Saturday, October 26, 2013

काले घने, अँधेरे घेरें , धीरे धीरे अम्मा को - सतीश सक्सेना

जिन प्यारों की, ठंडी छाया 
में तुम पल कर बड़े हुए हो ! 
जिस आँचल में रहे सुरक्षित 
जग के सम्मुख खड़े हुए हो !
बढ़ती उम्र, बिमारी भारी 
लेकिन तुम तो बड़े हुए हो 
उस ममता को छोड़ा कैसे,
कब से  भूले, अम्मा को ! 
घर न भूले, खेत न भूले , केवल भूले, अम्मा को !

उस सीने पर थपकी पाकर 
तुम्हे नींद आ जाती  थी !
उस ऊँगली को पकडे कैसे  
चाल बदल सी, जाती थी !
तुम्हें उठाने, वे पढ़ने को 
कितनी रातें जगती  थींं , 
वो ताक़त कमज़ोर दिनों में,
धोखा देती , अम्मा को !
काले  घने , अँधेरे  घेरें ,  धीरे - धीरे  , अम्मा को ! 

जिस सुंदर चेहरे को पाकर 
रोते रोते  चुप हो जाते !
अगर दिखे न कुछ देरी को 
रो रो कर पागल हो जाते !
जिस कंधे पर सर को रखकर  
तुम अपने को रक्षित पाते !
आज वे कंधे बीमारी से , 
दर्द दे रहे , अम्मा को !
इकलापन ही, खाए जाता, धीरे धीरे अम्मा को !

वही पुराना , आश्रय  तेरा ,
आज बहुत बीमार हुआ है !
जिसने तुमको पाला पोसा 
आज बहुत लाचार हुआ है !
जब जब चोट लगी थी तुमको  
माँ ने ही पट्टी करवाई ,
रातें बीतें  करवट बदले , 
नींद न आये अम्मा को !
कौन सहारा देगा इनको, नज़र न आये अम्मा को !

कितने अरमानों से उसने
भैया तेरा व्याह रचाया !  
कितनी आशाओं से उसने 
अपना बेटा,बड़ा बनाया !
आँख से धुंधला दिखे 
अकेली सन्नाटे में उम्र काटती 
कैसा शाप मिला था भैया,
तेरे जन्म से , अम्मा को !
बीवी पाकर, कुछ बरसों में , भूले केवल अम्मा को !


41 comments:

  1. बहुत संवेदनशील और सार्थक रचना।

    ReplyDelete
  2. समय कभी यदि गहराता हो,
    यादें आती अम्मा की।

    ReplyDelete
  3. अच्छी रचना है ... उस माँ को नहीं भूल सकते .....

    ReplyDelete
  4. वही पुराना , आश्रय तेरा ,
    आज बहुत बीमार हुआ है !
    जिसने तुमको पाला पोसा
    आज बहुत लाचार हुआ है !
    कैसा शाप मिला था भैया,तेरे जन्म से अम्मा को !
    बीवी पाकर,कुछ बरसों में, भूले केवल अम्मा को !
    bhaukta se ot-prot .

    ReplyDelete
  5. अकथ कहानी घर घर की

    ReplyDelete
  6. कड़वी सच्चाई का एहसास कराती, अपनी मार्मिकता से भाउक करती साथ ही साथ गहराई से तंज कसती हुई गीतों की पंक्तियाँ हृदय में उतरती चली जाती है।

    घर न भूले, खेत न भूले, केवल भूले अम्मा को!...जोरदार।

    ReplyDelete
  7. sateesh ji , aapke geet ne maa kee yaad ko aur bheega kar diya .
    salaam aapke lekhna ko .

    GOD bless you.

    ReplyDelete
  8. कड़वी सच्चाई से झकझोरती शानदार प्रस्तुती

    ReplyDelete
  9. कहानी घर -घर की :(

    ReplyDelete
  10. भावपूर्ण सुन्दर ......

    ReplyDelete
  11. बहुत सही-
    लताड़ लगानी ही चाहिए जो माँ का लाड भूले -
    सार्थक प्रस्तुति-
    आभार-

    ReplyDelete
  12. आप की ये सुंदर रचना आने वाले सौमवार यानी 28/10/2013 को नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है... आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित है...
    सूचनार्थ।

    ReplyDelete
  13. बेहद सार्थक रचना...एक सच्चाई का एहसास कराती...

    ReplyDelete
  14. संवेदनाओं से भरपूर ... अम्मा को भूलना या भुलाना आसान तो नहीं ...

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर , दिल भर आया

    ReplyDelete
  16. पता नहीं कैसे - अम्मा की हथेलियाँ भूल जाता है इंसान

    ReplyDelete
  17. बहुत ही भावपूर्ण और अम्मा के जिम्मेदारी से अवगत करते हुए
    और भी बहुत कुछ कहती हुई... सुंदर रचना ....

    ReplyDelete
  18. क्या कहूँ निशब्द हूँ आपका ये गीत पढ़ कर,ये गीत हर उस युवा पीढ़ी के लिए है जो अपने स्वार्थ में अपनी जड़ों को ही भूल गया ,सच में इस गीत ने दिल में तूफ़ान सा खड़ा कर दिया | फेसबुक पर पोस्ट करना चाहूंगी इस गीत को

    ReplyDelete
    Replies
    1. जरूर करिए , लिंक दे रहा हूँ . . .
      http://satish-saxena.blogspot.in/2013/10/blog-post_26.html

      Delete
  19. भूले कोई पर कैसे भूले अम्मा को ?

    ReplyDelete
  20. यह अम्‍मा जो जीवन 'आश्रय' है, कितनी लाचार हो जाती है! आपके गीत को लगभग गुनगुनाते हुए पढ़ा, इससे अंदाजा हो जाए कि यह कितना प्रभावी है। ...ये लाइन खास रही मेरे लिए 'जिसके कन्‍धे का सहारा पाकर तुम अपने को रक्षित पाते'.....

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ.

    ReplyDelete
  22. sach ......dil ..dhundhta hai phir wahi puraane din .....

    ReplyDelete
  23. बहुत सुंदर और उम्दा अभिव्यक्ति...बधाई...

    ReplyDelete
  24. कैसे भूले अम्मा को...सच में...दिल को छू गई!!

    ReplyDelete
  25. अम्‍मा को भूलना पीढ़ी दर पीढ़ी चालू है। अच्‍छी रचना।

    ReplyDelete
  26. घर न भूले खेत न भूले केवल भूले अम्मा को,
    सटीक बाते कही है इस रचना में !

    ReplyDelete
  27. यह भी एक विडंबना ही है, सशक्त रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  28. Aaj hi Patna se lauta hoon... Amma ko achanak stroke hua.. Aapke is geet ne dil ko chhuaa hai..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद अफ़सोस हुआ , इस उम्र में ,आपको बेहद सावधानी रखनी होगी सलिल :(

      Delete
  29. bahut hi karunamayee rachna......

    ReplyDelete


  30. वही पुराना , आश्रय तेरा ,
    आज बहुत बीमार हुआ है !
    जिसने तुमको पाला पोसा
    आज बहुत लाचार हुआ है !
    कैसा शाप मिला था भैया,तेरे जन्म से अम्मा को !
    बीवी पाकर,कुछ बरसों में, भूले केवल अम्मा को !
    दिल को छु लिया |
    नई पोस्ट सपना और मैं (नायिका )

    ReplyDelete
  31. माँ बस ये शब्द ही काफी है सुन्दर रचना |

    ReplyDelete
  32. Bahut dinon baad hindi kavita padhi aur woh bhi Itni bhavpoorn ki man gadgad ho gaya. Keep writing Satish apki kalam mein kuch baat hai :)

    ReplyDelete
  33. भावमय करते शब्‍द ....

    ReplyDelete
  34. अहम् के अन्धकार में भटकती संवेदनहीन संतानों को रोशनी दिखाती बहुत ही सार्थक, सशक्त एवं अविस्मरणीय रचना ! अति सुन्दर !

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,