ये गीत गाये!

    ReplyDelete
  22. आज तो सीधे आनंद द्वार पहुंचा दिया. इनके आडियो भी लगा देते तो फ़िर बात ही क्या थी? फ़िर भी याद दिला कर ही आपने आनंद रस से सराबोर कर दिया.

    रामराम

    ReplyDelete
  23. लोकगीतों का अपना अलग मज़ा है ...
    आपका पोस्ट पढकर बहुत अच्छा लगा ...

    ReplyDelete
  24. भाई वाह क्या बात है, मजा आ गया।

    ReplyDelete
  25. बड़े भाई क्या याद दिलाई है आपने... जैसे ये गीत आपसे बिछड़ गया वैसे ही मेरा एक प्यारा गीत मुझसे बिछड़ा है..दरवाज़े पर बारात और दूल्हे के परिछन के लिए सासू का गीतः
    पुरबा पछिमवा से अईलें सुंदर दुल्हा
    जुड़ावे लगिलन हे! सासू अपने नयनवा!!
    या फिर
    चलनी के चालल दुल्हा, सूप के फटकारल हे!
    कईसे मैं परिछूँ दमाद अलबेलवा हे!!
    ख़ुद अब हमारे यहाँ की महिलाएँ भूल चुकी हैं ये गीत!!

    ReplyDelete
  26. बहुत प्यारी पोस्ट है ...इन लोकगीतों में जितना अपनत्व झलकता है वो रिश्तों को और करीब लेन में सहायक होता है ..शायद इसीलिए उत्सवों पर इन्हें गाने का रिवाज़ है.

    ReplyDelete
  27. अन्य तीन गीत तो सुने थे किन्तु शीर्षक गीत आपके सौजन्य से पहली बार सुना और देखा. आभार.

    ReplyDelete

  28. देखो बन्ने आया आज मेरे द्वार
    बन्नी जो मेरी, महलों की रानी
    बन्ना देखो लाग्ये असल चमार

    फिलहाल यही तीन लाइनें जाने दो,
    यदि पूरी गारी सिरीज़ यहाँ दोहराऊँगा, तो तुम मॉडरेट कर दोगे ।

    ReplyDelete
  29. गुरुदेव,
    आज त अजबे रंग में रंग दिए आप!!अभी तक मन भीजा हुआ है!!!

    ReplyDelete
  30. वाह भई।
    यहां तो लोकगीत व विवाह गीतो के रसिया भी है।
    सक्सेना साहब सहित सभी का आभार

    ReplyDelete
  31. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार प्रसार मे आपका योगदान सराहनीय है।

    ReplyDelete
  32. क्या मस्त पोस्ट तैयार किया रे बाबा...!
    सुबह-सुबह मन रंगीन हो गया.

    ReplyDelete
  33. काहू दिन उठ गयो मेरो हाथ, बलम तोहे ऐसो मारूँगी !...
    ab pyaar kahan ? ab to kahu din kya , jab chaho uth gayo haath

    ReplyDelete
  34. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

    ReplyDelete
  35. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,