Wednesday, October 16, 2013

खतरनाक काँटों का, ध्यान रहे बेटा - सतीश सक्सेना


16 अक्टूबर  पर :

कभी, अपना भी कुछ ,ख़याल रहे बेटा !

तुम्ही से  खुशी है   
तुम्ही से है  आशा !
तुम्ही से तो चेहरे   
पे रौनक, हमेशा  !
कठिन  हो समय तो न घबराना बेटा !
न अपमान औरों का, हो तुमसे बेटा !

तुम्ही प्यार का
दूसरा नाम हो !
अपने नन्हे घरौंदे
की तुम जान हो !
ख़याल अपना, सबके लिए रखना बेटा !  
समय कम बड़ों पर, न  सो जाना बेटा !

तुम्ही मेरे जीवन 
की  पहचान हो !
तुम्हीं मेरे पुण्यों 
का परिणाम हो ! 
मेरे जीवन के मूल्यों का हो ध्यान बेटा !
खतरनाक  काँटों  से , सावधान  बेटा !

तुम्ही मेरे मंदिर 
के इकले कन्हैया 
तुम्हीं नाव के अब 
बनोगे खिवैय्या !
अगर गहरे जाओ,तो ध्यान रहे बेटा  !
पापा के गौरव का,  ख्याल  रहे  बेटा !

34 comments:

  1. बेटे पर कुछ ज्यादा ही बोझा न डाल दिया आप ने?

    ReplyDelete
    Replies
    1. नहीं ..
      यह तो साधारण जीवन मूल्य है , और मैं चाहता हूँ गौरव , मेरे बाद भी इसे याद रखें , पिता के लिखे को , भूलना आसान नहीं होगा उनके लिए
      :)

      Delete
  2. बेटे को ढेर सारा प्यार और हार्दिक शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete
  3. पापा के गौरव का, ख्याल रहे बेटा !
    बेटे को हमारी ओर से भी ढेर सारी शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  4. गौरव को जन्मदिन की शुभकामनाएँ...बहुत सुंदर सीख देती आपकी अभिव्यक्ति !!

    ReplyDelete
  5. शुभ कामनाएं जन्म दिन की...आशीर्वाद...

    ReplyDelete
  6. बेटे को हमारी और से ढेरो बधाई और आशीर्वाद
    latest post महिषासुर बध (भाग २ )

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर .शुभ कामनाएं जन्म दिन की...

    ReplyDelete
  8. इस पोस्ट की चर्चा, बृहस्पतिवार, दिनांक :-17/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -26 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
  9. शुभकामनायें और आशीर्वाद ।

    ReplyDelete
  10. अच्छी सीख देती सुंदर रचना ॥!!बेटे को जन्मदिन की बधाई एवं शुभाशीष ...!!

    ReplyDelete
  11. सुन्दर रचना..शुभकामनायें और आशीर्वाद ।

    ReplyDelete
  12. गौरव को जन्मदिन की शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  13. गौरव को जन्मदिवस की बधाइयाँ और शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete
  14. १६ अक्टूबर आज तो मेरे बेटे का भी जन्मदिन है :)
    गौरव को जन्मदिन की अनेक शुभकामनायें !
    बढ़िया सिख दी है इस रचना में बेटे को !

    ReplyDelete
    Replies
    1. गौरव भी आपका ही बेटा है , मेरी तरफ से बेटे को हार्दिक मंगल कामनाएं स्वीकार करें !

      Delete
  15. जन्म दिवस की शुभकामनाएं, सदा सुखी रहो। मात-पिता का गौरव बढाओ।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर भाव मन के... हमारी ओर से भी जन्मदिन की बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
  17. सुन्दर सीख . शुभकामनाएं और आशीर्वाद ।

    ReplyDelete
  18. शुभकामनाएँ...सुन्दर संदेश बच्चे को.

    ReplyDelete
  19. गौरव को हमारी ओर से जन्मदिन की शुभकामनाएँ.....

    ReplyDelete
  20. गौरव को जन्मदिन की अशेष बधाईयाँ और स्नेहाशीष ......
    आपकी दुवाओं के लिए तो बस एक ही दुआ गौरव आप सब का गौरव बने ....." चश्मेबद्दूर !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया निवेदिता जी ...

      Delete
  21. बहुत सुंदर !
    शुभकामनायें और आशीर्वाद ।

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण रचना, जन्म दिन हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete


  23. बहुत खूब ,बेहद सुन्दर और सार्थक शिक्षापरक प्रस्तुति।शुक्रिया आपकी अद्यतन टिप्पणियों का।

    बाप के गीत पुत्र के नाम ,

    शत शत प्रणाम ,

    रखो काम से काम।-बेटा सार्थक विचार सरणी !भाव गंगा !सुभान!अल्लाह !

    ReplyDelete
  24. सबसे पहले तो आपके सुपुत्र को जन्मदिन की बहुत- बहुत बधाई....और इस अंदाज़ से बच्चे को संस्कार के साथ-साथ बधाई और सीख प्रदान करना मन को छू गया.....वाह....

    ReplyDelete
  25. शुभकामनाएं मेरी तरफ से.

    ReplyDelete
  26. प्यार भरा आशीर्वाद, प्यारी रचना।

    ReplyDelete
  27. अगर गहरे जाओ,तो ध्यान रहे बेटा !
    पापा के गौरव का, ख्याल रहे बेटा !
    भावमय करते शब्‍द ....
    जन्‍मदिन की अनंत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  28. बहुत सुंदर सीख देती आपकी अभिव्यक्ति !!
    पिता के लिखे को , भूलना आसान नहीं होगा उनके लिए
    बिलकुल सही बात
    गौरव को जन्मदिन की शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  29. गौरव को ढेर सारा स्नेहाशीष

    ReplyDelete
  30. एक पिता की बेटे को दी हुई अनमोल सीख |

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,