Tuesday, August 31, 2010

आदर पाने की चाह - सतीश सक्सेना

                             बिना आपको आदर दिए , हर इंसान आपसे यह उम्मीद रखता है,कि आप उसका आदर करें  ! एक भुलावा लेकर हम जीते रहते हैं कि हम आदर सम्मान के पूर्ण योग्य हैं ! हम यह सोचने का प्रयत्न क्यों नहीं करते कि अगर हमें सम्मान चाहिए तो सामने वाले को पहले देना होगा तब आपको तुरंत कृतज्ञता पूर्वक सम्मान मिलेगा !
                              दूसरों द्वारा हमारे प्रति सम्मान प्रदर्शन ,हमारे सुकार्यों के प्रति, एक स्वाभाविक मानवीय अभिव्यक्ति है ,जिससे हमें संतोष महसूस होता है ! मगर अधिकतर सम्मान दिखावे के लिए किया जाता है और मानवीय कमजोरियों के रहते, हम अक्सर अपने प्रति किये गए सम्मान का सदुपयोग न करके, दुरुपयोग अधिक करते हैं !
                                लेखकों के बारे में मेरी स्पष्ट राय है कि उनकी कोई भी कमजोरी ,बनावट अथवा नाम कमाने के लिए किये गए प्रयत्न ,लम्बे समय तक छिपाए नहीं जा सकते ! विभिन्न समय और मनस्थिति में लिखे उनके लेख उनकी कमजोरियां उजागर करने को काफी हैं ! इसी कारण ब्लागजगत में होती छीछालेदर में, अपने प्रति लगाये आरोपों के जवाब में मेरा यही कहना होता है कि पाठक अधिक विद्वान् होते हैं, उन्हें पढने दीजिये और फैसला भी उन्ही को करने दीजिये कि कौन क्या लिख रहा है !
                               अगर हम अपने कार्यो के प्रति ईमानदार नहीं है तो देर सबेर हमारी हरकतें समाज को पता चल ही जायेंगी  लम्बे समय तक लोगों को मूर्ख बनाना संभव नहीं है ! हार झूठ को छिपाने के लिए, अपने बोले हर झूठ को याद रखना और उसके विपरीत कार्य करने पर हमेशा अंकुश लगा कर रखना पड़ेगा जब भी चूके आपकी मक्कारी सबके सामने होगी ! इसी समाज में, हमारे आसपास  ही ऐसे लोग रहते हैं जो अपने से अधिक समझदार एवं चालाक और किसी को कुछ नहीं समझते  ! कहीं हम भी तो इन में से एक नहीं  ? मुझे लगता है कम से कम सप्ताह में एक बार अंतर्मन के शीशे में, अपनी इस विद्रूप छवि को पहचाननें का प्रयत्न अवश्य करें जिससे कि अपने मन की गन्दगी को, अगली पीढ़ी से छिपा सकें अन्यथा यकीन मानिए बदले में हर जगह से यही चालाकी मिलेगी !

48 comments:

  1. सतीश भाई, कोई भी मुखौटा बहुत दिनों तक चेहरे नहीं छुपा सकता। जितना हो सके खुद को खोल कर रख देना ही बेहतर है। अब हम आदर के योग्य हैं या निरादर के यह तो पाठक तय कर लेंगे।

    ReplyDelete
  2. सतीश भाई जो कुछ इस आभासी दुनिया में चल रहा है उसकी तरफ आपका यह इशारा है। और सच तो यह है कि दिखावे के सम्‍मान के कारण ही आधे से ज्‍यादा समस्‍याएं हैं। अगर हम दिखावे का यह सम्‍मान न करें तो कैसा रहे।

    ReplyDelete
  3. शिक्षा देता लेख ......
    @पाठक अधिक विद्वान् होते हैं उन्हें पढने दीजिये और फैसला भी उन्ही को करने दीजिये कि कौन क्या लिख रहा है !
    सहमत हूँ इस बात से
    मैं भी चकित हो जाता हूँ कभी कभी..... मैंने पाया है की किसी का["जेंडर, धर्म, भाषा विशेष" या "उससे से जुड़े व्यक्ति" ] अपमान करने के चक्कर में
    एक मानव कईं बार अपने स्नेही रिश्तों का अपमान करने से भी नहीं चुकता और इस आन्दोलन में अनजाने में ही वो उसी वर्ग का जम कर "अधिकार के साथ" अपमान करता है जिसका वो पक्षधर है , ये मेरा ब्लॉग जगत का ही नहीं रियल लाइफ का भी अनुभव है
    मैं इसे "टेम्परेरी तौर पर बीमार हो गयी सोच" या शालीन शब्दों में "बचपना" ही मानता हूँ {मुझे ऐसे लोगो से मूल रूप से कोई शिकायत नहीं होती }
    ये आपस में ही लड़ते रहते हैं संभवतया एक ही केटेगरी में आने चाहिए बस मुद्दे अलग अलग होते हैं किसी का धर्म , किसी का भाषा , किसी का जेंडर

    फिर भी एक बात तो कहूँगा " सबको करनी चाहिए ब्लोगिंग " इससे आपके दोधारी व्यक्तित्व का पता आपको लग सकता है

    @मुझे लगता है कम से कम सप्ताह में एक बार अंतर्मन के शीशे में अपनी इस विद्रूप छवि को पहचाननें का प्रयत्न अवश्य करें ! जिससे कि अपनी गन्दगी को अगली पीढ़ी से छिपा सकें अन्यथा यकीन मानिए बदले में हर जगह से यही चालाकी मिलेगी

    @सतीश जी , यकीन मानिये मैं भी सबसे यही कहता आया हूँ , दोहराना नहीं चाहूँगा , मेरे कमेन्ट सर्वत्र देखे जा सकते हैं , और ब्लॉग पर लेख तो है ही , फिर भी मेरे व्यक्तित्व को जज करने का फैसला मैं ब्लॉग जगत पर ही छोड़ता हूँ , क्योंकि इंसान खुद को अपनी आंखों से नहीं देख सकता या तो आइना या कोई दूसरा इंसान ही उसे बता सकता है , तभी तो नए कपडे पहन कर भाई अपनी बहन /भाई से पूछता है " कैसा लग रहा हूँ ??" उत्तर : शर्ट [लेख ]और टाई[कामेंट ] का कलर कुछ मेच नहीं कर रहा

    मैं अक्सर गीता का एक श्लोक दोहराता हूँ "अभयं सत्व ......." अक्सर लोग उसका पहला शब्द ज्यादा पसंद करते हैं जो है Fearlessness...... बस हो गया

    अब फाइनल बात "जो लोग सीखना चाहते हैं "वो हमेशा विनम्र ही होते हैं

    ReplyDelete
  4. मुखौटे में क्‍या है जी खोट
    अच्‍छी जगह पर मारी है चोट

    ReplyDelete
  5. तकनीकी परेशानी के कन्फ्यूजन से कमेन्ट दो बार आ गया है क्षमा चाहता हूँ



    इस लेख के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. @ सतीश जी
    मेरे कमेन्ट में किसी भी तरह का बचपना झलक रहा हो तो खुल कर बता दीजियेगा
    कोशिश हमेशा यही रही है की अपनी सोच को दूषित न होने दूं

    ReplyDelete
  7. बिलकुल सहमत हूँ आपसे !!

    ReplyDelete
  8. बहुत सटीक बात कही है, आपने।

    ReplyDelete
  9. अच्छा लिखा आपने सतीश जी ,दरअसल मानव व्यवहार बहुत जटिल होता है -एक दंश तो मैं ही झेल गया ...झेल रहा हूँ ..
    दरअसल मनुष्य की ज्यादतर अच्छी बुरी प्रवृत्तियां जन्मजात होती हैं और उन्हें ही विकसित ./दमित होने में संस्कार /परिवेश की भी भूमिका होती है .....
    "हार झूठ को छिपाने के लिए, अपने बोले हर झूठ को याद रखना और उसके विपरीत कार्य करने पर हमेशा अंकुश लगा कर रखना पड़ेगा जब भी चूके आपकी मक्कारी सबके सामने होगी ! "
    इससे भला क्या असहमति ....
    जब भी हम खुद को अच्छा /पाक साफ़ /महान होने के प्रोजेक्शन में किसी की बलि देते हैं तो याद रखना चाहिए समय सबसे बड़ा निर्णायक होता है ..वह नीर क्षीर निर्णय कर देता है ..हम अभी साथ हैं देखते हैं भविष्य की गर्भ में अभी क्या क्या है ?
    थोडा इस स्पेस का फायदा ले लूं ......
    वाल्मीकि रामायण में एक जगह आता है -
    न भीतो मरणादस्मि
    केवलं दूषितः यशः
    (मरने से नहीं बस कलंक से डरता हूँ )
    और इसलिए अभी तो मेरा पश्चाताप पर्व चल रहा है ..
    अपनी दृष्टि में अनुचित कुछ किया नहीं इसलिए प्रायश्चित नहीं )

    ReplyDelete
  10. कम सप्ताह में एक बार अंतर्मन के शीशे में अपनी इस विद्रूप छवि को पहचाननें का प्रयत्न अवश्य करें !

    यदि ऐसा कर सके तो व्यक्तित्व में लाज़मी तौर से निखार आएगा.

    http://haqnama.blogspot.com/2010/08/success-of-life-sharif-khan.html

    ReplyDelete
  11. कम सप्ताह में एक बार अंतर्मन के शीशे में अपनी इस विद्रूप छवि को पहचाननें का प्रयत्न अवश्य करें !

    यदि ऐसा कर सके तो व्यक्तित्व में लाज़मी तौर से निखार आएगा.

    http://haqnama.blogspot.com/2010/08/success-of-life-sharif-khan.html

    ReplyDelete
  12. बिलकुल ठीक कहा....

    ReplyDelete
  13. @पाठक अधिक विद्वान् होते हैं उन्हें पढने दीजिये और फैसला भी उन्ही को करने दीजिये कि कौन क्या लिख रहा है !...
    बात तो ठीक है ..!

    @एक मानव कईं बार अपने स्नेही रिश्तों का अपमान करने से भी नहीं चुकता और इस आन्दोलन में अनजाने में ही वो उसी वर्ग का जम कर "अधिकार के साथ" अपमान करता है जिसका वो पक्षधर है , ये मेरा ब्लॉग जगत का ही नहीं रियल लाइफ का भी अनुभव है ...

    बहुत सही कहा ..!

    ReplyDelete
  14. अच्छी प्रस्तुति,
    कृपया अपने बहुमूल्य सुझावों और टिप्पणियों से हमारा मार्गदर्शन करें:-
    अकेला या अकेली

    ReplyDelete
  15. आदर के लेन देन का मज़ेदार गणित !!

    ReplyDelete
  16. Dikhawa .....bas yahi har samasya kee jad hai .
    bahut achha chintan.

    ReplyDelete
  17. .
    @-आदर के लेन देन का मज़ेदार गणित !!

    I fully agree with Samvedna ke swar.

    Thanks.
    .

    ReplyDelete
  18. Sateesh Sir!! bahut sach kaha aapne, mukhota hi jab hai, to permanant to rah hi nahi sakta.......kabhi ka kabhi utrega, aur fir dikhega bhi.......:)

    ReplyDelete
  19. दुनिया हम से चार कदम आगे है जी, ओर यह मुखोटा कब तक काम आयेगा? दिखावे के सम्मान से अच्छा है हम कुछ ना करे.
    जन्माष्टमी की बहुत बहुत शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  20. @ गौरव अग्रवाल,
    आपके बारे, जानने के लिए किसी प्रमाण की आवश्यकता कम से कम मुझे बिलकुल नहीं है, अगर किसी लेखन को ह्यां से पढ़ कर दो अच्छी प्रतिक्रियाएं मिल जाएँ तो पोस्ट लेखन सफल हो जाता है ! फाइनल बात सबसे अच्छी है , शुभकामनायें गौरव !

    @ अरविन्द मिश्र जी ,
    ".....तो याद रखना चाहिए समय सबसे बड़ा निर्णायक होता है ..वह नीर क्षीर निर्णय कर देता है "

    बिलकुल ठीक कहा है आपने , मैं आपके उपरोक्त कमेन्ट का समर्थन करता हूँ ! पश्चाताप पर्व की आपने बात खूब की ...यह हर किसी के बस का नहीं होता सो आपको शुभकामनायें देता हूँ !

    बीते समय जो घटनाएँ घटी वे बेहद तकलीफ देह रहीं यकीन मानिये !काफी समय ब्लाग खोलने का भी मन नहीं हुआ , इसका विश्लेषण करने में आपको समस्या नहीं होनी चाहिए मगर यह याद रखते हुए कि ब्लागजगत में हर आदमी विद्वान् नहीं हैं यहाँ हर तरह के लोग हैं और उक्त झगडे का मतलब अपनी अपनी बुद्धि के अनुसार निकालेंगे ! सो आप दोनों पक्षों के लिए यह कष्टकारक समय है !

    मेरा यह मानना है कि रास्ते कभी बंद नहीं करने चाहिए हो सके तो खुले दिल के साथ अपनी भूल, बिना सामने वाले पर ऊँगली उठाये मान लें ! अगर समझदार लोगों ने उसपर साधुवाद दे दिया तो जीत पहल करने वाले की हुई, मानी जानी चाहिए !

    सादर

    ReplyDelete
  21. " समरथ को नहीं दोष गुसाई "

    ReplyDelete
  22. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई ।

    अच्छी पोस्ट है .... धन्यवाद

    कृपया एक बार पढ़कर टिपण्णी अवश्य दे
    (आकाश से उत्पन्न किया जा सकता है गेहू ?!!)
    http://oshotheone.blogspot.com/

    ReplyDelete
  23. आपने बिलकुल सही कहा सर ,हर आदमी अपनी बुराइयों ,कमजोरियों को छुपाना चाहता है / आपने यहाँ अपने ब्लागर भाइयों के लिए यह लिखा है लेकिन यह सभी के जीवन की हकीकत है / कमजोरियां कभी छुप नहीं सकती , वे कभी -ना-कभी जिन्दगी मै सामने आती ही है और जब सामने आती है तो बहुत नीचा देखना पड़ता है / इसलिए आदमी को अपने किये का समय -समय पर मूल्यांकन करते रहना चाहिए / जिन्दगी के बारें मै आपके विचार अति उत्तम है

    ReplyDelete
  24. आत्म विश्लेषण नित कर्म होना चाहिये. सोने के पूर्व आदत में डालें आत्म निरक्षण एवं विश्लेषण...


    एकदम सहमत हूँ आपकी बातों से.

    ReplyDelete
  25. मान, माया, ईष्या, द्वेष, क्रोध में फ़ंसी मानवीय अनुभुतियां।

    ReplyDelete
  26. आपसे सहमत मेरी नई पोस्ट भी देखें

    ReplyDelete
  27. .
    .
    .
    सत्य कथन !
    सहमत हूँ आपसे...

    हम सब को सद् मति मिले...


    ...

    ReplyDelete
  28. सटीक चिंतन, जैनिज्म में प्रतिक्रमण की प्रक्रिया होती है. आत्मचिंतन की इससे बेहतर कोई विधी नही है.

    जन्माष्टमी की रामराम.

    रामराम.

    ReplyDelete
  29. सत्य वचन ... कोई भी मुखौटा बहुत दिनों तक चेहरे नहीं छुपा सकता...

    ReplyDelete
  30. यह बिलकुल सच है कि हम अपने को भले ही बहलाते रहें ,औरों को हमेशा नहीं बहका सकते .हमारा लेखन क्या है(या हम क्या हैं )इसका निर्णय पाठक ही कर सकते हैं .आत्म-साक्षात्कार तो हर व्यक्ति के लिए उपयोगी है .

    ReplyDelete
  31. सत्य वचन प्रभूजी, सत्य बोल वचन

    जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  32. जीवन की गति आज इतनी अधिक है कि आत्ममंथन का समय कहां बचा है

    ReplyDelete
  33. आपको एवं आपके परिवार को श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  34. लेख के कथ्य से पूर्णतः सहमत | ब्लॉग जगत के सन्दर्भ में, यदि कभी कोई अप्रिय विवाद उभरता हो, उसे नजरअंदाज कर के उसपर प्रतिक्रया देने से बचा जाए तो विवाद बढ़ नहीं पायेगा या जल्दी समाप्त हो जाएगा | लेकिन मुझे लगता है कि कुछ लोगों को विवाद पैदा करने या बढाने में ही आनंद आता है |

    ReplyDelete
  35. bilkul sahi baat kahi chacha ji aapne agar ham kisi ka samman nahi karate to hame samman mile isaki ummid karana bemani hoga yada kada aisa kuch hota bhi hai to wo mahaj ek dikhawa hota hai..

    aapki baten sahi lagati hai kyonki updeshak nahi hoti balkil aapko prtibimbit karati hai.

    prnaam chacha ji..

    ReplyDelete
  36. जेठ की धूप में बरगद की छांव और ठंडे पानी के छींटे जैसी उम्दा है यह पोस्ट।

    ReplyDelete
  37. तक़रीर बनाता हूँ तक़रीर नहीं बनती :(
    ███████████████████████████████████
    moderation has been .... etc. etc, :)
    सो यहाँ तक़रीर करने की ग़ुँज़ाइश नहीं बनती,
    याद आ रही है,
    स्नो-व्हाइट की कहानी...
    और.. आज उसकी मग़रूर माँ याद आ रही है,
    याद आ रहा है, कि
    Mirror, mirror, on the wall,
    Who is the most beautiful of all ?
    अन्त में अपने-मुँह-माई-मिट्ठू पर जीत उन सात बौनों की ही हुई,
    जो स्नो-व्हाइट के साथ रहे, स्वयँ कोई श्रेय न लिया ।
    दूसरों को आइना दिखाने की बनिस्पत बौने बन रह कर दूसरों को मान दिलाने में स्नो-व्हाइट के साथ बने रहने में सुख नहीं है, क्या ?
    इसीलिये वो बौने आज तक अमर ( मैं नहीं.. भाई ! ) हैं, देश व काल को लाँघते हुये आज तक याद किये जाते हैं,
    अच्छी पोस्ट !

    ReplyDelete

  38. ::::: उत्साही जी की बात पर ग़ौर किया जाये, भाई ।
    बिना किसी क्षेपक के सही बात रख रहे हैं

    ReplyDelete
  39. कोई कितना भी प्रयास करले असल चेहरा प्रकट होता ही है....... रही बात सम्मान देने की तो पानी को किसी पात्र में डालने पर तभी टिका रहेगा, की जब उस पात्र में छेद ना हो. अगर छेद होगा तो पानी बह जायेगा और गंदगी फैलाएगा......... उसी तरह आदर रूपी पानी हम किसी भी व्यक्तित्व रूपी पात्र में डालतें है तो अगर पात्र सही हुआ तो अच्छी बात है ही, नहीं तो उस पात्र की पात्रता अपने आप ही सामने आ जाएगी............ बाकि अपना काम तो यही होना चहिये की पात्र की पात्रता का ध्यान रखें..........लेकिन अगर परख करना नहीं आयें तो मेरी तो यही धारणा है की सारे बर्तनों में पानी डाल दो परख अपने आप हो जाएगी........

    ReplyDelete
  40. .
    वाह अमित जी, मान गए आपको !
    .

    ReplyDelete
  41. bahut dino se mai blog se acchee tarah jud nahee paee haa aakee post hamesha kee tarah asar chod jatee hai aur ise var bachapan me ek kahanee HINDI PATHYKRAM ME THEE NAAM SHAYAD "PAREEKSHA"THA.usame ek character jinka naam DIWAN SUJANSINGH tha aaj manaspatal par bimbit ho gaya hai aur vo kahanee aaj ke parivesh me bhee lagoo hotee hai.....aaj kee duniya me unconditional kuch nahee hota expectations se insaan ubhar hee nahee pata .sare masle kee root hee expectations hai.......
    ye meree soch hai........bitiya aur gudiya sanand hai.
    ek acchee post ke liye aabhar .

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,